Month: January 2018

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 31 JANUARY 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 30 January Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*31.01.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ* 】★

बाबा बच्चों के ऊपर ज्ञान, गुण और शक्तियों की वर्षा कर रहे हैं। जिन बच्चों ने अपना बुद्धि-योग बाप के साथ जोड़ा हुआ है, वह बाप के वर्से को अपना बना powerful बनते जा रहे हैं और जिन बच्चों का बुद्धि-योग इधर-उधर लगा हुआ है, उन तक बाप का वर्सा आता है फिर वापस लौट जाता है ।

देखो बच्चे, जिन बच्चों को बाप के ज्ञान का महत्व है, वह तो बाप से अपना पूरा वर्सा ले स्वयं को बहुमूल्य अर्थात् विश्व का महाराजा बना रहे हैं । जैसे एक जौहरी को हीरे के साथ हीरे की जरकन (वेस्ट) का भी अर्थात् बारीक से बारीक हीरे के मूल्य का पता होता है और वह उसे भी सम्भाल कर जवाहरात बनाने में use करता है। इसी तरह जो बच्चा बाप की छोटी से छोटी श्रीमत को या ज्ञान का महत्व समझ उसे अपने जीवन में practical धारण करते हैं, वह भी बहुमूल्य बन जाते हैं ।

बाबा देख रहा है कि समय बहुत नाजुक आने वाला ही है, परन्तु बच्चे अन्जान बने हुए हैं … वह सोचते हैं कि कर तो रहे हैं…, हो ही जायेगा…, सब कुछ छोड़ना अर्थात् त्याग करना तो मुश्किल है…, अर्थात् उन्हें बाप पर निश्चय नहीं है । इसलिए वह बच्चे समर्पण बुद्धि नहीं बन पाते ।

समर्पण अर्थात् त्याग और त्याग से ही भाग्य है।

जो बच्चे इस समय 100% बाप की श्रीमत पर चलने का attention दे रहे हैं, उन बच्चों की ज़िम्मेवारी बाप लेता है – ‘‘मैं उन बच्चों को सम्पन्न बना साथ ले जाऊँगा’’ और अन्त समय जो कि आने वाला ही है, अचानक होना है ना … बाप-समान बच्चे अपने भाग्य की स्मृति में नाचते हुए भी सभी आत्माओं के कल्याण के निमित्त बनेंगे और दूसरे अति दुःख के समय उन्हीं का एक हिस्सा बन पश्चाताप की अग्नि में जलेंगे। 
बच्चे करना तो आप बच्चों को ही पड़ेगा ना…। इसलिए बाप की समझानी के महत्व को समझो।

कागज़ के टुकड़ों के लिए, ईंटों के मकानो के लिए या अपनी छोटी-छोटी इच्छाओं के कारण अपने समय को व्यर्थ मत करो। यह भाग्य बनाने का समय फिर कभी नहीं आयेगा।

देखो बच्चे, बाप तो आप बच्चों के इन्तज़ार में है, आपको ज्ञान, गुण, शक्तियाँ देने के लिए ही बैठा है और जैसे ही आप बच्चे सच्चे दिल से मुझे याद करते हो तो मैं आपको सम्पन्न बनाना शुरू कर देता हूँ, परन्तु याद तो करो ना, फिर ही तो बाप का वर्सा ले पाओगे…।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 1 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 31 January 2018 :- Click Here

01-02-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this Godfatherly World University is for changing from human beings into deities, from an ordinary man into Narayan. Only when you have this firm faith will you be able to study this study.
Question: What effort are you children making at this time in order to change from human beings into deities?
Answer: That of making your eyes civil from criminal and of becoming sweet at the same time. In the golden age everyone’s eyes are civil. You don’t have to make this effort there. Here, in your impure bodies and the impure world, you children, souls, are brothers. With this faith, you are making effort to make your eyes civil.
Question: With which one aspect of the devotees is the idea of omnipresence proven wrong?
Answer: You said: Baba, when You come, I will surrender myself to You. Therefore, His coming proves that He was not present at that time.

Om shanti. The Father asks you spiritual children: Are you sitting here in the original religion of your self, the soul? You know that it is only the one unlimited Father who is called the Supreme Spirit or the Supreme Soul. God definitely exists. He is the Supreme Father. The Supreme Father means God. Only you children are able to understand these things. Five thousand years ago, too, it was only all of you children who heard this knowledge. You know that a soul is very tiny and extremely subtle; it cannot be seen with these eyes. There isn’t a human being who would have seen a soul. Yes, it is possible to see it, but only with divine vision, and that, too, according to the drama plan. On the path of devotion, too, they don’t have visions through their physical eyes. They receive a divine vision in which they see as though in the living form. “Divine vision” means to see in the living form. The soul receives the eye of knowledge. The Father has explained: When someone performs a lot of devotion, it is called intense devotion. For instance, when Meera had visions, she used to dance. Paradise didn’t exist at that time. It must be about five or six hundred years since Meera existed. That which is the past is then seen in a divine vision. It is as though people have become completely engrossed in worshipping the images of Hanuman and Ganesh etc. a great deal. Although they have visions, they do not receive liberation through those. The path to liberation and liberation-in-life is completely unique. In Bharat, on the path of devotion, they have many temples. They also keep Shivalingams there. Some make them small and others make them large. You now understand that, just as you are souls, so He is the SupremeSoul: the size is the same. They say that we are all brothers, that all souls are brothers. The unlimited Father is only One. All the rest are brothers and they play their part s. These matters have to be understood. These are matters of knowledge, which only the Father explains. Those to whom He explains can then explain to others. First of all, only the one incorporeal Father explains. People say of Him that He is omnipresent and that He is in the pebbles and stones. That is not right, is it? They say: Baba, when You come, I will surrender myself to You. They don’t say: You are omnipresent. They say: When You come, I will surrender myself to You. Therefore, that means that He was not here, was He? Mine is only One and none other. So, you definitely have to remember Him, do you not? The Father sits here and explains to you children. This is called spiritual knowledge. It is sung: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time. The account of that has also been explained. It is you souls who have remained separated for a long period of time. You have now come to the Father to study Raja Yoga. The Father is the Servant. Important people sign their letters beneath: Your Obedient Servant. The Father is the Servant of all the children. He says: Children, I am your Servant. You call out to Him with so much right: O God, come! Come and make us impure ones pure. Only in the pure world do pure beings exist. These matters have to be understood. All the rest are just things to please the ears. This is the God f atherly World University. What is your aim and objective? To change human beings into deities. You children have the faith that you have to become this. Would those who don’t have faith sit in school? If they have faith, they would study with a barrister or a surgeon. If they didn’t even know the aim and objective, they wouldn’t go. You children understand that you are changing from human beings into deities, from ordinary man into Narayan. This is the true story of becoming true Narayan from an ordinary man. Why is it called a religious story? Because 5000 years ago, too, you studied this knowledge. That which is the past is called a story. These are the true teachings to change from an ordinary man into Narayan. Deities reside in the new world whereas human beings reside in the old world. Human beings don’t have the divine virtues that deities have. Human beings call those people deities and sing: You are full of all virtues, 16 celestial degrees full, completely viceless, whereas they call themselves sinful, degraded ones who indulge in vice. When did the deities exist? It would surely be said that they existed in the golden age. It wouldn’t be said that they existed in the iron age. Nowadays, because human beings have a tamopradhan intellects, they even give themselves the Father’s titles. In fact, the One who makes you elevated is only the one Father who is Shri Shri. The praise of the elevated deities is separate. It is now the iron age. Baba has also explained about the sannyasis: One is limited renunciation and the other is unlimited renunciation. Those people say that they have renounced their homes and families and everything. However, nowadays, look how they are sitting around as millionaires! Renunciation means to renounce that happiness. You children have unlimited renunciation because you understand that this old world is to end. This is why you have disinterest in it. Those people renounced their homes and families and then went back to the cities. They no longer live in caves on the mountains. Even when they do build their huts, they spend so much on them! In fact, huts don’t incur any expense. They build and live in big palaces. Nowadays, everyone is tamopradhan; it is now the iron age. If the images of the golden-aged deities didn’t exist, all name and trace of heaven would have disappeared. It is explained to you that you have to change from human beings into deities. For half the cycle, there are the stories of the path of devotion. While listening to those things, you continued to come down the ladder. Then, after 5000 years, that same drama repeat s accurately. Baba has explained to you that you must not tell anyone to stop worshipping. Once they have received this knowledge, they automatically stop doing that. They understand that they are souls and that they have to claim their inheritance from the unlimited Father. First of all, there has to be the recognition of the unlimited Father. When they have developed this faith, their intellects are removed from their limited fathers. Then, while living at home with their families, their intellects’ yoga will be connected to the Father. The Father Himself says: While acting for your livelihood, let there be remembrance of the one Father in your intellects. Let there not be any remembrance of bodily beings. Those are physical pilgrimages. This is your spiritual pilgrimage. You don’t stumble around in this. The path of devotion is the night where people have to stumble around. There is no question of stumbling around here. No one sits down to remember God. On the path of devotion, can the devotees of Krishna not remember him while walking and moving around? There is his remembrance in their hearts. Whatever you have seen once, the remembrance of that remains. So, are you not able to remember Shiv Baba while sitting at home? This is something new. To remember Krishna is something old. No one knows Shiv Baba as far as His name and form are concerned. What is omnipresent? Someone should tell us, at least! You children know that the Father of you souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. Souls cannot be called the Supreme Soul. In English, “atma” is called soul. Not a single human being knows the Father from beyond. That Father is the Ocean of Knowledge. He has the knowledge to change human beings into deities. The Father says: I tell you deep things every day. The main thing is remembrance. It is this remembrance that you forget. Baba tells you every day: Consider yourself to be a soul and remember the Father. I, the soul, am a point. It is said that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead. When souls leave their bodies, they cannot be seen with these eyes, but it is just said that the soul left the body and entered another body. You souls know how you have taken rebirth and become impure. At first, you souls were pure and you had a pure household religion. Now, both have become impure. When both were pure, they were worshipped: “You are pure and we are impure.” There, both are pure, whereas here, both are impure. So, is it that they were pure and then became impure or they were born impure? The Father sits here and explains: At first, you souls were pure and worthy of worship. Then you yourselves became impure worshippers. You have taken 84 births. You know the history and geography of the whole world ; who used to rule there and how they received their kingdom. You know this history. No one else knows it. You know it now; previously, you didn’t know it. You had stone intellects. You didn’t have the knowledge of the Creator or the beginning, the middle and the end of creation. You were atheists. You have now become theists and so you become happy. You have come here to become deities. At this time you have to become very sweet. You are children of the one Father, brothers and sisters. There cannot be criminal vision for anyone. You have to make effort at this time. The eyes are the most criminal of all. They are criminal for half the cycle and civil for half the cycle. In the golden age, the eyes of the deities are civil. Here, the eyes are criminal. They sit and relate the story of Surdas (man who blinded himself). The Father says: I have to come into the impure world and into an impure body. Those who have become impure have to be purified. You know that both Radhe and Krishna came from separate kingdoms. They were a prince and princess. After their marriage, they became Lakshmi and Narayan and so their dynasty is remembered. The age also begins from that time. They say that the duration of the golden age is hundreds of thousands of years. The Father says: It is 1250 years, and so there is the difference of day and night. The night of Brahma is half the cycle and then the day of Brahma is half the cycle. There is happiness from knowledge and sorrow from devotion. The Father sits here and explains all of these things. He then also says: Sweet children, consider yourselves to be souls. Stabilise in your original religion. Remember the Father. He alone is the Purifier. By remembering Him, you will become pure. Your final thoughts will lead you to your destination. The Father is the Creator of heaven. So, He reminds you that you were the masters of heaven. You are now impure and this is why you are not worthy of going there. Therefore, you have to become pure. I only have to come once. There is justone God, one world. Human beings have innumerable opinions, innumerable stories. There are as many stories as there are tongues. Here, there is just the one direction, the undivided direction. Look how many ideas there are in the picture of the tree! The tree has become so large! There, there used to be one direction and one kingdom. You know that you were the masters of the world. Bharat used to be so wealthy! There never used to be untimely death there. Here, a person dies while just sitting doing nothing. There is death in every direction. There, your lifespan was very long. You now have yoga with God and are changing from human beings into deities. So you are yogeshwar and yogeshwari and will then become princes and princesses. You are now goddesses of knowledge. Then, how did you become princes and princesses? God made you that. You now know who taught them Raja Yoga. God. There, their kingdom continues for 21 generations. Those people become kings by donating and performing charity in just one birth. When they die, everything ends. Everyone continues to have untimely death. That is not the law in the golden age. There, you will not say that death came. You shed one skin and take another, just as a snake changes its skin. There, there is nothing but happiness and more happiness. There is no question of the slightest sorrow. You are now making effort to become the masters of the land of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have unlimited renunciation of this old world. While acting for the livelihood of your body, stay on the spiritual pilgrimage.
  2. Make effort and definitely make your eyes civil. Keep your aim and objective in your intellect and become very, very sweet.
Blessing: May you experiment with the power of silence using the tool of pure thoughts and become an embodiment of success.
The special tool for the power of silence is “pure thoughts”. With the tool of these thoughts, you can see whatever you want as an embodiment of success. First, experiment with this on yourself. Try experimenting with an illness of your body, and the power of silence, will change the form of karmic bondage into a sweet relationship. With the power of silence, any suffering of severe bondage of karma will be experienced as a line on water. Experiment with the power of silence on your body, your mind and your sanskars and become an embodiment of success.
Slogan: Become a lamp for the clan and with the light of your awareness, glorify the name of the Brahmin clan.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 February 2018

To Read Murli 31 January 2018 :- Click Here
01-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – यह गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी है – मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनने की, जब यह निश्चय पक्का हो तब तुम यह पढ़ाई पढ़ सको”
प्रश्नः- मनुष्य से देवता बनने के लिए तुम बच्चे इस समय कौन सी मेहनत करते हो?
उत्तर:- आंखों को क्रिमिनल से सिविल बनाने की, साथ-साथ मीठा बनने की। सतयुग में तो हैं ही सबकी आंखें सिविल। वहाँ यह मेहनत नहीं होती। यहाँ पतित शरीर, पतित दुनिया में तुम बच्चे आत्मा भाई-भाई हो – यह निश्चय कर आंखों को सिविल बनाने का पुरुषार्थ कर रहे हो।
प्रश्नः- भक्तों की किस एक बात से सर्वव्यापी की बात गलत हो जाती है?
उत्तर:- कहते हैं हे बाबा जब आप आयेंगे तो हम आप पर वारी जायेंगे… तो आना सिद्ध करता है वह यहाँ नहीं है।

ओम् शान्ति। बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं कि अपने आत्मा के स्वधर्म में बैठे हो? यह तो जानते हो कि एक ही बेहद का बाप है जिसको सुप्रीम रूह या परम आत्मा कहते हैं। परमात्मा है भी जरूर। परमपिता है ना। परमपिता माना परमात्मा। यह बातें तुम बच्चे ही समझ सकते हो। 5 हजार वर्ष पहले भी यह ज्ञान तुम सबने ही सुना था। तुम जानते हो आत्मा बहुत छोटी सूक्ष्म है, उनको इन आंखों से देखा नहीं जाता है। ऐसा कोई मनुष्य नहीं होगा जिसने आत्मा को देखा होगा। हाँ देखने में आ सकती है – परन्तु दिव्य दृष्टि से और वह भी ड्रामा के प्लैन अनुसार। भक्ति मार्ग में भी इन आंखों से कोई साक्षात्कार नहीं होता। दिव्य दृष्टि मिलती है, जिससे चैतन्य में देखते हैं। दिव्य दृष्टि अर्थात् चैतन्य में देखना। आत्मा को ज्ञान के चक्षु मिलते हैं। बाप ने समझाया है बहुत भक्ति करते हैं, जिसको नौधा भक्ति कहते हैं। जैसे मीरा को साक्षात्कार हुआ तो डांस करती थी। वैकुण्ठ तो उस समय नहीं था ना। मीरा को 5-6 सौ वर्ष हुआ होगा। जो पास्ट हो गया है वह दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। हनूमान, गणेश आदि के चित्रों की बहुत भक्ति करते-करते उसमें जैसे लय हो जाते हैं। भल दीदार होगा परन्तु उससे कोई मुक्ति नहीं मिल सकती। मुक्ति जीवनमुक्ति का रास्ता बिल्कुल न्यारा है। भारत में भक्ति मार्ग में ढेर मन्दिर होते हैं। वहाँ शिवलिंग भी रखते हैं। कोई छोटा बनाते हैं, कोई बड़ा बनाते हैं। अभी तुम समझते हो जैसे तुम आत्मा हो वैसे वह सुप्रीम आत्मा है। साइज एक ही है। कहते भी हैं हम सब ब्रदर्स हैं, आत्मायें सब भाई-भाई हैं। बेहद का बाप एक है। बाकी सब भाई-भाई हैं, पार्ट बजाते हैं। यह समझने की बातें हैं। यह हैं ज्ञान की बातें जो एक ही बाप समझाते हैं। जिन्हों को समझाते हैं वह फिर औरों को समझा सकते हैं। पहले-पहले एक ही निराकार बाप समझाते हैं। उनके लिए ही फिर कह देते सर्वव्यापी है, ठिक्कर-भित्तर में है। यह तो राइट नहीं है ना। एक तरफ कहते बाबा जब आप आयेंगे तो हम वारी जायेंगे। ऐसे थोड़ेही कहते आप सर्वव्यापी हो। कहते हैं आप आयेंगे तो वारी जायेंगे। तो इसका मतलब यहाँ नहीं है ना। मेरे तो आप दूसरा न कोई। तो जरूर उनको याद करना पड़े ना। यह बाप ही बैठ बच्चों को समझाते हैं, इसको रूहानी नॉलेज कहा जाता है। यह जो गाया जाता है आत्मायें परमात्मा अलग रहे बहुकाल…. उसका हिसाब भी समझाया है। बहुकाल से अलग तुम आत्मायें रहती हो। अब बाप के पास आये हो – राजयोग सीखने। बाप तो सर्वेन्ट है। बड़े आदमी जब सही करते हैं तो नीचे लिखते हैं – ओबीडियेन्ट सर्वेन्ट…. बाप सब बच्चों का सर्वेन्ट है। कहते हैं बच्चे मैं तुम्हारा सर्वेन्ट हूँ। तुम कितनी हुज्जत से बुलाते हो कि भगवान आओ, आकर हम पतितों को पावन बनाओ। पावन होते ही हैं पावन दुनिया में। यह समझने की बातें हैं। बाकी तो सब है कनरस। यह है गॉड फादरली वर्ल्ड युनिवर्सिटी। एम आब्जेक्ट क्या है? मनुष्य से देवता बनाना। बच्चों को यह निश्चय है कि हमको यह बनना है। जिसको निश्चय नहीं होगा वह स्कूल में बैठेगा क्या? निश्चय होगा तो बैरिस्टर से, सर्जन से सीखेगा। एम-आब्जेक्ट का ही पता नहीं तो आयेगा नहीं। तुम बच्चे समझते हो हम मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनते हैं। यह है सच्ची-सच्ची सत्य नर से नारायण बनने की कथा। कथा क्यों कहा जाता है? क्योंकि 5 हजार वर्ष पहले भी यह नॉलेज सीखी थी। तो पास्ट को कथा कह देते हैं, यह है सच्ची-सच्ची शिक्षा नर से नारायण बनने की। नई दुनिया में देवतायें, पुरानी दुनिया में मनुष्य रहते हैं। देवताओं में जो दैवीगुण हैं, वह मनुष्यों में नहीं हैं। मनुष्य उनको देवता कहते हैं और गाते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी हो। अपने को कहते हैं हम पापी, नींच विकारी हैं। देवतायें कब थे? जरूर कहेंगे सतयुग में थे। ऐसे नहीं कहेंगे कलियुग में थे। आजकल मनुष्यों की तमोप्रधान बुद्धि होने के कारण बाप के टाइटिल भी अपने ऊपर रख देते हैं। वास्तव में श्रेष्ठ बनाने वाला श्री-श्री तो एक ही बाप है। श्रेष्ठ देवताओं की महिमा अलग है। अभी है कलियुग। सन्यासियों के लिए भी बाबा ने समझाया है एक है हद का सन्यास, दूसरा है बेहद का सन्यास। वो लोग कहते हैं हमने घरबार आदि सब छोड़ा है। परन्तु आजकल तो देखो लखपति बन बैठे हैं। सन्यास माना सुख का त्याग करना। तुम बच्चे बेहद का सन्यास करते हो क्योंकि समझते हो कि यह पुरानी दुनिया खत्म होने वाली है, इसलिए इनसे वैराग्य है। वो लोग तो घरबार छोड़ फिर अन्दर घुस आये हैं। अभी पहाड़ियों आदि पर ग़ुफाओं में नहीं रहते। कुटियायें बनाते हैं, तो भी कितना खर्च करते हैं। वास्तव में कुटिया पर कोई खर्चा थोड़ेही लगता है। बड़े-बड़े महल बनाकर रहते हैं। आजकल तो सब तमोप्रधान हैं। अभी है ही कलियुग। सतयुगी देवताओं के चित्र नहीं होते तो स्वर्ग का नामनिशान गुम हो जाता। तुमको समझाया जाता है अब मनुष्य से देवता बनना है। आधाकल्प भक्ति मार्ग की कथायें हैं। सुनकर सीढ़ी नीचे उतरते आये हो फिर 5 हजार वर्ष बाद एक्यूरेट वही ड्रामा रिपीट होगा। बाबा ने समझाया भी है, किसको ऐसे कहना नहीं है कि भक्ति को छोड़ो। ज्ञान आ जाता है तो फिर आपेही भक्ति छूट जायेगी। समझते हैं हम आत्मा हैं। अब बेहद के बाप से हमको वर्सा लेना है। पहले बेहद के बाप की पहचान चाहिए। वह निश्चय हो गया तो फिर हद के बाप से बुद्धि निकल जाती है। गृहस्थ व्यवहार में रहते बुद्धि का योग बाप के साथ लग जायेगा। बाप खुद कहते हैं शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते बुद्धि में याद रहे एक बाप की। देहधारियों की याद न रहे। वह होती है जिस्मानी यात्रा। यह तुम्हारी है रूहानी यात्रा, इसमें धक्का नहीं खाना है। भक्ति मार्ग है ही रात। धक्का खाना पड़ता है। यहाँ धक्के की बात ही नहीं। याद करने लिए कोई बैठता नहीं है। भक्ति मार्ग में कृष्ण के भगत चलते फिरते कृष्ण को याद नहीं कर सकते हैं क्या? दिल में तो उनकी याद रह जाती है ना। एक बार जो चीज़ देखी जाती है तो वह चीज़ याद रहती है। तो तुम घर बैठे शिवबाबा को याद नहीं कर सकते हो? यह है नई बात। कृष्ण को याद करना, वह पुरानी बात हो गई। शिवबाबा को तो कोई जानते ही नहीं कि उनका नाम रूप क्या है? सर्वव्यापी भी क्या है! कोई बताये ना। तुम बच्चे जानते हो हम आत्मा का बाप परमपिता परमात्मा है। आत्मा को परमात्मा कह नहीं सकते। अंग्रेजी में आत्मा को सोल कहा जाता है। एक भी मनुष्य नहीं जो पारलौकिक बाप को जानता हो। वह बाप ही ज्ञान का सागर है, उनमें नॉलेज है मनुष्य को देवता बनाने की। बाप कहते हैं रोज़-रोज़, गुह्य-गुह्य बातें सुनाता हूँ। मुख्य बात है याद की। याद ही भूल जाती है। बाबा रोज़ कहते हैं अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। मैं आत्मा बिन्दी हूँ। कहते भी हैं चमकता है अजब सितारा। आत्मा शरीर से निकलती है तो इन आंखों से देखने में नहीं आती है। कहा जाता है आत्मा निकल गई। जाकर दूसरे शरीर में प्रवेश किया। तुम जानते हो हम आत्मा कैसे पुनर्जन्म लेते अभी अपवित्र बनी हैं। पहले तुम आत्मा पवित्र थी, तुम्हारा गृहस्थ धर्म पवित्र था। अब दोनों ही अपवित्र बने हैं। जब दोनों पवित्र हैं, तो उन्हों की पूजा करते हैं। आप पवित्र हो, हम अपवित्र हैं। वह दोनों पवित्र, यहाँ दोनों अपवित्र। तो क्या पहले पवित्र थे फिर अपवित्र बने या अपवित्र ही जन्म लिया? बाप बैठ समझाते हैं पहले तुम आत्मायें आपेही पवित्र पूज्य थी। फिर आपेही पुजारी अपवित्र बनी हो। 84 जन्म लिये हैं। सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी तुम जानते हो। कौन-कौन राज्य करते थे, कैसे राज्य मिला। यह हिस्ट्री भी तुम जानते हो और कोई नहीं जानता। तुम भी अभी जानते हो, आगे नहीं जानते थे, पत्थरबुद्धि थे। रचता और रचना के आदि मध्य अन्त की नॉलेज नहीं थी, नास्तिक थे। अभी आस्तिक बनने से तुम कितने सुखी बन जाते हो। तुम यहाँ आये ही हो यह देवता बनने के लिए। इस समय बहुत मीठा बनना है। तुम एक बाप की सन्तान भाई-बहन ठहरे ना। क्रिमिनल दृष्टि जा न सके। इस समय मेहनत करनी पड़ती है। आंखें ही सबसे जास्ती क्रिमिनल होती हैं। आधाकल्प क्रिमिनल रहती हैं, आधाकल्प सिविल रहती हैं। सतयुग में देवताओं की आंखें सिविल रहती हैं, यहाँ क्रिमिनल रहती हैं। इस पर सूरदास की कथा बैठ सुनाते हैं। बाप कहते हैं मुझे आना ही पड़ता है पतित दुनिया, पतित शरीर में। जो पतित बने हैं उन्हों को ही पावन बनाना है।

तुम जानते हो कृष्ण और राधे दोनों अलग-अलग राजाई के थे। प्रिन्स-प्रिन्सेज थे। पीछे स्वयंवर बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं तो फिर उन्हों की डिनायस्टी गाई जाती है। संवत भी उनसे कहा जायेगा। सतयुग की आयु ही लाखों वर्ष कह देते हैं। बाप कहते हैं 1250 वर्ष। रात-दिन का फर्क हो गया। रात ब्रह्मा की आधाकल्प फिर दिन ब्रह्मा का आधाकल्प। ज्ञान से है सुख, भक्ति से है दु:ख। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। फिर भी कहते हैं मीठे बच्चों अपने को आत्मा समझो। स्वधर्म में टिको, बाप को याद करो। वही पतित-पावन है। याद करते-करते तुम पावन बन जायेंगे। अन्त मती सो गति। बाप स्वर्ग का रचयिता है ना। तो याद दिलाते हैं तुम स्वर्ग के मालिक थे। अभी पतित हो इसलिए वहाँ जाने लायक नहीं हो, इसलिए पावन बनो। मुझे एक ही बार आना पड़ता है। एक गॉड है। एक ही दुनिया है। मनुष्यों की तो अनेक मतें, अनेक बातें हैं, जितनी जबान उतनी बातें। यहाँ है ही एक मत, अद्वेत मत। झाड़ में देखो कितने मत-मतान्तर हैं। झाड़ कितना बड़ा हो गया है। वहाँ एक मत एक राज्य था। तुम जानते हो हम ही विश्व के मालिक थे। भारत कितना साहूकार था। वहाँ अकाले मृत्यु कभी होता नहीं। यहाँ तो देखो बैठे-बैठे यह गया। चारों तरफ से मौत है। वहाँ तुम्हारी आयु बड़ी थी। अभी तुम ईश्वर से योग लगाए मनुष्य से देवता बन रहे हो। तो तुम ठहरे योगेश्वर, योगेश्वरी फिर बनेंगे राज राजेश्वरी, अभी हो ज्ञान ज्ञानेश्वरी। फिर राज राजेश्वरी कैसे बनें? ईश्वर ने बनाया। अभी तुम जानते हो इन्हों को राजयोग किसने सिखाया? ईश्वर ने। वहाँ उन्हों की 21 पीढ़ी राजाई चलती है। वह तो एक जन्म में दान-पुण्य करने से राजा बनते हैं। मर गया तो खलास। अकाले मृत्यु तो सबकी आती रहती है। सतयुग में यह लॉ नहीं। वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे कि काल खा गया। एक खाल छोड़ दूसरी ले लेते हैं। जैसे सर्प खाल बदलते हैं। वहाँ सदैव खुशी ही खुशी रहती है। जरा भी दु:ख की बात नहीं। तुम सुखधाम का मालिक बनने के लिए अभी पुरुषार्थ कर रहे हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुरानी दुनिया से बेहद का सन्यास करना है। शरीर निर्वाह अर्थ कर्म करते रूहानी यात्रा पर रहना है।

2) पुरुषार्थ कर आंखों को सिविल जरूर बनाना है। एम आब्जेक्ट बुद्धि में रख बहुत-बहुत मीठा बनना है।

वरदान:- शुभ संकल्प के यंत्र द्वारा साइलेन्स की शक्ति का प्रयोग करने वाले सिद्धि स्वरूप भव 
साइलेन्स की शक्ति का विशेष यंत्र है ”शुभ संकल्प”। इस संकल्प के यंत्र द्वारा जो चाहो वह सिद्धि स्वरूप में देख सकते हो, इसका प्रयोग पहले स्व के प्रति करो। तन की व्याधि के ऊपर प्रयोग करके देखो तो शान्ति की शक्ति द्वारा कर्मबंधन का रूप, मीठे संबंध के रूप में बदल जायेगा। कर्मभोग – कर्म का कड़ा बंधन साइलेन्स की शक्ति से पानी की लकीर मिसल अनुभव होगा। तो तन पर, मन पर, संस्कारों पर साइलेन्स की शक्ति का प्रयोग करो और सिद्धि स्वरूप बनो।
स्लोगन:- कुल दीपक बन अपने स्मृति की ज्योति से ब्राह्मण कुल का नाम रोशन करो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

TODAY MURLI 31 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 January 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 January 2018 :- Click Here

31-01-2018
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to grant you such unlimited happiness that you will never need to ask for anything again.Simply conquer the five vices and you will become the masters of the world.
Question: Why are some children unable to imbibe knowledge even though the path is easy?
Answer: Because they are disobedient. The Father has the faith that all His children will glorify the name of the Brahmin clan, that they will help the Father to make Bharat into heaven. However, because some children repeatedly disobey the Father, they’re unable to imbibe this knowledge and their status thereby decreases. Baba says: Children, the ladder is a bit high. Therefore, continue to take shrimat at every step.
Song: I have the fortune of great happiness.

Om shanti. Only once does the unlimited Father meet you children to give your unlimited happiness. Therefore, you don’t need to ask for anything else. On the path of devotion, devotees continue to beg from God, from deities and from sages and sannyasis. Once you attain the unlimited Father, you attain everything. The Father makes you into the masters of heaven; what more do you need? You should use your intellects. Lakshmi and Narayan of the sun dynasty receive the highest status of all in the human world. There is no status higher than that. Therefore, begging ends. There will also be subjects with Lakshmi and Narayan: as are the king and queen, so the subjects. Who gave them such a high status in heaven? The Father. When? At the confluence. No one else can give this. You have to explain this drama very clearly. It is now the iron age. The golden age will come after this, and so who, other than the Father, can tell you this? The Father sits here and explains the secrets of the world cycle. Everything is at first new and then becomes old. In fact, the world also has stages. This old world is now tamopradhan. There is so much conflict among all religions. The Father says: It is My task to end all conflicts and establish one religion. While sitting in the body of Brahma, I, Myself, give you children My introduction and explain to you. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle forms whereas human beings have corporeal forms, but the Supreme Soul, who is the Highest on High, has neither a subtle nor a corporeal form. He is called the incorporeal One. Souls are incorporeal, and so the incorporeal soul says, “My Father is also incorporeal.” He is the Father of all; everyone else has a bodily name. Lakshmi and Narayan have names. The subtle bodies of Brahma, Vishnu and Shankar also have names. There is only the one incorporeal, Supreme Soul whose name is Shiva. He says: I, the Supreme Soul, make you children similar to Myself. Through Me, the Ocean of Knowledge, you also come to know the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world. I also make you into oceans of love. Deities are oceans of love; everyone loves them so much. The main knowledge is of the world cycle. The rest is of the incorporeal world and the subtle region. The cycle is that of the world and it rotates around four ages. In the golden age you are 16 celestial degrees and then, by the silver age, you descend to 14 degrees. As you continue to take rebirth, the celestial degrees continue to decrease, so that the deity religion has now disappeared. There is not a single human being who could say that he belongs to the sun-dynasty clan. Those of all the other religions know about their own religion. The Father is now making you into the masters of heaven once again. At this time, the iron age is the impure world and only the Father can make it pure. This tree and cycle are like mirrors for the blind. As you progress further, when people see many others coming to you, they too will begin to come. When people see many customers in a shop, they also go inside because they think that the stock there must surely be good. That shop becomes famous. Here, you haven’t yet become that famous because this is something new. In Bombay, many people go to Chimiyananda. He is also mentioned in the newspapers. Here, as soon as people hear that they have to remain pure, they become confused. They think: It is impossible for a man and woman to live together and remain pure; it is cotton wool and fire. They say that women are the gateway to hell, and that they will go to hell by living with them. However, they do not consider themselves to be the gateway to hell. So human beings find this difficult. However, you are given the temptation here to become the masters of heaven if you conquer the five vices. In Bombay, a child who used to come had a lot of conflict at home because he had made a vow of purity. A daughter who came to class was told by her brother: If you go there, you will be beaten. That daughter said: I have been ordered by the Supreme Father, the Supreme Soul, to make the residents of hell into the residents of heaven. I will not give up my work just because you say so. You can do whatever you want. There are very few daughters as courageous as her. In some cases, it is the women who cause a lot of problems because of vice. However, those who are brave warriors gain victory. There are such courageous males as well as females. To live with your family and remain pure is even better. It is they who are called maharathis. Although there are some who remain celibate in this birth, they still have the sins of their past births on their heads. There isn’t just the vice of lust, but there are many other sins committed too. If there is body consciousness, sins are definitely committed. How could people who eat meat and drink alcohol grant salvation? Salvation means to attain peace and happiness. Here, you are unhappy and impure; that is why you adopt a guru. Peace exists in the land of nirvana. There is happiness in heaven and sorrow in hell. Only the Father explains these things. Therefore, you should become His worthy children and claim your inheritance. You now have to return, and so you definitely have to become pure. Even at the time of someone dying, they say to him: Remember God and you will go up above and not have to return. However, that is not so. No one knows who can give the mantra to go up above. Baba says: I come and free you from this Maya. The more you try to free yourself, the more trapped you become. Therefore, follow My shrimat. Stop following the devilish directions of your own minds. To follow the dictates of your own minds means you are making effort to become degraded. Eventually you fall. The Father can know all of this from each one’s behaviour. When people go on a pilgrimage, it is easy to know when someone is ill and that he will be unable to tolerate the cold. He himself would say: I am tired; my back is breaking. Therefore, it is understood from that, that perhaps it is also not in his fortune. All of these matters are unlimited. When children put shrimat aside and follow the dictates of their own minds, their behaviour changes. Then, instead of jewels, stones emerge from their mouths and they lose whatever they had accumulated. Baba says: May no child become like that! Maya gets hold of maharathis too in such a way, don’t even ask! Baba receives news of that. They write: So and so was moving along very well, but Maya, the cat, has now caught her. If she does not come, send her a photo of herself and write: You made a promise. Now, look at your face in the mirror. Ask yourself: Are you worthy of marrying Lakshmi or Narayan? Maya is such that, from being worthy, she makes you unworthy. When they fall, they erase the lines of their fortune. Body consciousness is very powerful: “I am wealthy”, “I am so-and-so”. They very quickly become body conscious. They do not even obey the unlimited Father. This can only be called the drama. It then has to be written to the children: Give them the life-giving herb. Read them a murli so that the omens can be removed. We are all on Shiv Baba’s service. To construct a building is also Baba’s service. The Father has come to serve the children. He gives you children the kingdom and so you should be concerned about doing the Father’s service. It is very easy to do Godly service. While living with your family you should take some timeout to do service. You should go and show the path to those who are blind. Someone or other will emerge. Achcha. The Father rewards you according to the service you do. The Father has the faith that His children will glorify the name of the Brahmin clan. You must definitely become helpers in making Bharat into heaven. The Father is the Benefactor of All, the Ocean of Forgiveness. If, after leaving, someone returns, the Father would say: OK, you can start taking knowledge again. The ladder is a bit high. The path is easy but, due to being disobedient, you have not been able to imbibe knowledge. What will the result be? You will receive a low status. Even a millionaire cannot be as greatly fortunate as you Brahmin children. There are multimillions in every step of yours. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night C lass : 17 /06/19 68

When sweetest children come here, they understand that they are coming to Baba and are listening to Baba. When they go to their own centres, BapDada is not sitting in front of them. In some centres, brothers conduct classes. The murli is easy. Anyone can imbibe it and then conduct a class. The Brahmin teachers are there. Baba asks: Does anyone read the murli and then relate the essence of the murli? Those who read the murli while having the murli in their hands, raise your hands! Even those who simply relate the murli without having the murli in their hands, raise your hands! You should have the murli in your hands, should you not? You should have read it already and then explain it all. Some study the murli and then relate it and so, it is of course numberwise. There are the maharathis – elephant riders, the horse riders and the infantry. Not everyone studies accurately. Some continue to study. They make additions and relate the significance. Not everyone can explain in this way. The Father Himself is sitting here. The Father says to the children: You must not have any doubts about anything. Only the one Father relates everything. In those schools, there are many who teach. They teach separately. Here, it is just the One who teaches you. There is just the one aim and object. There is no need to ask questions about this. I sit here in the morning and help the children with their pilgrimage of remembrance. It isn’t that I remember just you. I remember all the unlimited children. By having this remembrance, you have to purify the whole world. For what do you give your finger? The whole world has to be purified. The Father keeps His vision on all the children. Everyone has to go into silence. Baba draws everyone’s attention. Those who have their yoga connected take it up. The Father would sit in the unlimited. I have come to purify the whole world. I am giving the whole world a current so that it becomes pure. Those who have yoga would understand that Baba is teaching them the pilgrimage of remembrance and that it will bring about peace in the world. Some children are remembered; they also receive help because they stay in remembrance. There are very few who remember very well. Children who can help are also needed: Godly helpers. Their intellects would remember with faith. This is your first subject: to become pure, which means that you children also become instruments with the Father. They call out to the Father: Purifier, come! What would He do by Himself? He needs helpers. You know that you will make the world peaceful and then rule over it. When you have such intellects, your intoxication will rise. You children have to make Bharat into heaven. You know that you are establishing your own kingdom with the Father’s shrimat and with the power of your yoga. You should be intoxicated. It is not like it is something physical; this is spiritual. You children understand that with this spiritual power the Father makes you into the masters of the world every cycle. This one also understands that Shiv Baba comes and establishes heaven. The world does not know that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the new world. They do not know at all when or how He does this. The knowledge in the Gita is like a pinch of salt in a sackful of flour. All the rest are false. The Father comes and tells you the truth. The power of yoga is very well known. Many go and teach the yoga of Bharat. The Father says: Hatha yogis cannot teach Raja Yoga. However, nowadays, there is a lot of falsehood. There is a lot of imitation of the real thing and this is why hardly anyone is able to know the real thing. Achaha. Good night. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t ever put shrimat aside by following the dictates of your own mind. Do not allow stones instead of jewels to emerge from your mouth.
  2. Be concerned about doing the Father’s service. Definitely make time to do Godly service. Show the path to the blind and become a worthy child.
Blessing: May you stabilize your mind in an elevated position and finish the game of changing poses and thereby become an easy yogi.
The position of someone’s the mind is visible from the poses of the face. Some children sometimes become heavy due to carrying a burden. Because of the sanskar of sometimes thinking too much, they become taller than one can even imagine. Then, sometimes, because of being disheartened, they see themselves as very short. So, see these poses of yours as a detached observer and let your mind remain stable in an elevated position. Transform the different poses and you will be called an easy yogi.
Slogan: A soul who has a right to the mine of happiness remains constantly happy and distributes that happiness.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 January 2018

To Read Murli 30 January 2018 :- Click Here
31-01-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप तुम्हें ऐसा बेहद का सुख देने आये हैं जो फिर कुछ भी मांगने की दरकार नहीं रहेगी सिर्फ 5 भूतों को जीतो तो विश्व का मालिक बन जायेंगे”
प्रश्नः- सहज मार्ग होते हुए भी धारणा न होने का कारण क्या है?
उत्तर:- अवज्ञायें। बाप तो सभी बच्चों में विश्वास रखते हैं कि बच्चे ब्राह्मण कुल का नाम बाला करें। भारत को स्वर्ग बनाने में मददगार बनें। परन्तु बच्चों से बार-बार अवज्ञायें हो जाती हैं, जिस कारण धारणा नहीं होती, फिर पद कम हो जाता है। बाबा कहते बच्चे सीढ़ी लम्बी है इसलिए हर कदम श्रीमत लेते रहो।
गीत:- बड़ा खुशनसीब हूँ…

ओम् शान्ति। बच्चों को बेहद का बाप एक ही बार मिलता है, बेहद का सुख देने के लिए। फिर और कोई चीज़ मांग नहीं सकते। भक्ति मार्ग में तो भक्त भगवान से, देवताओं से, साधू सन्यासियों से मांगते रहते हैं। जब बेहद का बाप मिल जाता है तो फिर सब कुछ मिल जाता है। बाप स्वर्ग का मालिक बना देता है और क्या चाहिए। बुद्धि से काम लेना है। इस मनुष्य सृष्टि में सबसे ऊंचे ते ऊंचा पद मिलता है सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण को, इससे और कोई पद ऊंच है ही नहीं। तो मांगना बन्द हो जाता है। लक्ष्मी-नारायण के साथ प्रजा भी तो होगी। यथा राजा रानी तथा प्रजा… अब स्वर्ग में इतना ऊंच पद उन्हों को किसने दिया? बाप ने। कब? संगम पर। और कोई दे न सके। इस ड्रामा चक्र पर अच्छी रीति समझाना चाहिए। अब है कलियुग। इसके बाद सतयुग आना है तो सिवाए बाप के कौन बता सकता है। बाप बैठ सृष्टि चक्र का राज़ समझाते हैं। हरेक वस्तु पहले नई फिर पुरानी होती है। वैसे सृष्टि की भी स्टेजेस हैं। अब तमोप्रधान पुरानी दुनिया है। अनेक धर्मो के कितने झगड़े हैं। बाप कहते हैं सभी झगड़े मिटाकर एक धर्म की स्थापना करना मेरा काम है। मैं खुद अपना परिचय देने तुम बच्चों को ब्रह्मा तन से बैठ समझाता हूँ। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का तो आकार है। मनुष्य का भी साकार रूप है। बाकी ऊंचे ते ऊंचे परमात्मा का न आकार है, न साकार है। उनको निराकार कहा जाता है। जैसे आत्मा निराकार है तो निराकार आत्मा कहती है मेरा बाप भी निराकार है। वही एक सभी का बाप ठहरा, बाकी सबके ऊपर शारीरिक नाम है। लक्ष्मी-नारायण का भी नाम है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर के भी सूक्ष्म शरीर का नाम है। सिर्फ एक ही निराकार परमात्मा है जिसका नाम शिव है। कहते हैं मैं परम आत्मा तुम बच्चों को भी आप समान बनाता हूँ। मुझ ज्ञान सागर से तुम भी सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज जान जाते हो। प्यार का सागर भी बनाता हूँ। देवतायें प्यार के सागर हैं ना। उन्हों को सभी कितना प्यार करते हैं। सारे सृष्टि चक्र का ज्ञान ही मुख्य है। बाकी तो है मूलवतन, सूक्ष्मवतन, चक्र सृष्टि का गिना जाता है, जो चार युगों में घूमता है। सतयुग में 16 कला फिर त्रेता में 14 कला में आते हैं। जैसे-जैसे जन्म लेते जाते हैं, कलायें कम होती जाती हैं। अब तो देवी-देवता धर्म ही प्राय:लोप है। एक भी मनुष्य नहीं जिसके मुख से निकले कि हम सूर्यवंशी कुल के हैं। और सभी धर्म वाले अपने-अपने धर्म को जानते हैं। अभी फिर से बाप तुमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। इस समय कलियुग है पतित दुनिया, इसको पावन तो बाप ही बनायेंगे। यह झाड़, गोला तो अंधों के लिए आइना है। आगे चल तुम्हारे पास जब बहुत आने लगेंगे तो उन्हों को देख और भी आयेंगे। कोई दुकान पर बहुत ग्राहक होते हैं तो उन्हों को देख और भी आते हैं कि यहाँ अवश्य अच्छा माल होगा। वह मशहूर हो जाता है। अभी तुम इतने नामीग्रामी नहीं हुए हो क्योंकि यह नई चीज़ है। बाम्बे में चिमिन्यानंद के पास बहुत जाते हैं। उनका अखबार में भी पड़ता है। यहाँ तो सिर्फ सुनते हैं पवित्र रहना होगा तो वायरे (कन्फ्यूज़) हो जाते हैं। स्त्री पुरुष इकट्ठे रहकर पवित्र रहें, इम्पासिबुल। आग और कपूस है। स्त्री तो नर्क का द्वार है, उनके साथ रहने से नर्क में चले जाते हैं। परन्तु अपने को नर्क का द्वार नहीं समझते। तो मनुष्यों को मुश्किल लगता है परन्तु यहाँ तो तुमको भीती मिलती है – अगर 5 भूतों को जीतेंगे तो स्वर्ग का मालिक बनेंगे। बाम्बे में एक बच्चा आता था, उसने पवित्रता की प्रतिज्ञा की थी तो उनके घर में बहुत झगड़ा चलता था। एक बच्ची जाती थी क्लास करने तो उनका भाई कहता था वहाँ जायेंगे तो मार डालेंगे। वह बच्ची कहती थी मुझे परमपिता परमात्मा का फरमान है – नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाओ। तो मैं अपना धन्धा तुम्हारे कहने से थोड़ेही छोडूँगी। तुमको जो करना है सो करो। ऐसी बहादुर बच्चियां कम हैं। कहाँ-कहाँ विकार के लिए मातायें भी हंगामा करती हैं। परन्तु जो महावीर हैं वह जीत पाते हैं। ऐसे बहादुर मेल्स भी हैं तो फीमेल्स भी हैं। गृहस्थ व्यवहार में रह पवित्र रहना यह और ही अच्छा है। उनको ही महारथी कहा जाता है। भल कोई इस जन्म में ब्रह्मचारी रहते हैं परन्तु अगले जन्म के तो पाप सिर पर हैं। सिर्फ काम विकार नहीं है और भी बहुत पाप होते हैं। देह-अभिमान है तो पाप अवश्य होते हैं। जो मनुष्य खुद ही मांस, शराब आदि खाते हैं वह दूसरों की सद्गति कैसे करेंगे। सद्गति माना शान्ति और सुख में जाना। यहाँ तुम दु:ख में हो, पतित हो तब गुरू चाहते हो। शान्ति है निर्वाणधाम में। स्वर्ग में है सुख, नर्क में है दु:ख। यह बातें बाप ही समझाते हैं। तो इनका सपूत बच्चा बन वर्सा लेना चाहिए। अब तुमको वापिस जाना है तो पवित्र भी जरूर बनना पड़े। मरने समय भी कहते हैं भगवान को याद करो तो ऊपर चले जायेंगे, फिर वापिस आयेंगे नहीं। परन्तु ऐसे तो है नहीं। कोई को पता ही नहीं है कि ऊपर जाने का मंत्र कौन दे सकता है।

बाबा कहते हैं मैं आकर तुमको इस माया से छुड़ाता हूँ। तुम तो जितना छूटने की करेंगे, उतना फँसते जायेंगे इसलिए मेरी श्रीमत पर चलो। अपनी आसुरी मत बन्द कर दो। अपनी मत पर चला गोया वह दुर्गति को पाने का पुरुषार्थ करते हैं। आखिर अधोगति को पा लेते हैं। वह सारा बाप को हरेक की चलन से पता पड़ जाता है। जैसे तीर्थो पर जाते हैं तो झट मालूम पड़ जाता है – यह बीमार है, ठण्डी सहन नहीं कर सकेगा। खुद भी कहते हैं मैं थक गया हूँ। कमर टूट गई है, तो इससे समझ लेते हैं कि इनकी तकदीर में शायद है नहीं। अब यह है बेहद की बात, जब श्रीमत छोड़ अपनी मत पर चलते हैं तो चाल चलन उनकी बदल जाती है। फिर मुख से रत्न के बदले पत्थर निकलने लगते हैं। तो जो जमा किया था उसका घाटा हो पड़ता है। बाबा कहेंगे ऐसा बच्चा शल (कभी) कोई न निकले। महारथियों को भी माया ऐसा पकड़ती है जो बात मत पूछो। समाचार तो बाबा के पास आता है। लिखते हैं फलाना बहुत अच्छा चल रहा था, अब माया बिल्ली ने पकड़ लिया है। नहीं आते हैं तो उनको अपना फोटो भेज दो कि देखो तुमने प्रतिज्ञा की थी, अब आइने में अपना मुँह देखो। बोलो, लक्ष्मी-नारायण को वरने लायक हो? माया ऐसी है जो सपूत के बदले कपूत बना देती है। गिरते हैं तो तकदीर को लकीर लगा देते हैं। देह-अभिमान बड़ा प्रबल है। धनवान हूँ, ऐसा हूँ, झट देह-अभिमान आ जाता है। तो बेहद के बाप की भी नहीं मानते हैं। यह भी ड्रामा कहेंगे। फिर बच्चों को लिखना पड़ता है कि इनको संजीवनी बूटी सुँघाओ। मुरली सुनाओ तो ग्रहण हट जाये। हम सभी शिवबाबा की सर्विस में हैं। मकान बनाना भी बाबा की सर्विस है। बाप बच्चों की सर्विस करने आये हैं। बादशाही देते हैं तो बच्चों को भी बाप की सर्विस का फुरना रखना चाहिए। गॉडली सर्विस करना तो बहुत सहज है। गृहस्थ व्यवहार में रहते कुछ न कुछ टाइम निकाल सर्विस करनी चाहिए। कोई न कोई अन्धे को रास्ता बता आना चाहिए। फिर कोई न कोई निकल पड़ेगा। अच्छा।

जैसी सर्विस वैसा उजूरा बाप देते हैं। बाप बच्चों पर विश्वास रखते हैं कि बच्चे ब्राह्मण कुल का नाम बाला करेंगे। भारत को स्वर्ग बनाने में मददगार जरूर बनना है। बाप तो सबका कल्याणकारी, क्षमा का सागर है। कोई भागन्ती हो फिर आ जाते हैं तो भी बाप कहेंगे अच्छा फिर से ज्ञान उठाओ। सीढ़ी जरा लम्बी है। मार्ग सहज है परन्तु अवज्ञायें करने कारण धारणा नहीं होती। नतीजा क्या होता है? पद कम मिल जाता है। तुम ब्राह्मण बच्चों जैसा महान भाग्यशाली इस समय का पदमपति भी नहीं होगा। तुम्हारे हर कदम में पदम हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि क्लास 17-6-68

मीठे-मीठे बच्चे जब यहाँ आते हैं तो समझते हैं हम बाबा के पास जाते हैं। बाबा से सुनते हैं। जब अपने अपने सेन्टर पर जाते हैं तो सामने बापदादा नहीं बैठते हैं। कहाँ-कहाँ गोप भी क्लास चलाते हैं। मुरली तो सहज है। कोई भी धारण कर क्लास करा सकते हैं। ब्राह्मणियाँ बैठी तो हैं। बाबा पूछते हैं कोई मुरली पढ़कर फिर मुरली का सार सुनाते हैं? जो मुरली हाथ में उठाकर सुनाते हैं वह हाथ उठावे। जो मुरली हाथ में नहीं लेते लेकिन मुरली का सार ऐसे ही सुनाते हैं, वह भी हाथ उठावें। मुरली हाथ में तो होनी चाहिए ना! पढ़े हुए हैं फिर सारा बैठ सुनाते हैं। कोई मुरली पढ़कर सुनाते हैं नम्बरवार तो हैं ना। महारथी, घोड़ेसवार और प्यादे। सभी तो एक्यूरेट नहीं पढ़ते हैं। कोई तो पढ़ते भी रहते हैं, एडीशन कर रहस्य भी सुनाते रहते हैं। सभी ऐसे नहीं समझा सकते। यहाँ तो बाप बैठे हैं। बाप बच्चों को कहते हैं कोई बात में संशय नहीं होना चाहिए। एक बाप ही सभी कुछ सुनाते हैं। उन स्कूलों में तो अनेक पढ़ाने वाले हैं। अलग अलग पढ़ाते। यहाँ तो एक ही पढ़ाते हैं। एक ही एम आब्जेक्ट है। इसमें प्रश्न पूछने का रहता नहीं। सुबह को यहाँ बैठ बच्चों को याद की यात्रा में मदद करता हूँ। ऐसे नहीं सिर्फ तुमको याद करता हूँ। सारे बेहद के बच्चे याद रहते हैं। तुमको इस याद से सारे विश्व को पावन बनाना है। अंगुली तुम किसमें देते हो? पवित्र तो सारी दुनिया को बनाना होता है ना। तो बाप सभी बच्चों पर नज़र रखते हैं। सभी शान्ति में चले जायें। सभी को अटेन्शन खिंचवाते हैं। जिनका योग है वह उठाते हैं। बाप तो बेहद में ही बैठेंगे। मैं आया हूँ सारी दुनिया को पावन बनाने। सारी दुनिया को करेन्ट दे रहा हूँ तो पवित्र हो जायें। जिनका योग होगा समझेंगे बाबा अभी बैठ याद की यात्रा सिखला रहे हैं जिससे विश्व में शान्ति होती है। बच्चों को भी याद किया जाता है। वह भी याद में रहते हैं तो मदद मिलती है। अच्छी रीति याद करते हैं वह थोड़े हैं। मददगार बच्चे भी चाहिए ना। खुदाई खिदमतगार। निश्चयबुद्धि से याद करेंगे ना। तुम्हारी पहली सबजेक्ट है यह पावन बनने की। गोया तुम बच्चे निमित्त बनते हो बाप के साथ। बाप को बुलाते हैं हे पतित-पावन आओ। अभी वह अकेला क्या करेगा? खिदमतगार चाहिए ना? तुम जानते हो विश्व को शान्त बनाकर उस पर राज्य करेंगे। ऐसी बुद्धि होगी तब नशा चढ़ा हुआ होगा। तुम बच्चों को भारत को हेविन बनाना है। तुम जानते हो बाप की श्रीमत से, हम अपने योगबल से अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हैं। नशा रहना चाहिए। स्थूल जैसी बात तो नहीं है। यह है रूहानी। बच्चे समझते हैं हर कल्प बाप इस रूहानी बल से हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। यह भी समझते हैं शिव बाबा ही आकर स्वर्ग की स्थापना करते हैं। दुनिया को यह भी पता नहीं है परमपिता परमात्मा नई दुनिया की स्थापना करते हैं; कब, कैसे, बिल्कुल ही नहीं जानते हैं। गीता में भी आटे में लून है। बाकी तो सभी झूठ ही झूठ है। बाप आकर सत्य बताते हैं। भारत का योगबल तो नामी-ग्रामी है। बहुत जाते हैं भारत का सिखलाने। बाप कहते हैं हठयोगी राजयोग सिखा न सके। परन्तु आजकल तो झूठ बहुत है ना। सच के आगे इमीटेशन बहुत होती है इसलिए सच को कोई मुश्किल जान सकते हैं। अच्छा। गुडनाईट। रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) श्रीमत को छोड़ कभी भी मनमत पर नहीं चलना है। मुख से रत्न के बजाए पत्थर नहीं निकालने हैं।

2) बाप की सर्विस का फुरना रखना है। समय निकाल ईश्वरीय सेवा जरूर करनी है। अन्धों को रास्ता बताना है। सपूत बनना है।

वरदान:- मन को श्रेष्ठ पोजीशन में स्थित कर पोज़ बदलने के खेल को समाप्त करने वाले सहजयोगी भव 
जैसी मन की पोजीशन होती है वह चेहरे के पोज़ से दिखाई देती है। कई बच्चे कभी-कभी बोझ उठाकर मोटे बन जाते हैं, कभी बहुत सोचने के संस्कार के कारण अन्दाज से भी लम्बे हो जाते हैं और कभी दिलशिकस्त होने के कारण अपने को बहुत छोटा देखते हैं। तो अपने ऐसे पोज़ साक्षी होकर देखो और मन की श्रेष्ठ पोज़ीशन में स्थित हो ऐसे भिन्न-भिन्न पोज़ परिवर्तन करो तब कहेंगे सहजयोगी।
स्लोगन:- खुशियों के खान की अधिकारी आत्मा सदा खुशी में रहती और खुशी बांटती है।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize