Month: December 2017

TODAY MURLI 1 JANUARY 2018 DAILY MURLI (English)

01/01/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, since you have died a living death, you have to forget everything. Only listen to what the one Father explains and remember the Father: “I sit with You alone…”
Question: What teachings are given by the Father, the Bestower of Salvation, for the salvation of you children?
Answer: Baba says: Children, in order to attain salvation, become bodiless and remember the Father and the cycle. Through this yoga you will become ever healthy and free from disease and you will not have to repent for any of your actions.
Question: What is the sign of those who do not receive the fortune of the happiness of heaven?
Answer: When it comes to listening to knowledge, they say that they don’t have time. They will never become members of the Brahmin clan. They will also never even know that God comes in a certain form.
Song: The heart desires to call You.

Om shanti. God sits and explains to the devotees. Devotees are God’s children. All are devotees, whereas the Father is one. Therefore, you children want to experience this one birth in His company. Many births have been spent with deities. Many births have also been spent in the devilish community. The heart’s desire of devotees is now to belong to God and experience one birth with God, to live with Him. Now that you belong to God, you have died a living death and so you are living with God. In this last and invaluable life of yours, you are staying with the Supreme Father, the Supreme Soul. It is sung: I shall eat only with You, I shall sit only with You, I shall listen to only You. Those who die while alive are able to spend this life of theirs in His company. This is the one and only most elevated birth of all. The Father only comes once; He will not be able to come again. He only comes once to fulfil all the desires of the children. On the path of devotion people ask for many things. For half the cycle, they have been begging from sages and holy men, great souls and deity idols. For birth after birth, they have also been chanting, doing penance and giving to charity; they have been reading so many scriptures. They create so many scriptures and magazines. They never tire of them. They think that they will find God through them. However, the Father Himself now explains: Whatever you have been studying for birth after birth and whatever scriptures you are studying now, you do not attain Me through those. There are many books. The Christians also study so much. They continue to write something or other in many different languages and people continue to study them. Now, the Father says: Forget everything you have studied. Forget it all, that is, kill it in the intellect. Many books have been read. It is written in books: So-and-so is God and so-and-so is an incarnation. The Father now says: When I come, I personally tell those who become Mine to forget all of those things. I now speak things that were not in the intellects of you or anyone else in the whole world. You children now understand that the things Baba explains are not in any of the scriptures. The Father explains very deep and entertaining things. He tells the news of the Creator, the creation and the beginning, the middle and the end of the drama. So, Baba says: If you cannot remember a great deal, just remember two things: “Manmanabhav” and “Madhyajibhav”. These words come from the Gita of the path of devotion, but the Father explains the meaning of them very clearly. God teaches easy Raja Yoga. He says: Just remember Me, the Father. You remembered Me a lot on the path of devotion. They sing that everyone remembers God at the time of sorrow, but they still don’t understand anything. Surely, the world of happiness exists in the golden and silver ages and so why should they remember Him there? It is because there is now sorrow in the land of Maya that you remember the Father. The happiness of the golden age is also remembered. Those who were in the world of happiness are the same ones who study Raja Yoga and knowledge from the Father at the confluence age. Just look at the children; many are uneducated. It is even better for them, because their intellects are not pulled anywhere. Here, you have to remain silent. There is no need to say anything with your lips. Simply continue to remember Baba and your sins will be absolved. I will then take you back with Me. Some of these things are written in the Gita. There is only one scripture for ancient Bharat. This very Bharat that used to be new has now become old. There is only the one scripture, just as there has only been the one Bible since the Christian religion was established and they will only have that one scripture until the end. Christ is also praised a great deal. They say that he established peace. He came and established the Christianreligion. However, there is no question ofpeace. They continue to praise whoever comes because they have forgotten their own praise. Buddhists and Christians etc. do not leave their religion and praise others. The people of Bharat do not have their own religion. This, too, is fixed in the drama. It is only when people become complete atheists that the Father comes. The Father explains: Children, the books that are used in schools etc. at least have an aim and objective. There is benefit in them because you can earn a living and receive a status. However, to study the scriptures etc. is called blind faith. A study can never be called blind faith. It is not that they are studying with blind faith. You can become a barrister or an engineer by studying, so how that could be called blind faith? This is a study place (pathshala), not a satsang. It is written: Godly World University. Therefore, it should be understood that this is God’s great university; it is for the universe. Give everyone this message: Forget the body and all the religions of the body, stay in the religion of the self and remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination. Write a chartof how long you stayed in yoga. It is not that everyone writes their chart regularly , no; they become tired. What you should do in fact is look at your face in the mirror every day, and you will come to know whether you are worthy of marrying Lakshmi or Sita, or whether you will become a subject. You are told to keep achart in order to speed up your efforts, and see for how long you remembered Shiv Baba. The whole day’s activities should appear in front of you. You are able to remember your whole life from a very young age; so, are you not then able to remember your activities of one day? Check for how long you remembered Baba and the cycle. By practi s ing this, you will be able to race very quickly and be threaded in the rosary of Rudra. This is the pilgrimage of yoga. Since no one else knows about this, how could anyone else teach it? You understand that you now have to return to Baba. Baba’s inheritance is the kingdom. That is why the name ‘Raja Yoga’ is given. You are all Raj Rishis. Others are hatha yoga rishis. They too remain pure. A king, queen and subjects are all needed in a kingdom. There are no kings or queens among sannyasis. They have limited disinterest whereas you have unlimited disinterest. Although they renounce their home and hearth, they still have to live in this vicious world. For you, there is heaven after this world. The divine garden is remembered. Only you children can keep these aspects in your intellects. There are many who cannot even write a chart. While moving along, they become tired. Baba says: Children, make anote for yourself of how long you remembered the most beloved Baba, the One from whom you claim your inheritance by remembering Him. If you want to claim your inheritance of a kingdom, you have to create subjects. Since Baba is the Creator of heaven, why should you not take your inheritance from Him? There are many who receive the inheritance of heaven, and the rest receive peace. The Father tells everyone: Children, forget your bodies and all your bodily relations. You came bodiless and passed through 84 births. Now become bodiless once again. Those of the Christian religion can also be told that they came down after Christ came down. You also came bodiless and played yourpart s by adopting bodies. Your part s are now also coming to an end. Now that the end of the iron age has come, remember the Father. Those who belong to the land of liberation will become very happy. They only desire liberation. They believe that, after attaining liberation-in-life, they would still have to experience sorrow, and so liberation would be better than that. They do not realize that there is lot of happiness there. We souls reside in the soul world with the Supreme Soul. However, they have now forgotten the soul world. They say: When the Father comes He sends all His messengers. In fact, no one is sent. All of this is fixed in the drama. We have come to know the whole drama. If you children keep the Father and the cycle in your intellects, you will definitely become rulers of the globe. People think that there is lot of sorrow here. This is why they want liberation. The two words ‘liberation’ and ‘salvation’ have been used, but no one knows the meaning of them. You children understand that the Bestower of Salvation for All is the one Father. All the rest are impure. The whole world is impure. Some even react on hearing these words. The Father says: Forget your bodies. I sent you bodiless. You now have to become bodiless and return home with Me. This is called knowledge or a study. Only through this study is there salvation. You become everhealthy though yoga. You were very happy in the golden age. Nothing was lacking there. There was no vice to cause sorrow. People relate the story of the king who conquered attachment. Baba says: I teach you such actions that you will never have to repent for anything you do. There will be no cold weather there. Now, even the five elements are tamopradhan. Sometimes, it is very hot and sometimes, extremely cold. There are no such calamities there; it is always Spring. Nature is satopradhan. N ature is now tamopradhan, so how could there be good people? Such eminent leaders of Bharat follow sannyasis around! However, when you children go to them, they say that they don’t have time. You can understand from this that it is not in their fortune to experience the happiness of heaven. They do not become members of the Brahmin clan. They don’t even know how or when God comes here. Although they celebrate the birthday of Shiva, not everyone considers Shiva to be God. If they regarded Him as the Supreme Father, the Supreme Soul, they would celebrate Shiva Jayanti as a publicholiday. The Father says: My birth only takes place in Bharat. Temples are also here. Surely, He must have entered someone’s body. Daksha Prajapati is portrayed creating a sacrificial fire. Would God have entered him? They do not say this. Krishna exists in the golden age. The Father Himself says: I have to create the mouth-born progeny of Brahmins through Brahma. You can also explain this to others. Baba explains to you so simply: Just remember Me. However, Maya is so powerful that she doesn’t allow you to stay in remembrance. She has been an enemy for half a cycle. You have to conquer this enemy. On the path of devotion, people go to bathe in the cold. They stumble around a great deal. They endure so much pain. This is a pathshala where you study. There is no question of stumbling around here in blind faith. Human beings are trapped in such blind faith ! They adopt so many gurus etc. However, no human being can grant salvation to another. To make a human being your guru is blind faith. Nowadays, even small children are made to adopt a guru. Otherwise, the custom is to take a guru in your age of retirement. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make your efforts fast, it is essential to keep a chart of remembrance. Everyday look at your face in the mirror and check: How long do I remember themost beloved Father?
  2. Forget everything you have studied and remain silent. There is no need to say anything. Have your sins absolved by having remembrance of the Father.
Blessing: May you be an emperor of the unlimited and merge anything limited into the unlimited by placing your steps in Father Brahma’s footsteps.
To follow the father means to merge “mine” into “Yours”, to merge anything limited into the unlimited. There is now a need to take these steps. Everyone’s thoughts, words and methods of service have to be experienced to be unlimited. For self-transformation, finish all trace of anything limited. Whomever you see and whoever sees you, let there be the intoxication of being an emperor of the unlimited. There may be centres, there may be service but let there not be any name or trace of anything limited for only then will you claim the throne of the kingdom of the world.
Slogan: Make your thoughts royal and beautiful and your time will not be wasted in trivial matters.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 JANUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

 

01/01/18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – मरजीवा बने हो तो सब कुछ भूल जाओ, एक बाप जो सुनाते हैं, वही सुनो और बाप को याद करो, तुम्हीं संग बैठूँ”
प्रश्नः- सद्गति दाता बाप बच्चों की सद्गति के लिए कौन सी शिक्षा देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे सद्गति में जाने के लिए अशरीरी बन बाप और चक्र को याद करो। योग से तुम एवरहेल्दी, निरोगी बन जायेंगे। फिर तुम्हें कोई भी कर्म कूटने नहीं पड़ेंगे।
प्रश्नः- जिनकी तकदीर में स्वर्ग के सुख नहीं हैं, उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- वह ज्ञान सुनने के लिए कहेंगे हमारे पास फुर्सत ही नहीं है। वो कभी ब्राह्मण कुल के भाती नहीं बनेंगे। उन्हें पता ही नहीं पड़ेगा कि भगवान भी किसी रूप में कभी आते हैं।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है…

ओम् शान्ति। भगवान बैठ भक्तों को समझाते हैं। भक्त हैं भगवान के बच्चे। सभी हैं भक्त, बाप है एक। तो बच्चे चाहते हैं एक जन्म तो बाप के साथ भी रहकर देखें। देवताओं से भी बहुत जन्म बीते। आसुरी सम्‍प्रदाय के साथ भी बहुत जन्म बीते। अब भक्तों की दिल होती है – एक जन्म तो भगवान के बनकर भगवान के साथ रहकर देखें। अभी तुम भगवान के बने हो, मरजीवा बने हो तो भगवान के साथ रहते हो। यह जो अमूल्य अन्तिम जीवन है इसमें तुम परमपिता परमात्मा के साथ रहते हो। गायन भी है – तुम्हीं से खाऊं, तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से सुनूँ…। जो मरजीवा बनते हैं उनके लिए यह जन्म साथ रहना होता है। यह एक ही है ऊंचे ते ऊंचा जन्म। बाप भी एक ही बार आते हैं, फिर तो कभी आ नहीं सकेंगे। एक ही बार आकर बच्चों की सर्व कामनायें पूर्ण कर लेते हैं। भक्तिमार्ग में मांगते बहुत हैं। साधू-सन्त, महात्माओं, देवी-देवताओं आदि से आधाकल्प से माँगते रहते हैं और दूसरा जप, तप, दान, पुण्य आदि भी जन्म बाई जन्म करते ही आये हैं। कितने शास्त्र पढ़ते हैं। अनेकानेक शास्त्र मैगजीन आदि बनाते थकते ही नहीं। समझते हैं इनसे ही भगवान मिलेगा, परन्तु अब बाप खुद कहते हैं – तुम जन्म-जन्मान्तर जो कुछ पढ़े हो और अब यह जो कुछ शास्त्र आदि पढ़ते हो, इनसे कोई मेरी प्राप्ति नहीं होगी। बहुत किताब आदि हैं। क्रिश्चियन लोग भी कितना सीखते हैं। अनेक भाषाओं में बहुत कुछ लिखते ही रहते हैं। मनुष्य पढ़ते ही रहते हैं। अब बाप कहते हैं जो कुछ पढ़े हो वह सब भूल जाओ अथवा बुद्धि से मार दो। बहुत किताब पढ़ते हैं। किताबों में है फलाना भगवान है, फलाना अवतार है। अब बाप कहते हैं मैं खुद आता हूँ, तो जो मेरे बनते हैं उनको मैं कहता हूँ इन सबको भूल जाओ। सारे दुनिया की और तुम्हारी बुद्धि में जो बात नहीं थी, वह अब मैं तुमको सुनाता हूँ। अब तुम बच्चे समझते हो बरोबर बाबा जो समझाते हैं वह कोई शास्त्र आदि में है नहीं। बाप बहुत गुह्य और रमणीक बातें समझाते हैं। ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त, रचता और रचना का सारा समाचार तुमको सुनाते हैं। फिर भी कहते हैं अच्छा जास्ती नहीं तो दो अक्षर ही याद करो – मनमनाभव, मध्याजी भव। यह अक्षर तो भक्तिमार्ग की गीता के हैं, परन्तु बाप इसका अर्थ अच्छी रीति समझाते हैं। भगवान ने तो सहज राजयोग सिखाया है, कहते हैं सिर्फ मुझ बाप को याद करो। भक्ति में भी बहुत याद करते थे। गाते भी हैं दु:ख में सुमिरण सब करें.. फिर भी कुछ समझते नहीं। जरूर सतयुग त्रेता में सुख की दुनिया है तो याद क्यों करेंगे? अब माया के राज्य में दु:ख होता है तब बाप को याद करना होता है और फिर सतयुग में अथाह सुख भी याद आता है। उस सुख की दुनिया में वही थे, जिन्होंने बाप से संगमयुग पर राजयोग और ज्ञान सीखा था। बच्चों में देखो – हैं कैसे अनपढ़। उन्हों के लिए तो और ही अच्छा है, क्योंकि कहाँ भी बुद्धि जाती नहीं है। यहाँ तो सिर्फ चुप रहना है। मुख से भी कुछ नहीं कहना है। सिर्फ बाबा को याद करते रहो तो विकर्म विनाश होंगे। फिर साथ ले जाऊंगा। यह बातें कुछ न कुछ गीता में हैं। प्राचीन भारत का धर्म शास्त्र है ही एक। यही भारत नया था, अब पुराना हुआ है। शास्त्र तो एक ही होगा ना। जैसे बाइबिल एक है, जब से क्रिश्चियन धर्म स्थापन हुआ है तो अन्त तक उनका शास्त्र एक ही है। क्राइस्ट की भी बहुत महिमा करते हैं। कहते हैं उसने पीस स्थापन की। अब उसने तो आकर क्रिश्चियन धर्म की स्थापना की, उसमें पीस की तो बात ही नहीं। जो आते हैं उनकी महिमा करते रहते हैं क्योंकि अपनी महिमा को भूले हुए हैं। बौद्ध, क्रिश्चियन आदि अपने धर्म को छोड़ औरों की महिमा नहीं करेंगे। भारतवासियों का अपना धर्म तो है ही नहीं। यह भी ड्रामा में नूँधा हुआ है। जब बिल्कुल ही नास्तिक बन जाते हैं तब ही फिर बाप आते हैं।

बाप समझाते हैं बच्चे स्कूलों आदि में जो किताबें पढ़ाई जाती हैं उनमें फिर भी एम-आबजेक्ट है। फायदा है, कमाई होती है। मर्तबा मिलता है। बाकी शास्त्र आदि जो पढ़ते हैं, उसको अन्धश्रद्धा कहा जाता है। पढ़ाई को कभी भी अन्धश्रद्धा नहीं कहेंगे। ऐसे नहीं कि अन्धश्रद्धा से पढ़ते हैं। पढ़ाई से बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि बनते हैं, उसको अन्धश्रद्धा कैसे कहेंगे। यह भी पाठशाला है। यह कोई सतसंग नहीं। लिखा है ईश्वरीय विश्व विद्यालय। तो समझना चाहिए जरूर ईश्वर का बहुत भारी विद्यालय होगा। सो भी विश्व के लिए है। सभी को पैगाम भी देना है कि देह सहित सभी धर्मो को छोड़ अपने स्वधर्म में टिको, फिर अपने बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। अपना चार्ट लिखना है, कितना समय हम योग में रहते हैं। ऐसे नहीं हर एक रेगुलर चार्ट लिखेंगे। नहीं, थक जाते हैं। वास्तव में क्या करना है? रोज़ अपना मुँह आइने में देखना है, तो पता पड़ेगा कि हम लक्ष्मी को वा सीता को वरने लायक हैं वा प्रजा में चले जायेंगे? पुरुषार्थ तीव्र कराने के लिए चार्ट लिखने को कहा जाता है और देख भी सकते हैं कि हमने कितना समय शिवबाबा को याद किया? सारी दिनचर्या सामने आ जाती है। जैसे छोटेपन से लेकर सारे आयु की जीवन याद रहती है ना! तो क्या एक दिन का याद नहीं पड़ेगा। देखना है हम बाबा को और चक्र को कितना समय याद करते हैं? ऐसी प्रैक्टिस करने से रूद्र माला में पिरोने के लिए दौड़ी जल्द पहनेंगे। यह है योग की यात्रा, जिसको और कोई जानते नहीं तो सिखा कैसे सकते। तुम जानते हो अब बाबा के पास लौटना है। बाबा का वर्सा है ही राजाई इसलिए इस पर नाम पड़ा है राजयोग।

तुम सब राजऋषि हो। वह हैं हठयोग ऋषि। वह भी पवित्र रहते हैं। राजाई में तो राजा रानी प्रजा सब चाहिए। सन्यासियों में तो राजा रानी हैं नहीं। उन्हों का है हद का वैराग्य, तुम्हारा है बेहद का वैराग्य। वह घरबार छोड़ फिर भी इस विकारी दुनिया में ही रहते हैं। तुम्हारे लिए तो इस दुनिया के बाद फिर है स्वर्ग, दैवी बगीचा। तो वही याद पड़ेगा। यह बात तुम बच्चे ही बुद्धि में रख सकते हो। बहुत हैं जो चार्ट लिख भी नहीं सकते। चलते-चलते थक पड़ते हैं। बाबा कहते हैं – बच्चे अपने पास नोट करो कि कितना समय मोस्ट बिलवेड बाबा को याद किया? जिस बाप की याद से ही वर्सा लेना है। जब राजाई का वर्सा लेना है तो प्रजा भी बनानी है। बाबा स्वर्ग का रचयिता है तो उनसे क्यों नहीं स्वर्ग का वर्सा मिलना चाहिए। बहुत हैं जिनको स्वर्ग का वर्सा मिलता है। बाकी को शान्ति मिलती है। बाप सभी को कहते हैं बच्चे देह सहित देह के सभी सम्बन्धों को भूलो। तुम अशरीरी आये थे, 84 जन्म भोगे अब फिर अशरीरी बनो। क्रिश्चियन धर्म वालों को भी कहेंगे तुम क्राइस्ट के पिछाड़ी आये हो। तुम भी बिगर शरीर आये थे, यहाँ शरीर लेकर पार्ट बजाया, अब तुम्हारा भी पार्ट पूरा होता है। कलियुग का अन्त आ गया है। अब तुम बाप को याद करो, मुक्तिधाम वाले सुनकर बहुत खुश होंगे। वह चाहते ही मुक्ति हैं। समझते हैं जीवनमुक्ति (सुख) पाकर फिर भी तो दु:ख में आयेंगे, इससे तो मुक्ति अच्छी। यह नहीं जानते कि सुख तो बहुत है। हम आत्मायें परमधाम में बाप के साथ रहने वाली हैं। परन्तु परमधाम को अब भूल गये हैं। कहते हैं बाप आकर सभी मैसेन्जर्स को भेजते हैं। वास्तव में कोई भेजता नहीं है। यह सब ड्रामा बना हुआ है। हम तो सारे ड्रामा को जान गये हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में बाप और चक्र याद है, तो तुम चक्रवर्ती राजा अवश्य बनेंगे। मनुष्य तो समझते हैं यहाँ दु:ख बहुत है इसलिए मुक्ति चाहते हैं। यह दो अक्षर गति और सद्गति चले आते हैं। परन्तु इनका अर्थ कोई भी नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो सबका सद्गति दाता एक बाप ही है, बाकी सब पतित हैं। दुनिया ही सारी पतित है। इन अक्षरों पर भी कोई-कोई बिगड़ते हैं। बाप कहते हैं इस शरीर को भूल जाओ। तुमको अशरीरी भेजा था। अब भी अशरीरी होकर मेरे साथ चलना है। इसको नॉलेज अथवा शिक्षा कहा जाता है। इस शिक्षा से ही सद्गति होती है। योग से तुम एवरहेल्दी बनते हो। तुम सतयुग में बहुत सुखी थे। कोई चीज़ की कमी नहीं थी। दु:ख देने वाला कोई विकार नहीं था। मोहजीत राजा की कथा सुनाते हैं। बाबा कहते हैं मैं तुमको ऐसे कर्म सिखाता हूँ, जो तुमको कभी कर्म कूटने नहीं पड़ेंगे। वहाँ ऐसी ठण्डी भी नहीं होगी। अभी तो 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं। कभी बहुत गर्मी, कभी बहुत ठण्डी। वहाँ ऐसी आपदायें होती नहीं। सदैव बसन्त ऋतु रहती है। नेचर सतोप्रधान है। अभी नेचर तमोप्रधान है। तो अच्छे आदमी कैसे हो सकते। इतने बड़े-बड़े भारत के मालिक सन्यासियों के पीछे फिरते रहते हैं। उनके पास बच्चियां जाती हैं तो कहते हैं फुर्सत नहीं। इससे समझ जाते हैं कि इनकी तकदीर में स्वर्ग के सुख नहीं हैं। ब्राह्मण कुल के भाती बनते ही नहीं, इनको पता ही नहीं कि भगवान कैसे और कब यहाँ आते हैं! शिव जयन्ती मनाते हैं परन्तु शिव को सभी भगवान नहीं समझते हैं। अगर उनको परमपिता परमात्मा समझते तो शिव जयन्ती के दिन हालीडे मनाते। बाप कहते हैं मेरा जन्म भी भारत में होता है। मन्दिर भी यहाँ हैं। जरूर किसी शरीर में प्रवेश किया होगा। दिखाते हैं दक्ष प्रजापति ने यज्ञ रचा। तो क्या उसमें आया होगा! ऐसे भी नहीं कहते। कृष्ण तो होता ही है सतयुग में। बाप खुद कहते हैं मुझे ब्रह्मा मुख द्वारा ब्राह्मण वंशावली रचनी है। कोई को यह भी तुम समझा सकते हो, बाबा कितना सहज समझाते हैं सिर्फ याद करो। परन्तु माया इतनी प्रबल है जो याद करने नहीं देती। आधाकल्प की दुश्मन है। इस दुश्मन पर ही जीत पानी है। भक्ति मार्ग में मनुष्य ठण्डी में स्नान करने जाते हैं। कितने धक्के खाते हैं। दु:ख सहन करते हैं। यहाँ तो पाठशाला है, पढ़ना है, इसमें धक्के खाने की तो कोई बात ही नहीं। पाठशाला में ब्लाइन्ड फेथ की तो बात नहीं। मनुष्य तो बहुत ब्लाइन्ड फेथ में फंसे हुए हैं। कितने गुरू आदि करते हैं। परन्तु मनुष्य तो कभी मनुष्य की सद्गति कर नहीं सकते। जो भी मनुष्यों को गुरू बनाते हैं, वह ब्लाइन्डफेथ हुआ ना। आजकल छोटे बच्चों को भी गुरू कराते हैं। नहीं तो कायदा है वानप्रस्थ में गुरू करने का। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिये मुख्य सार:-

1) तीव्र पुरुषार्थ के लिए याद का चार्ट जरूर रखना है। रोज़ आइने में अपना मुँह देखना है। चेक करना है – हम मोस्ट बिलवेड बाप को कितना समय याद करते हैं!

2) जो कुछ पढ़ा है वह भी भूल चुप रहना है। मुख से कुछ भी कहना नहीं है। बाप की याद से विकर्म विनाश करने हैं।

वरदान:- ब्रह्मा बाप के कदम पर कदम रख हद को बेहद में समाने वाले बेहद के बादशाह भव
फालो फादर करना अर्थात् मेरे को तेरे में समाना, हद को बेहद में समाना, अभी इस कदम पर कदम रखने की आवश्यकता है। सबके संकल्प, बोल, सेवा की विधि बेहद की अनुभव हो। स्व-परिवर्तन के लिए हद को सर्व वंश सहित समाप्त करो, जिसको भी देखो वा जो भी आपको देखे – बेहद के बादशाह का नशा अनुभव हो। सेवा भी हो, सेन्टर्स भी हों लेकिन हद का नाम निशान न हो तब विश्व के राज्य का तख्त प्राप्त होगा।
स्लोगन:- अपने ख्यालात आलीशान बना लो तो छोटी-छोटी बातों में टाइम वेस्ट नहीं जायेगा।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 30 DECEMBER 2017 – Aaj Baba ne Kaha

To Read 29 December Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*30.12.2017*

★【 *आज का पुरुषार्थ* 】★

आप बच्चे अपने हर संकल्प के महत्व को समझो क्योंकि आप संकल्पों द्वारा ही स्वयं का परिवर्तन सो विश्व का परिवर्तन करते हो।

इसलिए आपको हमेशा संकल्पों से light रहना है और आपके संकल्पों में हमेशा शुभ-भावना, कल्याण की भावना, प्रेम की भावना, रहम की भावना emerge रूप में रहे, स्व के प्रति और विश्व के प्रति भी।

जब कभी कोई परिस्थिति वा कोई बात आ जाती है और आप क्यों, क्या, ऐसा, वैसा, कब अर्थात् question marks में फँस जाते हों, तो परिस्थितियाँ भी आगे से आगे बढ़ती जाती है और आप स्मृति स्वरूप की बजाए complaint स्वरूप बन जाते हो…!

चाहे फिर complaint स्वयं से, अन्य आत्माओं से वा परमात्मा से रहती है … इसलिए बिन्दु रूप बन बिन्दु लगाने के अभ्यास को बढ़ाओ। चाहे कोई बात छोटी-से-छोटी हो या फिर बड़ी-से-बड़ी, बिन्दु लगाते-लगाते आपकी हर परिस्थिति को बिन्दु लग जायेगा और आप बिन्दु बन … बिन्दु लगाकर … बिन्दु बाप के पास रह विश्व-परिवर्तन का कार्य कर पाओगे। इसलिए स्वयं के संकल्पों की रचना करो।

*समय कम है, इसलिए अभ्यास और attention को बढ़ाओ। हिम्मत और दृढ़ता सम्पन्न आत्मा ही स्व-परिवर्तन सो विश्व-परिवर्तन का कार्य कर पायेगी।*

बच्चे, जो अष्ट रत्न हैं, वो last में बाप-समान बन जाते हैं अर्थात् गुणों में, शक्तियों में, संस्कारों में 100% बाप-समान। यह स्थिति केवल आठ की होती है, परन्तु बहुत कम समय के लिए होती है और इसमें भी नम्बरवार हैं अर्थात् जो जितना समय पुरूषार्थ के टाइम में, बाप-समान बनने का 100% attention दे, मंसा-वाचा-कर्मणा बाप-समान बनता है, वो उतना ही ज्यादा समय, अन्त के समय बाप-समान रहता है।

बच्चे, *यह पुरूषार्थ है खुद की तरफ अर्थात् आत्मा की तरफ attention दे व्यर्थ मुक्त बनने का अर्थात् कोई भी leakage ना हो … इसलिए इसके लिए श्रीमत को महीनता से समझ 100% follow करो।*

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 31 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 December 2017 :- Click Here

31/12/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
31/12/82

BapDada’s greetings for all His spiritual friends .

Today, the Friend of the hearts of all Brahmin souls has come into the garden of spiritual roses in a wonderful way, to sing songs from the heart and to fulfil the responsibility of love. Allah has come into His garden to meet you all. Generally, friends meet one another in a garden. You cannot find such a garden at any other time throughout the whole cycle. Today, all the children everywhere have the one desire to celebrate this New Year’s day with the Friend of their hearts. Today, BapDada is not just meeting you spiritual friends who are personally sitting in front of Him in your corporeal forms, but He is seeing a very huge gathering of children in their subtle forms. He is seeing the souls who are the loving friends of the heart. Who else would have so many true, spiritual friends? BapDada has the spiritual intoxication that no one has or will have so many such friends. The songs of the heart of everyone far away and also those close by are being heard. Which songs? “Oh Baba”! This one song of “Baba, Baba” can be heard in one tune and one significance everywhere. Whether you are called children or friends, all of you say the same words: “You are mine!” Khuda-Dost (God, the Friend) then says to each one: “You are Mine! Wah, my friends!” Sing a song! (All the sisters sang a lovely song from sakar Baba’s days.)

You can sing songs with your mouths for a short time, but the songs of the mind continue to play eternally. Today, very good thoughts and words of love of many children for New Year’s Day have already reached BapDada in advance. People celebrate today with a lot of happiness. They give greetings to one another. BapDada also gives greetings to all the friends of His mind, the spiritual, subtle friends.

By using the right method, you will constantly continue to progress. You will remain constantly filled with all treasures. You will constantly be an angel and continue to fly beyond all bodily relationships. You will constantly merge the Father in your eyes and in your heart and remain lost in the love of belonging to the one Father and none other. You will constantly pass through all tests, problems and waste thoughts as though they are a line drawn on water and you will pass with honours. Baba is greeting you with these elevated good wishes. Baba is singing a song of the speciality of each and every priceless jewel. Today, people sing and dance. You mustn’t do this just today, but you must continue to sing and dance constantly. Constantly continue to give each and every one a subtle gift. When wealthy people visit others or someone visits them, they do not go there empty-handed. All of you are the greatest of all. Whenever you meet a Brahmin soul or anyone else, how could you meet them without giving them something? Constantly continue to give everyone the gift of good wishes and pure feelings. Give specialities and receive specialities. Give virtues and receive virtues. Continue to give such a Godly gift to everyone. No matter what type of feelings or wishes someone who comes to you has, you just give that person the gift of good wishes. Your stock of gift s of good wishes and pure feelings should remain constantly full. There shouldn’t be the slightest thought: For how long do I have to continue to look at others with these good wishes? Is there ultimately any limit to this or not? If you have this thought, it proves that you haven’t accumulated a stock of those golden gift s.

You are the children of the Bestower, the Bestower of Fortune, and the Bestower of Blessings, the children of Brahma, the Brahma Kumars and Kumaris, who draw the lines of fortune. Therefore, your treasure-store has to be constantly overflowing. This year, don’t allow anyone to remain empty. Don’t go back empty-handed and don’t come empty-handed. Give to everyone and also receive from everyone. This is the year to distribute gifts. Not just for one day, but throughout the whole year, every day, every hour, every second and every thought that passes should bring further spiritual newness. Everyone speaks of the new day and the new night, but only when you elevated souls have new thoughts and new seconds can you show souls of the world the dream or vision of the sparkle of the new world to come. Up to now, souls of the world still want to know what is going to happen after destruction. However, this year, when every second and every thought of all you souls, who are the images of support, are the newest of all, the highest of all and the best of all, the sound of the sparkle of the new world being seen will spread everywhere. Then, what else will happen? They will see that instead of it being like this, it will be like that. They will feel that such a wonderful world should come quickly and they will very quickly become busy in making preparations for such a world. At the beginning of establishment, there were the special divine activities of dreams and visions. In the same way, at the end too, these unique divine games will be instrumental in bringing about revelation. The sound will echo everywhere: This is the One. This is the One. Then this sound will be instrumental in creating the elevated fortune of many. Many lamps will be ignited from just one.

Therefore, what do you have to do this year? Make preparations to celebrate the true Deepmala. Celebrate the Dashera (burning ceremony) of all the old things and old sanskars because it is only after Dashera that Deepmala comes. Therefore, today, Baba is telling the things of His heart to the souls who are the friends of His heart. To whom do you tell the things of your heart? You speak of them to your friends, do you not? Achcha, you have received greetings. Together with greetings, also keep with you the gift of this New Year. How many gifts do you want? There are many gifts merged in each and every one, and many are merged in one. BapDada has already given all of you children the best gift of all which is the diamond key with which any treasure you want appears in front of you. What is the diamond key? Just the one word “Baba!” Will you ever find a better key than this one? You will not find such a key even in the golden age. All of you are carefully looking after this diamond key, are you not? It hasn’t been stolen, has it? If you lose the key, you lose all treasures. Therefore, always keep the key with you. Do you have a key chain? Or, do you have just the key? The chain for the key is to remain a constant embodiment of remembrance of all relationships. So you have also received the key chain as a gift, have you not? The best gift of all is the key. Together with this, Baba is also giving you a bracelet for the promise you made for the year. What is the bracelet of the promise? You have already been told this: that every second and every thought when you are in connection with other souls should constantly be the newest of all, that is, the highest of all. Don’t look at the things down below. Don’t adopt the stage of when you are down below. Remain constantly up above: the highest Father, the highest children and the highest stage and there will then be the highest service of all. This is the bracelet of the promise.

Together with this, you have the box of decoration of all the virtues. You have a box of a variety set of decorations. Whatever decoration you want at any time, just wear that set at that time and remain fully decorated. Sometimes, wear the set of tolerance, but wear the full set! Don’t just wear part of the set! There should be the decoration of tolerance on your ears and the decoration of tolerance on your hands. By wearing the various decorations at different times, you will be revealed to the world as angels and deities. Constantly keep this trimurti gift with you.

You know how to fulfil the responsibility of friendship, do you not? Double foreigners make very good friends, but you must keep this friendship eternally. Double foreigners are clever in making friends and also clever in breaking up. You won’t be such that, one moment, you are friends and, the next moment, you are not, will you? BapDada is pleased to see you double-foreign children and how, as soon as all of you in all the four corners of the world received a signal, you had that old recognition. The Father found the children and the children recognised Him. Seeing this speciality, BapDada is congratulating you. Therefore, constantly remain a conqueror of Maya. Achcha.

To the eternal friends who fulfil the eternal relationship of long-lost and now-found friends, to those who tour around the garden hand-in-hand with the Companion, to those who constantly use the Godly golden gift, to those who are master bestowers and always full, to the master bestowers of fortune for all, to such loving and co-operative children everywhere, to the children in the corporeal form and the subtle form, love, remembrance and namaste.

BapDada meeting the foreign teachers :

BapDada is extremely pleased to see the instrument teachers. You stay at your own places with so much love and remain constantly stable as embodiments of power and continue to give the experience of all powers. You no longer have the form of ordinary women or girls, but you are the most elevated serviceable souls. You are the showpieces in BapDada’s showcase. Seeing all of you, all souls recognise the Father. Every instrument teacher has the responsibility of world transformation. Do you consider yourselves to be unlimited servers? You don’t consider yourselves to be servers of one area, do you? You may be sitting in one place, but you are still lighthouses, are you not? You are those who spread light everywhere. Have you become a small bulb that only gives light to one place or have you become a lighthouse giving light to the whole world? Are you simply a light, or are you a searchlight or a lighthouse? You have maintained very good courage. You are all doing very well. In the future too, continue to do the best of all. You teachers are constant conquerors of Maya, are you not? What would be the condition of the students if Maya came to the teachers? If Maya came to you once, she would go to them ten times. This is why Maya should only come to salute you teachers, not otherwise!

The form of an instrument teacher is one who is constantly cheerful, constantly a master almighty authority. Remain constantly seated on such a seat. The place of residence of teachers is an elevated seat. You are not living at the centres, but on an elevated stage. Maya cannot come onto this high stage, that is, onto the heart-throne. If you come down, Maya will come. You Pandavas are also BapDada’s co-operative right hands, are you not? Those who look after the gaddi are called right hands. All of you Pandavas are victorious. You have played many games with Maya so far. Now, bid her farewell and, from today, constantly celebrate having bid her farewell for all time. You have been given a very good chance and you are also taking that chance. Achcha.

BapDada meeting groups:

BapDada is pleased to see the fortune of each and every child. Each of you children is claiming your own fortune. At the confluence age, the fortune of each of you children is your own and each one’s fortune is elevated. Why? Since you are the children of the most elevated Father of all, the fortune also becomes elevated. There is no father more elevated than this One and there is no fortune greater than this. The Father is the Highest on High. You do remember this, do you not? “The Bestower of Fortune is my Father!” What intoxication could be greater than this? A physical child has the intoxication of his father being an engineer, a doctor, a judge or a Prime Minister. However, you have the intoxication of your Father being the Bestower of Fortune! The Highest on High is God. Do you constantly have this intoxication or do you sometimes forget it? What would happen if you forgot your fortune? You would then have to make effort to claim that fortune again. You have to make effort to find something you have lost. The Father has come and saved you from making effort. For half the cycle, you had to labour in your interaction with everyone. In performing devotion, in the field of religion, you had to labour in everything. You have now become free from all labour. Now, on the basis of interacting with one another for the sake of God, even your interaction with everyone has become easy. You do everything in name as an instrument. Those who do everything as an instrument in name always find everything easy. It is not interaction with others but just a game. They are not storms of Maya but a gift given to you, according to the drama, to help you move forward. Therefore, you are liberated from all labour. There is no effort needed in order to receive a gift! Those who save themselves from such efforts and who are constantly master bestowers of fortune with the Bestower of Fortune, are called elevated souls.

BapDada meeting a group from San Antonio:

Do all of you consider yourselves to be special souls? Which place have you come to? Just think how many souls in the world would have the fortune of coming personally to celebrate a meeting face-to-face! What greater fortune than this could you want? Constantly keep this fortune of yours in your awareness. Then, souls who see the happiness of the attainment of your fortune will come closer and create their fortune. Remain constantly happy! You have become the Father’s children. Therefore, what did you receive as an inheritance? You received happiness, did you not? So constantly keep this inheritance with you. Don’t leave it behind. You have become masters of the treasures of happiness. So constantly continue to fly in happiness. There is no question of trying. If you say that you will try, you will continue to cry. Do you have to try in order to become a child? So, neither try nor cry! Leave behind the words that you will try. Constantly keep the Father and the inheritance with you! Remain combined! Wherever there is the Father, all the treasures will automatically be there. Constantly remember this one thing: The Father is with you! The inheritance is your birthright.

At midnight, greetings for the New Year:

Greetings to all the children for the New Year for the whole year. To such invaluable jewels who have recognised the Father and who have put on the crown of the responsibility of revealing the Father, to such constantly serviceable souls, the specially beloved souls wearing the crown, to the children who are seated on the throne, please accept greetings personally by name.

Residents of London, and instrument child Janak, and the original jewel, daughter Rajni, and also child Murli (Jayantiben’s parents) and the extremely loving, young daughter Jayanti, who is equal to the Father, and all the children who are engaged in service with you, such as Brij Rani, you are all showing your splendour very well. Whatever service you do is filled with spirituality. In this way, each of you children should accept greetings personally by your own name.

This is the New Year for new enthusiasm and new zeal. This year, consider every day to be a festival and continue to give enthusiasm. Remain constantly engaged in this service. Achcha. To all the children, BapDada’s love and remembrance from deep within the heart.

Blessing: May you be a double server who does the service of serving with spiritual vibrations as well as with words.
Just as you serve with words, similarly, together with words, also serve with your attitude. Service will then take place fast because words can be forgotten at some time, but an imprint is made on the mind and intellect by vibrations. So, in order to serve in this way, let there not be any wasteful vibrations for anyone through your attitude. Wasteful vibrations become like a wall in front of spiritual vibrations. Therefore, keep your mind and intellect free from wasteful vibrations. Only then will you be able to do double service.
Slogan: Instead of complaining (fariyaad), stay in remembrance (yaad) and you will receive all rights.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 December 2017

To Read Murli 30 December 2017 :- Click Here
31/12/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
31-12-82

बापदादा की सर्व अलौकिक फ्रैन्डस को बधाई

आज सर्व ब्राहमण आत्माओं के मन के मीत, दिल के गीत, प्रीत की रीति निभाने के लिए वन्डरफुल रीति से रूहानी गुलाब फूलों के बगीचे में वा अल्लाह अपने बगीचे में मिलने के लिए आये हैं। वैसे भी मीत कहो वा फ्रैण्डस कहो, बगीचे में मिलन मनाते हैं। ऐसा बगीचा सारे कल्प में मिल नहीं सकता। आज चारों तरफ के बच्चे इसी एक लगन में हैं कि हम भी अपने मन के मीत के साथ यह न्यू ईयर डे मनावें। बापदादा आज सिर्फ साकारी स्वरूप में सन्मुख बैठे हुए रूहानी फ्रैन्डस से नहीं मिल रहे हैं। लेकिन साकार सभा से आकार रूपधारी बच्चों की वा मन के मीत स्नेही आत्माओं की बहुत बड़ी सभा देख रहे हैं। इतने रूहानी फ्रैन्डस, सच्चे फ्रैन्डस और किसको होंगे? बापदादा को भी रूहानी फखुर है कि ऐसे और इतने फ्रैन्डस न किसको मिले हैं, न मिलेंगे। सबके दिल का गीत दूर से वा समीप से सुनाई दे रहा है। कौन सा गीत? ओ बाबा। यही ”बाबा बाबा” का गीत एक ही साज़ और राज़ से चारों ओर से सुनाई दे रहा है। बच्चे कहो वा फ्रैन्डस कहो, सभी का एक ही बोल है ”तुम ही मेरे” और खुदा दोस्त भी एक एक को यही कहते कि तुम ही मेरे। ‘वाह मेरे फ्रैन्डस।’ गीत गाओ -(बहनों ने साकार बाबा का प्यारा गीत गाया, तुम्हीं मेरे……)

यह मुख का गीत तो थोड़ा समय गा सकते लेकिन मन का गीत तो अविनाशी बजता रहता। आज के न्यू इयर डे पर अनेक बच्चों के बहुत अच्छे संकल्प, स्नेह के बोल बापदादा के पास पहले से पहुँच गये हैं। आज का दिन खुशियों का मनाते हो ना। एक दो को बधाई देते हो। बापदादा भी सर्व मन के मीत अलौकिक रूहानी फ्रैन्डस को बधाई देते हैं।

सदा विधि द्वारा वृद्धि को पाते रहेंगे। सदा सर्व खजानों से सम्पन्न रहेंगे। सदा फरिश्ता बन सर्व देह के रिश्तों से पार उड़ते रहेंगे। सदा नयनों में, दिल में बाप को समाते हुए एक बाप दूसरा न कोई – इसी लगन में मगन रहेंगे। सदा आई हुई परीक्षाओं को, समस्याओं को, व्यर्थ संकल्पों को पानी पर लकीर के समान पार कर पास विथ आनर बनेंगे। ऐसी श्रेष्ठ शुभ कामनाओं से बधाई दे रहे हैं। एक एक अमूल्य रत्न की विशेषताओं के गीत गा रहे हैं। आज के दिन नाचते गाते हैं ना। सिर्फ आज नहीं लेकिन सदा नाचते और गाते रहो। सदा हरेक को एक अलौकिक गिफ्ट देते रहना। जैसे बड़े आदमी कहाँ जाते हैं वा उनके पास कोई आते हैं तो खाली हाथ नहीं जाते हैं। आप सब भी बड़े ते बड़े हो ना। कभी भी किसी भी ब्राहमण आत्मा से वा किसी से भी मिलते हो तो कुछ देने के बिना कैसे मिलेंगे। हरेक को शुभ भावना और शुभ कामना की गिफ्ट सदा देते रहो। विशेषता दो और विशेषता लो। गुण दो और गुण लो। ऐसी गाडली गिफ्ट सभी को देते रहो। चाहे कोई किसी भी भावना वा कमाना से आये लेकिन आप शुभ भावना की गिफ्ट दो। शुभ भावना और श्रेष्ठ कामना की गिफ्ट का स्टाक सदा भरपूर रहे। यह संकल्प मात्र भी उत्पन्न न हो कि आखिर भी कहाँ तक शुभ भावना से देखें। आखिर भी कोई हद है वा नहीं। यह संकल्प भी सिद्ध करता है कि इस गोल्डन गिफ्ट का स्टाक जमा नहीं है।

दाता, विधाता, वरदाता के बच्चे, भाग्य की लकीर खींचने वाले ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार और ब्रह्माकुमारियाँ हो इसलिए सदा भण्डारा भरपूर रहे। इस वर्ष खाली किसको नहीं रहने देना। न खाली हाथ जाना, न खाली हाथ आना। सबको देना भी और सबसे लेना भी। यह गिफ्ट बाँटने का वर्ष है। सिर्फ एक दिन नहीं, लेकिन सारा वर्ष हर दिन, हर घण्टा, हर सेकेण्ड, हर संकल्प जो बीता उससे और रूहानी नवींनता लाने वाला हो। नया दिन, नई रात तो सब कहते हैं लेकिन श्रेष्ठ आत्माओं का नया सेकण्ड, नया संकल्प हो तब ही आने वाली नई दुनिया की नई झलक विश्व की आत्माओं को स्वप्न के रूप में वा साक्षात्कार के रूप में दिखाई देगी। अब तक विश्व की आत्मायें जानने की इच्छुक हैं कि विनाश के बाद क्या होगा? लेकिन इस वर्ष सर्व आधार स्वरूप आत्माओं का हर सेकण्ड और हर संकल्प, नये ते नया, ऊंचे ते ऊंचा, अच्छे ते अच्छा रहे तो चारों ओर से नई दुनिया की झलक देखने का आवाज फैलेगा और क्या होगा इसके बजाए ऐसे होगा। ऐसी वन्डरफुल दुनिया जल्दी आवे और जल्दी तैयारी करें – इसमें जुट जायेंगे। जैसे स्थापना के आदि में स्वप्न और साक्षात्कार की लीला विशेष रही, ऐसे अन्त में भी यही विचित्र लीला प्रत्यक्षता करने के निमित्त बनेंगी। चारों ओर से ‘यही है, यही है’, यही आवाज़ गूजेंगी और यह आवाज अनेकों के भाग्य की श्रेष्ठता के निमित्त होगा। एक से अनेक दीपक जग जायेंगे।

तो इस वर्ष क्या करना है? सच्ची दीपमाला मनाने की तैयारी करनी है। पुरानी बातें, पुराने संस्कार का दशहरा मनाओ क्योंकि दशहरे के बाद ही दीपमाला होगी। तो आज मन के मीत आत्माओं से मन की बात कर रहे हैं। मन की बात किससे करते हैं? फ्रेन्डस से करते हो ना। अच्छा बधाई तो मिली। बधाई के साथ-साथ नये साल की सौगात भी सदा साथ रखना। कितनी सौगात चाहिए? एक, एक में बहुत समाई हुई भी हैं और बहुत भी एक हैं। सबसे बढ़िया सौगात एक तो बापदादा ने सब बच्चों को डायमण्ड की (वब्) दी है, जिससे जो खजाना चाहो वह हाज़िर हो जायेगा। ‘डायमण्ड की’ क्या है? एक ही बोल ”बाबा”, इससे बढ़िया चाबी कोई मिलेगी क्या? सतयुग में भी ऐसी चाबी नहीं मिलेगी। सबके पास यह ”डायमण्ड की” सम्भाली हुई है ना। चोरी तो नहीं हो गई है ना। चाबी को खोया तो सब खजाने खोये इसलिए चाबी सदा साथ रखना। कीचेन है? वा अकेली चाबी है? ‘की’ (खब्) की चेन है – सदा सर्व सम्बन्धों से स्मृति स्वरूप होते रहो। तो ‘की चेन’ की गिफ्ट मिली ना। सबसे बढ़िया गिफ्ट तो है यह चाबी। उसके साथ-साथ वर्ष के लिए विशेष प्रतिज्ञा का कंगन भी दे रहे हैं। वह प्रतिज्ञा का कंगन क्या है? जो सुनाया हर सेकण्ड, हर संकल्प, हर आत्मा के सम्पर्क में सदा नये ते नया अर्थात् ऊंचे ते ऊंचा। नीचे की बात को न देखना है, न नीचे की स्टेज अपनानी है, सदा ऊंचा। ऊंचा बाप, ऊंचे बच्चे, ऊंची स्टेज और ऊंचे ते ऊंची सर्व की सेवा हो। यह प्रतिज्ञा का कंगन है।

साथ-साथ सर्व गुणों के श्रृंगार का बाक्स। वैरायटी सेट का श्रृंगार बाक्स। जिस समय जो श्रृंगार चाहिए उस समय वही सेट धारण कर सदा सजे-सजाये रहना। कभी सहनशीलता का सेट पहनना, लेकिन फुलसेट पहनना। सिर्फ एक सेट नहीं पहनना। कानों द्वारा भी सहनशीलता हो, हाथों द्वारा भी सहनशीलता का श्रृंगार हो। ऐसे समय-समय पर भिन्न-भिन्न श्रृंगार करते हुए विश्व के आगे फरिश्ते रूप और देव रूप में प्रख्यात हो जायेंगे। यह त्रिमूर्ति सौगात सदा साथ रखना।

फ्रैन्डशिप निभाने तो आती है ना। डबल विदेशी फ्रैन्डस तो बहुत अच्छे बनाते हैं लेकिन अविनाशी फ्रैन्डशिप रखना। डबल विदेशी छोड़ने में भी होशियार हैं, करने में भी होशियार हैं। अभी अभी हैं और अभी अभी नहीं, ऐसे तो नहीं करेंगे ना। बापदादा डबल विदेशी बच्चों को देख हर्षित होते हैं, कैसे चारों कोनों से इशारा मिलते पुरानी पहचान कर ली। बाप ने बच्चों को ढूंढा और बच्चों ने पहचान लिया। इसी विशेषता को देख बापदादा भी बधाई दे रहा है इसलिए सदा मायाजीत रहो। अच्छा।

ऐसे सिकीलधे बच्चों को अविनाशी प्रीत की रीति निभाने वाले अविनाशी फ्रैन्डस को, सदा फूलों के बगीचे में हाथ में हाथ दे साथी बन सैर करने वाले, सदा गाडली गोल्डन गिफ्ट को कार्य में लाने वाले सदा सम्पन्न, सदा मास्टर दाता, सर्व के मास्टर भाग्य विधाता, ऐसे स्नेही सहयोगी चारों ओर के बच्चों को, साकारी वा आकारी रूपधारी बच्चों को यादप्यार और नमस्ते।

विदेशी टीचर्स से:- निमित्त शिक्षक को देख बापदादा अति हर्षित हो रहे हैं। कितनी लगन से, स्नेह से अपने-अपने स्थान पर रहते सभी सदा शक्ति स्वरूप स्थिति में स्थित हो सर्व शक्तियों का अनुभव कराते रहते हैं। अभी साधारण नारी वा कुमारी का रूप नहीं लेकिन सर्व श्रेष्ठ सेवाधारी आत्मायें। बापदादा के शोकेस के शोपीस हो। आप सबको देख सर्व आत्मायें बाप को पहचानती हैं। हरेक निमित्त शिक्षक के ऊपर विश्व परिवर्तन की जिम्मेवारी है। बेहद के सेवाधारी हो – ऐसे अपने को समझती हो? एक एरिया के कल्याणकारी तो नहीं समझती? चाहे एक स्थान पर बैठे हो लेकिन हो तो लाइट हाउस ना। चारों ओर लाइट देने वाले। तो छोटा सा बल्ब बनकर एक ही स्थान पर रोशनी देते या लाइट हाउस बन विश्व को रोशनी देते? लाइट हो, सर्चलाइट हो या लाइट हाउस हो? हिम्मत तो बहुत अच्छी रखी है। बहुत अच्छा कर रहे हो, आगे भी अच्छे ते अच्छा करते रहो। टीचर्स तो सदा मायाजीत हैं ना? अगर टीचर्स के पास माया आयेगी तो स्टूडेन्ट का क्या हाल होगा? आपके पास यादि एक बार माया आयेगी तो उनके पास 10 बार आयेगी इसलिए टीचर्स के पास माया नमस्ते करने आवे, वैसे नहीं।

निमित्त शिक्षक का स्वरूप – सदा हर्षित, सदा मास्टर सर्वशक्तिमान, ऐसी सीट पर सदा सेट रहो। टीचर्स के रहने का स्थान ही ऊंची स्थिति है। सेन्टर पर नहीं रहती हो लेकिन ऊंची स्टेज पर रहती हो। ऊंची स्टेज अर्थात् दिलतख्त पर माया आ नहीं सकती। नीचे उतरे तो माया आयेगी। पाण्डव भी बापदादा के सहयोगी राइट हैण्ड हो ना। गद्दी सम्भालने वाले को राइट हैण्ड कहा जाता है। सभी पाण्डव विजयी हो ना। अभी तक माया से बहुत समय खेल खेला। अभी विदाई दो, आज से सदा के लिए विदाई की बधाई मनाना। बहुत अच्छा चान्स मिला है और चान्स ले भी रहे हो। अच्छा।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात:-

बापदादा हर एक बच्चे के भाग्य को देख हर्षित होते हैं। हरेक बच्चा अपना भाग्य ले रहा है। संगम पर हरेक आत्मा का भाग्य अपना अपना है। और हरेक का श्रेष्ठ भाग्य है क्यों? क्योंकि जब श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बाप के बच्चे बने तो श्रेष्ठ भाग्य हो गया ना। न इससे कोई बाप श्रेष्ठ है, न इससे कोई भाग्य श्रेष्ठ है। ऊंचे ते ऊंचा बाप। यही याद रहता है ना। भाग्य विधाता मेरा बाप है। इससे बड़ा नशा और क्या हो सकता है। लौकिक रीति से बच्चे को नशा रहता – मेरा बाप इन्जीनियर है, डाक्टर है, जज है या प्राइम मिनिस्टर है। लेकिन आपको नशा है कि हमारा बाप भाग्यविधाता है। ऊंचे ते ऊंचा भगवान है। यही नशा सदा रहता है या कभी कभी भूल जाते हा? भाग्य को भूला तो क्या होगा? फिर भाग्य को पाने का प्रयत्न करना पड़ेगा। खोई हुई चीज को पाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। बाप ने आकर मेहनत से बचाया। आधाकल्प मेहनत की, व्यवहार में भी मेहनत, भक्ति में, धर्म के क्षेत्र में, सबमें मेहनत ही की। और अभी सभी मेहनत से छूट गये। अभी व्यवहार भी परमार्थ के आधार पर सहज हो जाता है। निमित्त मात्र कर रहे हैं। निमित्त मात्र करने वाले को सदा सहज अनुभव होगा। व्यवहार नहीं है लेकिन खेल है। माया का तूफान नहीं लेकिन यह ड्रामा अनुसार आगे बढ़ने का तोफा है। तो मेहनत छूट गई ना। तोफा अर्थात् सौगात लेने में मेहनत नहीं होती है ना। तो ऐसे मेहनत से अपने को बचाने वाले, सदा भाग्य विधाता के साथ मास्टर भाग्य विधाता बन रहने वाले इसको कहा जाता है श्रेष्ठ आत्मा।

सैनअन्टानियो:- सभी अपने को विशेष आत्मा समझते हो? किस स्थान पर पहुँचे हो? सोचो कि ऐसा भाग्य विश्व में कितनी आत्माओं का होगा जो सम्मुख मिलन मनायें? इससे बड़ा भाग्य और क्या चाहिए। सदा अपने इसी भाग्य को स्मृति में रखो तो आपके भाग्य के प्राप्ति की खुशी को देख और समीप आयेंगे और अपना भाग्य बनायेंगे। सदा खुश रहो। बाप के बच्चे बने तो वर्से में क्या मिला? खुशी मिली ना। तो इस वर्से को सदा साथ रखना, छोड़कर नहीं जाना। खुशी के खजानों के मालिक बन गये। तो सदा खुशी में उड़ते रहना। इसमें ट्राई करने की बातें नहीं। अगर कहते ट्राई तो क्राई होते रहेंगे। क्या बच्चे बनने मे भी ट्राई करनी होती है। तो न ट्राई न क्राई। ट्राई करेंगे, यह शब्द यहाँ छोड़कर जाना। बाप और वर्सा सदा साथ रहे। कम्बाइन्ड रहना। तो जहाँ बाप है वहाँ सर्व खजाने स्वत: ही होंगे। यही एक बात सदा याद रखना कि बाप हमारे साथ है। वर्सा हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है।

नर्व वर्ष की मुबारक (रात्रि 12 बजे):- नये वर्ष की सभी बच्चों को सारे वर्ष के लिए बधाई हो। ऐसे अमूल्य रत्न जिन्होंने बाप को पहचाना और बाप को प्रत्यक्ष करने की जिम्मेवारी का ताज धारण किया, ऐसे सदा सेवाधारी अनन्य ताजधारी, तख्तनशीन बच्चों को अपने अपने नाम सहित बधाई स्वीकार हो।

लण्डन निवासी निमित्त जनक बेटी और साथ-साथ आदि-रत्न रजनी बच्ची, साथ में मुरली बच्चा और सबसे अति स्नेही छोटी समान बाप जयन्ती बच्ची को और जो साथ-साथ बच्चे सेवा पर उपस्थित हैं, जैसे बृजरानी अच्छा अपना शो दिखा रही है, जो सेवा कर रहे हैं उस सेवा में रूहानियत भरी हुई है – ऐसे सभी बच्चे अपने-अपने नाम से बधाई स्वीकार करें।

नया वर्ष, नया उमंग, नया उत्साह और इस वर्ष में सदा ही रोज उत्सव समझकर उत्साह दिलाते रहना। इसी सेवा में सदा तत्पर रहना। अच्छा – सभी बच्चों को बापदादा की दिल व जान, सिक व प्रेम से यादप्यार।

वरदान:- वाणी के साथ वृत्ति द्वारा रूहानी वायब्रेशन फैलाने की सेवा करने वाले डबल सेवाधारी भव 
जैसे वाणी द्वारा सेवा करते हो ऐसे वाणी के साथ वृत्ति द्वारा सेवा करो तो फास्ट सेवा होगी क्योंकि बोल तो समय पर भूल जाते हैं लेकिन वायब्रेशन के रूप में मन और बुद्धि पर छाप लग जाती है। तो यह सेवा करने के लिए वृत्ति में किसी के लिए भी व्यर्थ वायब्रेशन्स न हों। व्यर्थ वायब्रेशन रूहानी वायब्रेशन के आगे एक दीवार बन जाती है, इसलिए मन-बुद्धि को व्यर्थ वायब्रेशन से मुक्त रखो – तब डबल सेवा कर सकेंगे।
स्लोगन:- फरियाद करने के बजाए याद में रहो तो सर्व अधिकार मिल जायेंगे।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize