Month: September 2017

Brahmakumaris Daily Mahavakya 30 September 2017

To Read 29 September Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*30.09.2017*

बच्चे, धर्मराज कोई भी आत्मा वा परमात्मा नहीं है। जिस तरह रावण पाँच विकारों के रूप को कहा जाता है, इसी तरह हर आत्मा के किये गये पाप कर्म धर्मराज का रूप ले लेते हैं। जिस कारण पाप कर्म करने वाली आत्मा सज़ाओं का अनुभव करती है।

बाप तो सभी बच्चों के लिए हमेशा कल्याणकारी रहता है – चाहे लौकिक हो … चाहे अलौकिक …। स्वयं द्वारा किए गए पापकर्म सभी के आगे प्रत्यक्ष होते हैं, पहले स्वयं के आगे फिर अन्य आत्माओं के सामने। जिस कारण वह बाप के सहयोग का फायदा नहीं उठा पाते अर्थात् उनके पापकर्म ही उनको भगवान से साक्षी कर देते हैं। और फिर जिस कारण उनकी भोगना और बढ़ जाती है।

और यह वह आत्मायें होती है जो बाप के प्यार के आधार को छोड़ दूसरे-दूसरे आधार पर चलती है। स्व-परिवर्तन की बजाए अन्य आत्माओं का परिवर्तन करना चाहती है। सुखकर्ता की बजाए दुःखकर्ता बन जाती है अर्थात् dis-service के निमित्त बन जाती है…।

यही कर्म उनकी सज़ाओं के निमित्त बनते है और यह कार्य अब शुरू हो चुका है, अर्थात् जो आप कहते हो ना कि सद्गुरू का रोल शुरू हो जायेंगा … वह हो चुका है … कोई भी कार्य पहले slow होता है फिर जल्द ही वह प्रत्यक्ष रूप में दिखने लगता है।

अष्ट रत्न … 100 रत्न … अर्थात् सभी माला के दाने स्वयं के पुरूषार्थ अनुसार स्वयं ही प्रत्यक्ष होते है जोकि सभी आत्माओं को मान्य होते है।

शिव बाप का कार्य सभी आत्माओं को केवल प्यार, रहम, कल्याण की भावना से मुक्ति-जीवनमुक्ति देने का है। सभी अपने मन्सा-वाचा-कर्मणा द्वारा नम्बरवन और नम्बरवार बनते हैं।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】

TODAY MURLI 1 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 30 September 2017 :- Click Here

01/10/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/01/83

Descriptions of an easy yogi and one who experiments.

Today, BapDada was looking at His co-operative arms. He was seeing how His co-operative arms are making His elevated task successful. Seeing the speed of the divine spiritual task of every arm, BapDada was pleased and began a heart-to-heart conversation. BapDada saw that some arms are co-operating constantly, tirelessly and intensely with elevated zeal and enthusiasm. Others continue to carry out the task but, every now and then, there is a difference in the intensity of their zeal and enthusiasm. However, when they see the zeal and enthusiasm of the arms who are working constantly and tirelessly at a fast speed, they too begin to carry out the task at a fast speed. With the co-operation of others they keep going and speed up.

Today, BapDada was seeing three types of children. One is of those who are constantly easy yogis. The second is of those who repeatedly experiment with every method. The third is of those who are co-operative. In fact, all three types are yogi souls, but they have different stages. Because of being in close relationship and having all attainments, an easy yogi constantly and automatically finds yoga easy. Because of constantly having a powerful form, they have the intoxication of constantly experiencing themselves to belong to the Father. They don’t have to remind themselves that they are souls, children of the Father. With the intoxication of constantly belonging to the Father, they each have the natural faith of being an embodiment of attainment. An easy yogi automatically experiences all success. This is why an easy yogi constantly has elevated zeal, enthusiasm and happiness. An easy yogi is constantly stable in the powerful stage of being an embodiment of one who has a right to all attainments.

The souls who experiment constantly experience every form, every point and every form of attainment while experimenting with them, but they sometimes experience success and at other times they experience it to be hard work. However, because they experiment and because their intellects are busy in the laboratory of practice, they remain 75% safe from Maya. What is the reason for this? Souls who experiment are interested in discovering for themselves new and different experiences. Because they have this interest, they remain safe from Maya in their laboratory. However, they are not constant. Sometimes, when they have an experience, they swing in happiness with a lot of zeal and enthusiasm, whereas at other times, when they have less attainment from the method they use, there is a difference in their zeal and enthusiasm. Because they lack zeal and enthusiasm, they find it hard work. This is why they are sometimes easy yogis and sometimes yogis who have to labour. Instead of saying with the guarantee, “I am His child”, they say, “I am this, I am this”. They constantly have to make effort to try to achieve success by thinking, “I am a soul”, “I am a child”, “I am a master almighty authority”. This is why they are sometimes stable in the stage of experiencing what they think. Sometimes, they experience that form by constantly and repeatedly thinking about it. This is known as being a soul who experiments. The form of one who has all rights is that of an easy yogi, whereas the form of one who constantly and repeatedly revises is of a soul who experiments. So, today, Baba was seeing who are easy yogis and who are the souls who experiment. A soul who experiments sometimes becomes an easy yogi, but not all the time. Whatever the position of the soul is at any time, the pose of the physical face also keeps changing accordingly. They look at the position of their mind and also their physical pose. Throughout the day, you change your pose so many times. Do you know your various poses? Do you look at yourself as a detached observer? BapDada constantly continues to watch this unlimited play whenever He wants.

In this physical world, you can see the various amusing poses of yourself in a particular game. Do you have this game abroad? You don’t play this game in a practical way here, do you? Here, too, when you have a burden, you sometimes get very heavy and, sometimes, because you have the sanskar of thinking too much, you become taller than you really are. Then, sometimes, when you get disheartened, you see yourself as very small. Sometimes, you become small, sometimes you become heavy and sometimes you become tall. Do you like that game?

Are all of you double foreigners easy yogis? Today, was your chart that of an easy yogi? You are not just those souls who experiment, are you? Are all of you double foreigners going back from Madhuban with the experience of being easy yogis for all time? Achcha. Co-operative souls are also yogis. Baba will tell you about this some other time.

(All the teachers are listening to the murli in the hall downstairs.)

Today, the groups of those who are BapDada’s companions, those who are instrument servers and instrument teachers, have also come. The younger ones are loved even more. Even though you are sitting down there, you are still sitting up above. BapDada is giving lots of love and remembrance to the young and old servers, who constantly maintain courage and keep themselves busy on the field of service. So, BapDada is seeing you as the servers who are special renunciate souls, those who prepare many other instruments to create the fortune of many more. To such special souls, together with special congratulations, also accept love and remembrance. What is the double wonder? One is the wonder of knowing the Father. Although you live behind the curtain of being in far-away countries, and although your religions, customs and systems and food and drink are all different, you have recognised the Father. This is why it is a double wonder. You were hidden behind the curtain. You have now taken birth for service. You didn’t make a mistake but, according to the drama, you were all dispersed for the sake of service. How else could so much service have taken place in all the lands abroad? You simply created a few karmic accounts in name for a short time just for the sake of service. This is why you are those who show double wonders and who are thirsty for the Father’s love. You constantly sing the song, “My Baba” from your heart. You are those who for twelve months constantly have the one concern, “I have to go there, I have to go there!” To the children who maintain such courage and become BapDada’s helpers, love, remembrance and namaste.

BapDada meeting servers:

So, did you eat the prasad (holy offering) of the great service of the great sacrificial fire? This prasad is never going to be less. Have you attained such imperishable great prasad? How many varieties of prasad have you received! Happiness for all time, intoxication for all time and the experience: have you had all these types of prasad? Prasad is always distributed amongst everyone and then eaten. Prasad is always raised to the eyes and the forehead with respect before it is eaten. Therefore, let this prasad merge in your eyes. Let it take the form of the awareness in your head, that is, let it become merged. Did you receive such prasad from this great sacrificial fire? Those who receive this great prasad are so greatly fortunate! How many souls receive such a chance? Very few, and you are amongst those few. Therefore, you are greatly fortunate, are you not? Just as you don’t remember anything except the Father and service when you are here, so always keep with you the experience you receive here. Generally, whenever you go somewhere, you definitely take back with you some memento or other as a souvenir. So, what special memento will you take back from Madhuban? You will constantly remain an embodiment of all attainments. So, will you stay the same when you go back? Or will you say that the atmosphere was like that or that the company was like that? Let yourself be transformed in the land of transformation before you leave. No matter what the atmosphere is like, transform that with your own power. You have this much power, do you not? Do not let the atmosphere influence you. All of you have to become complete before you leave. Achcha.

BapDada meeting mothers:

It is a matter of great happiness for the mothers, because the Father has come especially for the mothers. He has come as Gopal (One who looks after the cows) for the mother cows. The memorial of this has been remembered. No one else considered you to be worthy. Only the Father considered you to be worthy. Therefore, constantly continue to fly in this happiness. No waves of sorrow can come because you have become the children of the Ocean of Happiness. Those who are merged in the Ocean of Happiness can never have any waves of sorrow. You are such embodiments of happiness.

At the confluence age, the Father and Brahmins are constantly combined .

Today, BapDada has simply come to shake hands with His right hands. How long does it take to shake hands? Did all of you shake hands? At least you had the one determined thought and have now become brides of the true Bridegroom. It was only then that you became instruments to look after the task of world service. Because you are firm in your promise, BapDada too had to fulfil His promise. Your promise is fulfilled, is it not? Who are the closest of all of God’sfriends? All of you are extremely close friends of God , because you are carrying out the same task. Just as the Father does unlimited service, in the same way, all of you, young and old, are unlimited servers. Today, Baba has especially come for His young friends , because, although you are young, you have taken on a big responsibility. This is why young friends are loved more. There aren’t any more complaints now, are there? Achcha. (Sisters sang a song: You have to fulfil the promise you made. Jo vaada kiya vo nibhana padega.)

BapDada is constantly engaged in serving the children. He is with you now and will always be with you. Since you are combined, can anyone separate those who are combined? This form of the spiritual couple can never be separated. Brahma Baba and Dada are combined – can anyone separate them? In the same way, you elevated Brahmins who follow the Father are combined with the Father. This coming and going is a drama within the drama. In fact, according to the eternal drama, you have become the eternally combined form at the confluence age. For as long as it is the confluence age, the Father and the elevated souls are always together. So, you may sing this song as a play within a play, you may sing and dance, laugh and entertain yourself, but don’t forget the combinedform. BapDada sees the master teachers with very elevated vision. In fact, all Brahmins are the most elevated of all, but those who become master teachers and who serve day and night with love in their hearts as true servers are special amongst the special, and even out of those special ones, they are the most special! Create thoughts, speak words and perform actions whilst keeping this highest self-respect in your awareness. Always remember that you are the lights of the eyes, the jewels of the forehead, the beads of the garland of victory around the neck and the smile on the Father’s lips. Wherever all of you have come from, to all the young and loveliest friends, to all the children who have come, all of you accept your own personal remembrance. Whether you are sitting down below or up above, those down below are in the eyes and those up above are in front of the eyes. This is why all promises have been fulfilled. Now, to all friends and all companions, love, remembrance and namaste. It is good to meet just for a short time. You children had promised to do just this. (Song was sung: Please do not go now because our hearts are not yet full.) Will your hearts ever be full? Your hearts will become full with whatever you receive here. Achcha. (Looking at Didiji): Are you all right? Sakar Baba made a promise to Didi. So this too has to be fulfilled. When the heart becomes full of emotion, it will have to be emptied. It is good if you continue to make it full.

(Speaking to Didi) You are having many thoughts. Dadi and Didi have a lot more love for all of you young sisters. Didi and Dadi who are instruments have special love for all of you. You did well. BapDada is giving you thanks. The love that gave all of you this chance has also enabled you to meet Baba. It is not a big thing to come according to the programme. This special love that you are receiving is also a return. Therefore, through the enthusiasm that you came with, all of you have been given a golden chance in the drama. So all of you are golden chancellors, are you not? Those people are just chancellors whereas you are golden chancellors. Achcha.

Blessing: May you become an embodiment of success and attain the success of perfection and accumulate all the treasures by using the right method.
For 63 births, you wasted all the treasures and now, at the confluence age, you have to accumulate all the treasures by using the right method. The method to accumulate them is for you to use them with a pure attitude for yourself and for others. Do not just accumulate them in the locker of your intellect, but use the treasures. Use them even for yourself, otherwise you will lose them. So, accumulate them by using the right method and you will claim the success of perfection and become an embodiment of success.
Slogan: If you experience God’s love, no obstruction can stop you.

 *** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 29 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 30 September 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
01/10/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
15-01-83

सहजयोगी और प्रयोगी की व्याख्या

आज बापदादा अपने सहयोगी भुजाओं को देख रहे हैं। कैसे मेरी सहयोगी भुजायें श्रेष्ठ कार्य को सफल बना रही हैं। हर भुजा के दिव्य अलौकिक कार्य की रफ्तार को देख बापदादा हर्षित हो रूहरिहान कर रहे थे। बापदादा देखते रहते हैं कि कोई-कोई भुजायें सदा अथक और एक ही श्रेष्ठ उमंग-उत्साह और तीव्रगति से सहयोगी हैं और कोई-कोई कार्य करते रहते लेकिन बीच-बीच में उमंग-उत्साह की तीव्रगति में अन्तर पड़ जाता है। लेकिन सदा अथक तीव्रगति वाली भुजाओं के उमंग-उत्साह को देखते-देखते स्वयं भी फिर से तीव्रगति से कार्य करने लग पड़ते हैं। एक दो के सहयोग से गति को तीव्र बनाते चल रहे हैं।

बापदादा आज तीन प्रकार के बच्चे देख रहे थे। एक सदा सहज योगी। दूसरे हर विधि को बार-बार प्रयोग करने वाले प्रयोगी। तीसरे सहयोगी। वैसें हैं तीनों ही योगी लेकिन भिन्न-भिन्न स्टेज के हैं। सहजयोगी, समीप सम्बन्ध और सर्व प्राप्ति के कारण सहज योग का सदा स्वत: अनुभव करता है। सदा समर्थ स्वरूप होने के कारण इसी नशे में सदा अनुभव करता कि मैं हूँ ही बाप का। याद दिलाना नहीं पड़ता स्वयं को मैं आत्मा हूँ, मैं बाप का बच्चा हूँ। ‘मैं हूँ ही’ सदा अपने को इस अनुभव के नशे में प्राप्ति स्वरूप नैचुरल निश्चय करता है। सहजयोगी को सर्व सिद्धियाँ स्वत: ही अनुभव होती हैं इसलिए सहजयोगी सदा ही श्रेष्ठ उमंग-उत्साह खुशी में एकरस रहता है। सहजयोगी सर्व प्राप्तियों के अधिकारी स्वरूप में सदा शक्तिशाली स्थिति में स्थित रहते हैं।

प्रयोग करने वाले प्रयोगी सदा हर स्वरूप के, हर प्वाइंट के, हर प्राप्ति स्वरूप के प्रयोग करते हुए उस स्थिति को अनुभव करते हैं। लेकिन कभी सफलता का अनुभव करते, कभी मेहनत अनुभव करते। लेकिन प्रयोगी होने के कारण, बुद्धि अभ्यास की प्रयोगशाला में बिजी रहने के कारण 75 परसेन्ट माया से सेफ रहते हैं। कारण? प्रयोगी आत्मा को शौक रहता है कि नये ते नये भिन्न-भिन्न अनुभव करके देखें। इसी शौक में लगे रहने के कारण माया से प्रयोगशाला में सेफ रहते हैं, लेकिन एकरस नहीं होते। कभी अनुभव होने के कारण बहुत उमंग-उत्साह में झूमते और कभी विधि द्वारा सिद्धि की प्राप्ति कम होने के कारण उमंग-उत्साह में फ़र्क पड़ जाता है। उमंग-उत्साह कम होने के कारण मेहनत अनुभव होती है इसलिए कभी सहजयोगी, कभी मेहनत वाले योगी। ‘हूँ ही’ के बजाय ‘हूँ हूँ’। ‘आत्मा हूँ’, ‘बच्चा हूँ’, ‘मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ’ – इस स्मृति द्वारा सिद्धि को पाने का बार-बार प्रयत्न करना पड़ता है इसलिए कभी तो इस स्टेज पर स्थित होते जो सोचा और अनुभव हुआ। कभी बार-बार सोचने द्वारा स्वरूप की अनुभूति करते हैं। इसको कहा जाता है – प्रयोगी आत्मा। अधिकार का स्वरूप है सहजयोगी। बार-बार अध्ययन करने का स्वरूप है प्रयोगी आत्मा। तो आज देख रहे थे – सहज योगी कौन और प्रयोगी कौन हैं? प्रयोगी भी कभी-कभी सहजयोगी बन जाते हैं लेकिन सदा नहीं। जिस समय जो पोजीशन होती है, उसी प्रमाण स्थूल चेहरे के पोज़ भी बदलते हैं। मन की पोजीशन को भी देखते हैं और पोज को भी देखते हैं। सारे दिन में कितनी पोज़ बदलते हो। अपने भिन्न-भिन्न पोज़ को जानते हो? स्वयं को साक्षी होकर देखते हो? बापदादा सदा यह बेहद का खेल जब चाहे तब देखते रहते हैं।

जैसे यहाँ लौकिक दुनिया में एक के ही भिन्न-भिन्न पोज़ हंसी के खेल में स्वयं ही देखते हैं। विदेश में यह खेल होता है? यहाँ प्रैक्टिकल में ऐसा खेल तो नहीं करते हो ना। यहाँ भी कभी बोझ के कारण मोटे बन जाते हैं और कभी फिर बहुत सोचने के संस्कार के कारण अन्दाज से भी लम्बे हो जाते हैं और कभी फिर दिलशिकस्त होने के कारण अपने को बहुत छोटा देखते हैं। कभी छोटे बन जाते, कभी मोटे बन जाते, कभी लम्बे बन जाते हैं। तो ऐसा खेल अच्छा लगता है?

सभी डबल विदेशी सहजयोगी हो? आज के दिन का सहज योगी का चार्ट रहा? सिर्फ प्रयोग करने वाले प्रयोगी तो नहीं हो ना। डबल विदेशी मधुबन से सदाकाल के लिए सहजयोगी रहने का अनुभव लेकर जा रहे हो? अच्छा – सहयोगी भी योगी हैं इसका फिर सुनायेंगे।

सभी टीचर्स नीचे हाल में मुरली सुन रही हैं

बापदादा के साथ निमित्त सेवाधारी कहो, निमित्त शिक्षक कहो तो आज साथियों का ग्रुप भी आया हुआ है ना। छोटे तो और ही अति प्रिय होते हैं। नीचे होते भी सब ऊपर ही बैठे हैं। बापदादा छोटे वा बड़े लेकिन हिम्मत रखने वाले सेवा के क्षेत्र में स्वयं को सदा बिजी रखने वाले सेवाधारियों को बहुत-बहुत यादप्यार दे रहे हैं इसलिए त्यागी बन अनेकों के भाग्य बनाने के निमित्त बनाने वाले सेवाधारियों को बापदादा त्याग की विशेष आत्मायें देख रहे हैं। ऐसी विशेष आत्माओं को विशेष रूप से बधाई के साथ-साथ यादप्यार। डबल कमाल कौन सी है? एक तो बाप को जानने की कमाल की। दूरदेश, धर्म का पर्दा रीति रसम, खान-पान सबकी भिन्नता के पर्दे के बीच रहते हुए भी बाप को जान लिया। इसलिए डबल कमाल। पर्दे के अन्दर छिप गये थे। सेवा के लिए अब जन्म लिया है। भूल नहीं की लेकिन ड्रामा अनुसार सेवा के निमित्त चारों ओर बिखर गये थे। नहीं तो इतनी विदेशों में सेवा कैसे होती। सिर्फ सेवा के कारण अपना थोड़े समय का नाम मात्र हिसाब-किताब जोड़ा, इसलिए डबल कमाल दिखाने वाले सदा बाप के स्नेह के चात्रक, सदा दिल से ‘मेरा बाबा’ के गीत गाने वाले, ‘जाना है, जाना है,’ 12 मास इसी धुन में रहने वाले, ऐसे हिम्मत कर बापदादा के मददगार बनने वाले बच्चों को यादप्यार और नमस्ते।

सेवाधारी भाई-बहनों से:- महायज्ञ की महासेवा का प्रसाद खाया? प्रसाद तो कभी भी कम होने वाला नहीं है। ऐसा अविनाशी महाप्रसाद प्राप्त किया? कितना वैरायटी प्रसाद मिला? सदाकाल के लिए खुशी, सदा के लिए नशा, अनुभूति ऐसे सर्व प्रकार का प्रसाद पाया? तो प्रसाद बांटकर खाया जाता है। प्रसाद आंखों के ऊपर, मस्तक के ऊपर रखकर खाते हैं। तो यह प्रसाद ऑखों मे समा जाए। मस्तक में स्मृति स्वरूप हो जाए अर्थात् समा जाए। ऐसा प्रसाद इस महायज्ञ में मिला? महाप्रसाद लेने वाले कितने महान भाग्यवान हुए, ऐसा चान्स कितनों को मिलता है? बहुत थोड़ों को, उन थोड़ों में से आप हो। तो महान भाग्यवान हो गये ना। जैसे यहाँ बाप और सेवा इसके सिवाए तीसरा कुछ भी याद नहीं रहा, तो यहाँ का अनुभव सदा कायम रखना। वैसे भी कहाँ जाते हैं तो विशेष वहाँ से कोई न कोई यादगार ले जाते हैं, तो मधुबन का विशेष यादगार क्या ले जायेंगे? निरन्तर सर्व प्राप्ति स्वरूप हो रहेंगे। तो वहाँ भी जाकर ऐसे ही रहेंगे या कहेंगे वायुमण्डल ऐसा था, संग ऐसा था। परिवर्तन भूमि से परिवर्तन होकर जाना। कैसा भी वायुमण्डल हो लेकिन आप अपनी शक्ति से परिवर्तन कर लो। इतनी शक्ति है ना। वायुमण्डल का प्रभाव आप पर न आवे। सभी सम्पन्न बन करके जाना। अच्छा।

माताओं के साथ – माताओं के लिए तो बहुत खुशी की बात है – क्योंकि बाप आया ही है माताओं के लिए। गऊपाल बनकर गऊ माताओं के लिए आये हैं। इसी का तो यादगार गाया हुआ है। जिसको किसी ने भी योग्य नहीं समझा लेकिन बाप ने योग्य आपको ही समझा – इसी खुशी में सदा उड़ते चलो। कोई दु:ख की लहर आ नहीं सकती क्योंकि सुख के सागर के बच्चे बन गये। सुख के सागर में समाने वालों को कभी दु:ख की लहर नहीं आ सकती है – ऐसे सुख स्वरूप।

01-10-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति ”अव्यक्त-बापदादा” रिवाइज:21-01-83 मधुबन

संगम पर बाप और ब्राह्मण सदा साथ साथ

आज बापदादा अपने राइट हैन्डस से सिर्फ हैन्डशेक करने के लिए आये हैं। तो हैन्डशेक कितने में होती है? सभी ने हैन्डशेक कर ली? फिर भी एक दृढ़ संकल्प कर सच्चे साजन की सजनियाँ तो बन गई हैं। तब ही विश्व की सेवा का कार्य सम्भालने के निमित्त बनी हो? वायदे के पक्के होने के कारण बापदादा को भी वायदा निभाना पड़ा। वायदा तो पूरा हुआ ना। सबसे नजदीक से नजदीक गॉड के फ्रैन्डस कौन हैं? आप सभी गॉड के अति समीप के फ्रैन्डस हो क्योंकि समान कर्तव्य पर हो। जैसे बाप बेहद की सेवा प्रति है वैसे ही आप छोटे बड़े बेहद के सेवाधारी हो। आज विशेष छोटे-छोटे फ्रैन्डस के लिए खास आये हैं क्योंकि हैं छोटे लेकिन जिम्मेदारी तो बड़ी ली है ना इसलिए छोटे फ्रैन्डस ज्यादा प्रिय होते हैं। अभी उल्हना तो नहीं रहा ना। अच्छा। (बहनों ने गीत गाया – जो वायदा किया है, निभाना पड़ेगा)

बापदादा तो सदा ही बच्चों की सेवा में तत्पर ही है। अभी भी साथ हैं और सदा ही साथ हैं। जब हैं ही कम्बाइन्ड तो कम्बाइन्ड को कोई अलग कर सकता है क्या? यह रूहानी युगल स्वरूप कभी भी एक दो से अलग नहीं हो सकते। जैसे ब्रह्मा बाप और दादा कम्बाइन्ड हैं, उन्हों को अलग कर सकते हो? तो फालो फादर करने वाले श्रेष्ठ ब्राहमण और बाप कम्बाइन्ड हैं। यह आना और जाना तो ड्रामा में ड्रामा है। वैसे अनादि ड्रामा अनुसार अनादि कम्बाइन्ड स्वरूप संगमयुग पर बन ही गये हो। जब तक संगमयुग है तब तक बाप और श्रेष्ठ आत्मायें सदा साथ हैं इसलिए खेल में खेल करके गीत भले गाओ, नाचो गाओ, हंसो-बहलो लेकिन कम्बाइन्ड रूप को नहीं भूलना। बापदादा तो मास्टर शिक्षक को बहुत श्रेष्ठ नज़र से देखते हैं, वैसे तो सर्व ब्राह्मण श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ हैं लेकिन जो मास्टर शिक्षक बन अपने दिल व जान, सिक व प्रेम से दिन रात सच्चे सेवक बन सेवा करते वह विशेष में विशेष और विशेष में भी विशेष हैं। इतना अपना स्वमान सदा स्मृति में रखते हुए संकल्प, बोल और कर्म में आओ। सदा यही याद रखना कि हम नयनों के नूर हैं। मस्तक की मणि हैं, गले के विजय माला के मणके हैं और बाप के होठों की मुस्कान हम हैं। ऐसे सर्व चारों ओर से आये हुए छोटे-छोटे और बड़े प्रिय फ्रैन्डस को वा जो भी सभी बच्चे आये हैं, वह सभी अपने-अपने नाम से अपनी याद स्वीकार करना। चाहे नीचे बैठे हैं, चाहे ऊपर बैठे हैं, नीचे वाले भी नयनों में और ऊपर वाले नयनों के सम्मुख हैं इसलिए अभी वायदा निभाया, अभी सभी फ्रैन्डस से, सर्व साथियों से यादप्यार और नमस्ते। थोड़ा-थोड़ा मिलना अच्छा है। आप लोगों ने इतना ही वायादा किया था। (गीत – अभी न जाओ छोड़ के, कि दिल अभी भरा नहीं…..) दिल भरने वाली है कभी? यह तो जितना मिलेंगे उतना दिल भरेगी। अच्छा – (दीदी जी को देखते हुए) – ठीक है ना। दीदी से वायदा किया हुआ है, साकार का। तो यह भी निभाना पड़ता है। दिल भर जाए तो खाली करना पड़ेगा, इसलिए भरता ही रहे तो ठीक है।

(दीदी जी से) इनका संकल्प ज्यादा आ रहा था। आप सब छोटी-छोटी बहनों से दादी-दीदी का ज्यादा प्यार रहता है। दीदी-दादी जो निमित्त हैं, उन्हों का आप लोगों से विशेष प्यार है। अच्छा किया, बाप दादा भी आफरीन देते हैं। जिस प्यार से आप लोगों को यह चांस मिला है, उस प्यार से मिलन भी हुआ। नियम प्रमाण आना यह कोई बड़ी बात नहीं, यह भी एक विशेष स्नेह का, विशेष प्यार का रिटर्न मिल रहा है इसलिए जिस उमंग से आप लोग आये, ड्रामा में आप सबका बहुत ही अच्छा गोल्डन चांस रहा। तो सब गोल्डन चान्सलर हो गये ना। वह सिर्फ चांसलर होते हैं, आप गोल्डन चांसलर हो। अच्छा।

वरदान:- सर्व खजानों को विधिपूर्वक जमा कर सम्पूर्णता की सिद्धि प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव 
63 जन्म सभी खजाने व्यर्थ गंवाये, अब संगमयुग पर सर्व खजानों को यथार्थ विधि पूर्वक जमा करो, जमा करने की विधि है – जो भी खजाने हैं उन्हें स्व प्रति और औरों के प्रति शुभ वृत्ति से कार्य में लगाओ। सिर्फ बुद्धि के लॉकर में जमा नहीं करो लेकिन खजानों को कार्य में लगाओ। उन्हें स्वयं प्रति भी यूज करो, नहीं तो लूज़ हो जायेंगे इसलिए यथार्थ विधि से जमा करो तो सम्पूर्णता की सिद्धि प्राप्त कर सिद्धि स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- परमात्म प्यार का अनुभव है तो कोई भी रूकावट रोक नहीं सकती।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 29 September 2017 :- Click Here

Brahmakumaris Daily Mahavakya 29 September 2017

To Read 28 September Mahavakya :- Click Here

29.09.2017
ओम शान्ति।
बच्चे, अब आप सब आत्माओं को परमपिता परमात्मा के साथ अटूट सम्बन्ध निभा वरदानी मूर्त बनना है। वरदानी मूर्त बच्चे ही बाप को प्रत्यक्ष करेंगे और जो बच्चे बेफिक्र बादशाह और हल्के होंगे, उनका ही बाप के साथ सम्बन्ध अटूट होगा।

अब आप बच्चों को सदा स्वयं पर attention रख स्वयं को check करना है कि मैं शान्त स्वरूप और हल्का हूँ…? क्योंकि हल्की आत्मा ही बाप के समीप पहुँच बाप-समान बन पायेंगी और किसी भी तरह के बोझ वाली आत्मा का खिंचाव धरती की तरफ होगा। फिर बताओ, वह बाप-समान कैसे बनेंगी…? इसलिए अब बाप की श्रीमत प्रमाण पुरूषार्थ कर बाप-समान बनो।

अब यह ही थोड़े का भी थोड़ा समय है… ‘‘अभी नहीं तो कभी नहीं…।’’

यह बाप का प्यार कहो … पढ़ाई कहो … तपस्या कहो … यह सब बाप-समान बनाने के लिए ही है। यदि आपके अन्दर ज्ञान-गुण-शक्तियां बाप-समान नहीं आ रही है … चाहे कोई भी कारण है, इसका मतलब आपके अन्दर अलबेलापन है, इसलिए बहुत समझदारी के साथ स्वयं की checking कर स्वयं को बाप-समान बनाओ। यदि आप हर पल हल्के, बेफिक्र, सन्तुष्ट और खुश रहते हो, तो इसका मतलब आपका connection बाप के साथ है ही है। इस प्रकार की आपकी checking हर पल की होनी चाहिए अर्थात् सदा, मतलब हर स्थिति और परिस्थिति के समय।

हल्का अर्थात् किसी भी प्रकार की कोई भी आसक्ति नहीं … बेफिक्र, चिन्तामुक्त, समर्पण भाव, सन्तुष्ट, स्वयं से … बाप से … अन्य आत्माओं से … NO COMPLAINT …। खुश अर्थात् मान-अपमान, निन्दा-स्तुति अर्थात् हर परिस्थिति में भी खुश।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

 

Peace Of Mind TV
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Reliance # 640 | 
Jio TV |

TODAY MURLI 30 SEPTEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 SEPTEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 29 September 2017 :- Click Here

30/09/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, come together and remove the roof of sorrow from this world of the iron age. Perform the charitable act of remembering the Father.
Question: Even though children have the imperishable reward of knowledge, instead of accumulating in their account of charity, some finish that account. Why is this?
Answer: 1. Because they commit sins in between performing the charitable act. Even though they are enlightened souls, they become influenced by bad company and thereby commit sin. Due to those sins, their account of charity that they had previously accumulated is finished.
2. If, after belonging to the Father, a soul is hurt by the vice of lust and lets go of the Father’s hand, that soul becomes even more sinful than before. Such ones defame the name of the clan. They experience very severe punishment. Because they defame the Satguru, they cannot reach a high destination.

Om shanti. The spiritual Father has a heart-to-heart conversation with you spiritual children. You souls understand that only our Father is the one unlimited Father. You children have understood this. The destination is liberation and liberation-in-life. In order to receive liberation, the pilgrimage of remembrance is absolutely essential and, it is absolutely essential for liberation-in-life to know the beginning, the middle and the end of creation. Both are very easy. The cycle of the world, that of 84 births, continues to rotate. It should remain in the intellects of you children that our cycle of 84 births is now coming to an end. We now have to return home. No one can return home yet because all souls are sinful. Sinful souls cannot go into liberation or liberation-in-life. You should have such thoughts. Those who do something will receive the return of that and remain happy. You will also be able to take others into happiness. You children have to have the mercy of showing others the path. You have to explain: You souls have now changed from satopradhan to tamopradhan and this is why you are not able to return home. They even call out: O Purifier! You children understand that it is now the most auspicious confluence age. Some are able to remember this very well, whereas others are not able to remember; they repeatedly forget. If you remember the confluence age, your mercury of happiness remains very high. When you remember the Father and the Teacher , too, your degree of happiness remains high. Some come across big obstacles in between and others come across minor obstacles; everyone comes across difficulties. Some climb up very high and then fall back down again. The stage of some is very good and so they climb onto Baba’s heart, but when they fall again, all their income is finished. In the world outside, people give so much in donations and do so much charity in order to become charitable souls. However, if, in between performing charitable acts, souls begin to perform sinful acts, they become sinful souls. Your act of charity is to have remembrance of the Father. It is only by having remembrance that a soul becomes a charitable soul. When you forget the Father and become influenced by someone’s company, then, by committing a lot of sin, whatever charity you had performed is finished. Supposing someone gives a donation or performs charity today and opens a centre but turns away tomorrow, then he falls even lower than he was before because he commits sin. Therefore, instead of the account accumulating, it is wiped out. Previously, they did very good service, don’t even ask! However, later they fall right down. They even get married and become even worse than they were before. Once the sin is committed, the burden of that sin continues to increase. There is an account of profit and loss. However, those who want to understand these things will understand. There are light sins and there are also very heavy sins. The worst sin of all is lust. Anger is secondand greed less than that and attachment is less again; they are all numberwise. By being defeated by lust, instead of experiencing profit, souls go into loss because they defame the Satguru. Such souls cannot reach their destination. They climb down from the (Baba’s) heart. They belong to the Father and then they leave the Father. It also depends on their actions. What is the reason for their leaving? Because they weren’t able to follow. Mostly it is lust that hits them the hardest. This is the main enemy. Have you ever heard of an effigy of an angry person being burnt? No, the effigy is created of one who is lustful. It is Ravan. The Father says: By conquering lust, you will become the conquerors of the world. You have been completely defeated. So, instead of being victorious, you are defeated. They call out to the Father: O Purifier, come! It is because of lust that people suffer a great deal, and then they say: Baba, I have made my face dirty. Baba says: You have become someone who defames the clan. This would not be said because of anger or attachment. Everything depends on lust. They call out: O Purifier, come! The Father has come and yet the soul continues to become impure, and so what can the Father say? Everyone – sages, holy men etc. – call out “O Purifier, come!” but no one understands the meaning of that. Yes, some actually believe that God will come and establish the new world. However, because they have given the cycle a very long duration, they have fallen into immense darkness. There is knowledge and ignorance. The Father explains that those on the path of devotion don’t even know the One they worship, and so what use is such devotion? Because they don’t understand, whatever they do is fruitless (unsuccessful). People think that fruit is received by making donations and performing charity, but that only happens for a temporary period. Temporary happiness, like the droppings of a crow, is received. Sannyasis, too, say that whatever happiness is received in this world is like the droppings of a crow and that all the rest is sorrow, nothing but sorrow. The Father says: Remember Me alone and all your sorrow will be removed. Just think: How much do I remember Baba so that the old karmic accounts can be settled and new ones accumulated? However much someone accumulates is not a question in terms of money etc. Here, it is a question of removing sins. The main aspect is that of becoming pure. Don’t think that by your writing to Baba about it, the sins of many births will be settled. There is a great burden of sins of many births. They will not all be cut away, but yes, the burden of those that have been committed in this birth can be lightened. However, you do have to make a great deal of effort. The more you stay in remembrance, the more the burden of sin will be lightened. Some children make a lot of effort; they show the path to hundreds and thousands of people. They explain the cycle of 84 births. You know what the account of the different births is. Just think: How much yoga power do I have and when will I take birth? Will it be at the beginning of the golden age? Those who make a lot of effort will take birth at the beginning of the golden age. Those souls will not remain hidden. Don’t think that all of you will go to the golden age. Some will come at the end and claim a little something. Those who earn a great deal of income are the ones who come earlier. Those who earn less income come later on, and this is why you have to remember the Father a great deal. It is very easy. Those who remember Baba very well experience a great deal of happiness knowing that they will very soon go to the new world. If you want to become a king, you have to create subjects. If you don’t create subjects, how would you become a king? Some open a centre and earn a lot of income through that. When there is benefit, they even open two or three centres. Baba also continues to open centres. The account of those who do something is created. You have to come together to remove the roof of sorrow. Everyone’s shoulders come together, and so you all receive your share. To whatever extent you make effort, to that extent you claim a high status. You will also experience a great deal of happiness. It is seen how many have been uplifted. Some continue to do very good service. Mama became the example of doing very good service and she therefore experienced a great deal of benefit. The main thing is to do service. Yoga is also service. You continue to receive directions on how to stay in remembrance. Baba has also explained the significance of the point and, as time goes by, He will continue to explain more. Day by day, progress will take place; new points will continue to emerge. It is not very difficult, but then it is not very easy either. Those who remain on service catch the points very quickly. Nothing sits in the intellects of those who don’t remain engaged in service. They continue to say “bindi, bindi” (point), but how do you remember a point; how can a point be seen? It is very easy. You don’t have to remember Baba by keeping a point in front of you. This is something that has to be understood. A soul is such a tiny point. No one else can tell you the name, form, land or time of a soul. They ask what God’s name, form, land and time period are. Senseless human beings neither understand the soul nor the Supreme Soul. Here, too, there are some who don’t understand fully. They continue to say, “Baba, Baba”. They neither study knowledge nor do they do any service; they just continue to eat. Sannyasis also have such followers who don’t do anything but keep eating. At least they have become renunciates and freed themselves from vice! That is not a small thing. The religion of sannyasis is separate. Knowledge is for you children. Baba explains that you were pure and that you have now become impure. You are the ones who have been around the cycle of 84 births. People are unable to understand these things. Devotion is completely separate from knowledge; there is the difference of day and night. You know that you have to make effort and become like Lakshmi and Narayan, and so you have to follow shrimat completely. This requires effort. However, that sickness etc. will continue to come. Signs of it will remain until the end and it will then vanish and no sorrow will remain at all. The Father is known as the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. They say: O Liberator, have mercy on us so that we become liberated from all sorrow! It is at a time of sorrow that human beings remember God. At a time of sorrow, everyone calls out: O God! O Rama! They remember God, but who is God? No one understands this. They simply say: Remember God, the Father ! Or: Remember Khuda! (God). You understand very well that He is our Father. The Father is the One who teaches us: Consider yourself to be a soul and remember Me. On the path of devotion, it isn’t said: Consider yourself to be a soul and remember the Father; no. There are so many different varieties of devotion but there is only one knowledge. People think that, having performed devotion, they will meet God. When does devotion begin and who does the most devotion? No one knows this. Will we still continue to perform devotion for 40,000 years? For how long will devotion continue? You now understand for what length of time devotion continues and for what length of time knowledge continues. Devotees don’t know these things. You hold so many exhibitions in order to explain to them. Only a handful out of multimillions emerge from exhibitions. As time goes by, more will emerge. Countless people come here. There are very few of you true Brahmins who remain pure, and only those who are regular should come here. However, we cannot make an accurate account of how many true Brahmins there are because there are also false ones. The task of a brahmin (priest) is to relate stories. Baba also continues to relate stories. You too have to relate stories. As is the Father, so the children. The duty of you children is to relate the Gita, but not everyone does this. You know that the book of knowledge is just the one Gita; it is the jewel of all the scriptures. Everything is included in that. The Gita is the mother and father. The Father is the One who comes and grants salvation to all. You can also write that the birth of Shiv Baba is like a diamond and that the birth of everyone else is as worthless as a shell. Everyone remembers the Father. Iron-aged human beings worship golden-aged deities. Who made them like that? Only the one Father. However, only those who understand this very well will be able to explain to others. No one explains systematically. Baba says: Instead of construction, many of My children cause destruction. There are some who are maharathis, some who are cavalry and some who are infantry. What will those who are infantry do? They will have to bow down and work for those who have studied. What would you call those who neither bow down in front of others, nor study or teach others? Ostriches! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The Father is a point. Understand this accurately and remember the Father. Don’t become confused and just say “bindi, bindi” (point). Remain engaged in service.
  2. Listen to the true Gita and relate it to others. In order to become true Brahmins, remain pure and definitely study regularly.
Blessing: May you be equal to the Father and reveal the actions of Father Brahma with the mirror of your elevated actions.
Each of you Brahmin souls, you elevated souls, is a mirror of Father Brahma’s actions in your every action. Let Father Brahma’s actions be seen in the mirror of your actions. The speaking, moving, getting up and sitting down of the children who perform every action with such attention will be like those of Father Brahma. Their every action will be worthy of blessings and they will always have blessings emerging through their lips. Then, speciality will be visible even in ordinary actions. So, when you claim this certificate, you will be said to be equal to the Father.
Slogan: In order to experience the avyakt stage, renounce becoming extroverted, be introverted and remain in solitude.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 28 September 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 September 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 September 2017 :- Click Here
[Web-Dorado_Zoom]
30/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

‘मीठे बच्चे – आपस में मिलकर इस कलियुगी दुनिया से दु:ख के छप्पर को उठाना है, बाप को याद करने का पुण्य करना है’
प्रश्नः- ज्ञान की अविनाशी प्रालब्ध होते हुए भी कई बच्चों के पुण्य का खाता जमा होने के बजाए खत्म क्यों हो जाता है?
उत्तर:- क्योंकि पुण्य करते-करते बीच में पाप कर लेते। ज्ञानी तू आत्मा कहलाते हुए संगदोष में आकर कोई पाप किया तो उस पाप के कारण किये हुए पुण्य खत्म हो जाते हैं। 2- बाप का बनकर काम विकार की चोट खाई, बाप का हाथ छोड़ा तो वह पहले से भी अधिक पाप आत्मा बन जाते। उसे कुल-कलंकित कहा जाता है। वह बहुत कड़ी सज़ा के भागी बन जाते हैं। सतगुरू की निंदा कराने के कारण उन्हें ठौर मिल नहीं सकता।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों के साथ रूह-रिहान कर रहे हैं। यह तो आत्मा जानती है कि एक ही हमारा बेहद का बाप है, वह तो बच्चे समझ गये हैं। मंजिल है – मुक्ति जीवनमुक्ति की। मुक्ति के लिए याद की यात्रा जरूरी है और जीवनमुक्ति के लिए रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानना जरूरी है। अब है दोनों ही सहज। सृष्टि का, 84 जन्मों का चक्र फिरता रहता है। यह तुम बच्चों की बुद्धि में रहना चाहिए। अब हमारा 84 जन्मों का चक्र पूरा होता है। अब हमें जाना है वापिस घर। अब वापिस तो कोई जा नहीं सकते क्योंकि पाप आत्मा हैं। पाप आत्मायें मुक्ति-जीवनमुक्ति में जा नहीं सकती। ऐसे-ऐसे विचार करने होते हैं। जो करेगा सो पायेगा और खुशी में रहेगा तथा दूसरों को भी खुशी में लायेगा। तुम बच्चों को कृपा व मेहर करनी है – सबको रास्ता बताने की। समझाना है – तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान से अब तमोप्रधान बन गई है – इसलिए वापिस जा नहीं सकती। पुकारते भी हैं हे पतित-पावन, बच्चे जानते हैं कि अभी पुरूषोत्तम संगमयुग है। यह भी किसको अच्छी रीति याद रहता है, किसको याद नहीं रहता है। घड़ी-घड़ी भूल जाता है। परन्तु तुमको अगर संगमयुग याद रहे तो भी खुशी का पारा चढ़ा रहे। बाप टीचर याद रहे तो भी खुशी का पारा चढ़ा रहे। किसको बड़ा रोला (विघ्न) बीच में पड़ता, किसको थोड़ा पड़ता। पड़ता तो जरूर है। कई ऊपर जाकर फिर नीचे आ जाते हैं। कोई की अवस्था अच्छी होती है तो दिल पर चढ़ जाते हैं, फिर नीचे गिरते हैं तो की कमाई चट हो जाती है। जैसे दुनिया में कितना दान-पुण्य करते हैं इसलिए कि पुण्य आत्मा बनें। फिर अगर पुण्य करते-करते पाप कर्म करने लग पड़ते तो पाप आत्मा बन पड़ते हैं। तुम्हारा पुण्य है ही बाप को याद करने में। याद से ही तुम्हारी आत्मा पुण्य आत्मा बनती है। तो अगर बाप को ही भूल जायें, दूसरे का संग लग जाए तो बहुत पाप करने से जो कुछ पुण्य किया वह भी खत्म हो जाता है। समझो आज दान पुण्य करते हैं, सेन्टर खोलते हैं कल फिर बेमुख हो जाते हैं तो पहले से भी जास्ती गिर जाते हैं क्योंकि पाप करते हैं ना। तो वह खाता जमा के बदले ना हो जाता है। पहले बहुत अच्छी सर्विस करते थे, बात मत पूछो फिर एकदम गिर जाते हैं। शादी कर लेते हैं। पहले से भी जास्ती खराब हो जाते हैं। पाप करने से फिर वह पाप का बोझा चढ़ता जाता है। जमा और ना की जैसे मुरादी (कमाई) सम्भाली जाती है ना। परन्तु इन बातों को भी कोई समझने वाला ही समझे। पाप भी कोई हल्का, कोई बड़ा होता है। काम का सबसे कड़ा, क्रोध सेकेण्ड, लोभ उनसे कम, मोह उनसे कम। नम्बरवार होते हैं। काम की चोट खाने से फायदे के बदले नुकसान हो जाता है क्योंकि सतगुरू की निंदा कराई तो ठौर पा न सकें। वह दिल से उतर जायेंगे। बाप का बनकर बाप को छोड़ देते हैं फिर उसके कर्म पर भी होता है। कारण क्या? चल न सका। अक्सर करके काम की चोट जास्ती लगती है। यही मुख्य दुश्मन है। कब सुना – क्रोध की एफीजी जलाई। नहीं। कामी की बनाते हैं। रावण ठहरा ना। बाप कहते हैं काम पर जीत पाने से जगतजीत बनेंगे। बिल्कुल हरा बैठे हैं, तो जीत के बदले हार हो जाती है। बाप को बुलाते हैं हे पतित-पावन आओ, काम से बहुत पीड़ित होते हैं। फिर कहते हैं बाबा काला मुँह कर दिया। बाबा कहेंगे तुम तो कुल कलंकित हो। क्रोध वा मोह के लिए ऐसे नहीं कहेंगे। सारा मदार है काम पर। बुलाते हैं हे पतित-पावन आओ। बाप आया है फिर भी पतित बनते रहे तो बाप क्या कहेंगे। साधू सन्त आदि सब कोई पुकारते हैं हे पतित-पावन आओ। अर्थ कोई नहीं समझते हैं। कोई मानते हैं कि हाँ आने वाला है जो नई दुनिया स्थापन करेंगे। परन्तु टाइम बहुत लम्बा दे देने से घोर अन्धियारे में गिर पड़े हैं। ज्ञान और अज्ञान है ना।

बाप समझाते हैं भक्ति में तुम जिसकी पूजा करते हो उसे जानते नहीं तो वह भक्ति किस काम की। न जानने के कारण जो कुछ करते वह निष्फल हो जाता है। मनुष्य समझते हैं दान-पुण्य करने से फल मिलता है। परन्तु वह है अल्पकाल के लिए, काग विष्टा के समान सुख। सन्यासी भी कहते हैं यह दुनिया में जो सुख मिलता है वह काग विष्टा समान है, बाकी सब दु:ख ही दु:ख है। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे सब दु:ख दूर हो जायेंगे। विचार करो कि हम कितना याद करते हैं। जो पुराना हिसाब खत्म भी हो और नया जमा भी हो। कितना कोई जमा करते हैं, इसमें धन आदि की बात नहीं है। यह तो है कि पाप कैसे मिटे? मूल बात है ही पवित्र बनने की। ऐसे भी नहीं समझो कि बाबा को लिखकर देने से कोई जन्म-जन्मान्तर का खत्म हो जायेगा। पापों का बोझा जन्म-जन्मान्तर का बहुत है। वह सब नहीं कटते हैं। इस जन्म में जो किये हैं, उसकी हल्काई हो जाती है। बाकी तो मेहनत बहुत करनी पड़े। जितना याद में रहेंगे उतना पापों का बोझा हल्का होता जायेगा। कोई बच्चे बहुत मेहनत करते हैं, लाखों को रास्ता बताते हैं। 84 जन्म का चक्र समझाते हैं। जन्मों के हिसाब को तुम जानते हो। विचार करो कितना योगबल है, हमारा जन्म कब होगा? सतयुग आदि में हो सकेगा? जो बहुत पुरूषार्थ करेंगे वही सतयुग आदि में जन्म ले सकेंगे। वह कोई छिपा थोड़ेही रहेगा। ऐसे मत समझो कि सभी कोई सतयुग में आयेंगे। कोई तो पिछाड़ी में आकर थोड़ा बहुत ले लेते हैं। जो जास्ती कमाई करते हैं वह जल्दी आते हैं। कम कमाई करते तो देरी से आते हैं इसलिए बाप को तो बहुत याद करना चाहिए और है भी बहुत सहज। जो अच्छी रीति याद करेंगे उनको खुशी रहेगी। हम जल्दी नई दुनिया में आयेंगे। राजा बनना है तो प्रजा भी तो बनानी है ना। प्रजा ही नहीं बनायेंगे तो राजा कैसे बनेंगे। कोई सेन्टर खोलते हैं। उनकी कमाई भी बहुत होती है। फायदा होता है तो 2-3 सेन्टर भी खोलते हैं। सेन्टर तो बाबा भी खोलते रहते हैं। जो करते हैं उनका हिसाब उसमें आ जाता है। मिलकर तुम सब दु:ख का छप्पर उठाते हो ना! सबका कंधा मिलता है ना। तो हिसाब सबको मिलता है। जितना मेहनत करते हैं, उतना ऊंच पद मिलेगा। उनको खुशी भी बहुत होगी। देखा जाता है – कितनों का उद्धार किया। सर्विस बहुत अच्छी करते रहते। जैसे मिसाल देते हैं मम्मा का। मम्मा ने बहुत अच्छी सर्विस की तो उनका कितना कल्याण हो गया। मूल बात है सर्विस करने की। योग की भी सर्विस है ना। डायरेक्शन मिलते रहते हैं। कैसे याद करना है। यह बिन्दी का राज़ भी बाबा ने अब समझाया है। अब आगे चल और भी सुनाते रहेंगे। दिन-प्रतिदिन उन्नति होती जायेगी। प्वाइंट्स निकलती रहती हैं, बहुत डिफीकल्ट भी नहीं है। सहज भी नहीं है। जो सर्विस में तत्पर हैं, वह झट प्वाइंट को पकड़ लेते हैं। जो सर्विस में नहीं रहते उनकी बुद्धि में कुछ भी नहीं बैठता। बिन्दी-बिन्दी कहते रहते परन्तु कैसे बिन्दी को याद करें, कैसे बिन्दी को देखें, है बहुत सहज बात। कोई बिन्दी को सामने रख थोड़ेही याद करना है। यह तो समझने की बात है। आत्मा कितनी छोटी बिन्दी है। आत्मा का नाम, रूप, देश, काल कोई बता नहीं सकेगा। परमात्मा के लिए पूछते हैं – उनका नाम रूप देश काल क्या है? बेसमझ मनुष्य न आत्मा को जानते, न परमात्मा को जानते हैं। यहाँ भी हैं जो पूरी रीति नहीं जानते हैं सिर्फ बाबा-बाबा कहते रहते। नॉलेज कहाँ सीखते हैं। कुछ भी सर्विस करते नहीं। खाते रहते हैं। जैसे सन्यासियों के पास भी अवधूत होते हैं, जो करते कुछ भी नहीं, खाते रहते हैं। बाकी सन्यास धारण किया है, विकार से छूट गये वह भी कम बात नहीं। सन्यासियों का धर्म ही अलग है। यह ज्ञान है ही तुम बच्चों के लिए।

बाबा समझाते हैं तुम पवित्र थे, अभी अपवित्र बन गये हो। तुमने ही 84 जन्मों का चक्र लगाया है। इन बातों को भी मनुष्य समझ नहीं सकते। भक्ति बिल्कुल अलग है, ज्ञान बिल्कुल ही अलग बात है। रात-दिन का फर्क है। तुम जानते हो हमको पुरूषार्थ से लक्ष्मी-नारायण जैसा बनना है तो श्रीमत पर पूरा चलना है। मेहनत तो है। बाकी यह बीमारी आदि तो चलती रहेगी। यह निशानी अन्त तक दिखाई देगी। फिर गुम हो जाती है, फिर कोई दु:ख नहीं रहेगा। बाप को कहते ही हैं दु:ख हर्ता, सुख कर्ता, हे लिबरेटर रहम करो तो फिर सब दु:ख से छूट जाते हैं। दु:ख में ही मनुष्य बहुत सिमरण करते हैं। हे प्रभू, हे राम, दु:ख के टाइम सब कहेंगे – भगवान को याद करो। परन्तु भगवान कौन है – यह कोई नहीं जानते। सिर्फ कहेंगे गॉड फादर को याद करो। खुदा को याद करो। तुम तो अच्छी रीति जानते हो वह हमारा बाप है। बाप ही सिखलाते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। भक्ति मार्ग में ऐसे कहेंगे क्या कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। नहीं। कितने प्रकार की अथाह भक्ति है। ज्ञान एक ही है। समझते हैं भक्ति से भगवान मिलेगा। भक्ति कब से शुरू होती है, कौन जास्ती भक्ति करता है? यह किसको पता नहीं है। क्या अजुन 40 हजार वर्ष भक्ति ही करते रहेंगे? कहाँ तक भक्ति करेंगे? अभी तुम जानते हो इतना समय भक्ति चलती है, इतना समय ज्ञान चलता है। भक्तों को पता नहीं चलता है, उन्हों को समझाने के लिए ही इतनी प्रदर्शनी आदि करते हैं। प्रदर्शनी में भी कोटों में कोई निकलते हैं। आगे चल करके और निकलेंगे। यहाँ भी कितने ढेर आते हैं। तुम कितने थोड़े हो जो सच्चे ब्राह्मण पवित्र रहते हो, जो रेग्युलर हो वह आवे। परन्तु यह भी हिसाब निकाल न सकें कि सच्चे ब्राह्मण कितने हैं? बहुत झूठे भी हैं। ब्राह्मणों का काम ही है कथा सुनाना। बाबा भी कथा सुनाते रहते हैं ना। तुमको भी कथा सुनानी है। यथा बाप तथा बच्चे। बच्चों का काम ही है गीता सुनाना। परन्तु सब कहाँ सुनाते हैं। तुम जानते हो ज्ञान की पुस्तक एक ही गीता है। वह है सर्वशास्त्रमई शिरोमणी, उसमें सब आ गया। माई बाप है गीता। बाप ही आकर सबकी सद्गति करते हैं। यह भी लिख सकते हो कि शिवबाबा की जयन्ति ही हीरे-तुल्य है। बाकी सबकी जयन्तियाँ कौड़ी तुल्य हैं। बाप को तो सब याद करते हैं। कलियुगी मनुष्य सतयुगी देवताओं की पूजा करते हैं। उन्हों को ऐसा बनाने वाला कौन है? एक बाप। परन्तु यह भी समझा वह सकेंगे जो अच्छी रीति समझते हैं। कायदेमुज़ीब कोई समझाते नहीं।

बाबा कहते हैं हमारे कई बच्चे कन्स्ट्रक्शन के साथ डिस्ट्रक्शन भी करने वाले हैं। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे सब हैं ना। तो प्यादे क्या करेंगे? पढ़े लिखे के आगे भरी ढोयेंगे। बाकी जो न भरी ढोयेंगे, न पढ़ेंगे, पढ़ायेंगे उनको क्या कहेंगे? ऊंट पक्षी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप बिन्दी है, इस बात को यथार्थ समझकर बाप को याद करना है। बिन्दी-बिन्दी कहकर मूँझना नहीं है। सर्विस पर तत्पर रहना है।

2) सच्ची गीता सुननी और सुनानी है। सच्चा ब्राह्मण बनने के लिए पवित्र रहना है। रेगुलर पढ़ाई जरूर करनी है।

वरदान:- अपने श्रेष्ठ कर्म रूपी दर्पण द्वारा ब्रह्मा बाप के कर्म दिखलाने वाले बाप समान भव 
एक-एक ब्राह्मण आत्मा, श्रेष्ठ आत्मा हर कर्म में ब्रह्मा बाप के कर्म का दर्पण हो। ब्रह्मा बाप के कर्म आपके कर्म के दर्पण में दिखाई दें। जो बच्चे इतना अटेन्शन रखकर हर कर्म करते हैं उनका बोलना, चलना, उठना, बैठना सब ब्रह्मा बाप के समान होगा। हर कर्म वरदान योग्य होगा, मुख से सदैव वरदान निकलते रहेंगे। फिर साधारण कर्म में भी विशेषता दिखाई देगी। तो यह सर्टीफिकेट लो तब कहेंगे बाप समान।
स्लोगन:- अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए बाह्यमुखता को छोड़ अन्तर्मुखी एकान्तवासी बनो

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 28 September 2017 :- Click Here

BK MURLI TODAY OCTOBER 2017 :- BRAHMA KUMARIS DAILY MURLI (ENGLISH)

Brahma Kumaris Murli :- Bk daily Murli October 2017

 

 

Download English Murli from Google Drive

01-10-2017 02-10-2017 03-10-2017 04-10-2017 05-10-2017
06-10-2017 07-10-2017 08-10-2017 09-10-2017 10-10-2017
11-10-2017 12-10-2017 13-10-2017 14-10-2017 15-10-2017
16-10-2017 17-10-2017 18-10-2017 19-10-2017 20-10-2017
21-10-2017 22-10-2017 23-10-2017 24-10-2017 25-10-2017
26-10-2017 27-10-2017 28-10-2017 29-10-2017 30-10-2017
31-10-2017 ———- ———- ———- ———-

[wp_ad_camp_5]

 

Hindi Murli :- Click Here

To read Daily Murli :- Click Here

Brahma Kumaris Murli Daily Hindi October 2017 – Bk Murli Today Hindi

Brahma kumaris murli October 2017 : Bk Daily Murli today

 

 

Om Shanti ! गूगल ड्राइव से हिंदी मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

 Baba Murli. Bk Murlis Daily Hindi

ONLY 2 DAYS ADVANCE MURLI CAN BE ACCESSED FROM 25 OCT. LINK WILL OPEN ONCE THE DATE ARRIVES

Brahmakumaris Daily Mahavakya 28 September 2017

To Read 27 September Mahavakya :- Click Here

28.09.2017
Peace Of Mind TV

आज का पुरुषार्थ…

ओम् शान्ति।
बच्चे, आप सबको अब समय अनुसार अचल-अडोल और एकरस रहना है, चाहे परिस्थिति कितनी भी हलचल वाली क्यों ना हो…!

जिस आत्मा में एक नाॅलेजफुल और पाॅवरफुल अर्थात् सर्व-शक्ति और उसमें भी विशेष शान्ति और पवित्रता की शक्ति होगी वह आत्मा हर प्रकार की परिस्थिति में अचल-अडोल रहेंगी।

देखो, जैसे समय आगे बढ़ता जा रहा है, तो तमोप्रधान वातावरण का effect भी बढ़ रहा है। जिस कारण तन, मन, धन, सम्बन्ध, सम्पर्क और साथ ही साथ दिनचर्या में छोटी-छोटी परेशान करने वाली परिस्थितियां भी बढ़नी है, परन्तु आप मास्टर सर्वशक्तिमान् बच्चों को हर हाल में अचल-अडोल रहना है, इसलिए स्वयं ही स्वयं की checking करो कि मैं हमेशा शान्त केवल मुख से ही नहीं, बल्कि मुझमें मन की भी शान्ति रहती है…, मैं हर्षितमुख रहता हूँ या परेशानियों को देख परेशान हो जाता हूँ…?

बच्चे, आपकी शांतचित्त अवस्था ही आपको सम्पन्न बनायेंगी। आप स्वयं के साथ-साथ यह भी checking करो कि आपके घर में रहने वाली आत्माओं पर आपकी स्थिति का कितना प्रभाव पड़ता है…?

यदि आप हमेशा हर्षितमुख, शान्त, अचल-अडोल रहते हो तो आपके घर के वातावरण पर भी आपके powerful vibrations का effect आयेगा और अन्य आत्माओं में भी धीरे-धीरे परिवर्तन आ जायेंगा। इसलिए महीनता से अपनी checking करो।

देखो बच्चे, आप बच्चों के परिवर्तन से ही विश्व-परिवर्तन होगा परन्तु विश्व-परिवर्तन अर्थात् विश्व में शान्ति होने से पहले आपके घर में भी तो शान्ति होनी चाहिए ना…!

चाहे आपके परिवार में रहने वाली आत्मायें ज्ञान में ना भी चले, पर वह खुश और शान्त तो रहें…।

जो बच्चे बाप की श्रीमत प्रमाण अपना पुरूषार्थ कर रहे हैं, वह अपनी मंज़िल के समीप है। बस अब उनको थोड़ा और attention रख अपनी मंज़िल पर पहुँचना है, इसलिए ‘एक बल-एक भरोसा’ रख पुरूषार्थ करते रहो। उन्हें बहुत जल्द अपने पुरूषार्थ के powerful results दिखने शुरू हो जायेंगे।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

Peace Of Mind TV
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Reliance # 640 | 
Jio TV |

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 SEPTEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 September 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 28 September 2017 :- Click Here
29/09/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – जब तक जीना है तब तक पढ़ना है, सीखना है, तुम्हारी पढ़ाई है ही पावन दुनिया के लिए, पावन बनने के लिए”
प्रश्नः- बाप किस गुण में बच्चों को आप समान बनाने की शिक्षा देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते बच्चे जैसे मैं निरहंकारी हूँ, ऐसे तुम बच्चे भी मेरे समान निरहंकारी बनो। बाप ही तुम्हें पावन बनने की शिक्षा देते हैं। पावन बनने से ही बाप समान बनेंगे।
प्रश्नः- जब बुद्धि अच्छी बनती है तो कौन से राज़ बुद्धि में स्वत: बैठ जाते हैं?
उत्तर:- मैं आत्मा क्या हूँ, मेरा बाप परमात्मा क्या है, उनका क्या पार्ट है। आत्मा में कैसे अनादि पार्ट भरा हुआ है जो बजाती ही रहती है। यह सब बातें अच्छी बुद्धि वाले ही समझ सकते हैं।
गीत:- धीरज धर मनुआ…

ओम् शान्ति। बेहद का माँ-बाप मिला तो धीरज मिला। किसको? आत्माओं को वा जीव आत्मा बच्चों को? आत्मा एक छोटी सी बिन्दी है। दुनिया में एक भी मनुष्य नहीं जिसकी बुद्धि में हो कि आत्मा एक बिन्दी मिसल स्टार है। तुम जानते हो कि हमारी इतनी छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का, 5 हजार वर्ष का पार्ट है। दूसरी आत्माओं में तो इतना पार्ट भरा हुआ नहीं है। मनुष्यों की बुद्धि कितनी कमजोर हो गई है जो समझती नहीं है। परमात्मा के लिए तो नहीं कहेंगे कि वह 84 जन्म वा 84 लाख जन्म लेते हैं। नहीं। तुम बच्चे जानते हो इतनी छोटी सी आत्मा में 84 जन्मों का अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। उसको कुदरत कहेंगे ना। कितनी छोटी सी बिन्दी आत्मा है, जिसमें सब जन्मों का अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है, वह कभी मिटता नहीं है, मिटने वाला भी नहीं है। कितना भारी वन्डर है। तुम्हारे में भी कोई हैं जो इन बातों को जानते हैं – फिर भूल जाते हैं। यह धारण करना है औरों को समझाने के लिए। बाप परमपिता परमात्मा को करनकरावनहार कहा जाता है, वह भी करते हैं सिखलाने के लिए। उनको निराकार – निरहंकारी कहा जाता है। उनका अर्थ भी कोई समझ न सके। यह गुण बच्चों को ही सिखलाते हैं। बच्चों को भी ऐसा निरहंकारी बनना है। ज्ञान सागर है तो ज्ञान भी सुनाना पड़े ना। पतित-पावन है तो जरूर आकर पतितों को ही शिक्षा देंगे, पावन बनने की। जैसे सन्यासी शिक्षा देते हैं सन्यास करवाने लिए। यह भी 5 विकारों का सन्यास करना है। पतित-पावन ही आकर शिक्षा देंगे। नहीं तो हम पावन कैसे बने। गाया भी जाता है – जब तक जीना है तब तक सीखना है, पढ़ना है। स्कूलों में तो ऐसे नहीं कहा जाता है। उसमें तो इस ही जन्म में पढ़ाई की प्रालब्ध भोगनी है। यहाँ तो कहा जाता है जब तक जीना है तब तक पढ़ना है। अन्त तक कर्मातीत अवस्था को पाना है। आत्मा को योग से ही पवित्र बनाना है। जितना योग में रहेंगे तो तुम्हारी आत्मा गोल्डन एज में जायेगी फिर आइरन एज में न आत्मा को, न शरीर को रहना है। हम पढ़ते ही हैं पावन दुनिया में आने के लिए। यह ऐसी गुह्य बातें हैं जो कोई कब समझा न सकें। और तो मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं। साइंस घमण्डी कैसी-कैसी चीजें बनाते हैं। स्टॉर, मून पर भी जाने का पुरूषार्थ करते हैं। तुम समझते हो इनसे कोई जीवनमुक्ति नहीं मिलती है। करके अल्पकाल क्षण भंगुर सुख मिलता है। एरोप्लेन से सुख भी मिलता है तो दु:ख भी मिलता है। कल एक्सीडेंट हो जाए तो दु:ख होगा। स्टीम्बर डूब जाता है, ट्रेन का एक्सीडेंट हो जाता है। बैठे-बैठे भी मनुष्य हार्टफेल हो जाते हैं। सुखधाम तो है ही अलग। वहाँ सदैव सुख ही सुख है। इस दुनिया में जो भी सुख है वह है ही अल्पकाल काग विष्टा के समान।

तुम बच्चों को अभी बहुत अच्छी बुद्धि मिली है। मैं आत्मा क्या हूँ, मेरा बाप परमात्मा क्या है। उनका पार्ट क्या है, हमारा क्या पार्ट है – सारा बुद्धि में राज़ है। तुम बच्चों में भी सबके 84 जन्म नहीं कहेंगे। सब थोड़ेही सतयुग में इकट्ठे हो जाते हैं इसलिए सबके पूरे 84 जन्म नहीं कहेंगे। चन्द्रवंशी में भी पिछाड़ी तक आते रहते हैं। वृद्धि होती जायेगी। जन्म थोड़े होते जायेंगे। यह विस्तार की बातें हैं। बुढ़ियों को पहले अल्फ बे पक्का कराना है। अल्फ माना बाबा, बे माना बादशाही। यह तो बिल्कुल राइट बात है ना। स्वर्ग की बादशाही थी, भारत सारे विश्व का मालिक था, और कोई का राज्य नहीं था। जो रूद्र की माला बनती है वही फिर विष्णु की माला बन जाती है। यह ज्ञान तुम बच्चों को मिला है। आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है, उनका रूप क्या है, क्या साइज है – यह सब बातें अभी तुम्हारी ही बुद्धि में हैं। कितनी छोटी सी आत्मा है, परमात्मा को भी भक्तिमार्ग में बहुत मेहनत करनी पड़ती है। द्वापर से कलियुग अन्त तक अथवा संगम के अन्त तक कहेंगे, उनका पार्ट चलता है। यह सब तुम जानते हो। तुम कहेंगे यह सब कल्प पहले भी हुआ था। आज से 5 हजार वर्ष पहले भी हुआ था। एक अखबार में रोज़ डालते हैं – 100 वर्ष पहले क्या हुआ, 100 वर्ष की बात तो सहज है। अखबारों से झट निकाल बतायेंगे। वह है टाइम्स आफ इन्डिया अखबार। तुम्हारी अखबार है टाइम्स आफ वर्ल्ड। यह अक्षर बड़ा अच्छा है। रोज़ लिख सकते हो। आज से 5 हजार वर्ष पहले क्या हुआ था। 5 हजार वर्ष पहले जो हुआ था वही अब हुआ। ऐसे-ऐसे लिखने से मनुष्यों को ड्रामा का पता तो पड़ जाये। मैगजीन में भी लिख सकते हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में तो सारा राज़ है। आत्मा और परमात्मा का ज्ञान तो कोई भी मनुष्य में नहीं है। तो वह मनुष्य क्या काम का। तुम जानते हो मनुष्य ही 84 जन्म लेते हैं। पहले-पहले ब्राह्मण वर्ण फिर देवता…. वर्णों में आते हैं। वर्ण तो यहाँ ही हैं। सूक्ष्मवतन में तो वर्णों की बात ही नहीं है। ब्रह्मा को प्रजापिता कहते हैं। विष्णु को प्रजापिता नहीं कहेंगे। ब्रह्मा द्वारा तो एडाप्ट किया जाता है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण के तो बच्चे पैदा होते हैं, जो तख्त पर बैठते हैं। शंकर को भी प्रजापिता नहीं कहेंगे। यह भी जानते हो जैसी-जैसी भावना है वैसे-वैसे साक्षात्कार हो जाता है। बाकी वहाँ कोई सर्प आदि की बात नहीं है। बैल भी वहाँ हो न सके। सूक्ष्मवतन में तो है ही देवता। सूक्ष्मवतन में जाते हो – बगीचा, फल आदि देखते हो। क्या वहाँ बगीचा है? बाबा साक्षात्कार कराते हैं। बाकी है नहीं। बुद्धि कहती है वहाँ सूक्ष्मवतन में झाड़ आदि हो न सके। यह जरूर साक्षात्कार होता है। साक्षात्कार भी यहाँ का करायेंगे। यह सब हैं साक्षात्कार इसको जादूगरी का खेल कहते हैं। यह कोई ज्ञान नहीं है। मनुष्य-मनुष्य को बैरिस्टर बनाते हैं, वह कोई जादू नहीं कहेंगे। वह विद्या देते हैं। यह तुम्हारे को मनुष्य से देवता बनाते हैं नई दुनिया के लिए, इसलिए जादूगरी कहा जाता है। दिव्य दृष्टि की चाबी बाबा के पास होने कारण उनको जादूगर भी कहा जाता है। वह कहते हैं गुरू की कृपा है, मूर्ति से साक्षात्कार हुआ। उससे तो फायदा कुछ भी नहीं। यहाँ तो मेहनत कर स्वयं वह लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम बन रहे हो। यहाँ तुम आये हो सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी डिनायस्टी के रजवाड़े बनने।

पहली मुख्य बात है कोई नया आता है उसको बाप का परिचय दो। ब्रह्म तत्व, महतत्व है। शिवबाबा निराकार को कोई ब्रह्म तत्व नहीं कहेंगे। एक-एक अक्षर का अर्थ है। तुम ईश्वरीय बच्चे हो। ऐसे नहीं कि सब ईश्वर के रूप हैं। यह बाप बैठ समझाते हैं। बाकी साक्षात्कार आदि की तो चिटचैट है, इनकी आश नहीं रहनी चाहिए। समझते हैं अब खुद बाबा आया है, तो साक्षात्कार करा देवे, परन्तु यह सब है फालतू। फिर साक्षात्कार न होने से नाउम्मीद हो पढ़ाई छोड़ देते हैं। साक्षात्कार में प्रिन्स को देखते हैं तो समझते हैं हमको यह बनना है। खुशी हो जाती है। बहुत करके प्रिन्स का ही साक्षात्कार होता है। अगर विचार किया जाए तो मुकुटधारी तो सब बनते हैं। मेल-फीमेल में फर्क नहीं रहता है। सिर्फ फीमेल को लम्बे बाल हैं, थोड़ा शक्ल में फर्क है। आत्मायें कितनी हैं, एक का नाम रूप न मिले दूसरे से। आत्मा में अविनाशी पार्ट है जो कभी बदल नहीं सकता। कैसे वन्डरफुल खेल बना हुआ है। आत्मा को अनादि पार्ट मिला हुआ है। बाबा कितना सहज कर समझाते हैं। सिर्फ त्रिमूर्ति चित्र के सामने जाकर बैठो तो बुद्धि में सारा चक्र आ जायेगा। यह शिवबाबा है, यह ब्रह्मा है, जिससे ब्राह्मण रचते हैं। अभी कलियुग है फिर सतयुग आना है। चित्र सामने खड़ा होने से जैसे कि सारे विश्व का खेल बुद्धि में आ जाता है। कैसे चक्र फिरता है, खेल में कौन-कौन हैं, सब मालूम पड़ जाता है। रोज़ चित्रों को देखते रहो। विचार सागर मंथन करते रहो। यह नर्क है, यह स्वर्ग है, यह संगम है। कितना सहज है। रोज़ प्रैक्टिस करने से बुद्धि में रोशनी आ जायेगी। लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण के लिए भी लिखो। ब्रह्मा द्वारा सतयुग का वर्सा मिलता है। लक्ष्मी-नारायण को यह प्रालब्ध कैसे मिली? जरूर संगमयुग ही होगा, जब ऐसे कर्म किये हैं। अन्तिम जन्म में पुरूषार्थ से उन्होंने यह प्रालब्ध पाई है। ऐसे-ऐसे ख्याल बुद्धि में आना चाहिए। फिर चित्रों की भी दरकार नहीं रहेगी। बुद्धि में सारा राज़ आ जायेगा। इन चित्रों से फिर दिल रूपी कागज पर उतारना है। बाबा सेन्टर्स के बच्चों का मुख खोलने की युक्ति बता रहे हैं। चित्रों को देखते रहो। अन्दर में बोलते रहो। रचना के आदि-मध्य-अन्त का राज़ जानना है। झाड़ में क्लीयर है। तपस्या यहाँ कर रहे हैं राजयोग की। यह मनुष्य से देवता बनते हैं। फिर भक्ति मार्ग कैसे शुरू होता है। जो-जो, जिस-जिस धर्म के हैं, उसमें ही फिर आयेंगे। कितना सहज है। उन पर ही समझाना है। आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है, उनमें अनादि पार्ट नूँधा हुआ है। सतयुग में हम सुख का पार्ट बजायेंगे, इतने जन्म लेंगे। शमशान में भी जाकर किसको समझा सकते हो। जब तक मुर्दा जल जाये तब तक बैठ सतसंग करते हैं। तुमको कोई रोकेगा नहीं। बोलो आओ तुमको हम समझाये। सुनकर बहुत खुश होंगे। बात करने वाले बहुत समझदार, सयाने चाहिए कहाँ भी जाकर तुम समझा सकते हो। समझाते तो बाबा बहुत अच्छी तरह हैं। तुम्हारे कच्छ (बगल) में सच है। मनुष्यों के कच्छ में झूठी गीता है। तुम्हारे बगल में सारे विश्व की हिस्ट्री-जॉग्राफी है। श्रीकृष्ण के चित्र पर भी तुम अच्छी तरह समझा सकते हो। इनको श्याम-सुन्दर क्यों कहते हैं, आओ तो हम आपको कहानी सुनायें। सुनकर बड़े खुश हो जायेंगे। भारत गोल्डन एज था। अब पत्थर एज है। सांवरा हो गया है। काम चिता पर बैठने से काला मुँह हो जाता है। तो ऐसे-ऐसे समझाने से तुम बहुत कमाल कर दिखा सकते हो। तीनों चित्र भल साथ में हो। एक चित्र पर समझाकर फिर दूसरे चित्र पर समझाना चाहिए। बहुत सहज है। सिर्फ पुरूषार्थ की बात है। टाइम तो बहुत है। सवेरे मन्दिरों में चले जाओ। आओ तो हम तुमको लक्ष्मी-नारायण की जीवन कहानी सुनायें। भक्ति मार्ग में यज्ञ, तप, तीर्थ आदि करते-करते तुम एकदम कौड़ी मिसल बन पड़े हो, फिर शास्त्रों ने क्या सहायता की? हम आपको सच बतलाते हैं, सच ही सहायता करते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है। बाकी साक्षात्कार आदि की आश नहीं रखनी है। नाउम्मीद बन पढ़ाई नहीं छोड़नी है।

2) चित्रों को देखते विचार सागर मंथन कर हर बात को दिल में उतारना है। राजयोग की तपस्या करनी है।

वरदान:- संगठन में न्यारे और प्यारे बनने के बैलेन्स द्वारा अचल रहने वाले निर्विघ्न भव 
जैसे बाप बड़े से बड़े परिवार वाला है लेकिन जितना बड़ा परिवार है, उतना ही न्यारा और सर्व का प्यारा है, ऐसे फालो फादर करो। संगठन में रहते सदा निर्विघ्न और सन्तुष्ट रहने के लिए जितनी सेवा उतना ही न्यारा पन हो। कितना भी कोई हिलावे, एक तरफ एक डिस्टर्ब करे, दूसरे तरफ दूसरा। कोई सैलवेशन नहीं मिले, कोई इनसल्ट कर दे, लेकिन संकल्प में भी अचल रहें तब कहेंगे निर्विघ्न आत्मा।
स्लोगन:- देही-अभिमानी स्थिति द्वारा तन-मन की हलचल को समाप्त करने वाले ही अचल अडोल रहते हैं।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 27 September 2017 :- Click Here

Font Resize