Month: August 2017

TODAY MURLI 31 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 30 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 31/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

31/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, if you want to become the masters of heaven, promise the Father that you will become pure and definitely become His helpers, that you will be His worthy child.
Question: Who becomes worthy of going to the land of Vishnu?
Answer: 1) Those who live in the old world and yet do not attach their hearts to it. It remains in their intellects that they must now definitely become pure because they are to go to the new world.
2) It is this study that makes you worthy of going to the land of Vishnu. You study in this birth and receive a status in your next birth from this study.
Song: You are the Mother and Father.

Om shanti. The praise of the unlimited Father is sung because it is the unlimited Father who gives the inheritance of unlimited peace and happiness. On the path of devotion, they call out: Baba, come! Come and give us peace and happiness. The people of Bharat reside in the land of happiness for 21 births; all the rest of the souls stay in the land of peace. Therefore, the Father gives two types of inheritance, that of the land of peace and the other, the land of happiness. At this time, there is no happiness or peace because this world is corrupt. So, surely, the One who takes souls from the land of sorrow to the land of happiness is needed. The Father is also known as the Boatman. He is the One who takes souls from the ocean of poison to the ocean of milk. You children understand that, because time is now coming to an end, the Father will first take us to the land of peace. This is an unlimited play. Who is the highest-on-high Creator, Director and principal Actor in this play? The Highest on High is God. He is known as the Father of all. He is the Creator of heaven and then, when all human beings have become unhappy, He liberates them all. He is also the spiritual Guide. He takes all souls back to the land of peace where they all reside. Souls receive these organs here, through which they are able to speak. This soul, himself, says: When I was in the land of happiness, the body was satopradhan. I, the soul, take 84 births; I complete eight births in the golden age and 12 births in the silver age. I have to claim the first number again. The Father comes and purifies souls. He speaks to souls. When a soul is separate from the body, he is not able to say anything. At night, it is as though the soul separates from the body. The soul says: I have worked through this body and am now tired, so I am going to rest. The soul and body are two distinct things. This body has now become old. This is the impure world. When Bharat was new, it was called heaven; it has now become hell. Everyone is unhappy. The Father comes and says: Through these daughters you will find the gates to heaven. The Father gives instructions: Become pure and become the masters of heaven. By becoming impure you have become the masters of hell. Donations of the five vices are made here. The soul says: Baba, You make us into the masters of heaven. I promise that I will become pure and definitely become Your helper. The obedient children of the Father are said to be worthy. Unworthy children cannot receive the inheritance. The Father sits here and explains this. Incorporeal God has incorporeal souls as His children. Then, when they become the children of Prajapita Brahma, they become brothers and sisters. This is God’s home; there is no other relationship here. Even though you see your friends and relations etc. at your home, it is in your intellect that you belong to BapDada. That Father and this Dada are sitting here. Here, the soul experiences punishment in the jail of a womb. There is no jail in the golden age. There is no sin there because there is no Ravan there, and this is why a womb there is called a palace. They show Krishna floating on a pepal leaf. There, the womb is like an ocean of milk. In the golden age, there is no jail of a womb or any other kind of jail. For half the cycle it is the new world where there is happiness. A building is new to begin with and then it becomes old. In the same way, the golden age is the new world and the iron age is the old world. After the iron age, it will definitely become the golden age. This cycle continues to repeat. This cycle is unlimited and the Father alone is explaining the knowledge of it. The Father alone is knowledge- full. Even this one’s soul was not able to explain. This one was pure at first, and then, having taken 84 births, he has become impure. You souls were also pure and then you became impure. The Father says: I am the Traveller who comes to the impure world because impure ones call out: Come and make us pure. I have to leave My paramdham (supreme abode) and come into this impure world and into an impure body. There aren’t any pure bodies here. You know that those who perform good deeds take birth in a good family and that those who perform bad deeds take birth in a bad family. You are now becoming pure. You will first take birth in the clan of Vishnu. You are changing from humans into deities. No one knows who established the original eternal deity religion because they have said in the scriptures that there are hundreds of thousands of years in a cycle, which really lasts for 5000 years. This same Bharat was heaven; it has now become hell. Now, only those who become Brahmins through the Father will become deities. They will be able to see the gates of heaven. The very name of heaven is so nice! When deities fall onto the path of sin, they become worshippers. Who built the Somnath Temple? This Somnath Temple is the largest. Those who were the wealthiest must have had it built. They were those who had been the emperor and empress, Lakshmi and Narayan in the golden age. When they become worshippers from being worthy of worship, they build a temple to Shiv Baba who made them into the masters of the world. How wealthy they must have been in order to create such a huge temple which was looted by Mahmud Guznavi! The biggest temple is to Shiv Baba. He is the Creator of heaven. He Himself does not become the master of heaven. The service that the Father does is called altruistic service. He makes you children into the masters of heaven, but He does not become that Himself. He goes and sits in the land of nirvana, just as people go into retirement after 60 years of age. They hold satsangs etc; they try to meet God. However, no one is able to meet Me. Only the one Baba is the Liberator and the Guide for everyone. All the rest are those who take people on physical pilgrimages. They go on many types of pilgrimage. This is the spiritual pilgrimage. The Father takes all souls to His land of peace. The Father is now making you children worthy of going to the land of Vishnu. The Father comes in order to serve you. He says: Do not attach your hearts to anyone in this old world. You now have to go to the new world. All of you souls are brothers ; both males and females are included in this. We were pure in the golden age; that is called the pure world. Here, they have to operate in order to deliver five or seven children at the same time. There is a law in the golden age: when it is the right time, both (parents) receive a vision that they are going to have a child. That is known as the power of yoga. Children take birth at their accurate time; there is no difficulty at all; there is no sound of crying. Nowadays, children take birth with such difficulty. This is the land of sorrow, whereas the golden age is the land of happiness. You are now studying to become the masters of the land of happiness. The fruit of a worldly study is received in this birth. You will receive the fruit of this study in your next birth. The Father says: I make you into the masters of heaven, the ones who are called gods and goddesses: goddess Lakshmi and god Narayan. Who made them like that in the golden age since there was nothing at the end of the iron age? Look, Bharat has become so poverty-stricken! I come in order to grant salvation to all. In the golden and silver ages, you remain constantly happy. The Father gives so much happiness that you remember Him later even on the path of devotion. When a child dies, people say: O God, You have killed our child! The Father says: Since you say that everything is given by God, why do you cry when He takes him away? Why do you have so much attachment? There is no attachment in the golden age. There, when it is time to leave the body, the soul leaves the body at the right time. A wife never becomes a widow there. When the time is over, when they become old, they understand that they then have to go and become children again, and so they discard their bodies. There is an example of the snake. You now understand that this iron-aged body is a very old skin. The soul is impure and the body is also impure. Now have yoga with the Father and become pure. This is the ancient Raja Yoga of Bharat. Sannyasis do hatha yoga. Shiv Baba says: I open the gates of heaven through these mothers. No one can receive salvation without the Mother guru. The Father comes and grants salvation to everyone. He also teaches you, and you become master bestowers of salvation. You tell everyone that death is standing ahead. Remember the Father. Everything is going to be destroyed. Those who invent bombs, etc. accept that destruction will take place through those, but they don’t know who is inspiring them. They understand that, just by dropping one bomb, everything will be destroyed. Very little time now remains for you to change from thorns into flowers. This is the world of thorns. Bharat used to be the world of flowers; it has now become a brothel. Later it will become the Shiva Temple, that is, it will become the heaven established by Shiva. Only the one Incorporeal One is God. Human beings can never be called God. Only the one Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. God speaks: I change you from an ordinary man into Narayan. This old, impure world is about to be destroyed. I change you from impure human beings into pure deities and you then return to your home. You have to understand this drama. Just look how much anger human beings have at this time; they are worse than monkeys! When they become angry, how they kill everyone with bombs ! Now, who could file a case against them? At the end, a t ribunal will sit for them and all their karmic accounts will be settled. All of these aspects have to be understood. The Father says: O souls, I, your Father, have come. Follow My shrimat and you will become the masters of the most elevated heaven.

[wp_ad_camp_5]

 

Human beings here become guides for human beings. The Father becomes the Guide for all souls. Souls say: Oh Purifier! The Father is now making us into pure charitable souls. The spiritual Father does not exist in the golden age. There, there is only the reward. This is a university. No one except the Father can teach Raja Yoga. The Father says: I come and take the loan of this body; a soul can enter another body. This is fixed in the drama it takes 5000 years for the drama cycle to turn. They say that God is in each leaf, that each leaf moves because it has a soul in it. However, that is not so; it moves with the breeze. You are sitting here and you will sit in the same way again after 5000 years. Take your inheritance from the Father now, otherwise you will never be able to claim your inheritance. Only at this time are you able to earn the most elevated income. You cannot earn such a high income throughout the rest of the cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Very little time remains; that is why you have to change from thorns into flowers, make everyone into flowers and show them the path to the land of peace and the land of happiness.
  2. In order to go into the clan of Vishnu, perform good deeds. Definitely become pure. Remain constantly engaged on this spiritual pilgrimage and inspire others to do the same.
Blessing: May you be an accurate server who makes plans for service with a plain intellect.
An accurate server is one who does service of the self and service of all others at the same time. Let service of the self be merged in the service of all others. Let it not be that you serve others and become careless in serving yourself. In service, let service and yoga be simultaneous. For this, make plans for service with a plain intellect. A plain intellect means that nothing should touch your intellect except the consciousness of being an instrument and you have humility. Let there not be limited name and fame, but be humble. This is the seed of good wishes and pure feelings.
Slogan: Together with donating knowledge, also donate virtues and you will continue to be successful.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 AUGUST 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 August 2017
September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 30 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 31/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

31/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – स्वर्ग का मालिक बनना है तो बाप से प्रतिज्ञा करो कि हम पवित्र बन, आपके मददगार जरूर बनेंगे। सपूत बच्चा बनकर दिखायेंगे”
प्रश्नः- किन्हों का हिसाब-किताब चुक्तू कराने के लिए पिछाड़ी में ट्रिब्युनल बैठती है?
उत्तर:- जो क्रोध में आकर बाम्ब्स से इतनों का मौत कर देते हैं, उन पर केस कौन करे! इसलिए पिछाड़ी में उनके लिए ट्रिब्युनल बैठती है। सब अपना-अपना हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस जाते हैं।
प्रश्नः- विष्णुपुरी में जाने के लायक कौन बनते हैं?
उत्तर:- जो इस पुरानी दुनिया में रहते भी इससे अपनी दिल नहीं लगाते, बुद्धि में रहता अब हमें नई दुनिया में जाना है इसलिए पवित्र जरूर बनना है। 2- पढ़ाई ही विष्णुपुरी में जाने के लायक बनाती है। तुम पढ़ते इस जन्म में हो। पढ़ाई का पद दूसरे जन्म में मिलता है।
गीत:- तुम्हीं हो माता…

ओम् शान्ति। महिमा गाते हैं बेहद के बाप की क्योंकि बेहद का बाप बेहद की शान्ति और सुख का वर्सा देते हैं। भक्ति मार्ग में पुकारते भी हैं बाबा आओ, आकर हमें सुख और शान्ति दो। भारतवासी 21 जन्म सुखधाम में रहते हैं। बाकी जो आत्मायें हैं, वह शान्तिधाम में रहती हैं। तो बाप के दो वर्से हैं सुखधाम और शान्तिधाम। इस समय न शान्ति है, न सुख है क्योंकि भ्रष्टाचारी दुनिया है। तो जरूर कोई दु:खधाम से सुखधाम में ले जाने वाला चाहिए। बाप को खिवैया भी कहते हैं। विषय सागर से क्षीरसागर में ले जाने वाला है। बच्चे जानते हैं बाप ही पहले शान्तिधाम में ले जायेंगे क्योंकि अब टाइम पूरा होता है। यह बेहद का खेल है। इसमें ऊंच ते ऊंच मुख्य क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर कौन हैं? ऊंच ते ऊंच है भगवान। उनको सबका बाप कहा जाता है। वह स्वर्ग का रचयिता है फिर जब मनुष्य दु:खी होते हैं तो लिबरेट भी करते हैं। रूहानी पण्डा भी है। सभी आत्माओं को शान्तिधाम में ले जाते हैं। वहाँ सब आत्मायें रहती हैं। यह आरगन्स यहाँ मिलते हैं, जिससे आत्मा बोलती है। आत्मा खुद भी कहती है जब मैं सुखधाम में थी तो शरीर सतोप्रधान था। मैं आत्मा 84 जन्म भोगती हूँ। सतयुग में 8 जन्म, त्रेता में 12 जन्म पूरे हुए फिर फर्स्ट नम्बर में जाना है। बाप ही आकर पावन बनाते हैं। आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा शरीर से अलग है तो कुछ बात नहीं कर सकती। जैसे रात में शरीर से अलग हो जाती है। आत्मा कहती है मैं इस शरीर से काम कर थक गया हूँ, अब विश्राम करता हूँ। आत्मा और शरीर दोनों अलग चीज़ हैं। यह शरीर अब पुराना है। यह है ही पतित दुनिया। भारत नया था तो इसको स्वर्ग कहा जाता था। अभी नर्क है। सब दु:खी हैं। बाप आकर कहते हैं इन बच्चियों द्वारा तुमको स्वर्ग का द्वार मिलेगा। बाप शिक्षा देते हैं पावन बन स्वर्ग का मालिक बनो। पतित बनने से तुम नर्क के मालिक बन पड़े हो। यहाँ 5 विकारों का दान लिया जाता है। आत्मा कहती है बाबा आप हमको स्वर्ग का मालिक बनाते हो। हम प्रतिज्ञा करते हैं हम पवित्र बन आपके मददगार जरूर बनेंगे। बाप का बच्चा जो ओबीडियन्ट रहते हैं उन्हें सपूत कहा जाता है। कपूत को वर्सा मिल न सके। यह बाप बैठ समझाते हैं निराकार भगवान की निराकारी आत्मायें बच्चे हैं। फिर प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान बनते हैं तो बहन-भाई हो जाते हैं। यह जैसे ईश्वरीय घर है और कोई सम्बन्ध नहीं। भल घर में मित्र-सम्बन्धी आदि को देखते हैं परन्तु बुद्धि में है हम बापदादा के बने हैं। वह बाप यह दादा बैठे हैं। यहाँ गर्भ जेल में तो सजायें खाते हैं। सतयुग में जेल होता नहीं। वहाँ पाप ही नहीं होता क्योंकि वहाँ रावण ही नहीं इसलिए वहाँ गर्भ महल कहा जाता है। जैसे पीपल के पत्ते पर कृष्ण को दिखाते हैं। वह भी गर्भ जैसे क्षीरसागर है। सतयुग में न गर्भजेल होता, न वह जेल होता। आधाकल्प है नई दुनिया। वहाँ सुख है, जैसे मकान पहले नया होता है फिर पुराना होता है। वैसे सतयुग है नई दुनिया, कलियुग है पुरानी दुनिया। कलियुग से फिर सतयुग जरूर बनना है। चक्र रिपीट होता रहता है। यह बेहद का चक्र है, जिसकी नॉलेज बाप ही समझाते हैं। बाप ही नॉलेजफुल है। इनकी आत्मा भी नहीं समझा सकती। यह पहले पावन थे फिर 84 जन्म ले पतित बने हैं। तुम्हारी आत्मा भी पावन थी फिर पतित बनी है।

बाप कहते हैं मैं इस पतित दुनिया का मुसाफिर हूँ क्योंकि पतित बुलाते हैं कि आकर पावन बनाओ। मुझे अपना परमधाम छोड़ पतित दुनिया, पतित शरीर में आना पड़ता है। यहाँ तो पावन शरीर है नहीं। यह तो जानते हो जो अच्छे कर्म करते हैं, वह अच्छे कुल में जन्म लेते हैं। बुरे कर्म करने वाले बुरे कुल में जन्म लेते हैं। अब तुम पवित्र बन रहे हो। पहले-पहले तुम विष्णु कुल में जन्म लेंगे। तुम मनुष्य से देवता बनते हो। आदि सनातन धर्म किसने स्थापन किया, यह कोई भी नहीं जानता क्योंकि शास्त्रों में 5 हजार वर्ष के चक्र को लाखों वर्ष दे दिया है। यही भारत स्वर्ग था। अब तो नर्क है। अब जो बाप द्वारा ब्राह्मण बनेंगे वही देवता बनेंगे। स्वर्ग का द्वार देख सकेंगे। स्वर्ग का नाम ही कितना अच्छा है। देवी-देवता वाम मार्ग में आते हैं तब पुजारी बनते हैं। सोमनाथ का मन्दिर किसने बनाया? सबसे बड़ा है यह सोमनाथ का मन्दिर। जो सबसे साहूकार था, उसने ही बनाया होगा। जो सतयुग में पहले महाराजा महारानी, लक्ष्मी-नारायण थे। वही जब पूज्य से पुजारी बनते हैं तो शिवबाबा जिसने विश्व का मालिक बनाया है, उनका मन्दिर बनाते हैं। खुद कितना साहूकार होंगे तब तो इतना मन्दिर बनाया, जिसको मुहम्मद गजनवी ने लूटा। सबसे बड़ा मन्दिर है शिवबाबा का। वह है स्वर्ग का रचयिता। खुद मालिक नहीं बनते हैं। बाप जो सेवा करते हैं, उसको निष्काम सेवा कहा जाता है। बच्चों को स्वर्ग का मालिक बनाते खुद नहीं बनते। खुद निर्वाणधाम में बैठ जाते हैं। जैसे मनुष्य 60 वर्ष के बाद वानप्रस्थ में जाते हैं। सतसंग आदि करते रहते हैं। कोशिश करते हैं हम भगवान से जाकर मिलें। परन्तु कोई मेरे से मिलते नहीं हैं। सबका लिबरेटर, गाइड एक ही बाबा है। और सभी हैं जिस्मानी यात्रा कराने वाले। अनेक प्रकार की यात्रा करते हैं। यह है रूहानी यात्रा। बाप सभी आत्माओं को अपने शान्तिधाम में ले जाते हैं। अभी तुम बच्चों को बाप विष्णुपुरी में ले जाने के लायक बना रहे हैं। बाप आते ही हैं सेवा करने। बाप कहते हैं इस पुरानी दुनिया में कोई से दिल नहीं लगाओ। अब जाना है नई दुनिया में। तुम आत्मायें सब ब्रदर्स हो। इसमें मेल भी हैं, फीमेल भी हैं। सतयुग में तुम पवित्र रहते थे, उसको कहा ही जाता है पवित्र दुनिया। यहाँ तो 5-7 बच्चे पेट चीरकर भी निकालते हैं। सतयुग में लॉ बना हुआ है, जब समय होता है तो दोनों को साक्षात्कार हो जाता है कि अब बच्चा होने वाला है। उसको कहा जाता है योगबल, पूरे टाइम पर बच्चा पैदा हो जाता है। कोई तकलीफ नहीं, रोने की आवाज नहीं। आजकल तो कितनी तकलीफ से बच्चा पैदा होता है। यह है ही दु:खधाम। सतयुग है ही सुखधाम। तुम पढ़ाई पढ़ रहे हो – सुखधाम का मालिक बनने। उस पढ़ाई का फल तो इसी जन्म में भोगते हैं। तुम इस पढ़ाई का फल दूसरे जन्म में पाते हो।

[wp_ad_camp_5]

 

बाप कहते हैं, मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ, जिनको भगवान भगवती कहते हैं। लक्ष्मी भगवती, नारायण भगवान। सतयुग में उन्हों को किसने बनाया? जबकि कलियुग अन्त में कुछ नहीं है। भारत देखो कितना कंगाल है। मैं ही सबको सद्गति देने आता हूँ। सतयुग त्रेता में तुम सदा सुखी रहते हो। बाप इतना सुख देते हैं जो भक्ति मार्ग में भी फिर उनको याद करते हैं। बच्चा मर जायेगा तो भी कहेंगे हे भगवान हमारा बच्चा मार डाला। बाप कहते हैं जबकि तुम कहते हो सब कुछ ईश्वर ने ही दिया है, उसने ही लिया फिर रोते क्यों हो? मोह क्यों रखते हो? सतयुग में मोह होता ही नहीं है। वहाँ जब शरीर छोड़ने का टाइम होता है तो टाइम पर छोड़ते हैं। स्त्री कब विधवा नहीं बनती। जब टाइम पूरा होता है – बूढ़े होते हैं तो समझते हैं अब जाकर बच्चा बनेंगे। तो शरीर छोड़ देते हैं। सर्प का मिसाल। अब तुम जानते हो यह कलियुगी शरीर बहुत पुरानी खाल है। आत्मा भी पतित है तो शरीर भी पतित है। अब बाप से योग लगाए पावन बनना है। यह है भारत का प्राचीन राजयोग। सन्यासियों का तो हठयोग है। शिवबाबा कहते हैं – मैं इन माताओं द्वारा स्वर्ग का द्वार खोलता हूँ। माता गुरू बिगर किसका उद्धार नहीं हो सकता है। बाप ही आकर सबकी सद्गति करते हैं, तुमको भी सिखलाते हैं फिर तुम मास्टर सद्गति दाता बन जाते हो। सबको कहते हो मौत सामने खड़ा है, बाप को याद करो। सब खत्म हो जाना है। बाम्ब्स आदि बनाने वाले खुद भी मानते हैं कि इससे विनाश होना है, परन्तु हमें कौन प्रेरता है पता नहीं। समझते हैं एक बम फेंकने से सब खत्म हो जायेंगे। बाकी थोड़ा समय है जब तक तुम कांटों से फूल बन जाओ। यह है ही कांटों की दुनिया। भारत ही फूलों की दुनिया थी। अब है वेश्यालय, फिर होगा शिवालय अर्थात् शिव द्वारा स्थापन किया हुआ स्वर्ग। भगवान तो एक ही निराकार है। मनुष्य को कभी भगवान नहीं कह सकते। दु:ख हर्ता सुख कर्ता एक ही बाप है। भगवानुवाच मैं तुमको नर से नारायण बनाता हूँ। यह पुरानी पतित दुनिया अब खत्म होनी है। मैं पतित से पावन देवता बनाता हूँ, फिर तुम चले जायेंगे अपने घर। ड्रामा को समझना है। इस समय देखो मनुष्यों में क्रोध कितना है। बन्दर से भी बदतर हैं। क्रोध आता है तो कैसे बाम्ब्स से सबको मार डालते हैं। अब इन पर कौन केस करेगा! इनके लिए फिर पिछाड़ी में ट्रिब्युनल बैठती है। सबका हिसाब-किताब चुक्तू कर देते हैं। यह सब समझने की बातें हैं। बाप कहते हैं हे आत्मायें मैं तुम्हारा बाप आया हुआ हूँ। आप मेरी श्रीमत पर चलो तो श्रेष्ठ स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। वह मनुष्य तो मनुष्यों के गाइड बनते हैं। बाप गाइड बनते हैं सर्व आत्माओं के। आत्मा ही कहती है हे पतित-पावन। अब बाप हमको पुण्य आत्मा बना रहे हैं। स्वर्ग में रूहानी बाप होता नहीं। वहाँ तो है ही प्रालब्ध। यह युनिवर्सिटी है – राजयोग बाप के सिवाए कोई सिखला नहीं सकते। बाप कहते हैं मैं इस शरीर का लोन लेकर आता हूँ। आत्मा तो दूसरे शरीर में आ सकती है ना। यह ड्रामा की नूँध है। इनको फिरने में 5 हजार वर्ष लगता है। कहते हैं पत्ते-पत्ते में ईश्वर है। पत्ता हिलता है, इनमें आत्मा है। लेकिन नहीं। यह हवा से हिलता है। तुम जैसे यहाँ बैठे हो फिर 5 हजार वर्ष बाद बैठेंगे। अब बाप से वर्सा लिया सो लिया। नहीं तो फिर कभी ले नहीं सकेंगे। इस समय ही ऊंची कमाई कर सकते हो। फिर सारे कल्प में ऐसी ऊंची कमाई हो नहीं सकती। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) समय बहुत थोड़ा है इसलिए कांटे से फूल बन सबको फूल बनाना है। शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताना है।

2) वैष्णव कुल में जाने के लिए अच्छे कर्म करने हैं। पावन जरूर बनना है। सदा रूहानी यात्रा करनी और करानी है।

वरदान:- प्लेन बुद्धि बन सेवा के प्लैन बनाने वाले यथार्थ सेवाधारी भव 
यथार्थ सेवाधारी उन्हें कहा जाता है जो स्व की और सर्व की सेवा साथ-साथ करते हैं। स्व की सेवा में सर्व की सेवा समाई हुई हो। ऐसे नहीं दूसरों की सेवा करो और अपनी सेवा में अलबेले हो जाओ। सेवा में सेवा और योग दोनों ही साथ-साथ हो, इसके लिए प्लेन बुद्धि बनकर सेवा के प्लैन बनाओ। प्लेन बुद्धि अर्थात् कोई भी बात बुद्धि को टच नहीं करे, सिवाए निमित्त और निर्माण भाव के। हद का नाम, हद का मान नहीं लेकिन निर्मान। यही शुभ भावना और शुभ कामना का बीज है।
स्लोगन:- ज्ञान दान के साथ-साथ गुणदान करो तो सफलता मिलती रहेगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 29 August 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 30 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 27 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 30/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

 

30/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s orders are: Become soul conscious. Become pure and enable everyone else to become pure. Have faith in the intellect and claim your full inheritance from the Father.
Question: At the end, when leaving their bodies, who will have to cry in distress?
Answer: Those who don’t die alive and make full effort and don’t claim their full inheritance will have to cry in distress at the end.
Question: Why are there so many types of fighting and quarrelling and partition etc. at this time?
Answer: They have all forgotten their real Father and have become orphans. They have forgotten the Mother and Father from whom they received so much happiness and have said that He is omnipresent, and this is why they continue to fight and quarrel among themselves.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Who said this? Om shanti. The soul said it through the physical organ of the body. The soul is imperishable and the body is perishable. The soul sheds a body and takes another. The maximum number of births that a soul takes is 84. This is called the cycle of 84 births. Not everyone takes 84 births; no. People don’t know these things. You heard in the song: Salutations to Shiva. The Highest on High is the Supreme Soul, Shiva. He is the Resident of the incorporeal world where all of us souls also reside. Below that is the subtle region. You heard the praise of God, the Highest on High: Salutations to Shiva. You are the Mother, the Father, the Friend and the Support. This is His praise. They then say: Salutations to the deity Brahma. That One is the Creator and this one is a creation. Then there is this human world. Only in this human world do you become pure and impure. People are pure in the golden age and impure in the iron age. There used to be deities in Bharat 5000 years ago. All of them were human beings, but they were full of all virtues, sixteen celestial degrees full. This is their praise. There is no violence there. They don’t indulge in vice there. They are said to be completely viceless. Vicious people sing their praise: You are full of all virtues whereas we are degraded sinners. They remember God, but no one knows Him and so they are all orphans. People sing: You are the Mother and Father from whom we receive plenty of happiness. Then, when Ravan’s kingdom begins, all human beings forget the Father and become impure orphans. They continue to fight among themselves. Everywhere you look; there is nothing but fighting and quarrelling. There are so many partitions. In heaven, there was just the one kingdom of Lakshmi and Narayan. The people of Bharat were the masters of the whole world. Now, it is all divided into pieces. That ocean is yours and this one is ours. That land is yours and this is ours. Punjab, UP., Rajasthan, etc. – they have all become separated. There is so much fighting even over language because they don’t know the Mother and Father from beyond this world. When Bharat was heaven, none of these things existed. It is now to become heaven again. The Father sits here and explains how this world cycle turns. The unlimited Father tells you children: You have become so senseless! You say: O Supreme Father, Supreme Soul. However, you don’t even know His biography. The Father is the Purifier, the Bestower of Salvation. You know that those people say that God is omnipresent. How can you receive the inheritance by calling Him omnipresent? The Father who can give the inheritance is definitely needed. When you ask children where their physical father is, would they say that he is omnipresent? The unlimited Father is the Creator. All devotees call out to Him: O Purifier, Shiv Baba, come and make us impure ones pure. Come and make us pure once again just like the people in heaven were. We are very unhappy. All human beings begin to become impure at the time Ravan’s kingdom begins. They continue to stumble from door to door. They believe that God is in everyone. They have idols made of stone and they think that God is in them too. Oh! but how could God be in stone? He resides in the supreme abode. They make so many images and then, when those images become old, they throw them away. That is the worship of dolls. They say: O Baba, grant us salvation. The Bestower of Salvation for all is only the one Purifier, Shiv Baba alone. All human beings have forgotten who God really is. Yet everyone remembers Him. He is the Husband of all husbands and the Father of all fathers. The Father says: Children, now become pure! You souls have now become impure; alloy is mixed in you. By alloy being mixed into real gold, the value of the gold is reduced. So, this world is also tamopradhan. When you were first in the golden age you were completely viceless. Then silver alloy was mixed in, and then copper and then you came into the iron age. Souls continue to become impure. They have now become completely iron aged. The same Bharat that was satopradhan has now become tamopradhan. Those who existed at the beginning are the ones who definitely have to take 84 births. Christians come later; they cannot take 84 births. At the most, they would take 35 to 40 births. The lifespan of the world is now coming to an end and it will then become new again. There is happiness in the new world and sorrow in the old world. An old building is demolished. Everyone in the old world is unhappy. It is only the Father who makes everyone happy. All the souls in the golden age were happy. All the rest of the souls were in the land of peace. That is called the silence world. There is the silence world and then the subtle world. There are no bodies there, so how could a soul make any sound? Now, all souls are tamopradhan and that is why this is called the iron age. At first, you were in the golden age and the Father has now come once again to take you to the golden age. He changes human beings into deities. In the golden age both men and women remain pure. That is called the kingdom of Rama. It is now the kingdom of Ravan. They continue to use the sword of lust on one another and continue to make one another unhappy. God says: Children, lust is a great enemy. It is this that has caused you unhappiness. You children have continued to fall. Now, no degrees remain. The Father has now come to make you sixteen celestial degrees full again. Here, you don’t have to leave your home and family as sannyasis do. In order to go to the pure world, you definitely do have to become pure in this last birth. Those who become pure through the Father will become the masters of the pure world. You children have come here to the Father. This is the Head Office where everyone comes. The Father from beyond this world says to souls: Children, now become soul conscious! Souls also say: Yes, Baba. We will definitely obey Your orders. We will become pure. This is shrimat. It is by following shrimat that you are to become elevated. You have become corrupt by following the dictates of Ravan. Therefore, the soul says through this body: O Baba, I now belong to You. The Father says: I have to come to grant you all salvation, in order to make you into charitable souls from sinful souls. Therefore, you definitely do have to become pure. Only when you first become pure and become Brahma Kumars and Kumaris can you then claim the inheritance of the happiness of heaven from Shiv Baba. You have come once again to claim your inheritance from the Father. You belonged to the deity religion and have taken 84 births. Those deities don’t exist now. The deities who became impure will come and become pure. Those who came later (after the copper age) cannot go to heaven. Those of the deity religion who have taken the full 84 births are to become deities once again. Baba says: I come and make you into deities through Brahma. You cannot become deities without becoming pure. Only those who come and become Brahma Kumars and Kumaris will understand these things. Prajapita (Father of Humanity) has been remembered. There are the World Father and World Mother of the human world. How would they have so many children? You are now the mouth-born creation. All of you say: Mama, Baba. How did you become the children? Shiv Baba made you belong to Him through Brahma. You remember Shiv Baba in order to claim your inheritance of heaven from Him. Therefore, all Brahma Kumars and Kumaris are brothers and sisters. This is a tactic. Baba says: You may live at home with your family, but become as pure as a lotus flower. Demonstrate this. There is no question of leaving your home and family. Look after your creation. Simply remain pure and you will become like those deities once again. Establishment of the deity religion definitely has to take place. The Father sits here and personally explains to you children. This Madhuban is the Head Office. So many centres continue to open. Those who became Brahma Kumars and Kumaris in the previous cycle will become Brahmins and then deities, warriors, merchants and shudras. You now have to become Brahmins once again. There is the topknot of Brahmins. You have to pass through these clans. The Father says: You were deities. You have now become Brahmins from shudras in order to become deities once again. You become pure. It is said: A kumari is one who uplifts 21 generations. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. There has to be both kumars and kumaris. You show everyone the way to constant happiness for 21 generations. Come to our land of happiness. This is the land of sorrow. You now have to remember the Father. The Father says: Become pure and constantly remember Me alone. Don’t remember any bodily beings. The Father sits here and gives you children plenty of happiness. There is so much sorrow now. It is only when people are in sorrow that they remember God. The Father takes you to heaven, so why would you remember Him there? They say: O God! O Stick for the Blind! However, they don’t know anything. They would even go in front of Lakshmi and Narayan and say: You are the mother and father. However, they are the masters of heaven; they cannot be the mother and father of everyone. Krishna was from one kingdom and Radhe was from another kingdom and then they became engaged. Their names changed after their marriage; they became Lakshmi and Narayan, the dual form of Vishnu. At Deepmala (Festival of Lights), they invoke Mahalakshmi. That is the form of a couple. You have now come off the pyre of lust and are sitting on the pyre of knowledge. You are true Brahmins. You inspire them to make a promise of purity. The unlimited Father says: Become pure and you will become the masters of the pure world. You can remember Him even while sitting at home. Baba says: All of you have to come home to Me. Everyone has to die. This is the same Mahabharat War. There is that war with the Yavanas. There is no war etc. in the golden age. The Father says: You have to conquer this Ravan. It is not a question of any other war. The Mahabharat War will also take place and only a few will be saved. Bharat is the imperishable land. All the rest of the lands will be destroyed. The Father will take everyone back home. The Father grants everyone salvation. He takes all souls back home with Him. You are now claiming your inheritance from the Father. Sannyasis cannot give this. They are not the creators of heaven. Heaven is now being established. All the human beings of hell will be destroyed. Everyone has to die, so why not claim your inheritance while you are alive? Otherwise, you will cry in distress. People will awaken from the impure sleep of Kumbhakarna at the end. You now have the knowledge of the whole cycle in your intellects. You were worthy of worship and have become worshippers and you will then become worthy of worship again. There were pure kings and also impure kings. Now, there are no kings; it is now government of the people by the people. The world has to go around the cycle again. You have to go to the golden age.

[wp_ad_camp_5]

 

Shiv Baba says through the mouth of this one: You are My children. You also say: Baba, we are Your children. You are the mouth-born creation. You are God’s family. God speaks: Remember the one Father. All of us souls will go to the sweet homewhere Baba resides. Then Baba will send us to sweet heaven. There is peace and happiness there. You have come here to claim your inheritance of purity, happiness and peace. This study is for 21 births. You are not studying for here. This is the land of death. You are becoming immortal by listening to the story of immortality from the Lord of Immortality. Those who come and understand the Father will make a promise of purity. They will then come and claim their inheritance. Many will continue to become Brahma Kumars and Kumaris. Day by day, centres will continue to open. Shudras will continue to become Brahmins. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim your inheritance of heaven from the Father, while living at home with your family, look after your creation and become as pure as a lotus.
  2. Show everyone the way to become happy for 21 generations. Sit on the pyre of knowledge and change from shudras to Brahmins and then to deities.
Blessing: May you be a world transformer who does unlimited service through the power of your powerful mind and good wishes.
Souls who have a subtle and powerful stage, those who are able to transform many other souls with their attitude and elevated thoughts, are required for world transformation. Unlimited service takes place through the power of a powerful mind, good wishes and pure feelings. So, do not have loving feelings just for yourself, but also transform others with your good wishes and pure feelings. Only souls who maintain a balance are able to do unlimited service and service of the world. So, with the balance of loving feelings and knowledge and love and yoga, become world transformers.
Slogan: Put thehand of your intellect in BapDada’s hand and you will not fluctuate in the ocean of tests.

*** Om Shanti ***

 

[wp_ad_camp_5]

Brahma kumaris murli 30 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 August 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 29 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 30/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

30/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप का फरमान है देही-अभिमानी बनो, पवित्र बनकर सबको पवित्र बनाओ, निश्चयबुद्धि बन बाप से पूरा वर्सा लो”
प्रश्नः- अन्त में शरीर छोड़ने समय हाय-हाय किन्हों को करनी पड़ती है?
उत्तर:- जो जीते जी मरकर पूरा पुरूषार्थ नहीं करते हैं, पूरा वर्सा नहीं लेते हैं, उन्हें ही अन्त में हाय-हाय करनी पड़ती है।
प्रश्नः- इस समय अनेक प्रकार के लड़ाई-झगड़े वा पार्टीशन आदि क्यों हैं?
उत्तर:- क्योंकि सब अपने असली पिता को भूल आरफन, निधनके बन गये हैं। जिस मात-पिता से घनेरे सुख मिले थे, उसे भूल सर्वव्यापी कह दिया है, इसलिए आपस में लड़ते-झगड़ते रहते हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए….

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? ओम् शान्ति। आत्मा ने इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा कहा। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। आत्मा सबसे जास्ती 84 जन्म लेती है। इनको कहा ही जाता है 84 जन्मों का पा। ऐसे नहीं सभी 84 जन्म लेते हैं। नहीं, मनुष्य तो इन बातों को नहीं जानते हैं। गीत में भी सुना शिवाए नम:, ऊंच ते ऊंच है शिव परमात्मा। वह है निराकारी दुनिया का रहने वाला, जहाँ सब आत्मायें रहती हैं। उनसे नीचे सूक्ष्मवतनवासी। ऊंचे ते ऊंचे भगवान की महिमा सुनी शिवाए नम:। तुम मात-पिता, बन्धु सहायक, यह उनकी महिमा है। फिर कहेंगे-ब्रह्मा देवताए नम:… वह रचयिता, वह रचना। फिर है यह मनुष्य सृष्टि। इस मनुष्य सृष्टि में ही पावन और पतित बनते हैं। सतयुग में पावन, कलियुग में पतित हैं। भारत में आज से 5 हजार वर्ष पहले देवी-देवता थे। वह सब थे मनुष्य, परन्तु सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण थे। यह है उन्हों की महिमा। वहाँ हिंसा होती नहीं। विकार में जाते नहीं। उन्हों को कहते हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। विकारी मनुष्य उन्हों की महिमा गाते हैं। आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नीच पापी हैं। परमात्मा को भी याद करते हैं परन्तु उनको कोई जानते नहीं हैं इसलिए आरफन ठहरे। गाते भी हैं – तुम मात-पिता… जिससे सुख घनेरे मिलते हैं। फिर जब रावण राज्य शुरू होता है तो मनुष्य बाप को भूल पतित आरफन निधनके बन पड़ते हैं। आपस में लड़ते झगड़ते रहते हैं। सब जगह देखो झगड़े ही झगड़े लगे हुए हैं। कितने पार्टीशन हैं। स्वर्ग में तो एक ही लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। भारतवासी सारे विश्व के मालिक थे। अब तो टुकड़े-टुकड़े हैं। यह समुद्र तुम्हारा, यह हमारा, यह धरती हमारी, यह तुम्हारी… पंजाब, यू.पी., राजस्थान आदि-आदि, अलग-अलग हो गये हैं। भाषा पर भी कितने झगड़े होते हैं क्योंकि पारलौकिक माँ बाप को नहीं जानते हैं। भारत स्वर्ग था तो यह कोई बात नहीं थी। अब फिर स्वर्ग होना है। बाप बैठ समझाते हैं यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है। बेहद का बाप बच्चों को कहते हैं तुम कितना बेसमझ बन पड़े हो। कहते भी हो हे परमपिता परमात्मा। फिर उनकी बायोग्राफी को नहीं जानते हो। बाप पतित-पावन, सद्गति दाता भी है। तुम तो जानते हो, वह तो कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। सर्वव्यापी कहने से फिर वर्सा कैसे मिलेगा। जरूर बाप चाहिए ना, वर्सा देने वाला। लौकिक बाप बच्चों को पैदा करे और फिर पूछो तुम्हारा बाप कहाँ है तो क्या सर्वव्यापी कहेगा? अरे बेहद का बाप तो रचयिता है ना। उसको ही सब भगत पुकारते हैं – हे पतित-पावन, शिवबाबा आकर हमको पतित से पावन बनाओ। जैसे स्वर्ग में पावन थे वैसे फिर हमको आकर पावन बनाओ। हम बहुत दु:खी हैं। जबसे रावण राज्य शुरू होता है तो सब मनुष्य पतित होने लग पड़ते हैं। दर दर धक्के खाते रहते हैं। समझते हैं सबमें परमात्मा है। मूर्तियां ठिक्कर-भित्तर की बनी हुई है ना, तो समझते हैं कि इसमें भी भगवान है। अरे पत्थर में भगवान कहाँ से आया! वह तो परमधाम में रहता है। कितने ढेर चित्र बनाते हैं फिर जब पुराने हो जाते हैं तो फेंक देते हैं। यह है गुड़ियों की पूजा। कहते हैं हे बाबा हमको सद्गति दो। सर्व का सद्गति दाता एक ही पतित-पावन शिवबाबा है, उनको सब मनुष्य भूल गये हैं। उनको सब याद करते हैं। सबका पतियों का पति अथवा बापों का बाप वह है। बाप कहते हैं बच्चे अब पावन बनो। तुम्हारी आत्मा अब पतित हो गयी है, खाद पड़ गई है। सच्चे सोने में खाद डालने से अथवा अलाए पड़ने से सोने का मूल्य कम हो जाता है। तो यह भी तमोप्रधान दुनिया है। पहले गोल्डन एज में थे तो सम्पूर्ण निर्विकारी थे। फिर सिल्वर की खाद पड़ी फिर कापर, आइरन में आते हैं। आत्मा पतित होती जाती है। अभी तो बिल्कुल ही आइरन एजड हो गई है। वही भारत सतोप्रधान था, अब तमोप्रधान बन गया है। जो पहले-पहले थे जरूर उन्हों को ही पूरे 84 जन्म लेने पड़े। क्रिश्चियन आते ही बाद में हैं, वह 84 जन्म तो ले न सकें। वह 35-40 जन्म करके पाते होंगे। सृष्टि की आयु भी अब पूरी होती है फिर नई बनेगी। नई दुनिया में है सुख, पुरानी दुनिया में है दु:ख। पुराने मकान को तोड़ा जाता है ना। पुरानी दुनिया में तो सब दु:खी हैं। फिर इन सबको सुखी बनाने वाला तो बाप ही है। सतयुग में जो भी आत्मायें थी वह सुखी थी। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी, जिसको फिर साइलेन्स वर्ल्ड कहा जाता है। साइलेन्स वर्ल्ड फिर सटल वर्ल्ड (सूक्ष्मवतन), वहाँ शरीर ही नहीं है तो आत्मा आवाज कैसे करेगी। तो अभी सब आत्मायें तमोप्रधान हैं इसलिए इसको आइरन एज कहा जाता है। पहले गोल्डन एज में थे अब फिर बाप आकर गोल्डन एज में ले जाते हैं। मनुष्य को देवता बनाते हैं। सतयुग में स्त्री पुरूष दोनों पवित्र रहते हैं। उनको रामराज्य कहा जाता है। अभी तो है रावणराज्य, एक दो पर काम कटारी चलाकर दु:खी करते रहते हैं। भगवान कहते हैं बच्चे काम महाशत्रु है, इसने ही तुमको दु:खी किया है। तुम बच्चे गिरते आये हो। अभी तो कोई कला नहीं रही है फिर 16 कला सम्पूर्ण बनाने बाप आये हैं। इसमें सन्यासियों के मुआफिक घरबार तो छोड़ना नहीं है। पावन दुनिया में जाने के लिए यह अन्तिम जन्म तुमको पवित्र जरूर बनना है। जो बाप द्वारा पवित्र बनेंगे वही पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। यहाँ तुम बच्चे आये हो बाप के पास। यह हेड आफिस है – जहाँ सब आते हैं। पारलौकिक बाप आत्माओं को कहते हैं बच्चे, अब देही-अभिमानी बनो। आत्मायें भी कहती हैं हाँ बाबा हम आपका फरमान जरूर मानेंगे। पवित्र बनेंगे। यह श्रीमत है ना। श्रीमत से ही श्रेष्ठ बनना है। रावण की मत से तुम भ्रष्ट बने हो। तो इस शरीर द्वारा आत्मा कहती है हे बाबा हम आपके बने हैं। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सर्व की सद्गति करने। पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनाने के लिए। तो पवित्र जरूर बनना है। पहले जब पवित्र बन ब्रह्माकुमार कुमारी बनें तब ही शिवबाबा से स्वर्ग के सुख का वर्सा पायें। तुम फिर से आये हो – बाप से वर्सा लेने। तुम जो देवी-देवता धर्म के थे, तुमने ही 84 जन्म लिये हैं। अभी वह देवी-देवता हैं नहीं। देवतायें जो पतित बने हैं वही आकर पावन बनेंगे। जो आये ही बाद में हैं वह स्वर्ग में जा न सकें। जिन देवी-देवता धर्म वालों के 84 जन्म पूरे हुए हैं, उन्हों को ही फिर से देवता बनना है। बाबा कहते हैं मैं ही आकर ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता बनाता हूँ। पवित्र बनने बिगर तुम देवी-देवता बन नहीं सकते हो। इन बातों को समझेंगे वही जो आकर ब्रह्माकुमार कुमारी बनेंगे। प्रजापिता गाया जाता है ना। मनुष्य सृष्टि का जगत पिता और जगत अम्बा। उन्हों के इतने बच्चे कैसे होंगे। अभी है ब्रह्मा मुख वंशावली। सब मम्मा बाबा कहते हैं। कैसे बच्चे बने? शिवबाबा ने ब्रह्मा द्वारा तुमको अपना बनाया है। तुम शिवबाबा को याद करते हो, उससे स्वर्ग का वर्सा लेने। तो सब ब्रह्माकुमार कुमारियां आपस में भाई बहन ठहरे। यह है युक्ति। बाबा कहते हैं तुम गृहस्थ व्यवहार में भल रहो परन्तु कमल फूल समान पवित्र रहो। यह करके दिखाओ, घरबार छोड़ने की बात नहीं है। अपनी रचना की सम्भाल भी करो, सिर्फ पवित्र रहो तो इन देवताओं जैसा फिर बनेंगे। देवी-देवता धर्म की स्थापना तो जरूर होनी है। बाप बच्चों को सम्मुख बैठ समझाते हैं।

यह मधुबन है हेड आफिस। कितने सेन्टर्स खुलते रहते हैं। जो कल्प पहले ब्रह्माकुमार कुमारियां बने थे वही फिर ब्राह्मण से देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य, शुद्र बनते आये हैं। अब फिर ब्राह्मण बनना पड़े। चोटी ब्राह्मणों की है ना। इन वर्णों से पास करना होता है। बाप कहते हैं तुम सो देवी-देवता थे। अब तुम फिर शूद्र से ब्राह्मण बने हो, सो देवी-देवता बनने के लिए। तुम पवित्र बनते हो। गायन भी है कुमारी वह जो 21 पीढ़ी का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमार कुमारियां हो। कुमार और कुमारियां तो दोनों चाहिए ना। तुम हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का रास्ता बताते हो। चलो अपने सुखधाम, यह है दु:खधाम। अभी बाप को याद करना है। बाप कहते हैं पवित्र बनो और मामेकम् याद करो। कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। बाप ही बैठ बच्चों को सुख घनेरे देते हैं। अभी कितना दु:ख है। दु:ख में ही भगवान को याद किया जाता है। बाप स्वर्ग में ले जाते फिर वहाँ क्यों याद करेंगे। कहते हैं हे प्रभू, अन्धों की लाठी। परन्तु जानते तो कुछ भी नहीं। लक्ष्मी-नारायण के आगे भी जाकर कहेंगे – तुम मात-पिता…अब वह तो हैं स्वर्ग के मालिक। वह थोड़ेही सबके मात-पिता हो सकते हैं। कृष्ण एक राजधानी का, राधे दूसरे राजधानी की। फिर उनकी सगाई हो जाती है। स्वयंवर के बाद फिर नाम बदल जाता है। विष्णु के दो रूप लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। दीपमाला पर महालक्ष्मी को बुलाते हैं ना। वह है युगल। अभी तुम काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठते हो। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुम पवित्रता की प्रतिज्ञा कराते हो। बेहद का बाप कहते हैं पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बनेंगे। घर बैठे भी याद कर सकते हो। बाबा कहते हैं तुम सबको मेरे पास आना है। मरना तो सबको है। यह वही महाभारत की लड़ाई है। यहाँ है यौवनों की लड़ाई। सतयुग में कोई लड़ाई आदि होती नहीं। बाप कहते हैं तुम इस रावण पर जीत पहनो। बाकी लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। यह महाभारत की लड़ाई भी लगती है। बाकी थोड़े बचेंगे। भारत है अविनाशी खण्ड, बाकी खण्ड खत्म हो जायेंगे। बाप सबको वापिस ले जायेंगे। बाप सर्व की सद्गति करते हैं। आत्माओं को वापिस ले जाते हैं। अभी तुम बाप से वर्सा ले रहे हो। सन्यासी तो दे न सकें। वह कोई स्वर्ग का रचयिता थोड़ेही हैं। अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। बाकी नर्क के मनुष्यमात्र सब खत्म हो जायेंगे। मरना तो है, क्यों न जीते जी वर्सा ले लेवें। नहीं तो हाय-हाय करेंगे। कुम्भकरण की आसुरी नींद से अन्त में जागेंगे। अभी सारे चक्र की नॉलेज तुम्हारी बुद्धि में है। तुम ही पूज्य थे फिर पुजारी बने फिर पूज्य बनते हैं। पावन राजायें भी थे, पतित राजायें भी थे। अब नो राजा। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। फिर सृष्टि को चक्र खाना है, सतयुग में आना है। शिवबाबा इनके मुख से कहते हैं – तुम हमारे बच्चे हो। तुम भी कहते हो बाबा हम आपके बच्चे हैं। यह है मुख वंशावली। तुम ईश्वर का परिवार हो। भगवानुवाच एक बाप को याद करो। हम आत्मायें अब स्वीट होम में जाती हैं, जहाँ बाबा रहते हैं। फिर बाबा स्वीट स्वर्ग में भेज देते हैं, वहाँ भी शान्ति और सुख है। तुम यहाँ आये हो पवित्रता, सुख, शान्ति का वर्सा लेने। 21 जन्मों के लिए यह पढ़ाई है। तुम यहाँ के लिए नहीं पढ़ते हो। यह है ही मृत्युलोक। तुम अमरनाथ द्वारा अमरकथा सुन अमर बनते हो। जो बाप से आकर समझेंगे वही पवित्रता की प्रतिज्ञा करेंगे। वही फिर आकर वर्सा लेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियां तो ढेर के ढेर होते जायेंगे। दिन प्रतिदिन सेन्टर खुलते जायेंगे। शूद्र से ब्राह्मण बनते जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए गृहस्थ व्यवहार में रहते, रचना की सम्भाल करते हुए कमल फूल समान पवित्र बनना है।

2) हर एक को 21 पीढ़ी के लिए सुखी बनाने का रास्ता बताना है। ज्ञान चिता पर बैठ शूद्र से ब्राह्मण और फिर देवता बनना है।

वरदान:- अपनी शक्तिशाली मन्सा शक्ति व शुभ भावना द्वारा बेहद सेवा करने वाले विश्व परिवर्तक भव 
विश्व परिवर्तन के लिए सूक्ष्म शक्तिशाली स्थिति वाली आत्मायें चाहिए, जो अपनी वृत्ति द्वारा श्रेष्ठ संकल्प द्वारा अनेक आत्माओं को परिवर्तन कर सकें। बेहद की सेवा शक्तिशाली मन्सा शक्ति द्वारा, शुभ भावना और शुभ कामना द्वारा होती है। तो सिर्फ स्वयं के प्रति भावुक नहीं लेकिन औरों को भी शुभ भावना, शुभ कामना द्वारा परिवर्तित करो। बेहद की सेवा वा विश्व प्रति सेवा बैलेन्स वाली आत्मायें कर सकती हैं। तो भावना और ज्ञान, स्नेह और योग के बैलेन्स द्वारा विश्व परिवर्तक बनो।
स्लोगन:- बुद्धि रूपी हाथ बापदादा के हाथ में दे दो तो परीक्षाओं रूपी सागर में हिलेंगे नहीं।
To Read Murli 28 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 29 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 August 2017

September 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 28 August 2017 :- Click Here
BK murli today ~ 28/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

29/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – इस रूहानी पढ़ाई को कभी मिस नहीं करना, इस पढ़ाई से ही तुम्हें विश्व की बादशाही मिलेगी”
प्रश्नः- कौन सा निश्चय पक्का हो तो पढ़ाई कभी भी मिस न करें?
उत्तर:- अगर निश्चय हो कि हमें स्वयं भगवान टीचर रूप में पढ़ा रहे हैं। इस पढ़ाई से ही हमें विश्व की बादशाही का वर्सा मिलेगा और ऊंच स्टेटस भी मिलेगा, बाप हमें साथ भी ले जायेंगे – तो पढ़ाई कभी मिस न करें। निश्चय न होने कारण पढ़ाई पर ध्यान नहीं रहता, मिस कर देते हैं।
गीत:- हमारे तीर्थ न्यारे हैं…

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे पास्ट के सतसंग और अभी के सतसंग के अनुभवी हैं। पास्ट यानी इस सतसंग में आने के पहले बुद्धि में क्या रहता था और अब बुद्धि में क्या रहता है! यह रात दिन का फ़र्क देखने में आता होगा। उस सतसंगों में तो सिर्फ सुनते ही रहते हैं। कोई आश दिल में नहीं रहती। बस सतसंग में जाकर दो वचन शास्त्रों का सुनना होता है। यहाँ तुम बच्चे बैठे हो। बुद्धि में है कि हम आत्मायें बापदादा के सामने बैठी हैं और उनसे हम स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए ज्ञान और योग सीख रहे हैं। जैसे स्कूल में स्टूडेन्ट समझते हैं कि हम बैरिस्टर वा इंजीनियर बनेंगे। कोई न कोई इम्तहान पास कर यह पद पायेंगे। यह ख्याल आत्मा को आते हैं। अभी हम पढ़कर फलाना बनेंगे। सतसंग में कोई एम नहीं रहती है कि क्या प्राप्ति होगी। करके कोई को आश होगी भी तो वह अल्पकाल के लिए। साधू सन्तों से मांगेंगे कि कृपा करो, आशीर्वाद करो। यह भक्ति वा सतसंग आदि करते, यहाँ तक आकर पहुँचे हैं। अभी हम बाप के सामने बैठे हैं। एक ही आश है – आत्मा को बाप से वर्सा लेने की। उन सतसंगों में वर्सा लेने की बात नहीं रहती। स्कूल अथवा कालेज में भी वर्सा पाने की बात नहीं रहती। वह तो टीचर है पढ़ाने वाला। वर्से की आश इस समय तुम बच्चे लगाकर बैठे हो। बरोबर बाप परमधाम से आया हुआ है। हमको फिर से सदा सुख का स्वराज्य देने। यह बच्चों की बुद्धि में जरूर रहेगा ना। फिर भी समझते हैं बाप के सन्मुख जाने से ज्ञान के अच्छे बाण लगेंगे क्योंकि वह सर्वशक्तिवान है। बच्चे भी ज्ञान बाण मारने सीखते हैं, परन्तु नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। यहाँ ही डायरेक्ट सुनते हैं। समझते हैं बाबा समझा रहे हैं और कोई सतसंग वा कालेज में ऐसे नहीं समझेंगे। हम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। हम इस सृष्टि चक्र को जान गये हैं। उन सतसंगों में तो जन्म-जन्मान्तर जाते ही रहते हैं। यहाँ है एक बार की बात। भक्ति मार्ग में जो कुछ करते वह अब पूरा होता है। उनमें कोई सार नहीं है। तो भी अल्पकाल के लिए मनुष्य कितना माथा मारते हैं। तुम बच्चों की बुद्धि में रहता है हमको बाबा पढ़ा रहे हैं। बाबा ही बुद्धि में याद आयेगा और अपनी गॅवाई हुई राजधानी याद आ जायेगी। अभी हम जितना पुरूषार्थ करेंगे, बाबा को याद करेंगे और ज्ञान की धारणा में रहेंगे। औरों को भी ज्ञान की धारणा करायेंगे, उतना ऊंच पद पायेंगे। यह तो हर एक की बुद्धि में है ना। बाप इस प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा समझा रहे हैं, इनको दादा ही कहेंगे। शिवबाबा इनमें प्रवेश होकर हमको पढ़ा रहे हैं। तुम जानते हो पहले यह बातें हमारी बुद्धि में नहीं थी। हम भी बहुत सतसंग आदि करते थे। परन्तु यह ख्याल में भी नहीं था कि परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा आकर कब पढ़ाते हैं। अभी बाप को जाना है। नई दुनिया स्वर्ग का स्वराज्य फिर से याद आता है। अन्दर में खुशी रहती है। बेहद का बाप जिसको भगवान कहते हैं, वह हमको पढ़ा रहे हैं। बाबा पतित-पावन तो है ही फिर टीचर के रूप में बैठ हमको पढ़ाते हैं। इस दुनिया में कोई भी इस ख्यालात में नहीं बैठे होंगे सिवाए तुम बच्चों के। तुम बेहद बाप की याद में बैठे हो। अन्दर में समझ है हम आत्मायें 84 जन्मों का पार्ट पूरा कर वापिस जाती हैं। फिर स्वर्ग में जाने के लिए बाप हमको राजयोग की शिक्षा दे रहे हैं। बच्चे जानते हैं यह राजयोग की शिक्षा दे स्वर्ग का महाराजा महारानी बनाने वाला बाप के सिवाए और कोई हो नहीं सकता, इम्पासिबुल है। बाबा एक ही बार आकर पढ़ाते हैं, स्वर्ग का मालिक बनाने लिए। बुद्धि में रहता है हम बच्चे बाप द्वारा बेहद सृष्टि का स्वराज्य लेने लिए पढ़ाई पढ़ रहे हैं। एम-आब्जेक्ट की ताकत से ही पढ़ते हैं। अभी तुम मीठे मीठे बच्चों की बुद्धि में है हम कहाँ बैठे हैं। मनुष्यों के ख्यालात तो कहाँ न कहाँ चलते ही रहते हैं। पढ़ाई के समय पढ़ने के, खेलने के समय खेलने के।

तुम जानते हो हम बेहद बाप के सन्मुख बैठे हैं। आगे नहीं जानते थे। कोई भी मनुष्य मात्र नहीं जानते हैं कि भगवान आकर राजयोग सिखलाते हैं। अभी तुम बच्चों ने समझा है – जन्म-जन्मान्तर हम भक्ति करते आये हैं। यह ज्ञान बाप के सिवाए कोई दे न सके, जब तक बाप न आये – विश्व के मालिकपने का वर्सा मिले कैसे। न किसकी बुद्धि में यह आता है। हम भगवान के बच्चे हैं, वह स्वर्ग का रचयिता है, फिर हम स्वर्ग में क्यों नहीं हैं। नर्क में दु:खी क्यों हैं। हे भगवान, हे पतित-पावन कहते हैं परन्तु यह बुद्धि में नहीं आता कि हम दु:खी क्यों हैं। बाप बच्चों को दु:ख देते हैं क्या! बाप सृष्टि रचते हैं बच्चों के लिए। क्या दु:ख के लिए? यह तो हो नहीं सकता। अभी तुम बच्चे श्रीमत पर चलने वाले हो। भल कहाँ भी दफ्तर वा धन्धे आदि में बैठे हो परन्तु बुद्धि में तो यह है ना कि हमको पढ़ाने वाला भगवान बाप है। हमको रोज़ सवेरे क्लास में जाना होता है। क्लास में जाने वालों को ही याद पड़ता होगा। बाकी जो क्लास में ही नहीं आते तो वह पढ़ाई को और पढ़ाने वाले को समझ कैसे सकते हैं। यह नई बातें हैं, जिसको तुम ही जानते हो। बेहद का बाप जो नई दुनिया रचने वाला है, वह बैठ नई दुनिया के लिए हमारा जीवन हीरे जैसा बनाते हैं। जब से माया का प्रवेश हुआ है, हम कौड़ी जैसा बनते आये हैं। कलायें कम होती गई हैं। माया ऐसे खाती आई है जो हमको कुछ भी पता नहीं पड़ा। अभी बाप ने आकर बच्चों को जगाया है – अज्ञान नींद से। वह नींद नहीं, अज्ञान नींद में सोये पड़े थे। ज्ञान तो ज्ञान सागर ही देते हैं और कोई दे नहीं सकते। एक ही हमारा बिलवेड मोस्ट बाप ज्ञान का सागर, पतित-पावन दे सकते हैं। अब बच्चे जान गये हैं इस युक्ति से बाप हमको पावन बना रहे हैं। पुकारते भी हैं हे पतित-पावन बाबा आओ। परन्तु समझते नहीं हैं कि कैसे आकर पावन बनायेंगे सिर्फ पतित-पावन कहते रहने से तो पावन नहीं बन जायेंगे।

तुम जानते हो कि इस समय सब पतित भ्रष्टाचारी हैं, जो भ्रष्टाचार से पैदा होते हैं। वह कर्तव्य भी ऐसा करेंगे। यह बेहद का बाप बैठ समझाते हैं, तुम यहाँ सन्मुख बैठकर सुनते हो तो तुम्हारी बुद्धि का योग बाप के साथ रहता है। फिर कुसंग तरफ जाते हैं, बहुतों से मिलते करते हैं, वातावरण सुनते हैं तो जो सन्मुख की अवस्था रहती है – वह अवस्था बदल जाती है। यहाँ तो सन्मुख बैठे हैं। स्वयं ज्ञान का सागर परमपिता परमात्मा बैठ ज्ञान का बाण मारते हैं, इसलिए मधुबन की महिमा है। गाते भी हैं ना – मधुबन में मुरली बाजे। मुरली तो बहुत स्थानों पर बजती है। परन्तु यहाँ सन्मुख बैठकर समझाते हैं और बच्चों को सावधानी भी देते हैं, बच्चे खबरदार रहना। कोई उल्टा सुल्टा संग नहीं करना। लोग तुमको उल्टी बातें सुनाकर डराए इस पढ़ाई से ही छुड़ा देंगे। संग तारे कुसंग बोरे। यहाँ है सत बाप का संग। तुम प्रतिज्ञा भी करते हो कि हम एक से ही सुनेंगे। एक का ही फरमान मानेंगे। तुम सबका बाप टीचर सतगुरू वो एक ही है। वहाँ तो वह गुरू लोग सिर्फ शास्त्र ही सुनाते रहते। नई बात कोई नहीं। न बाप का परिचय ही दे सकते, न ज्ञान की बातें ही जानते। सब नेती-नेती कहते आये। हम रचता और रचना को नहीं जानते। जब बाप आते हैं तब ही समझाते हैं। उन कलियुगी गुरूओं में भी नम्बरवार हैं, कोई के तो लाखों फालोअर्स हैं। तुम समझते हो हमारा सतगुरू तो एक ही है। मरने आदि की तो बात ही नहीं। यह शरीर तो शिवबाबा का है नहीं। वह तो अशरीरी, अमर है। हमारी आत्मा को भी अमरकथा सुनाए अमर बना रहे हैं। अमरपुरी में ले जाते हैं, फिर सुखधाम में भेज देते हैं। निर्वाणधाम है ही अमरपुरी। अभी तुम्हारी बुद्धि में रहता है हम आत्मायें शरीर छोड़कर जायेंगी बाप के पास। फिर जिसने जितना पुरूषार्थ किया होगा उस अनुसार पद पायेंगे। क्लास ट्रांसफर होता है। हमारी पढ़ाई का पद इस मृत्युलोक में नहीं मिलता है। यह मृत्युलोक फिर अमरलोक बन जायेगा। अब तुमको स्मृति आई है कि हमने सतयुग त्रेता में 21 जन्म राज्य किया, फिर द्वापर कलियुग में आये। अब यह है हमारा अन्तिम जन्म। फिर हम वापिस जायेंगे, वाया मुक्तिधाम होकर फिर सुखधाम में आयेंगे। बाप बच्चों को कितना रिफ्रेश करते हैं। आत्मा समझती है कि हम 84 के चक्र में आते हैं। परमात्मा कहते हैं मैं इस चक्र में नहीं आता हूँ। मुझ में इस सृष्टि चक्र का ज्ञान है। यह तुम जानते हो कि पतित-पावन बेहद का बाप है। तो वह बेहद को ही पावन करने वाला होगा ना। कोई मनुष्य बेहद का बाप हो न सके। वह बेहद का बाप एक ही है।

तुम जानते हो हम आत्मायें वहाँ की रहने वाली हैं। वहाँ से फिर शरीर में आते हैं। पहले-पहले कौन आया पार्ट बजाने, यह तुम समझते हो। हम आत्मायें निराकारी दुनिया से आई हैं पार्ट बजाने। इस समय तुम बच्चों को नॉलेज मिली है। कैसे नम्बरवार हर एक धर्म वाले अपने पार्ट अनुसार आते हैं, इसको अविनाशी ड्रामा कहा जाता है। यह किसकी बुद्धि में नहीं है। हम बेहद ड्रामा के एक्टर हैं। न बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी को, न अपने जन्मों को ही जानते हैं। बाबा तुमको कितना रिफ्रेश करते हैं, पुरूषार्थ अनुसार। कोई तो बड़ी खुशी में रहते हैं। बाबा हमको सत्य ज्ञान सुना रहे हैं और कोई मनुष्य मात्र यह ज्ञान दे नहीं सकते, इसलिए इसको अज्ञान अन्धेरा कहा जाता है। अभी तुम जानते हो हम अज्ञान अन्धेरे में कैसे आये। फिर ज्ञान सोझरे में कैसे जाना है। यह भी नम्बरवार समझ सकते हैं। घोर अन्धियारा और घोर सोझरा किसको कहा जाता है – यह अक्षर बेहद से लगता है। आधाकल्प रात, आधाकल्प दिन। वा समझो सांझ और सवेरा… यह बेहद की बात है। बाबा आकर सभी शास्त्रों का सार समझाते हैं। यह जो दान पुण्य करते हैं, शास्त्र पढ़ते हैं उससे तो अल्पकाल का सुख मिलता है। बाप कहते हैं मैं इनसे नहीं मिलता हूँ, जो मैं विश्व का मालिक उन्हों को बनाऊं। यह भी समझते हो कि सब विश्व के मालिक बन नहीं सकते। मालिक वह बनते हैं जिन्हों को बाप पढ़ाते हैं। वही राजयोग सीख रहे हैं। सारी दुनिया तो राजयोग नहीं सीखती है। कोटों में कोई ही पढ़ते हैं। कई तो 5-6 वर्ष, 10 वर्ष राजयोग सीखते, फिर भी पढ़ाई छोड़ देते हैं। बाप कहते हैं माया बहुत प्रबल है, बिल्कुल ही बेसमझ बना देती है। फारकती दे देते हैं। कहावत है ना – आश्चर्यवत बाप का बनन्ती, कथन्ती फिर फारकती देवन्ती।

[wp_ad_camp_5]

 

बाप कहते हैं उनका भी दोष नहीं है। यह माया तूफान में ले आती है। ऐसी सजनियां जिनको श्रृंगार कर स्वर्ग की महारानी बनाते हैं, वह भी छोड़ देती हैं। फिर भी बाप कहते हैं जिनसे सगाई की उनको याद करना है। याद कोई फट से ठहरेगी नहीं। आधाकल्प नाम रूप में फँसते आये हो। अब अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो, बड़ा मुश्किल है। सतयुग में तुम आत्म-अभिमानी बनते हो परन्तु परमात्मा को नहीं जानते हो। परमात्मा को सिर्फ एक ही बार जानना होता है। यहाँ तुम देह-अभिमानी आधाकल्प बन जाते हो। यह भी नहीं समझते हो – आत्माओं को यह शरीर छोड़ दूसरा शरीर ले पार्ट बजाना है फिर रोने की दरकार नहीं। जब बाप द्वारा सुखधाम का वर्सा मिल रहा है तो क्यों न पूरा अटेन्शन दें। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप के ही फरमान पर चलना है, बाप से ही सुनना है। मनुष्यों की उल्टी बातें सुन उनके प्रभाव में नहीं आना है। उल्टा संग नहीं करना है।

2) पढ़ाई और पढ़ाने वाले को सदा याद रखना है। सवेरे-सवेरे क्लास में जरूर आना है।

वरदान:- ज्ञान युक्त भावना और स्नेह सम्पन्न योग द्वारा उड़ती कला का अनुभव करने वाले बाप समान भव 
जो ज्ञान स्वरूप योगी तू आत्मायें हैं वे सदा सर्वशक्तियों की अनुभूति करते हुए विजयी बनती हैं। जो सिर्फ स्नेही वा भावना स्वरूप हैं उनके मन और मुख में सदा बाबा-बाबा है इसलिए समय प्रति समय सहयोग प्राप्त होता है। लेकिन समान बनने में ज्ञानी-योगी तू आत्मायें समीप हैं इसलिए जितनी भावना हो उतना ही ज्ञान स्वरूप हो। ज्ञानयुक्त भावना और स्नेह सम्पन्न योग-इन दोनों का बैलेन्स उड़ती कला का अनुभव कराते हुए बाप समान बना देता है।
स्लोगन:- सदा स्नेही वा सहयोगी बनना है तो सरलता और सहनशीलता का गुण धारण करो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 27 August 2017 :- Click Here
Font Resize