Month: July 2017

TODAY MURLI 1 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 31 July 2017 :- Click Here

01/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the adopted children of God. Become pure and claim your inheritance of the pure world. This is the time of the final period; you must therefore definitely become pure.
Question: Why can you give the title of ‘ostriches’ to human beings of today?
Answer: If you tell an ostrich to fly, it says, “I don’t have wings, I am a camel.” If you say, “Achcha, carry the load!” it says “I am a bird.” Such is the state of people of today! If you ask them, “Why do you call yourselves Hindus instead of deities?” They say, “Deities are pure whereas we are impure.” If you say to them, “Achcha, change from impure to pure”, they then say, “We don’t have time.” Maya has cut off the wings of purity. This is why those who say that they don’t have time are like ostriches. You children must not be like ostriches.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. Who said this? Ask yourself this question. People have interpreted the meaning of ‘Om’ in many different ways. By saying ‘Baba’ you can claim your right to His inheritance in a second. As soon as a son is born, he is said to be the heir, then he grows from an infant to the adolescent stage. The same applies here. As soon as you recognize Baba and you know Baba, you become a master of the inheritance. Here, you are already mature. As soon as a soul receives the Father’s introduction, he receives the Father’s inheritance in a second. As soon as a son is born, he understands that he will claim his inheritance of his father’s property. This is the unlimited Father. He says: O children, you souls understand that the Father has come. You children understand that you claim the kingdom from the Father cycle after cycle. It is as though you become the masters of the world in a second. ‘Om’ means I am a soul and this is my body. Whose child am I, the soul? A child of God. The Father says: I am Om, the Supreme Soul. I do not have a body of My own. This is such an easy aspect! They think that ‘Om’ means God. That would mean that everyone is God. However, there is only one God. He says: I am your Father. The Supreme Soul means God, the One to whom the whole world calls: O Purifier, come! No one else can say that the Supreme Father, the Supreme Soul, teaches Raja Yoga through him. None of them knows anything and, because of this, they have said that Krishna is God. It cannot be that he taught Raja Yoga or that he is the Purifier. He is the first child of heaven. The one who is first also becomes the last. This is why he is called Shyam and Sundar (the ugly and the beautiful one). Krishna takes the number one birth and then, after 84 births, he adopts the name Brahma. The Father comes and adopts the children. You children are adopted; you are children of God. You have the Mother and Father. There is also Prajapita. The Father says: I tell you through this one’s mouth that you are My children. You say: Baba, we belong to You. We have come to claim our inheritance from You. The intellect also says: Surely, the Father comes. The time He comes is also something to think about. They say: O Purifier come! Therefore, He would come when it is the end of the impure world. This is known as the confluence between the end of a cycle and the beginning of a cycle. Everyone is impure at the end and everyone is pure at the beginning. The impure world is destroyed at the end, and the pure world is established and then expansion takes place. It is also remembered that establishment takes place through Brahma. This is the Trimurti. You understand that the children of Shiv Baba are all brothers, and that they become brothers and sisters when creation takes place. Why is He referred to as the Mother and Father? So that the future inheritance can be claimed. Even though you have a worldly inheritance, you make effort to claim the parlokik inheritance. This is the iron age, the land of death. The golden age is called the land of immortality. People here experience untimely death. The golden age is the divine world, where there is the original eternal deity religion. There is no Hindu religion. When they carry out a census, they ask: Which religion do you belong to? When we say that we belong to the Brahmin religion, they put us under the Hindu religion because those Brahmin priests are part of the Hindu religion. The Arya Samajis are also put under the Hindu religion. In fact, there is no such religion as the Hindu religion. Those who live in Europe are not said to belong to the European religion. Their religion is Christianity. Christ establishes the Christian religion. Achcha, who established the Hindu religion? Therefore, the poor people get confused. They say: It was established through the Gita. So, they are told: It is the original eternal deity religion that is established through the Gita. So you belong to the deity religion. Then they say: But the deities were very pure; we are impure; how can we call ourselves deities? So, it is explained: Achcha, become pure and belong to the deity religion again. Then they say: We don’t have time! What you say is completely new. We definitely did belong to the original eternal deity religion. The residents of Bharat worship the deities, just as Christians worship Christ. Because they are now impure, they cannot call themselves deities. If you tell them to come and become pure, they say that they don’t have time. The Father says: You are like ostriches! If they are asked why they are not called deities, they say: We are impure. Achcha, if you tell them to become pure, they say: We don’t have time. If an ostrich is told to fly, it says: I don’t have wings, I am a camel. Then, if you tell it to carry a load, it says: I am a bird. Therefore, the Father says: Maya has cut off your wings of purity. During the month of rain, people worship Shiva and hold a fast. For you, the month of rain is the rain of knowledge. You become pure in order to become the masters of the pure world. People hold a fast and do not eat. The Father says: Don’t take poison. You also have to explain this. Shiva is worshipped a great deal. Now, Shiv Baba says: Your fast is to abstain from vice. I have come to establish the pure deity religion. No one here is pure. Pure deities exist in the golden age. They are not born through vice. Otherwise, how would they be known as completely viceless? Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna etc., are known as completely viceless. Here, all are impure, they have no virtues. They themselves say: We are impure, degraded. The Father says: Follow My directions and become completely viceless and you will become masters like Lakshmi and Narayan. Your study is so great. Make effort to change from humans into deities. You have to become the masters of the world. There used to be the kingdom of deities in the golden age and that deity religion is now being established once again. You become pure and claim your inheritance of heaven. ‘Self’ means the soul. The soul receives sovereignty which is known as self-sovereignty. Human beings are body conscious. It is due to body consciousness that they say it is their kingdom. Here, you say: I am a soul, the master of this body. I will become an emperor; I will receive a pure body in the golden age. Souls are now impure: as are souls, so the bodies. Alloy has been mixed into souls. Souls were first like real gold. There was the golden age first but then, when the silver age came, silver alloy became mixed into them. Then, in the copper age, copper was mixed in. At this time, souls are false and the bodies too are false. This is called the land of falsehood. By your having yoga with the Father, the alloy will be removed. This is called the fire of yoga. In order to remove impurities from an ornament, it is put into a fire. This is the fire of yoga through which the alloy is burnt; we become true gold and return with the Father. The Father says: You will definitely come back with Me. In the golden age, there will be real gold. Why do they say that Krishna was ugly? The name and form of Krishna change. The Father now sits here and explains: You were beautiful but alloy is now mixed in you. You have become completely iron aged. I am now the Goldsmith; I put the children into a furnace. This haystack will be set alight and everyone’s body will be destroyed. Souls are imperishable. On the one hand, you will become pure through the power of yoga and on the other hand, everyone else will experience punishment and settle their karmic accounts and then return home. This is the furnace (bhatti) of God for making everyone pure. That One is the Ocean of Knowledge and you, the Ganges of knowledge, have emerged from Him. However, people think it is that Ganges. They even keep images of deities there. In fact, you are the children of God; you are the Ganges of knowledge who will then become deities. When you go to heaven, you will be called deities. Souls and bodies are both pure there. They have now become impure. Bharat was golden aged and it later became silver, copper and iron aged. The Father is once again taking you to the golden age. Both you, the souls, and your bodies become pure. The Father says: I am the Laundryman. I have come to wash you souls. All you have to do is remember the Father, that’s all! By staying in yoga you will be able to become the masters of the world. No one can become the master of the world through physical power. The two Christian brothers (Russia and U.S.A.)have so much power that if they were to come together, they could become the masters of the world. However, the law does not allow this. There is a story about two cats fighting between themselves and a monkey taking the butter from between them. So, those two fight between themselves and Bharat receives the butter. Shri Krishna is number one in this. This is why a globe is shown in the mouth of Krishna. It is not butter; Shri Krishna receives his fortune of the kingdom of heaven. The Father explains that everything will be destroyed and that you will then become the masters of the world. However, before that, you must follow the Father’s shrimat. By following shrimat you become elevated, and by following devilish directions you become corrupt. This is the devilish, corrupt world. Not a single one is pure, whereas not a single person is impure in the pure world. Everyone is now impure. They even say: Sita Rama, the Purifier. We Sitas are in Ravan’s jail. People call out: O Rama, come and take us to the pure world! They sing this but they do not know anything. They continue to say whatever enters their minds. Ravan has put everyone completely to sleep. The Father now comes and awakens everyone. You know the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who is the Purifier and the Creator of the world. You also know the biographies of Brahma, Vishnu, Shankar and Lakshmi and Narayan. You also know about the 84 births of Lakshmi and Narayan. Therefore, you are full of knowledge! When you go to a Krishna Temple, you understand that he was the first prince of the golden age. Now, in his last and 84th birth, he has become Brahma. These matters have to be understood.

[wp_ad_camp_3]

 

The Father explains to the children: Children, be very cautious, don’t cause sorrow for anyone. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You have donated the five vices. Make this donation and your bad omens will be removed. When there is a bad omen, holy beggars say: Make a donation. Now the Father says: My beloved children, make the donation of the vices and you will become deities, full of all divine virtues, and the eclipse of bad omens will then be removed. You will become the masters of the land of happiness. This is why the donation of the five vices is accepted; that is good! At present, due to the eclipse of the vices, you have become completely ugly. Baba only asks you for your vices, nothing else. The Father explains: You children now have to become soul conscious. Have the consciousness of being souls, and remember the Supreme Soul. You have to claim your inheritance from Him. This is why you have to become soul conscious. Deities are soul conscious. Now remember Me, your Father, and your sins will be absolved. I will protect you. If you do not remember Me, how can I protect you? The Father explains everything clearly. These things are not written in any of the scriptures. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. The Father teaches you in order to take you to salvation. I explain to you through this one’s body. This is not My body; it is this one’s old shoe. I have taken it on loan. I enter this one and make you pure. The Father explains so clearly! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Follow the Father’s shrimat and become completely viceless. Claim the kingdom of the world through this study. With the fire of yoga, remove the alloy that has been mixed into the soul.
  2. Become soul conscious and remember the Father. The more remembrance you have, the more the Father will continue to protect you.
Blessing: May you maintain your original pride by keeping all your attainments in front of you and thereby become a master almighty authority.
We are the most elevated souls, children of highest-on-high God: this is the most elevated pride of all. Those who remain seated on the seat of this elevated pride can never be distressed. This pride of Brahmins is even more elevated than the pride of being deities. Keep a list of your attainments in front of you, your elevated pride will then always be in your awareness and you will continue to sing the song, “I have attained that which I wanted to attain”. With the awareness of all attainments, you will easily be able to have the stage of a master almighty authority.
Slogan: A pure and yogi life is the basis of all attainments.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 30 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 1 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 31 July 2017 :- Click Here

01/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – तुम हो ईश्वर के एडाप्टेड बच्चे, तुम्हें पावन बन पावन दुनिया का वर्सा लेना है, यह अन्त का समय है इसलिए पवित्र जरूर बनना है”
प्रश्नः- इस समय के मनुष्यों को ऊंट-पक्षी (शुतुरमुर्ग) का टाइटल दे सकते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि ऊंट-पक्षी जो होता उसे कहो उड़ो तो कहेगा पंख नहीं, मैं ऊंट हूँ। बोलो अच्छा सामान उठाओ तो कहेगा मैं पक्षी हूँ। ऐसे ही आज के मनुष्यों की हालत है। जब उनसे पूछा जाता तुम अपने को देवता के बजाए हिन्दू क्यों कहलाते हो तो कहते देवतायें तो पावन हैं, हम पतित हैं। बोलो अच्छा अब पतित से पावन बनो तो कहते फुर्सत नहीं। माया ने पवित्रता के पंख ही काट दिये हैं इसलिए जो कहते हमें फुर्सत नहीं वह हैं ऊंटपक्षी। तुम बच्चों को ऊंटपक्षी नहीं बनना है।
गीत:- ओम् नमो शिवाए..

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? अपने से प्रश्न पूछना है। ओम् का अर्थ मनुष्यों ने अनेक प्रकार का बनाया है। बाबा कहने से एक सेकेण्ड में वर्से के अधिकारी बन जाते हैं। बच्चा पैदा हुआ कहेंगे वारिस पैदा हुआ। फिर सगीर से बालिग होता है। यहाँ भी ऐसे है। बाबा को जाना, पहचाना और वर्से का मालिक बनें। यहाँ तो तुम बड़े हो ही। आत्मा को बाप का परिचय मिला, सेकेण्ड में बाप का वर्सा मिला। बच्चा पैदा होने से ही समझेंगे बाप की जायदाद का वर्सा पायेंगे। यह है बेहद का बाप। कहते हैं हे बच्चे, आत्मा ने जाना बाप आया हुआ है। तुम बच्चे जानते हो हम बाप से कल्प-कल्प राजधानी लेते हैं। जैसे तुम सेकेण्ड में विश्व के मालिक बन जाते हो। ओम् माना अहम्, मैं आत्मा यह मेरा शरीर। मैं आत्मा किसका बच्चा हूँ? परमात्मा का। बाप भी कहते हैं मैं ओम् परम आत्मा हूँ। मुझे अपना शरीर नहीं है। कितनी सहज बात है। वह समझते हैं ओम् माना भगवान। तो सब भगवान हो गये। भगवान तो है ही एक। वह कहते हैं मैं तुम्हारा बाप हूँ। परम आत्मा माना परमात्मा जिसको सारी दुनिया पुकारती है हे पतित-पावन आओ। ऐसे कोई भी नहीं कहेंगे कि परमपिता परमात्मा की आत्मा मेरे द्वारा तुमको राजयोग सिखलाती है। किसको पता ही नहीं है, न मालूम होने कारण कृष्ण भगवान का नाम लिख दिया है। उसने राजयोग सिखलाया वा पतित-पावन उसको कह नहीं सकते। वह तो है स्वर्ग का पहला बच्चा। जो पहले में है वह पिछाड़ी में भी होगा, इसलिए उनको श्याम-सुन्दर कहते हैं। पहले नम्बर में है कृष्ण फिर 84 जन्मों के बाद उनका नाम ब्रह्मा एडाप्ट होता है। बाप आकर बच्चों को एडाप्ट करते हैं। तुम हो एडाप्टेड बच्चे, ईश्वर के बच्चे। तुम्हारी माँ भी है, बाप भी है, प्रजापिता भी है। फिर बाप कहते हैं इनके मुख से कहता हूँ – तुम मेरे बच्चे हो। तुम कहते हो बाबा हम आपके हैं, आपसे वर्सा लेने आये हैं। बुद्धि भी कहती है बाप आता जरूर है। कब आते हैं – यह भी विचार की बात है ना। कहते हैं पतित-पावन आओ तो जरूर पतित दुनिया का अन्त हो तब तो आऊं ना। इसको कहा जाता है कल्प की आदि और अन्त का संगम। अन्त में सब पतित हैं, आदि में हैं सब पावन। अन्त में पतित दुनिया का विनाश होता है, पावन दुनिया की स्थापना होती है। फिर वृद्धि को पाते जाते हैं। गाया भी जाता है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। यह है त्रिमूर्ति।

तुम जानते हो शिवबाबा के बच्चे सब ब्रदर्स हैं। फिर जब रचना होती है तब भाई-बहिन बनते हैं। मात-पिता क्यों कहते हो? भविष्य वर्सा लेने के लिए। लौकिक वर्सा होते हुए पारलौकिक वर्सा पाने का पुरूषार्थ करते हो। यह है कलियुग मृत्युलोक। सतयुग को अमरलोक कहते हैं। यहाँ तो मनुष्य अकाले मर पड़ते हैं। सतयुग है दैवी दुनिया। आदि सनातन देवी देवता धर्म रहता है। हिन्दू धर्म तो कोई है नहीं। आदमशुमारी जब निकलती है तो पूछते हैं आप किस धर्म के हो? हम कहते हैं हम ब्राह्मण धर्म के हैं तो वो लोग हिन्दू धर्म में लगा देंगे क्योंकि वह ब्राह्मण भी हिन्दू धर्म में आ जाते हैं। आर्य समाजी लोग जो हैं उनको हिन्दू धर्म में लगा दिया है। वास्तव में हिन्दू धर्म तो कोई है नहीं। यूरोप में रहने वालों को यूरोप धर्म वाला थोड़ेही कहेंगे। धर्म तो क्रिश्चियन है ना। क्राइस्ट ने क्रिश्चियन धर्म स्थापन किया। अच्छा हिन्दू धर्म किसने स्थापन किया? तो बिचारे मूँझ पड़ते हैं। कह देते हैं गीता द्वारा स्थापन हुआ। तो समझाया जाता है गीता के द्वारा तो आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हुई। तुम तो देवता धर्म के हो। तो कहते हैं देवतायें तो बहुत पवित्र थे, हम तो पतित हैं। हम अपने को देवी-देवता कैसे कहलायें। तो समझाया जाता है अच्छा पवित्र बनो। फिर से देवी-देवता धर्म में आ जाओ, तो कहते हैं फुर्सत कहाँ। आपकी यह तो बहुत नई बातें हैं। बरोबर हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के हैं। पूजते भी भारतवासी देवी देवताओं को हैं। जैसे क्रिश्चियन, क्राइस्ट को पूजते हैं। परन्तु पतित होने कारण अपने को देवता कहला नहीं सकते। अच्छा आकर पावन बनो तो कहते फुर्सत नहीं। बाप कहते हैं तुम तो ऊंटपक्षी हो। पूछा जाता है तुम देवता क्यों नहीं कहलाते तो कहते हैं हम पतित हैं। अच्छा पतित से पावन बनो तो कहते फुर्सत नहीं। ऊंटपक्षी को कहो उड़ो तो कहेगा पंख नहीं, ऊंट हूँ। बोलो, अच्छा सामान उठाओ तो कहेगा हम तो पक्षी हूँ। तो बाप कहते हैं माया तुम्हारे पवित्रता के पंख काट देती है।

अब सावन के महीने में शिव की पूजा करते हैं, व्रत रखते हैं। तुम्हारे लिए सावन मास है ज्ञान बरसात का। तुम पवित्र बन पवित्र दुनिया का मालिक बनते हो। मनुष्य व्रत रखते हैं भोजन न खाने का। बाप कहते हैं विष नहीं खाओ। इस पर भी समझाना पड़ेगा। शिव को बहुत पूजते हैं, अब शिवबाबा कहते हैं पवित्रता का व्रत रखो। मैं आया हूँ पवित्र देवी-देवता धर्म स्थापन करने। यहाँ तो पावन कोई है नहीं। पवित्र देवी-देवता होते हैं सतयुग में। वह विष से पैदा नहीं होते। नहीं तो उनको सम्पूर्ण निर्विकारी क्यों कहते? लक्ष्मी-नारायण, राधे कृष्ण आदि को कहते ही हैं सम्पूर्ण निर्विकारी। यहाँ तो सब पतित हैं, जिनमें कोई गुण नहीं है। खुद कहते हैं हम पतित नींच हैं। बाप कहते हैं मेरी मत पर चलकर तुम सम्पूर्ण निर्विकारी बनो तो तुम इन लक्ष्मी-नारायण जैसा मालिक बनेंगे। तुम्हारी पढ़ाई कितनी भारी है। मनुष्य से देवता बनने का पुरूषार्थ करो। विश्व का मालिक बनना है। सतयुग में देवी-देवताओं का राज्य था ना। अब फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है। तुम पवित्र बन स्वर्ग का वर्सा लेते हो। स्व माना आत्मा। आत्मा को राजाई मिलती है। उनको स्वराज्य कहा जाता है। मनुष्य तो हैं देह-अभिमानी। देह-अभिमान से कहते हैं हमारा राज्य। यहाँ तुम कहते हो हम आत्मा हैं, इस शरीर के मालिक हैं। हम महाराजा बनेंगे। हमको सतयुग में पवित्र शरीर मिलेगा। अभी तो पतित हैं। जैसे आत्मा वैसे शरीर। आत्मा में खाद पड़ी है। आत्मा पहले सच्चा सोना थी। गोल्डन एज कहा जाता था। फिर त्रेता आया तो सिल्वर की खाद पड़ी, फिर द्वापर में गये तो तांबा पड़ा। इस समय आत्मा झूठी तो शरीर भी झूठा। इसको कहा ही जाता है झूठ खण्ड़। अभी बाप के साथ योग रखने से अलाए निकल जायेगी, इसको योग अग्नि कहा जाता है। जेवर से किचड़ा निकालने के लिए आग में डाला जाता है। यह भी योग अग्नि है, जिसमें खाद भस्म हो और हम सच्चा सोना बन बाप के साथ चले जायेंगे। बाप कहते हैं तुम मेरे साथ चल पड़ेंगे। सतयुग में सच्चा सोना मिलेगा। अब कृष्ण को सांवरा क्यों कहते हैं? कृष्ण का नाम रूप तो बदल जाता है। अब बाप समझाते हैं तुम गोरे थे, तुम्हारे में खाद पड़ी है। अभी बिल्कुल आइरन एजेड बन पड़े हो। अब मैं सोनार हूँ बच्चों को भट्ठी में डाल देता हूँ। भंभोर को आग लगेगी। सबके शरीर खत्म हो जायेंगे। आत्मा तो अविनाशी है। एक तो योग अग्नि से पवित्र बन जायेंगे, बाकी सब सजायें खाकर हिसाब-किताब चुक्तू कर फिर जायेंगे। यह ईश्वर की भट्ठी है – सबको पावन बनाने लिए। यह है ज्ञान का सागर, उनसे तुम ज्ञान गंगायें निकली हो। फिर मनुष्यों ने उस पानी की गंगा को समझ लिया है। वहाँ देवता की मूर्ति भी रखी हुई है। वास्तव में तुम हो भगवान के बच्चे, ज्ञान गंगायें जो फिर देवता बनते हो। जब स्वर्ग में आयेंगे तब तुमको देवता कहेंगे। वहाँ आत्मा शरीर दोनों ही पवित्र हैं। अभी तो पतित हैं। भारत गोल्डन एजेड है फिर सिल्वर, कॉपर, आइरन एजेड बने हैं फिर गोल्डन एज में बाप ले जा रहे हैं। तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों ही पवित्र हो जाते हैं। बाप कहते हैं मैं धोबी भी हूँ। तुम्हारी आत्मा को धोने आता हूँ। सिर्फ बाप को ही याद करना है। बस योग में रहने से तुम विश्व के मालिक बन सकते हो। बाहुबल वाले विश्व के मालिक बन न सकें। हाँ, उन्हों में इतनी ताकत है, अगर क्रिश्चियन दो भाई आपस में मिल जाएं तो विश्व के मालिक बन सकते हैं। परन्तु लॉ नहीं है। कहानी भी है दो बिल्ले आपस में लड़े और माखन बन्दर खा गया। तो वह दो लड़ते हैं बीच में माखन भारत को मिल जाता है, इसमें भी नम्बरवन है श्रीकृष्ण इसलिए कृष्ण के मुख में गोला दिखाते हैं। वह मक्खन नहीं, यह स्वर्ग का राज्य भाग्य श्रीकृष्ण को मिला। बाप समझाते हैं सब विनाश हो जायेगा फिर तुम मालिक बन जायेंगे। उसके पहले बाप की श्रीमत पर जरूर चलना पड़े। श्रीमत से श्रेष्ठ, आसुरी मत से भ्रष्ट बनते हो। यह है आसुरी पतित दुनिया। एक भी पावन नहीं। पावन दुनिया में एक भी पतित नहीं होता है। अभी तो सब पतित हैं। गाते भी हैं पतित-पावन सीताराम, हम सीतायें रावण की जेल में पड़ी हैं। पुकारती हैं हे राम आकर छुड़ाओ, पावन दुनिया में ले चलो। भल गाते हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं। जो आता सो कहते रहते। रावण ने बिल्कुल सुला दिया है। अब बाप आकर जगाते हैं। परमपिता परमात्मा, पतित-पावन जो सृष्टि का रचयिता है, उनकी बायोग्राफी को हम जानते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर और लक्ष्मी-नारायण की बायोग्राफी को भी हम जानते हैं। लक्ष्मी-नारायण के 84 जन्मों को भी हम जानते हैं। तो नॉलेजफुल हो गये ना। तुम कृष्ण के मन्दिर में जायेंगे तो समझेंगे यह सतयुग का पहला प्रिन्स था। अभी अन्तिम 84 वें जन्म में ब्रह्मा हुआ है। यह भी बहुत समझने की बातें हैं।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप बच्चों को समझाते हैं – बच्चे खबरदार रहना, कभी किसको दु:ख नहीं देना। बाप तो दु:ख हर्ता, सुख कर्ता है ना। तुम भी 5 विकारों का दान देते हो। दे दान तो छूटे ग्रहण। ग्रहण लगता है तो फकीर लोग कहते हैं दे दान। अब बाप कहते हैं मेरे लाडले बच्चे, विकारों का दान दो तो सर्वगुण सम्पन्न बन देवता बन जायेंगे। दु:ख का ग्रहण छूट जायेगा। तुम सुखधाम के मालिक बन जायेंगे, इसलिए 5 विकारों का दान लिया जाता है। यह तो अच्छा है ना। अभी तुम्हारे ऊपर विकारों का ग्रहण लगने से एकदम काले बन पड़े हो। हम तुम्हारे से विकार ही मांगते हैं और कुछ नहीं मांगते। बाप समझाते हैं अब तुम बच्चों को आत्म-अभिमानी बनना है। मैं आत्मा हूँ, परमात्मा को याद करना है। वर्सा उनसे लेना है, इसलिए देही-अभिमानी बनो। देवतायें आत्म-अभिमानी बने हैं। अब मुझ बाप को याद करने से ही तुम्हारे पाप भस्म होंगे। हम रक्षा करेंगे। तुम मुझे याद ही नहीं करेंगे तो रक्षा क्या करेंगे। बाप कितना समझाते हैं यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। वह है भक्ति मार्ग की सामग्री। बाप तो तुम्हें सद्गति में ले जाने के लिए पढ़ाते हैं। मैं इस शरीर द्वारा तुमको समझाता हूँ। यह मेरा शरीर नहीं है। यह तो इनकी पुरानी जुत्ती है, लोन लिया है। मैं इनमें प्रवेश करता हूँ, फिर पावन बनाता हूँ। कितना अच्छी रीति बाप समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की श्रीमत पर चलकर सम्पूर्ण निर्विकारी बनना है। पढ़ाई से विश्व की राजाई लेनी है। आत्मा में जो खाद पड़ी है उसे योग अग्नि से निकालना है।

2) आत्म-अभिमानी बन बाप को याद करना है जितना याद में रहेंगे उतना बाप रक्षा करता रहेगा।

वरदान:- सर्व प्राप्तियों को सामने रख श्रेष्ठ शान में रहने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान् भव 
हम सर्व श्रेष्ठ आत्मायें हैं, ऊंचे ते ऊंचे भगवान के बच्चे हैं-यह शान सर्वश्रेष्ठ शान है, जो इस श्रेष्ठ शान की सीट पर रहते हैं वह कभी भी परेशान नहीं हो सकते। देवताई शान से भी ऊंचा ये ब्राह्मणों का शान है। सर्व प्राप्तियों की लिस्ट सामने रखो तो अपना श्रेष्ठ शान सदा स्मृति में रहेगा और यही गीत गाते रहेंगे कि पाना था वो पा लिया…सर्व प्राप्तियों की स्मृति से मास्टर सर्वशक्तिमान् की स्थिति सहज बन जायेगी।
स्लोगन:- योगी और पवित्र जीवन ही सर्व प्राप्तियों का आधार है।

 

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 30 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 29 July 2017 :- Click Here

 

TODAY MURLI 31 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 30 July 2017 :- Click Here

31/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you must only remember the one Shiv Baba. Do not remember any bodily being. Don’t speak about or listen to anything wasteful, only things of knowledge.
Question: What warning does the Father give all the children?
Answer: Children, since you belong to the Father, don’t ever forget the days of this Godly childhood. Do not perform any sinful acts. Having made a promise to the Father, never leave Him. If you forget the Father, Maya will make your happiness disappear and your intellects will then continue to be distressed; you will continue to be afraid. You will continue to perform sinful acts and your intellects will be locked. Therefore, since you belong to Shiv Baba you must always remember your childhood.
Song: Don’t forget the days of your childhood.

Om shanti. Did you children understand the meaning? You children are sitting in front of Baba and you know that you have now become His children in order to claim your inheritance through Brahma. You also know very clearly that you are the eternal children of the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. You are now sitting face to face with Baba. Because of being far away, some children forget Baba. When you see your friends, relations and gurus, the things of this childhood are forgotten. Those who are sitting here, face to face, would not forget these things. We are claiming the inheritance of heaven from imperishable Shiv Baba. This is a matter of great happiness. Shiv Baba has made us belong to Him in order to make us into the masters of heaven once again. We were the masters but, by taking rebirth, we have become the masters of hell. Once again, we are to become the masters of heaven. You understand that Shiv Baba, the One who is incorporeal, has entered this body. He gives us shrimat and says: Remember Me, Shiv Baba, the Incorporeal. He says this to all souls because He is the Liberator for all. “Liberator” means the Bestower of Salvation. He grants salvation to only human beings, not to animals. He is the Liberatorand the Guide for human beings. He is known as the Knowledge-full and Blissful One. You are sitting here personally, and so your intoxication rises. Baba knows that when you children return home you forget. Maya makes you forget. Here, you do not have any sage, holy man or lokik relation in your intellect. You now have the parlokik relationship. Shiv Baba enters this one and gives us the inheritance of heaven. The incorporeal One definitely has to come into the corporeal. He says: Long-lost-and-now-found, beloved children, you have come once again in order to receive the inheritance of heaven. You are asked: What is your relationship with Shiv Baba? You say, “We are His eternal children, and then we are the corporeal children of Prajapita Brahma because we continue to take rebirth.” Not all of you will be his children in your next birth. Do not forget the days of this childhood. You are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma. You have come here once again to claim the inheritance of heaven. You are now in hell; you are at the confluence. This is such an easy matter! Even the old women can imbibe this. Do not forget this. However, there are many who forget this as soon as they go outside. They forget throughout the whole day. The same happiness does not remain. Then, they say: Baba, I don’t know what happens. In fact, you children should have limitless happiness. The Father makes you into the masters of heaven, so what more do you need? By forgetting Him, you become afraid and distressed and you continue to perform sinful acts. That One is not a guru etc. He is the true Father. The Father sits here and explains to the children. You belong to Shiv Baba through Brahma. This one is Baba and that One is also Baba. There are so many Brahma Kumars and Kumaris. Whom do you receive the inheritance from? From Shiv Baba. He is the Creator of the new world. You are now sitting here personally in front of BapDada and so He explains: Children, do not perform any sinful actions. When new ones come, they are asked to make a promise: Do not forget Me. Maya will repeatedly make you forget. This is why the Father is explaining and warning you. All the children hear this in the murli. They would understand that Baba is sitting in Madhuban in front of you children and explaining in this way to them as well. You know that Maya repeatedly makes you forget this childhood, and that your intellects become completely locked. When a soul experiences supersensuous joy, he is very happy that he has now found Baba. Baba now liberates you from all sorrow because He is the Bestower of Happiness. He is the Liberator of all human beings. It is not that you have been taking 8.4 million births. It is not a question of hundreds of thousands of births. This is the cycle of 84 births. You understand that it was your kingdom 5000 years ago. Three thousand years before the Christian clan started, there was heaven. No one knows how it later became hell. The Father sits here and explains clearly. There is no question of scriptures etc. If you think that this is wrongand you have doubt, then go away! However, Shiv Baba is your Father, and Brahma is also your father. Shiv Baba says: I enter the body of this Brahma, make him My child and then adopt more children through him. I teach them and make them into the masters of heaven. You were the masters of heaven; you are now the masters of hell. You see that you are sitting personally in front of the Father. We children have a right to the Grandfather’s property. You must definitely become pure. A soul cannot fly without becoming pure. They simply tell tall stories when they say that so and so has gone to the land of nirvana, or that the light merged into the infinite light. Not a single one has gone home. All the actors have to be present here. Until destruction starts, they have to remain present here. Souls continue to come down. The war will start when souls stop coming down. By the time your kingdom is established, everyone will have come here. The Father explains all of these things very well, but you forget. So many forget and divorce Me. Good children, who had sacrificed themselves to the Father, would cry when they left here to go to do service. However, when they went out there, they got into the company of the residents of hell and so they forgot everything. The Father gives you a warning: Children, do not forget the days of this childhood. You must remember one Shiv Baba. You must not keep a photograph of any guru, etc. A photograph cannot be taken of incorporeal Shiv Baba. Baba now teaches you to perform good actions. No one else can teach such good actions. You are now becoming elevated. Even if you leave the body, you will go and do elevated service, because it is your stage of ascent. Everything depends on each one’s effort. Baba still says: You are personally sitting here, face to face. You are able to remember what you listen to here but you forget everything as soon as you go outside. There are also some who listen to and say wrong things and gossip among themselves. If they don’t have knowledge, they speak about wasteful things to one another and spoil their heads. Baba has come to take us back. Baba says: If you remember Me, you claim a high status. This is why you should not listen to any wrong, defamatory things about others. Only listen to things of knowledge. The Father is known as “Heavenly God the Father , the One who establishes heaven. He is God, the Father of the World. Only the incorporeal One is the Father of all human beings. You, the ones who have become Brahma Kumars and Kumaris, belong to one religion. Later on, the number of religions increases. In the golden age, there is only the one deity religion. Everyone will be beautiful. The features of those from different religions are different. The innumerable religions will now be destroyed and the one religion will be established. You are changing from impure to pure. Remember that your enemy, Maya, is very powerful. By listening to anything wasteful, anything other than things of knowledge, you will move away from Baba and you will end up in the cottage of sorrow. Baba explains again and again that your business is to tell them the way to claim the inheritance from the Father. Baba has explained that you should put up a board that says: “What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul?” The writing should be very good. People get frightened as soon as they hear the name, “Brahma Kumaris”. So, you should write with great tact. They will receive BapDada’s introduction when they read the board. Surely, an inheritance is received through the corporeal. Shiv Baba is the One who establishes heaven. Muslims speak about the One who establishes Paradise. You have now become His children. Never forget such a Father. Maya is very powerful. This is why Baba says: Do not forget the days of this childhood. All are children. No matter how eminent a person may be, Baba would still say to that one: Maya is your great enemy. Baba explains: Do not speak of wasteful matters. You say “Mama” and “Baba”, so follow them and claim a high status. Beloved children, remember Me and the burden of your sins will be removed; otherwise, there will be great suffering. Then, at that time, you will feel it deeply. The feeling at the end is as though there is suffering over a long period. Souls go back when all their karmic accounts are settled. You will continue to have visions of all of that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not forget the days of your Godly childhood by being influenced by bad company. Never listen to or relate wasteful or wrong things of gossip among yourselves. Only speak about things of knowledge.
  2. Show everyone the way to claim their inheritance from the Father. Follow Mama and Baba fully and claim a right to a high status. Remove the burden of sins by having remembrance of the Father.
Blessing: May you be multimillion times fortunate by creating your fortune on the basis of having loving feelings (bhavna) in your ordinary life.
BapDada likes ordinary souls. The Father Himself comes in an ordinary body. Millionaires of today are also ordinary. Ordinary children have loving feelings and the Father wants children who have loving feelings, not those who have body consciousness. According to the drama, to be ordinary at the confluence age is also a sign of fortune. It is the ordinary children who make the Father, the Bestower of Fortune, belong to them and this is why they experience having a right to fortune. Those who have such a right become multimillion times fortunate.
Slogan: When you have a big heart in service, impossible tasks become possible.

*** Om Shanti ***

 

Read Bk Murli 29 July 2017 :- Click Here

 

 

Brahma kumaris murli 31 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 30 July 2017 :- Click Here

31/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें एक शिवबाबा को ही याद करना है, किसी देहधारी को नहीं, ज्ञान के सिवाए कोई भी व्यर्थ बातें न सुननी हैं, न सुनानी हैं”
प्रश्नः- बाप सभी बच्चों को कौन सी वारनिंग (सावधानी) देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, बाप के बने हो तो ईश्वरीय बचपन को कभी भूल नहीं जाना। कोई भी विकर्म नहीं करना। बाप से प्रतिज्ञा कर उसे छोड़ना नहीं। अगर बाप को भूलेंगे तो माया खुशी गायब कर देगी, फिर बुद्धि हैरान होती रहेगी, घबराते रहेंगे। विकर्म करते रहेंगे। बुद्धि का ताला बन्द हो जायेगा, इसलिए शिवबाबा के बने हो तो बचपन सदा याद रखो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना….

ओम् शान्ति। बच्चों ने अर्थ समझा? बच्चे सामने बैठे हैं और जानते हैं ब्रह्मा द्वारा वर्सा लेने के लिए हम उनके बच्चे बने हैं और यह भी अच्छी तरह जानते हैं कि हम निराकार परमपिता परमात्मा की अविनाशी सन्तान हैं। अब सम्मुख बैठे हैं दूर होने से कई बच्चे भूल जाते हैं। मित्र-सम्बन्धी, गुरू गोसाई आदि को देखते हो तो यह बचपन की बातें भूल जाती हैं। यहाँ जो सम्मुख बैठे हैं, वह तो नहीं भूलते होंगे। अविनाशी शिवबाबा से हम स्वर्ग का वर्सा ले रहे हैं, यह तो बड़ी खुशी की बात है ना। हमको शिवबाबा ने अपनाया है फिर से स्वर्ग के मालिक बनाने, हम मालिक थे। परन्तु पुनर्जन्म लेते-लेते अब नर्क के मालिक बने हैं, फिर स्वर्ग का मालिक बनेंगे। तुम जानते हो शिवबाबा जो निराकार है, वह इस तन में प्रवेश करते हैं। वह हमें श्रीमत देते हैं कि मुझ निराकार शिवबाबा को याद करो। सभी आत्माओं को कहते हैं क्योंकि वह सर्व का लिबरेटर है। लिबरेटर माना सद्गति दाता। मनुष्यों की ही सद्गति करेंगे। जानवरों की तो बात नहीं, लिबरेटर गाइड है मनुष्यों का। उनको नॉलेजफुल, ब्लिसफुल कहते हैं। यहाँ तुम सम्मुख बैठे हो तो नशा चढ़ता है। बाबा जानते हैं घर जाने से तुम बच्चे भूल जाते हो। माया भुला देती है। यहाँ तुम्हारी बुद्धि में कोई साधू सन्त गुरू वा लौकिक सम्बन्धी नहीं हैं। अभी है पारलौकिक सम्बन्ध। शिवबाबा इसमें प्रवेश होकर हमको स्वर्ग का वर्सा देते हैं। निराकार को जरूर साकार में आना पड़े। कहते हैं सिकीलधे बच्चे तुम फिर से स्वर्ग का वर्सा लेने के लिए आये हो। पूछा भी जाता है कि शिवबाबा से आपका क्या सम्बन्ध है? तुम कहेंगे हम उनके अविनाशी बच्चे हैं। फिर प्रजापिता ब्रह्मा के साकारी बच्चे हैं, क्योंकि पुनर्जन्म लेते रहते हो। दूसरे जन्म में सब तो बच्चे नहीं बनेंगे। बचपन की यह बातें भूलो मत। हम शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के बच्चे हैं। यहाँ आये हो फिर से स्वर्ग का वर्सा लेने। अभी नर्क में हैं। तुम अब संगम पर हो, कितनी सहज बात है। बुढ़ियाँ भी धारण कर सकती हैं, यह भूलना नहीं है। परन्तु बहुत हैं जो बाहर जाने से भूल जाते हैं। सारा दिन भूले रहते हैं, वह खुशी नहीं रहती है। फिर कहते हैं बाबा पता नहीं क्या होता है। वास्तव में यह तो बच्चों को बहुत अपार खुशी होनी चाहिए। बाप स्वर्ग का मालिक बनाते हैं और क्या चाहिए। बाप को भूलने कारण तुम घबराते हो, हैरान होते हो और विकर्म करते हो। यह कोई गुरू आदि नहीं है। यह सत बाप है। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। तुम शिवबाबा के बने हो ब्रह्मा द्वारा। वह भी बाबा है, यह भी बाबा है। इतने ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं, वर्सा कहाँ से मिलता है? शिवबाबा से। वह तो है ही नई दुनिया का रचयिता। तुम अभी ऐसे बापदादा के सम्मुख बैठे हो तो बाप समझाते हैं बच्चे कोई विकर्म नहीं करो। नये आयेंगे तो कहेंगे अच्छा आज प्रतिज्ञा करो – मुझे भूलना नहीं है। माया तुमको बार-बार भुलायेगी इसलिए बाप समझाते हैं, वारनिंग दी जाती है, मुरली से भी सब बच्चे सुनेंगे, समझेंगे बाबा मधुबन में बच्चों को ऐसे बैठ समझाते हैं। तुम जानते हो यह बचपन माया बार-बार भुला देती है। बुद्धि का ताला बिल्कुल बन्द हो जाता है। आत्मा को जब अतीन्द्रिय सुख मिलता है तो खुशी होती है। अब बाबा मुझे मिला है। बाबा सभी दु:खों से लिबरेट करते हैं क्योंकि वह सुखदाता है। सभी मनुष्यों का वह लिबरेटर है। ऐसे नहीं कि तुम कोई 84 लाख जन्म भोग आये हो। लाखों जन्मों की बात ही नहीं। यह तो 84 जन्मों का चक्र है। तुम जानते हो 5 हजार वर्ष पहले हमारा राज्य था। क्रिश्चियन घराने के 3000 वर्ष पहले हेविन था, फिर हेल कैसे बना, यह कोई भी नहीं जानते। बाप बैठ अच्छी रीति समझाते हैं। इसमें शास्त्रों आदि की कोई बात नहीं। अगर रांग समझते हो, संशय पड़ता है तो भाग जाओ। अरे शिवबाबा तुम्हारा पिता, ब्रह्मा भी तुम्हारा पिता। शिवबाबा कहते हैं इस ब्रह्मा तन में प्रवेश कर इनको बच्चा बनाता हूँ। फिर इन द्वारा और बच्चे एडाप्ट करते हैं। उन्हों को शिक्षा दे फिर स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। स्वर्ग के मालिक थे, अभी नर्क के हो। तुम देखते हो हम बाप के सम्मुख बैठे हैं। हम बच्चे दादे के वर्से के हकदार हैं। पावन जरूर बनना है। पावन बनने बिगर आत्मा उड़ नहीं सकती। यह तो गपोड़े मारते रहते हैं। फलाना निवार्णधाम में गया वा ज्योति ज्योत समाया। जाता एक भी नहीं है। जो भी एक्टर हैं सबको हाजिर यहाँ होना है। जब तक विनाश शुरू न हो तब तक हाज़िर होना है। आत्मायें आती ही रहती हैं। जब वहाँ से आना पूरा हो जाता है तब लड़ाई लगती है। तुम्हारी राजाई स्थापन हो जाती है। वहाँ से भी सब आ जाते हैं। यह सब बातें बाप बहुत अच्छी रीति समझाते हैं। परन्तु तुम भूल जाते हो। कितने भूले तो फारकती दे दी। अच्छे-अच्छे बच्चे जो बाप के पिछाड़ी न्योछावर हो जाते थे, यहाँ से जाते थे तो रोकर जाते थे। वहाँ जाने से नर्कवासियों का संग मिलता है तो सब भूल जाते हैं। बाप वारनिंग देते हैं बच्चे, इस बचपन को कभी भूलना नहीं। तुमको तो एक शिवबाबा को ही याद करना है। कोई भी गुरू गोसाई आदि का फोटो भी नहीं रखना है। निराकार शिवबाबा का फोटो तो निकल न सके। तुम बच्चों को बाबा अभी अच्छे कर्म करना सिखलाते हैं। ऐसे अच्छे कर्म और कोई सिखला न सके। तुम श्रेष्ठ बन रहे हो। शरीर छोड़ेंगे तो भी ऊंच सर्विस ही जाकर करेंगे क्योंकि तुम्हारी चढ़ती कला है फिर जो जितना पुरुषार्थ करेगा। बाबा फिर भी कहते हैं यहाँ तुम सम्मुख बैठे हो। यहाँ सुनते हो, याद रहता है फिर बाहर जाने से झट भूल जाता है। ऐसे भी हैं फिर आपस में झरमुई झगमुई, उल्टी सुल्टी बातें सुनते सुनाते रहते हैं। ज्ञान नहीं है तो एक दो को वाह्यात बातें सुनाकर माथा खराब करते हैं। बाबा लेने के लिए आये हैं। बाबा कहते हैं बच्चे मुझे याद करो तो इतना ऊंच पद पायेंगे इसलिए सिवाए ज्ञान के और किसी की भी ग्लानि आदि उल्टी सुल्टी बातें सुनो नहीं।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप को कहते हैं हेविनली गॉड फादर, स्वर्ग स्थापन करने वाला वर्ल्ड गॉड फादर। सभी मनुष्य मात्र का बाप एक ही निराकार है। तुम एक धर्म के हो, जो ब्रह्माकुमार कुमारियाँ बने हो, पीछे फिर और धर्मो की वृद्धि होती जाती है। सतयुग में एक ही देवी-देवता धर्म होगा। सब गोरे होंगे, फिर इस्लामी लोग निकलते हैं। फीचर्स बिल्कुल डिफरेन्ट। बौद्धियों की शक्ल देखो कैसी है। सब धर्म वालों की शक्ल अलग-अलग। अभी तो अनेक धर्मो का विनाश और एक धर्म की स्थापना हो रही है। तुम पतित से पावन बन रहे हो। याद रखना तुम्हारी दुश्मन माया बड़ी दुश्तर है। सिवाए ज्ञान के कोई वाह्यात बातें सुनने से बेमुख हो शोक वाटिका में चले जायेंगे। बाबा बार-बार समझाते हैं। तुम्हारा धन्धा ही यह है – बाप से वर्सा पाने की युक्ति बताना। बाबा ने समझाया था तुम्हारा परमपिता परमात्मा से क्या सम्बन्ध है! वह बोर्ड लगा दो। बड़ी अच्छी लिखत हो। ब्रह्माकुमारियों का नाम सुनते डरते हैं तो फिर और युक्ति से लिखा जाता है। बोर्ड पढ़ेंगे तो बापदादा का परिचय मिल जायेगा, जरूर साकार द्वारा ही वर्सा मिलेगा। शिवबाबा है ही स्वर्ग की स्थापना करने वाला। मुसलमान कहते हैं बहिश्त स्थापन करने वाला। अभी तुम उनके बच्चे बने हो, ऐसे बाप को भूलो नहीं। माया कितनी जबरदस्त है। तो बाबा कहते हैं इस बचपन को भूल मत जाना, बच्चे तो सब हैं ना। भल कितना बड़ा आदमी होगा तो भी बाबा कहेंगे, तुम्हारी माया बड़ी दुश्मन है। बाबा समझाते हैं, तुम फालतू बातें नहीं करना। तुम मम्मा बाबा कहते हो तो फालो कर ऊंच पद पाओ। लाडले बच्चे मुझे याद करो तो विकर्मो का बोझा उतर जाये, नहीं तो भोगना पड़ेगा फिर उस समय बहुत फील होगा। अन्त में ऐसी भासना आती है जैसे बहुत समय से भोगना भोग रहे हैं, हिसाब-किताब चुक्तू होता है तब वापिस जाते हैं। वह सारा साक्षात्कार होता रहेगा। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) संगदोष में आकर ईश्वरीय बचपन को भूलना नहीं, आपस में कभी भी कोई वाह्यात (व्यर्थ), उल्टी-सुल्टी बातें न सुननी है, न सुनानी है। ज्ञान की ही बातें करनी हैं।

2) हर एक को बाप से वर्सा लेने की युक्ति बतानी है। मम्मा-बाबा को पूरा फालो कर ऊंच पद का अधिकार लेना है। बाप की याद से विकर्मो का बोझ उतारना है।

वरदान:- साधारण जीवन में भावना के आधार पर श्रेष्ठ भाग्य बनाने वाले पदमापदम भाग्यवान भव 
बापदादा को साधारण आत्मायें ही पसन्द हैं। बाप स्वयं भी साधारण तन में आते हैं। आज का करोड़पति भी साधारण है। साधारण बच्चों में भावना होती है और बाप को भावना वाले बच्चे चाहिए, देह-भान वाले नहीं। ड्रामानुसार संगमयुग पर साधारण बनना भी भाग्य की निशानी है। साधारण बच्चे ही भाग्य विधाता बाप को अपना बना लेता है, इसलिए अनुभव करते हैं कि “भाग्य पर मेरा अधिकार है।” ऐसे अधिकारी ही पदमापदम भाग्यवान बन जाते हैं।
स्लोगन:- सेवाओं में दिल बड़ी हो तो असम्भव कार्य भी सम्भव हो जायेगा।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 29 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 29 July 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 30 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 29 July 2017 :- Click Here

30/07/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
30/04/82

Merge all expansion into a point.

BapDada comes into this corporeal body and world in order to take you all far away from your bodies and this world. The Resident of the faraway land comes to make everyone a resident of the far-away land. Those bodies will not go to the far-away land. Pure souls will go to their land with their Father. Are you ready to go with Him or is there still something remaining for you to pack up? When you move from one place to another, you pack up all the expansion and transform everything. So, what preparations do you need to make to go to the far-away land, your sweet home? All expansion has to be merged into a point. Have you imbibed the powers to accommodate and to pack up to this extent? According to the time, if you receive BapDada’s direction to go with Him in a second, would you be able to merge the expansion in a second? Are you able to become detached from all the different households of your body, your worldly households, the household of service, the household of your thoughts and sanskars of your own weaknesses that still remain and become loving in order to go with the Father? Or, would some households pull you to themselves? Have you moved away from all sides of all the different households or will some of those sides become your temporary support and distance you from the Father’s support and His company? When you have the thought that you now have to go or you receive the direction that you now have to go, then would you be able to fly by stabilising yourself on a double-light flying seat? Have you made such preparations or would you think that you still have to do this and that? Are you able to use the power to pack-up? Or will you remember the expansion of “my service”, “my centre“, “my students”, “my worldly family” or “my worldly work”? You won’t have this thought, will you? You present a drama in which you have different thoughts about the things that you have to do before you return. Just as in that drama, you won’t be deprived of the right to a seat to return back home with the Father, will you? At present, you are going into a lot of expansion. What is the sign of going into expansion? After a tree has grown fully, it merges into a seed. So, service now is growing very fast and it has to grow. However, to the extent that it is grows do not forget to become detached from the growth and be loving to the One they are going to go back with. Make sure that no strings of attachment still remain on any side. The strings on all sides should always be loose; that is, take leave from everyone in advance. For instance, before they die, people here arrange the final ceremonies that they want carried out. So, they have bidden farewell. In the same way, bid farewell to the bondages of your households in advance. Celebrate the final ceremony in advance. Keep the flying seat of the flying stage constantly ready. In today’s world, when a war starts in any country, they have everything in place for the king or president of that country to leave the country. At that time, there’s no margin even to issue an order to get something ready. As soon as they receive a signal of war, they run. What would happen otherwise? Instead of being a king or president, they would become jailbirds. Souls who are instruments and have temporary rights also have everything prepared in advance. So, who are you? You are the hero actors of this confluence age, that is, you are special souls. You also need to have all preparations ready before-hand, do you not? Or, will you make preparations at that time? You are only going to receive a margin of one second. So, what will you do at that time? You won’t even have any margin to think. Those who think, “Should I do this or not? I should do this… I should do that…”, will become part of the procession rather than companions. Therefore, is the stage of your vehicle of the subtle body ready? That is, is the vehicle of the stage of being free from the bondage of karma – karmateet – the final vehicle with which you will fly with the Father in a second, readyOr, are you counting how much time you still have? “This is still to happen, that will happen and, after that, this will happen.” You do not think in this way, do you? Make all your preparations. You may also adopt facilities for service. You may even make new plans. However, don’t tie strings to the sides and then leave them there. Whilst being involved in all the households, don’t forget to become a lotus! Don’t forget your preparations for returning home! When it comes to the facilities for service, don’t forget the vehicle of your final stage, that is, the elevated means of becoming loving and detached. Do plenty of service but don’t let go of the speciality of being detached. There is now a need to practise this. You either become completely detached or you become completely loving. Therefore, maintain a balance of being loving and detached. Do service but do it whilst being detached from the consciousness of “mine”. Do you understand what you have to do? You are now preparing new strings whilst the old ones are being broken. Even though you understand everything, you are tying new strings because they are sparkling strings. So, what do you have to do this year? BapDada sees, as the detached Observer, the children’s games. You are going ahead of each other in the race of the bondage of strings. So, in the midst of the expansion, maintain the form of the essence.

At present, the quantity of the result of service is very good, but now let the quantity also be full of qual ityQuantity is needed in the task of establishment. However, would you like it if there were an expanse of leaves on a tree but no fruit? Should there be fruit and flowers or just leaves? The leaves are the decoration of the tree and the fruit is the source of life for all time. So, make every soul into a form of instant and practical fruit, that is, pay special attention to making them into embodiments of the experience of virtues and powers. The growth is good but pay special attention to teaching them the method of become constantly powerful souls who are destroyers of obstacles. As well as enabling growth, also pay special attention to teaching them the way to become embodiments of success. They will become loving and co-operative according to their capacity, but you have to increase the special attention you pay to them, so that they become powerful souls who are able to face their obstacles and old sanskars and become mahavirs. Now increase the quantity of heir-qualitysouls who have a right to self-sovereignty and so world-sovereignty. Many have become servers, but now bring on to the world stage souls who are full of all powers and specialities.

This year, especially become an embodiment of experience and a mine of experiences and give the great donation of making all souls into embodiments of experience so that every soul becomes like Angad on the basis of their experience. Not that they are just moving along, just doing, listening, sharing etc. but, instead, let them sing songs of having attained the treasure of experience and swing in the swing of happiness.

This year, as well as enthusiasm for service, let enthusiasm for the flying stage also increase. Together with enthusiasm for service, celebrate such a festival that your enthusiasm remains unsuppressible. Do you understand? Constantly have enthusiasm for the flying stage and increase everyone’s enthusiasm.

This year, each one of you has to keep the aim of serving souls of different professions and make each one of them belong to the Father, and bring a bouquet of souls of the variety of professions in front of the Father. However, all of them have to be spiritual roses. The tree can be of a variety in which there are VIPs, souls of different occupations, ordinary people and also villagers. However, with the mine of experiences, make everyone into an embodiment of experience and attainment and bring them to the Father. Such ones are called spiritual roses. Make a bouquet, but don’t allow there to be any consciousness of “mine”. “My bouquet is the best of all.” They would not then be able to become spiritual roses. When you have any consciousness of “mine”, the bouquet wilts. Therefore consider them to be Baba’s children. Forget that they are yours. If you make them yours, you will distance those souls from their unlimited rights. No matter how great a soul is, a soul cannot be said to be omniscient (one who knows everything). They are not called oceans. So, don’t deprive any souls of their unlimited inheritance. Otherwise, later on, those souls will complain that those who made them belong to them in so doing deprived them of it! At that time, you won’t be able to bear their cries of sorrow. Their cries of sorrow will be coming from hearts filled with sorrow. So, pay special attention to understanding this special aspect. You may do special service. Use whatever powers you have – the power of your body, the power of your mind, the power of your wealth, the power of co-operating, even the power of time – for a powerful task. Don’t think about the future. You accumulate however much you use. Do you understand what you have to do? Use all your powers! Constantly fly in the flying stage and also take others into the flying stage. You have also received a slogan for enthusiasm, have you not?

This year, celebrate a double festival and all of you also prepare a bouquet of spiritual roses. Those who have come here today are also a variety bouquet. Souls have come from everywhere. This is now a variety bouquet from this land and abroad, is it not? Double foreigners have also claimed a share in the last dip. BapDada is congratulating you for coming here. All of you have received congratulations and so all of you have met, have you not? Have all of you met? You have received congratulations, so what else remains? Toli! Therefore, all of you make a line and take your toli! Such a time will also come. Since you are building such a big hall, what will the condition then be? The same system cannot continue for all time. This time, Baba especially satisfied the complaint of the children from Bharat. Every season has its own customs and systems. Just see what will happen next year. If Baba were to tell you now, there would be no pleasure in it. All of you will come with a bouquet, will you not? Bring quality because, together with quantity , you will be given a number on the basis of the quality. Even the politicians are very clever at gathering a crowd. Let there be quantity, but with quality. Bring such a bouquet. Don’t bring a bouquet of just leaves. Achcha.

[wp_ad_camp_3]

 

To those who are ever ready with their final vehicles, to those who are great donors when it comes to making all souls into embodiments of experience, to the souls who are constant instruments to give others the unlimited inheritance from the unlimited Father, the Bestower of Blessings and the Bestower of Fortune, to those who, as well as making souls into servers, also make them powerful, to those who achieve success and expansion by using the right method, to those who do service equal to that of the Father and are detached from service and loving and who will go back with the Father, to such close and equal souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Meeting servers:

There are instrument servers who give souls the Father’s introduction and enable them to claim a right to their inheritance, and there are servers of the yagya. At this time, all of you are playing a part in serving the yagya. You know very well that the importance of serving the yagya is so great! How much importance is there in each grain of the yagya? Each grain is as valuable as a gold coin. If someone does as much as a grain of service, he earns and accumulates an income as valuable as a gold coin. So, you didn’t do service, but accumulated an income. Firstly, you servers who are present received the chance to stay in Madhuban, the land of blessings and, secondly, you received the fortune of being in a constantly elevated atmosphere, and, thirdly, you received the fortune of constantly accumulating an income. You servers automatically receive so many types of fortune! Do you souls do service considering yourselves to be such fortunate servers? Does your awareness have such spiritual intoxication, or do you forget this whilst you are serving? Servers with their own elevated fortune can become instruments for making others enthusiastic. All the servers remained free from obstacles for as long they remained engaged in service – free from obstacles even in their minds. When there is no type of obstacle or upheaval, that’s what it is to be an embodiment of success in service. No matter how much upheaval of sanskars and situations there may be, those who are constantly with the Father and who constantly follow and see the Father, remain constantly free from obstacles. However, if you look at other souls or follow other souls, there will be fluctuation. The basis of attaining success in the service that servers do is to see the Father and follow the Father. So, did all of you serve with an honest heart? How was your chart of remembrance whilst serving? Achcha, you made your fortune elevated. The result is good. You are very fortunate souls because you received the chance to serve the yagya. Therefore, perform such a task that your memorial is created and that, whenever there is a need, only you are called. Those who serve tirelessly accumulate fruit for the present and also the future. All of you played your part s very well.

Blessing: May you be an image that attracts and with the awareness of constant victory, stay happy and give happiness to others.
“I am a victorious soul every cycle”. Let the tilak of victory constantly sparkle on your forehead for this tilak of victory will also give happiness to others because the face of a victorious soul is always cheerful. Everyone who sees a cheerful face is attracted by that happiness. At the end when no one will have time to listen to anyone, your image that attracts others and your cheerful face will serve many souls.
Slogan: To spread the light of the avyakt stage everywhere is to be a lighthouse.

 

*** Om Shanti ***
 [wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 28 July 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 30 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 29 July 2017 :- Click Here

30/07/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
30-04-82

विस्तार को बिन्दी में समाओ

बापदादा इस साकारी देह और दुनिया में आते हैं सभी को इस देह और दुनिया से दूर ले जाने के लिए। दूर-देश वासी सभी को दूर-देश निवासी बनाने के लिए आते हैं। दूर-देश में यह देह नहीं चलेगी। पावन आत्मा अपने देश में बाप के साथ-साथ चलेगी। तो चलने के लिए तैयार हो गये हो वा अभी तक कुछ समेटने के लिए रह गया है? जब एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हो तो विस्तार को समेट परिवर्तन करते हो। तो दूर-देश वा अपने स्वीट होम में जाने के लिए क्या तैयारी करनी पड़ेगी? सर्व विस्तार को बिन्दी में समाना पड़े। इतनी समाने की शक्ति, समेटने की शक्ति धारण कर ली है? समय प्रमाण बापदादा का डायरेक्शन मिले कि सेकण्ड में अब साथ चलो तो सेकण्ड में विस्तार को समा सकेंगे? शरीर की प्रवृत्ति, लौकिक प्रवृत्ति, सेवा की प्रवृत्ति, अपने रहे हुए कमजोरी के संकल्प की और संस्कार की प्रवृत्ति, सर्व प्रकार की प्रवृत्तियों से न्यारे और बाप के साथ चलने वाले प्यारे बन सकते हो? वा कोई प्रवृत्ति अपने तरफ आकर्षित करेगी? सब तरफ से सर्व प्रवृत्तियों का किनारा छोड़ चुके हो वा कोई भी किनारा अल्पकाल का सहारा बन बाप के सहारे वा साथ से दूर कर देंगे? संकल्प किया कि जाना है, डायरेक्शन मिला अब चलना है तो डबल लाइट के उड़न आसन पर स्थित हो उड़ जायेंगे? ऐसी तैयारी है? वा सोचेंगे कि अभी यह करना है, वह करना है? समेटने की शक्ति अभी कार्य में ला सकते हो वा मेरी सेवा, मेरा सेन्टर, मेरा जिज्ञासु, मेरा लौकिक परिवार या लौकिक कार्य – यह विस्तार तो याद नहीं आयेगा? यह संकल्प तो नहीं आयेगा? जैसे आप लोग एक ड्रामा दिखाते हो, ऐसे प्रकार के संकल्प अभी यह करना है, फिर वापस जायेंगे… ऐसे ड्रामा के मुआफिक साथ चलने की सीट को पाने के अधिकार से वंचित तो नहीं रह जायेंगे – अभी तो खूब विस्तार में जा रहे हो, लेकिन विस्तार की निशानी क्या होती है? वृक्ष भी जब अति विस्तार को पा लेता तो विस्तार के बाद बीज में समा जाता है। तो अभी सेवा का विस्तार बहुत तेजी से बढ़ रहा है और बढ़ना ही है लेकिन जितना विस्तार वृद्धि को पा रहा है, उतना विस्तार से न्यारे और साथ चलने वाले प्यारे, यह बात नहीं भूल जाना। कोई भी किनारे में लगाव की रस्सी न रह जाए। किनारे की रस्सियाँ सदा छूटी हुई हों अर्थात् सबसे छुट्टी लेकर रखो। जैसे आजकल यहाँ पहले से ही मरण मना लेते हैं ना – तो छुट्टी ले ली ना। ऐसे सब प्रवृत्तियों के बन्धनों से पहले से ही विदाई ले लो। समाप्ति-समारोह मना लो। उड़ती कला का उड़न आसन सदा तैयार हो। जैसे आजकल के संसार में भी जब लड़ाई शुरू हो जाती है तो वहाँ के राजा हो वा प्रेजीडेन्ट हो, उन्हों के लिए पहले से ही देश से निकलने के साधन तैयार होते हैं। उस समय यह तैयार करो, इसी आर्डर करने की भी मार्जिन नहीं होती। लड़ाई का इशारा मिला और भागा। नहीं तो क्या हो जाए? प्रेजीडेन्ट वा राजा के बदले जेल बर्ड बन जायेगा। आजकल की निमित्त बनी हुई अल्पकाल की अधिकारी आत्मायें भी पहले से अपनी तैयारी रखती हैं। तो आप कौन हो? इस संगमयुग के हीरो पार्टधारी अर्थात् विशेष आत्मायें। तो आप सबकी भी पहले से तैयारी चाहिए ना कि उस समय करेंगे? मार्जिन ही सेकण्ड की मिलनी है फिर क्या करेंगे? सोचने की भी मार्जिन नहीं मिलनी है। करूँ न करूँ, यह करूँ, वह करूँ, ऐसे सोचने वाले साथी के बजाए बराती बन जायेंगे इसलिए अन्त:वाहक स्थिति अर्थात् कर्मबन्धन मुक्त, कर्मातीत – ऐसी कर्मातीत स्थिति का वाहन अर्थात् अन्तिम वाहन, जिस द्वारा ही सेकण्ड में साथ में उड़ेंगे। वाहन तैयार है? वा समय को गिनती कर रहे हो? अभी यह होना है, यह होना है, उसके बाद होगा, ऐसे तो नहीं सोचते हो? तैयारी सब करो। सेवा के साधन भी भल अपनाओ। नये-नये प्लैन भी भले बनाओ। लेकिन किनारों में रस्सी बांधकर छोड़ नहीं देना। प्रवृत्ति में आते कमल बनना भूल न जाना। वापिस जाने की तैयारी नहीं भूल जाना। सदा अपनी अन्तिम स्थिति का वाहन – न्यारे और प्यारे बनने का श्रेष्ठ साधन सेवा के साधनों में भूल नहीं जाना। खूब सेवा करो लेकिन न्यारेपन की खूबी को नहीं छोड़ना। अभी इसी अभ्यास की आवश्यकता है। या तो बिल्कुल न्यारे हो जाते या तो बिल्कुल प्यारे हो जाते, इसलिए न्यारे और प्यारेपन का बैलेन्स रखो। सेवा करो लेकिन मेरेपन से न्यारे होकर करो। समझा क्या करना है? अब नई-नई रस्सियाँ भी तैयार कर रहे हैं। पुरानी टूट रही हैं। समझते भी नई रस्सियाँ बांध रहे हैं क्योंकि चमकीली रस्सियाँ हैं। तो इस वर्ष क्या करना है? बापदादा साक्षी होकर के बच्चों का खेल देखते हैं। रस्सियों में बंधने की रेस में एक दो से बहुत आगे जा रहे हैं, इसलिए सदा विस्तार में जाते सार रूप में रहो।

वर्तमान समय सेवा की रिजल्ट में क्वान्टिटी बहुत अच्छी है लेकिन अब उस क्वान्टिटी में क्वालिटीज़ भरो। क्वान्टिटी की भी स्थापना के कार्य में आवश्यकता है। लेकिन वृक्ष के पत्तों का विस्तार हो और फल न हो तो क्या पसन्द करेंगे? पत्ते भी हों और फल भी हों या सिर्फ पत्ते हों? पत्ते वृक्ष का श्रृंगार हैं और फल सदाकाल के जीवन का सोर्स हैं इसलिए हर आत्मा को प्रत्यक्षफल स्वरूप बनाओ अर्थात् विशेष गुणों के, शक्तियों के अनुभवी मूर्त बनाओ। वृद्धि अच्छी है लेकिन सदा विघ्न-विनाशक, शक्तिशाली आत्मा बनने की विधि सिखाने के लिए विशेष अटेन्शन दो। वृद्धि के साथ-साथ विधि सिखाने का, सिद्धि स्वरूप बनाने का भी विशेष अटेन्शन। स्नेही, सहयोगी तो यथाशक्ति बनने ही हैं लेकिन शक्तिशाली आत्मा, जो विघ्नों का, पुराने संस्कारों का सामना कर महावीर बन जाए, इस पर और विशेष अटेन्शन। स्वराज्य अधिकारी सो विश्व राज्य अधिकारी, ऐसे वारिस क्वालिटी को बढ़ाओ। सेवाधारी बहुत बने हो लेकिन सर्व शक्तियों धारी ऐसी विशेषता सम्पन्न आत्माओं को विश्व की स्टेज पर लाओ।

इस वर्ष हरेक आत्मा प्रति विशेष अनुभवी मूर्त बन विशेष अनुभवों की खान बन, अनुभवी मूर्त बनाने का महादान करो, जिससे हर आत्मा अनुभव के आधार पर अंगद समान बन जाए। चल रहे हैं, कर रहे हैं, सुन रहे हैं, सुना रहे हैं, नहीं। लेकिन अनुभवों का खजाना पा लिया – ऐसे गीत गाते खुशी के झूले में झूलते रहें।

इस वर्ष – सेवा के उत्सवों के साथ उड़ती कला का उत्साह बढ़ता रहे। तो सेवा के उत्सव के साथ-साथ उत्साह अविनाशी रहे, ऐसे उत्सव भी मनाओ। समझा। सदा उड़ती कला के उत्साह में रहना है और सर्व का उत्साह बढ़ाना है।

इस वर्ष- हर एक को यह लक्ष्य रखना है कि हरेक को भिन्न-भिन्न वर्ग के आत्माओं की सेवा कर वैरायटी वर्गों की हर आत्मा को बाप का बनाकर वैरायटी वर्ग का गुलदस्ता तैयार कर बाप के आगे लाना है। लेकिन हों सभी रूहानी रूहे गुलाब। वृक्ष भल वैरायटी हो, वी.आई.पी. भी हों तो अलग-अलग आक्यूपेशन वाले भी हों, साधारण भी हों, गांव वाले भी हों लेकिन सबको अनुभवों की खान द्वारा अनुभवी मूर्त बनाकर प्राप्ति स्वरूप बनाकर सामने लाओ – इसको कहा जाता है रूहानी रूहे गुलाब। गुलदस्ता बनाना लेकिन मेरापन नहीं लाना। मेरा गुलदस्ता सबसे अच्छा है – तो रूहे गुलाब नहीं बन सकेंगे। “मेरापन लाया तो गुलदस्ता मुरझाया” इसलिए समझो – बाबा के बच्चे हैं, मेरे हैं इसको भूल जाओ। अगर मेरे बनायेंगे तो उन आत्माओं को भी बेहद के अधिकार से दूर कर देंगे। आत्मा चाहे कितनी भी महान् हो लेकिन सर्वज्ञ नहीं कहेंगे। सागर नहीं कहेंगे इसलिए किसी भी आत्मा को बेहद के वर्से से वंचित नहीं करना। नहीं तो वो ही आत्मायें आगे चल मेरे बनाने वालों को उल्हनें देंगी कि हमें वंचित क्यों बनाया! उन्हों के विलाप उस समय सहन नहीं कर सकेंगे। इतने दु:खमय दिल के विलाप होंगे इसलिए इस विशेष बात को विशेष ध्यान से समझना। विशेष सेवा भल करो। तन की शक्ति, मन की शक्ति, धन की शक्ति, सहयोग देने की शक्ति, जो भी शक्तियाँ हैं, समय की भी शक्ति है – इन सबको समर्थ कार्य में लगाओ। आगे का नहीं सोचो। जितना लगाया उतना जमा हुआ। तो समझा क्या करना है! सर्व शक्तियों को लगाओ। स्वयं को सदा उड़ती कला में उड़ाओ और औरों को भी उड़ती कला में ले जाओ। उत्साह का स्लोगन भी मिला ना!

इस वर्ष डबल उत्सव मनाने हैं और रूहानी रूहों का गुलदस्ता हरेक को तैयार करना है। आज आये हुए भी वैरायटी गुदलस्ता ही हैं। चारों ओर के आ गये हैं ना। देश-विदेश का वैरायटी गुलदस्ता हो गया ना! डबल विदेशियों ने भी लास्ट नहान में हिस्सा ले लिया है। बापदादा भी आने की बधाई देते हैं। बधाई भी सबको मिल गई तो मिलना हो गया ना! सबने मिल लिया! बधाई ले ली बाकी क्या रहा? टोली। तो लाइन लगाते आना और टोली लेते जाना। ऐसा ही समय आने वाला है। जब इतना बड़ा हाल बना रहे हो तो बताओ क्या हाल होगा? सदा एक रसम तो नहीं चलती है ना! इस बार तो विशेष भारतवासी बच्चों का उल्हना पूरा किया। हर सीज़न का अपना-अपना रसम-रिवाज होता है। अगले वर्ष क्या होता सो देखना। अभी ही बता दें तो फिर मजा नहीं आयेगा। सभी गुदलस्तों सहित आयेंगे ना। क्वालिटी बनाकर लाना – क्योंकि नम्बर तो क्वालिटी सहित क्वान्टिटी पर मिलेगा। ऐसे तो भीड़ इकट्ठी करने में तो नेतायें भी होशियार हैं। क्वान्टिटी हो लेकिन क्वालिटी सहित। ऐसा गुलदस्ता लाना। सिर्फ पत्तों का गुलदस्ता नहीं ले आना। अच्छा।

[wp_ad_camp_3]

 

ऐसे सदा अन्तिम वाहन के एवररेडी, सर्व आत्माओं को अनुभवी मूर्त बनाने के महादानी, सदा वरदाता, विधाता, बेहद के बाप से बेहद का वर्सा दिलाने के निमित्त बनने वाली आत्मायें, सदा सेवाधारी के साथ-साथ शक्तिशाली आत्मायें बनाने वाले, वृद्धि के साथ विधि द्वारा प्राप्तियों की सिद्धि प्राप्त करने वाले, ऐसे बाप समान सेवा करते, सेवा से न्यारे और बाप साथ चलने वाले प्यारे, ऐसे समीप और समान आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

सेवाधारियों से:-

एक हैं आत्माओं को बाप का परिचय दे बाप के वर्से के अधिकारी बनाने के निमित्त सेवाधारी और दूसरे हैं यज्ञ सेवाधारी। तो इस समय आप सभी यज्ञ सेवा का पार्ट बजाने वाले हो। यज्ञ सेवा का महत्व कितना बड़ा है – उसको अच्छी तरह से जानते हो। यज्ञ के एक-एक कणे का कितना महत्व है? एक-एक कणा मुहरों के समान है। अगर कोई एक कणें जितना भी सेवा करते हैं तो मुहरों के समान कमाई जमा हो जाती है। तो सेवा नहीं की लेकिन कमाई जमा की। सेवाधारियों को वर्तमान समय एक तो मधुबन वरदान भूमि में रहने के चांस का भाग्य मिला और दूसरा सदा श्रेष्ठ वातावरण उसका भाग्य और तीसरा सदा कमाई जमा करने का भाग्य। तो कितने प्रकार के भाग्य सेवाधारियों को स्वत: प्राप्त हो जाते हैं। इतने भाग्यवान सेवाधारी आत्मायें समझकर सेवा करते हो? इतना रूहानी नशा स्मृति में रहता है या सेवा करते-करते भूल जाते हो? सेवाधारी अपने श्रेष्ठ भाग्य द्वारा औरों को भी उमंग-उल्लास दिलाने के निमित्त बन सकते हैं। सभी सेवाधारी जितना भी समय जिस भी सेवा में रहे – निर्विघ्न रहे! मन्सा में भी निर्विघ्न। किसी भी प्रकार का कभी भी विघ्न वा हलचल न आये इसको कहा जाता है सेवा में सफलतामूर्त। चाहे कितना भी संस्कार वा परिस्थितियाँ नीचे-ऊपर हों लेकिन जो सदा बाप के साथ हैं, साथ फालो फादर हैं, सदा सी फादर हैं, वह सदा निर्विघ्न रहेंगे और अगर कहाँ भी किसी आत्माओं को देखा, आत्माओं को फालो किया तो हलचल में आ जायेंगे। तो सेवाधारी के लिए सेवा में सफलता पाने का आधार – सी फादर वा फालो फादर। तो सभी ने सच्ची दिल से सेवा की ना? सेवा करते याद का चार्ट कैसे रहा! अच्छा अपना श्रेष्ठ भाग्य बना लिया। रिजल्ट अच्छी है। बड़ी भाग्यवान आत्मायें हो जो यज्ञ सेवा का चांस मिला है। तो ऐसा कर्तव्य करके जाओ – जो आपका यादगार बन जाये और फिर कभी आवश्यकता पड़े तो आपको ही बुलाया जाए। अथक होकर जो सेवा करते हैं उनका फल वर्तमान और भविष्य दोनों जमा हो जाता है। तो सभी ने अपना-अपना अच्छा पार्ट बजाया। अच्छा।

वरदान:- सदा विजय की स्मृति से हर्षित रहने और सर्व को खुशी दिलाने वाले आकर्षण मूर्त भव 
हम कल्प-कल्प की विजयी आत्मा हैं, विजय का तिलक मस्तक पर सदा चमकता रहे तो यह विजय का तिलक औरों को भी खुशी दिलायेगा क्योंकि विजयी आत्मा का चेहरा सदा ही हर्षित रहता है। हर्षित चेहरे को देखकर खुशी के पीछे स्वत: ही सब आकर्षित होते हैं। जब अन्त में किसी के पास सुनने का समय नहीं होगा तब आपका आकर्षण मूर्त हर्षित चेहरा ही अनेक आत्माओं की सेवा करेगा।
स्लोगन:- अव्यक्त स्थिति की लाइट चारों ओर फैलाना ही लाइट हाउस बनना है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 28 July 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 29 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 28 July 2017 :- Click Here

29/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t spend your invaluable time in wasteful matters. Become prosperous by having remembrance of the Father.
Question: What advice do both Bap and Dada give the children with humility for their benefit?
Answer: Children, always be aware that Shiv Baba is teaching you. Although Brahma Baba also teaches you, you only benefit by having remembrance of Shiv Baba. That is why this Dada is egoless and says: I do not teach you; only the one Father teaches you, so remember Him alone. Only by remembering Him, not me, will you become conquerors of sinful actions and your sins be absolved.

Om shanti. You children are now sitting in front of the Father. It is definitely in the intellects of you children that the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, is teaching you through the body of Brahma. The intellect will first go to your land of peace and then come down here. Shiv Baba has come into the body of Brahma in order to teach you Raja Yoga. The intellects of students are aware who is teaching them. When they go to school,they are aware that such and such a teacher is teaching them; they are aware of their names and they also see them with their eyes. There are various spiritual gatherings that take place. There, they say that a particular mahatma (great soul) is relating such and such a scripture. They relate various scriptures. You have been listening to them for birth after birth. Now, while sitting here, you remember Shiv Baba. You understand that your Baba, the Purifier, is Shiva. He now comes and teaches you through Brahma. This Brahma is teaching you as well. If Brahma Kumars and Kumaris can teach you, can Brahma too not teach you? However, you must have the consciousness that Shiv Baba is teaching you, not Brahma. There is benefit for you in this. This is known as the stage of humility. Bap and Dada are both egoless. This one, himself, says: Although I teach you, have the consciousness that Shiv Baba is teaching you. The more you remember Shiv Baba, the more you will become conquerors of sinful actions. Always think that Shiv Baba, the Purifier, the Ocean of Knowledge, is teaching you. As much as possible, do not forget Shiv Baba. You are to claim the inheritance from Him. Shiv Baba says: Constantly remember Me. He also tells the Brahma soul: You have to come to Me. While sitting or moving, make effort to stay in remembrance. There is a great deal of income in this, and you will also have good health. Don’t ever waste timeHear no evil, speak no evil, see no evil. Only speak of things of knowledge and yoga; do not speak of anything useless. If there is no knowledge, there is definitely ignorance. They will continue to gossip, but you must never listen to such things. If anyone speaks about wasteful matters to you, understand that that one is your enemy. Time is wasted by listening to wasteful matters. The Father says: Don’t listen to such wasteful things. Some will defame others, and some will say wrong things about others. This is why you are told: Neither listen to nor speak of such things. Those who do not have knowledge speak in that way and cause damage. This is why it is explained again and again: Remain busy in service. The more you explain these pictures to others, the more knowledge you will imbibe. While sitting here, look at these pictures and have the thought: This is Shiv Baba and this is Dada; we receive the inheritance through this one and this impure world is then destroyed. You can entertain yourself with such thoughts. This is better than gossiping, otherwise you become sinful souls. The Father says: Children, do not become sinful souls. Those who listen to the news of the world and who relate such things as “So and so is like this”, or, “They do this”, waste time needlessly. You are becoming very prosperous. You are becoming the masters of the world. Definitely, Bharat was very prosperous. It has now become ruined. You are now becoming prosperous through the Father. It is very easy to remember the Father and the world cycle. No one knows about this confluence age. Everyone in the iron age is impure, whereas everyone in the golden age is pure. The Father says: I come at the confluence of every cycle in order to purify the impure ones. There are also sinners such as Ajamil. This is the world of sin, the world without comfort. The world of pure, charitable souls is the world of comfort. No one else can explain these things. Where comfort can be attained is not in the intellect of anyone. You explain that there is happiness in the land of happiness. This is the world of sorrow and, even though people have built huge palaces etc., all of those paths make you impure. Otherwise, why would Bharat be in such a state of degradation? Only the one Father brings about the stage of ascent; all others make you fall. This has to be understood clearly; there is no question of blind faith. If a teacher says, “I teach you to become a BA ,  it cannot be a lie. The unlimited Father says: I teach you easy Raja Yoga and make you into the kings of kings. I make you the kings of heaven. The contrast between the kings of heaven and the kings of hell is like that of day and night. Those who become kings and queens in hell do so by giving donations and performing charity; they receive temporary happiness. The kings and queens of heaven are created by them studying. You also understand what Baba’s plan is: that of changing the entire world,the land of sorrow into the land of happiness and peace. You know that Bharat was the land of happiness and that, at that time, all other souls were in the land of peace. Everyone is now in the land of sorrow, but later we will go to the land of peace and then to the land of happiness. Those who study Raja Yoga are the ones who go to the land of happiness while all others will settle their karmic accounts and return to the land of peace. No one in the world knows what the land of peace and the land of happiness are. This Baba says: I too did not know. The one who was himself the master had forgotten, and so what would anyone else know? According to the drama, all have to descend. It is now time to ascend once again. The Father says: I have come to take everyone to the land of peace and the land of happiness. Many will come to you. They will say: we want peace of mind! No one can talk about the land of happiness. Sannyasis belong to the path of isolation, so they can never show the path to happiness. Just as the Father has mercy in taking these souls to the land of peace and the land of happiness, in the same way, you children should feel that you have to give the Father’s introduction. The people of Bharat should definitely receive the inheritance from the Father. Why are we in hell? We were the ones in heaven and we are now in hell. However, people do not understand these things at all. Maya has locked their intellects so completely that they are not even able to understand such an easy thing. Since God is the Creator of heaven, surely we should be the masters of heaven. We are no longer that because it is the kingdom of Ravan. This kingdom of Ravan is now about to be destroyed, and the same Mahabharat War is standing just ahead for this. It is very easy when this sits in someone’s intellect, but, because it does not sit in their intellects, they keep gossiping among themselves and wasting time. You must not allow yourself to listen to such things. You must remain busy with your studies, for only then will you claim a high status. Good students in a school study very well. During the days of their examinations, they especially go into solitude to study in order not to fail. Those who fail continue to stumble. The Father says: As much as possible, stay in remembrance of the one Father. As soon as a girl becomes engaged to her future bridegroom, that becomes imprinted. Achcha, if, today, a woman gets married and, tomorrow, her husband dies, she continues to remember him for the rest of her life. However, those husbands make you impure. The Father says: I make you into the masters of heaven, so how much should you remember such a Father? Maya will try very hard to break your yoga, but you must be very courageous. Your thoughts will bring many storms that would not have come even when you were in ignorance. Herbalists say that all the sickness will emerge but you must not be afraid; you must not be afraid and start taking some other medicine; no. Baba also says: Do not be afraid. Many storms will come in the mind, but do not perform sinful actions through the sense organs. Speak knowledge to one another and bring benefit to one another. The Father explains: You must remain intoxicated. Open a Gita pathshala in your home. Charity begins at home. Let your children become the masters of heaven. A man takes a wife and creates children with her in order to give them happiness. You also understand that you are earning an income for the future, so why not enable your wife and children to do the same? Tell them again and again: By all means, continue with your business etc., but simply continue to remember the Father. This practice should be instilled to such an extent that, at the end, at the time of destruction, only one Baba is remembered. The Father says: All of you are now in your stage of retirement. Everyone has to return to Me. I have come to take you back. Your wings are broken. Sannyasis cannot remember the Father; they remember the brahm element. Yes, those who belong to the deity religion will accept all of this and begin to remember Shiv Baba. You cannot become a deity without first becoming a Brahmin. This is the somersault of the different castes. You belonged to the shudra clan, but you have now become Brahmins through Brahma and are claiming the inheritance from the Grandfather. You have changed from shudras into Brahmins, and you will later become the masters of the new world. Brahmins are the most elevated; Brahmins are the topknot. We play the game of somersaulting. We receive this knowledge of 84 births in a second. They go on pilgrimages while playing the game of somersaulting. They give so much importance to that; they go with such feelings.

[wp_ad_camp_3]

 

However, nowadays, they drink alcohol etc., and, even when they go on a pilgrimage, they hide a bottle in their pocket out of habit. Baba has experienced all of those things. Baba has taken a completely experienced chariot. The Father says to this one: You have adopted many gurus and attended many spiritual gatherings, but now forget everything; now listen to what I am telling you. God spoke to Arjuna, but, this is in fact the chariot. Shiv Baba is the Charioteer in the chariot. All of you are Arjuna. However, there is no question of horses and chariots etc., nor is there any question of an army. That is the path of devotion and this is the path of knowledge. The department of devotion is completely separate. Only the one Father gives knowledge; all others are devotees. Souls of all human beings of the world say: O God the Father! Souls understand that He is the Father of souls. They know that they have a lokik father, so why do they not remember H eavenlyGod, the Father? Why do they only remember Him at a time of sorrow? The Father says: I give so much happiness and peace that I am the one who is remembered at a time of sorrow. So, you should talk about the things of knowledge among yourselves. You must also go to your friends, relatives and officers. Stay in connection with everyone. You must give them the donation of the jewels of knowledge with great tact. You should also go to weddings etc. for the sake of service. You are the incognito, non-violent army. You cannot commit any kind of violence; you must not cause sorrow. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love and remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim a high status, remain busy with your studies. Don’t listen to wasteful things. Do not waste your time.
  2. Give knowledge and bring benefit to one another. Do not perform any sinful actions with the sense organs under the influence of storms in the mind.
Blessing: May you become supreme and elevated and finish ordinariness by considering yourself to be a special actor.
Just as the Father is the Supreme Soul, similarly, children who play special part s are also supreme, that is, they are elevated in every aspect. You simply have to play your part on the stage as a special actor while walking and moving around and while eating and drinking. Constantly pay attention to your action, that is, your part Special actors can never be careless. If a hero actor were to perform an ordinary act, everyone would laugh at him. So, let your every step, every thought and every moment be special, not ordinary.
Slogan: Make your attitude powerful and service will automatically increase.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 27 July 2017 :- Click Here

 

 

Brahma kumaris murli 29 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 28 July 2017 :- Click Here

29/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – वाह्यात (व्यर्थ) बातों में तुम्हें अपना अमूल्य समय बरबाद नहीं करना है, बाप की याद से आबाद होना है”
प्रश्नः- बापदादा दोनों ही निरंहकारी बन बच्चों के कल्याण के लिए कौन सी राय देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, सदैव समझो हमें शिवबाबा पढ़ाते हैं। भल ब्रह्मा बाबा भी तुम्हें पढ़ा सकते हैं लेकिन शिवबाबा को याद करने में ही तुम्हारा कल्याण है इसलिए यह दादा निरहंकारी बन कहते हैं मैं तुम्हें नहीं पढ़ाता हूँ। पढ़ाने वाला एक बाप है, उसे ही याद करो। उनकी याद से ही तुम विकर्माजीत बनेंगे, विकर्म विनाश होंगे। मेरी याद से नहीं।

ओम् शान्ति। अब बच्चे सामने बैठे हैं, बच्चों की बुद्धि में जरूर होगा कि पतित-पावन परमपिता परमात्मा जो ज्ञान का सागर है वह इस ब्रह्मा तन द्वारा हमको पढ़ा रहे हैं। बुद्धि तो पहले जायेगी अपने शान्तिधाम में, फिर आयेगी यहाँ। शिवबाबा आये हैं इस ब्रह्मा तन में हमको राजयोग सिखाने। स्टूडेन्ट की बुद्धि में यह होगा ना कि हमको कौन पढ़ाते हैं। स्कूल में जायेंगे तो समझेंगे ना कि फलाना टीचर हमको पढ़ाते हैं। उनका नाम भी ख्याल में रहता है। ऑखों से देखते भी हैं। सतसंग भी किसम-किसम के होते हैं। वहाँ कहेंगे फलाना महात्मा हमको फलाना शास्त्र सुनाते हैं। भिन्न-भिन्न अनेकानेक शास्त्र सुनाते हैं। जन्म-जन्मान्तर ऐसे सुनते ही आये हो। अभी तुम यहाँ बैठे-बैठे याद करते हो शिवबाबा को। तुम समझते हो हमारा पतित-पावन बाबा वह शिव है। वही आकर ब्रह्मा द्वारा हमको पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा भी पढ़ाते हैं। जब ब्रह्माकुमार कुमारियाँ भी पढ़ा सकते हैं, तो क्या ब्रह्मा नहीं पढ़ा सकते हैं! फिर भी तुम ऐसे ही समझो कि हमको शिवबाबा ही पढ़ाते हैं, न कि ब्रह्मा। इसमें तुम्हारा बहुत फायदा होगा। इसको ही निरहंकारीपना कहा जाता है। बाप और दादा दोनों ही निरंहकारी हैं। यह खुद कहते हैं भल मैं भी पढ़ाता हूँ परन्तु समझो कि शिवबाबा पढ़ाते हैं। जितना शिवबाबा को याद करेंगे उतना विकर्माजीत बनते जायेंगे। हमेशा समझो कि शिवबाबा पतित-पावन ज्ञान का सागर हमको पढ़ाते हैं। जितना हो सके शिवबाबा को भूलना नहीं है। वर्सा भी उनसे ही पाना है। शिवबाबा कहते हैं निरन्तर मुझे याद करो। ब्रह्मा की आत्मा को भी कहते हैं तुमको मेरे पास आना है। उठते बैठते मेरे को याद करने का पुरुषार्थ करो, इसमें कमाई बहुत है। हेल्थ भी बहुत अच्छी मिलेगी। कभी भी टाइम वेस्ट नहीं करो। हियर नो ईविल, टॉक नो ईविल….. सिवाए ज्ञान और योग के कोई भी वाह्यात बातें नहीं करनी है। जिसमें ज्ञान कम है तो जरूर अज्ञान ही होगा। झरमुई झगमुई करते रहेंगे। ऐसी बातें कभी नहीं सुनना। जब ऐसे देखो कि वह वाह्यात बातें सुनाते हैं तो समझो यह हमारा दुश्मन है। फालतू बातें सुनाकर टाइम वेस्ट करते हैं। बाप कहते हैं ऐसी फालतू बातें नहीं सुनो। कोई की ग्लानी करेंगे, कोई के लिए कुछ बोलेंगे। कहेंगे ऐसी बातें कभी नहीं सुनना, न कभी सुनाना। जिसमें ज्ञान नहीं है वही ऐसी बातें सुनाकर और ही नुकसान करते रहेंगे इसलिए बार-बार समझाया जाता है कि सर्विस में तत्पर रहो। इन चित्रों पर जितना एक दो को समझायेंगे उतना धारणा भी होगी। यहाँ बैठ चित्र देखो – यह ख्याल करो, यह शिवबाबा है, यह दादा है। इन द्वारा हमको वर्सा मिलता है। फिर इस पतित दुनिया का विनाश हो जायेगा। ऐसी-ऐसी बातें करते अपने को भी बहला सकते हो। वह अच्छा होगा। झरमुई झगमुई की तो पाप आत्मा बन जायेंगे। बाप कहते हैं बच्चे पाप आत्मा नहीं बनना। दुनिया का समाचार, फलानी ऐसी है, उसने यह किया, ऐसी बातें जो सुनते और सुनाते हैं वह मुफ्त समय बरबाद करते हैं। तुम तो बहुत आबाद हो रहे हो। विश्व के मालिक बन रहे हो। बरोबर भारत आबाद था। अब बरबाद है। बाप द्वारा आबाद हो रहे हो। बाप और सृष्टि चक्र को याद करना यह तो बड़ा ही सहज है। इस संगमयुग का कोई को पता नहीं है। कलियुग में सब पतित हैं, सतयुग में सब पावन थे। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प के संगमयुग पर आता हूँ, पतितों को पावन बनाने। अजामिल जैसे पापी भी हैं। यह है ही पाप की दुनिया, इसमें कोई चैन नहीं है। वह पुण्य आत्माओं की चैन पाने की दुनिया है। यह बातें कोई समझा न सके। किसी की भी बुद्धि में नहीं है कि चैन कहाँ मिलता है। यह तुम समझाते हो कि सुखधाम में सुख मिलता है। यह है ही दु:खधाम। भल बड़े-बड़े महल बनाकर बैठे हो परन्तु रास्ता सारा पतित बनाने का ही है। नहीं तो भारत की इतनी उतरती कला क्यों होती। चढ़ती कला करने वाला एक ही बाप है। बाकी सब गिराने वाले हैं, इसमें बहुत समझ की बात है। अन्धश्रधा की कोई बात नहीं है। टीचर कहते तुमको बी.ए. पढ़ाते हैं, तो झूठ थोड़ेही हो सकता। यह बेहद का बाप भी कहते हैं मैं तुमको सहज राजयोग सिखाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। स्वर्ग का राजा बनाता हूँ। स्वर्ग का राजा और नर्क का राजा बनने में रात दिन का फर्क है। नर्क में जो राजा रानी बनते हैं, वह दान पुण्य से बनते हैं। अल्पकाल का सुख मिलता है। और स्वर्ग के राजा रानी बनते हैं पढ़ाई से। यह भी तुम जानते हो – बाबा का प्लैन क्या चल रहा है। सारी सृष्टि जो दु:खधाम है, उनको सुखधाम, शान्तिधाम बनाना है। जानते हो भारत सुखधाम था। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थी। अभी तो सब दु:खधाम में हैं।

फिर शान्तिधाम, सुखधाम में जाना है। जो राजयोग सीखते हैं वही सुखधाम में आयेंगे, बाकी हिसाब-किताब चुक्तू कर शान्तिधाम में चले जायेंगे। शान्तिधाम-सुखधाम क्या है, यह दुनिया में किसको पता नहीं है। यह बाबा भी कहते हैं हम नहीं जानते थे। जो खुद मालिक था वह भूल गया है, तो बाकी मनुष्य क्या जानते होंगे। ड्रामा अनुसार सबको गिरना ही है। अब फिर चढ़ने का समय है। बाप कहते हैं मैं आया ही हूँ सबको सुखधाम, शान्तिधाम ले चलने। तुम्हारे पास बहुत आयेंगे, कहेंगे मन को शान्ति चाहिए। सुखधाम का वार्तालाप तो कोई करने वाला है नहीं। सन्यासी तो निवृत्ति मार्ग वाले हैं, वह तो कभी सुख का रास्ता बता नहीं सकते। तो जैसे बाप को तरस पड़ता है कि इन्हों को सुखधाम शान्तिधाम में ले जाऊं। बच्चों को भी आना चाहिए कि बाप का परिचय देना है। बाप से जरूर भारतवासियों को वर्सा मिलना चाहिए। हम नर्क में क्यों हैं, हम ही स्वर्ग में थे। अब नर्क में हैं। परन्तु इन बातों को बिल्कुल ही समझ नहीं सकते हैं। माया ने बुद्धि का ताला बिल्कुल ही बन्द कर दिया है, जो इतनी सहज बात भी समझ नहीं सकते हैं। भगवान जब स्वर्ग का रचयिता है तो जरूर हम स्वर्ग के मालिक होने चाहिए। अब नहीं हैं क्योंकि रावणराज्य है। इस रावण राज्य का विनाश तो अब होना ही है। इनके लिए वही महाभारत लड़ाई सामने खड़ी है। बड़ा सहज है। परन्तु जब किसकी बुद्धि में बैठे। बुद्धि में न बैठने के कारण आपस में झरमुई झगमुई बहुत करते हैं। टाइम बरबाद करते हैं। ऐसी बातें कानों से कभी नहीं सुनना। तुम अपनी पढ़ाई में तत्पर रहो, तब ही पद मिलेगा। पाठशाला में जो अच्छे स्टूडेन्ट होते हैं वह बहुत अच्छी रीति पढ़ते हैं। इम्तहान के दिनों में खास एकान्त में जाकर पढ़ते हैं कि कहाँ नापास न हो जाएं। नापास होने वाले धक्के खाते रहेंगे। बाप कहते हैं जितना हो सके एक बाप की याद में रहो। सजनी की साजन से सगाई हुई और बस छाप लगी। अच्छा-आज शादी की, कल पति मर गया। सारी आयु उसको याद करती रहेगी। अब वह तो पतित बनाने वाले हैं, बाप कहते हैं मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। तो ऐसे बाप को कितना याद करना चाहिए। माया तुम्हारा योग तोड़ने की बहुत कोशिश करेगी, परन्तु तुमको बहादुर रहना है। संकल्प बहुत तूफान लायेंगे। जो अज्ञान काल में भी नहीं आते थे, जैसे वैद्य लोग कहते हैं – इनसे डरना नहीं है। ऐसे नहीं डरकर जाए दूसरी दवाई करो। नहीं। बाबा भी कहते हैं – डरना नहीं है। मन्सा के तूफान बहुत आयेंगे लेकिन कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना। एक दो को ज्ञान सुनाकर कल्याण करना। बाबा बहुत समझाते हैं कि तुम अपनी मस्ती में मस्त रहो। घर में गीता पाठशाला खोलो। चैरिटी बिगन्स एट होम। बच्चों को भी स्वर्ग का मालिक बनाओ। बाप स्त्री को, बच्चों को रचते हैं सुख के लिए। तुम भी जानते हो हम भविष्य के लिए कमाई करते हैं। तो क्यों नहीं स्त्री बच्चों आदि को भी करायें। उनको घड़ी-घड़ी बोलो धन्धा धोरी भल करो, सिर्फ बाप को याद करते रहो। यह प्रैक्टिस ऐसी पड़ जाए जो पिछाड़ी में विनाश के समय एक बाबा की ही याद रहे।

[wp_ad_camp_3]

 

बाप कहते हैं – तुम सब अभी वानप्रस्थ अवस्था में हो। सबको मेरे पास आना है। हम आये हैं ले जाने के लिए। तुम्हारे पंख टूटे हुए हैं। सन्यासी तो ब्रह्म तत्व को याद करेंगे, वह बाप को याद कर न सकें। हाँ जो देवता धर्म वाला होगा वह मानेगा और शिवबाबा को याद करने लग पड़ेगा। ब्राह्मण बनने बिगर देवता तो बन न सकें। वर्णों की बाजोली है ना। शूद्र वर्ण के थे। अब ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण बन दादे का वर्सा पा रहे हैं। शूद्र से ब्राह्मण बने हैं। फिर हम नई दुनिया के मालिक बन जायेंगे। ब्राह्मण हैं सबसे ऊंच। ब्राह्मणों की चोटी है ना। हम बाजोली खेलते हैं। इसमें 84 जन्म का ज्ञान सेकेण्ड में मिलता है। जैसे बाजोली खेलते-खेलते तीर्थों पर जाते हैं, इतना महत्व रहता है। बड़ी भावना से जाते हैं। आजकल तो तीर्थों पर भी शराब आदि पीते हैं। आदत होती है तो छिपाकर जेब में बोतल ले जाते हैं। बाबा सब बातों का अनुभवी है। रथ भी बाबा ने पूरा अनुभवी लिया है। इनको भी बाप कहते हैं, तुमने बहुत गुरू किये हैं, सतसंग किये हैं। परन्तु अब वह सब भूल जाओ। अभी जो मैं सुनाता हूँ, वह सुनो। भगवान ने अर्जुन को कहा, रथ तो वास्तव में यह है। रथ में रथी है शिवबाबा। तुम सब अर्जुन हो गये। बाकी घोड़े गाड़ी की तो बात ही नहीं। न सेना की कोई बात है। वह है भक्तिमार्ग। यह है ज्ञान मार्ग। भक्ति की डिपार्टमेंट ही अलग है। ज्ञान देने वाला एक बाप है, बाकी तो सब भगत हैं। सारी दुनिया के जो भी मनुष्य हैं सबकी आत्मा कहती है ओ गॉड फादर। आत्मायें समझती हैं, वही आत्माओं का बाप है। जानती भी हैं हमारा लौकिक फादर भी है। फिर क्यों नहीं हेविनली गॉड फादर को याद करते हैं। सिर्फ दु:ख के समय क्यों याद करते हो। बाप कहते हैं मैं इतना सुख शान्ति देता हूँ, जो फिर दु:ख में मुझे ही याद करते हो। तो आपस में तुमको यह ज्ञान की बातें करनी हैं। मित्र सम्बन्धियों के पास अथवा आफीसर्स के पास भी जाना है, सबसे तैलुक रखना है। बड़ी युक्ति से उनको ज्ञान रत्नों का दान भी देना है। शादी में भी जाना है तो सेवा अर्थ। तुम गुप्त अहिंसक सेना हो, तुम्हें किसी भी प्रकार की हिंसा नहीं करनी है। दु:ख नहीं देना है। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऊंच पद पाने के लिए अपनी पढ़ाई में तत्पर रहना है। झरमुई झगमुई की व्यर्थ बातें नहीं सुननी है। अपना समय व्यर्थ नहीं गॅवाना है।

2) एक दो को ज्ञान सुनाकर कल्याण करना है। कभी भी मन्सा तूफानों के वश हो कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- स्वयं को विशेष पार्टधारी समझ साधारणता को समाप्त करने वाले परम व श्रेष्ठ भव 
जैसे बाप परम आत्मा है, वैसे विशेष पार्ट बजाने वाले बच्चे भी हर बात में परम यानी श्रेष्ठ हैं। सिर्फ चलते-फिरते, खाते-पीते विशेष पार्टधारी समझकर ड्रामा की स्टेज पर पार्ट बजाओ। हर समय अपने कर्म अर्थात् पार्ट पर अटेन्शन रहे। विशेष पार्टधारी कभी अलबेले नहीं बन सकते। यदि हीरो एक्टर साधारण एक्ट करें तो सब हंसेंगे इसलिए हर कदम, हर संकल्प हर समय विशेष हो, साधारण नहीं।
स्लोगन:- अपनी वृत्ति को पावरफुल बनाओ तो सेवा में वृद्धि स्वत: होगी।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 27 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 26 July 2017 :- Click Here

TODAY MURLI 28 July 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 July 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 27 July 2017 :- Click Here

28/07/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to be liberated from the chains of Ravan for 21 births, follow the Father’s shrimat. The Father comes to liberate you from all sorrow.
Question: Which destination is the highest and most difficult and requires effort over a long period of time?
Answer: Only the one Father should be remembered in the final moments; no one else should be remembered. This is the highest and most difficult destination. If anyone else is remembered, you have to take birth in this world. Therefore, let there be the practice of remembrance of Shiv Baba over a long period of time.
Question: Why does the stage of some children fluctuate as they move along?
Answer: Because they do not have firm faith. When faith is lacking, their stage goes up and down and fluctuates like mercury. Sometimes there is a great deal of happiness and sometimes happiness is reduced.
Song: The Innocent Lord is unique.

Om shanti: You children understand that you are sitting personally in front of Shiv Baba, the Innocent Lord, and that you are being taught easy Raja Yoga through the mouth of Brahma. The Father explains the essence of all the Vedas, the scriptures, the Granth and the Upanishads. All of this only sits in the children’s intellects. It is also shown in the pictures that establishment takes place through Brahma. Baba explains through Brahma the essence of all the scriptures and the Vedas. Who is explaining all of this to you children? The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, the Innocent Lord. He is incorporeal. This is why He explains everything through Brahma. Those to whom He explains understand and then they explain to others. If they are not able to explain to others, it means that they themselves have not understood, that is, they are senseless. Explanation is given to those who are senseless. The Father says to everyone: You are senseless. Do you know Me, your Father? You residents of Bharat claimed the inheritance of the golden-aged self-sovereignty. Then, because of the kingdom of Ravan, you lost the inheritance. Due to the kingdom of Ravan, you became impure, senseless and poverty-stricken. Everyone is now following devilish instructions. You understand that a cycle ago, the Father made us sensible, that is, we became the masters of the world. We have now become slaves to Maya: not slaves to wealth and possessions, but slaves to Maya, Ravan. We are tied by the chains of the five vices and are in the cottage of sorrow. The kingdom of Ravan is definitely over the entire world. The entire world and especially Bharat are tied in the bondage of the kingdom of Ravan; this is why whatever they do is wrong. The Father comes and tellsyou everything right. This is why the Supreme Father, the Supreme Soul, is known as the Righteous One. Ravan is known as the unrighteous one. For half a cycle there is the righteous kingdom and for the other half, the unrighteous kingdom. The kingdom of Ravan is called the world of falsehood. Only you children understand that Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, explains to us through Brahma. It is said: Liberation-in-life can be claimed in a second. There are many who say that liberation-in-life can be claimed in a second. At this time, everyone, but especially Bharat, is in a life of bondage. The people of Bharat claim the inheritance of liberation-in-life in a second. You children now understand that you belong to God. God Himself says: You are My children. You know that God establishes the new world, so He needs to come into the old world. The old world is known as the impure, corrupt world. Everyone calls out to God and says, “L iberate us from sorrow!” People do not know when there is the kingdom of sorrow or who establishes it. They may study many scriptures; they may be scholars or pundits, but they have a lot of arrogance. However, there is no one who can grant liberation-in-life in a second. No one can say that he can grant liberation-in-life or he can grant salvation to all. I alone grant salvation to the entire world and especially to Bharat. It is said that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation for all. He is the Liberator for all. He liberates everyone from sorrow. Does anyone liberate anyone from happiness? The Father liberates you from sorrow. Achcha. Who liberates you from happiness? Bharat was happy. Who liberated it from happiness and took it into sorrow? Ravan liberates you from happiness. Now, by following the shrimat of Rama, you are becoming liberated for 21 births. That is called liberation-in-life or salvation. It is now in the intellects of you children that when Bharat was liberated in life, it was definitely the land of happiness. Bharat is now the land of sorrow, in a life of bondage. It is a question of the unlimited. Therefore, the Father explains all of these unlimited things which limited human beings do not understand. Neither do they know heaven nor do they know hell. They say that all of this is your imagination, that no one can become liberated in life. This is an eternally predestined drama. Nothing can change in this. Shiv Baba is the main one. He is known as the Creator and the Director. Brahma, Vishnu and Shankar also have part s. Jagadamba (World Mother) and Jagadpita (World Father) have part s as well. The deities too have part s. Then those of Islam, the Buddhists, etc. play their own part s ; everyone has to play their same part again and then there will be the part of one religion. Later, those of other religions will repeat their part s at their own time. You now know that the part of the Brahmin family also repeats. The Brahmin clan is being established through Prajapita Brahma. It is known as the community of Brahmins. The community of Christians is created through Christ. The Supreme Father, the Supreme Soul, created Brahma and then created the Brahmin community through Brahma. So, surely, as there are so many of them, they must be mouth-born progeny; they cannot be born through sin. They say: You are our Mother and Father, and so all are adopted children. This is an adoption. Brahma was adopted first. Then, through Brahma, you Brahmins are adopted. You understand that you are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma. Firstly, it is the clan of Brahmins. It is the most important clan. You are only adopted now. This adoption does not take place again. Sannyasis also adopt; they adopt their followers. They should say to people, “You cannot be called our followers. Only when you leave your families and businesses and put on saffron robes can you be called followers.” Here, you are Brahmins. You have to show this easy path of true Raja Yoga to everyone. You must explain something or other. You receive the inheritance from the Father in a second. You will definitely receive the inheritance of liberation and liberation-in-life from the Supreme Father, the Supreme Soul. You must only remember Shiv Baba. The Father of all souls is Shiva. By remembering Him you will become the masters of heaven. You will not become the masters of heaven by remembering your lokik fathers. You may stay in a household, but remember Shiv Baba. I, the soul, am Shiv Baba’s child. Have this firm faith. When you do not have full faith, your stage fluctuates like mercury. One minute the mercury of happiness will be high and the next minute it will be forgotten. The Father says that you now have to return home and that you will then come and take on a new skin. You understand that we have been taking rebirth. It is not a question of rebirth for snakes: they shed their old skins and take on new ones. In the same way, you also have to change them. When a person gets old he understands that he has to depart. He has a vision that he is then to become a child. The soul knows that he will shed his body and become a child and receive a satopradhan body. An old body is known as a decayed body. The world is new to begin with; later on, the celestial degrees decrease. This is why it is divided into four parts. They say that the duration of the cycle is very long and that the soul has to transmigrate into 8.4 million species and that you have reduced the duration of the cycle. However, look how much sorrow there is! By increasing the duration of the cycle, they think that souls have to take 8.4 million births. The Father sits here and explains this. You must never forget this. A student never forgets the teacher. You understand that you are studying in the Godly class. Those at all the centreslisten to the murli and the one who teaches is the Ocean of Knowledge. He alone is called the Ocean of Knowledge, the Purifier and the Bestower of Salvation for All. ‘All’ means Bharat and all other lands. You are Godly children. The more you study from God, the higher your status will be. The study is very easy. Simply remember two words. You can tell anyone to remember the Supreme Father, the Supreme Soul, the unlimited Father, and you will receive the unlimited happiness of heaven; that is all. Just remember the one Father. It is said that if anyone else is remembered in your final moments or if a man remembers his wife at the final moment, his birth would also be accordingly. The Father says: This destination is very high and difficult. Be cautious when climbing the ladder and also caution one another. Continue to remember Shiv Baba. The Father sits here and explains to the children: I have to uplift even those gurus through you mothers. Without you mother gurus, no one would be uplifted. The mothers are the instruments. The World Mother is the main one. She has a lot of influence. Brahma does not have as much influence. He is only shown at Pushkar (a place where there is a temple to Brahma). Mostly men go there. There is a lot of respect for Amba (the Mother). Gatherings take place at many places where there are her temples. By following the instructions of gurus you have been stumbling. What benefit was there? None whatsoever!

[wp_ad_camp_3]

 

The stage of descending has to come about. Bharat has to become impure. No one can return home. You have understood that all human beings are impure; they are in their decayed stage. Everyone is included in that. People experience so much sorrow in this world. Sorrow increases at every step. You children understand that people outside are absolutely senseless. No one knows the Father. They even say: You are our Mother and Father. So, surely, He creates heaven. Those who have been and gone are praised. You now understand that heaven is being established once again. No other religions existed when there was heaven. Now that there are other religions, this one does not exist; its foundation does not exist. The original eternal deity religion that used to exist is now being established once again. Then, for half a cycle, there will be no other religions. Only the one religion will remain. For half a cycle there was the sun dynasty and the moon dynasty kingdom of self-sovereignty. This is your Godly birthright. This is your heavenly , God f atherly birthright. We are establishing our heaven; we are becoming worthy of ruling the kingdom. He is the One who is teaching us and making us worthy. He explains every day in order to reinforce these things. He explains that Maya will not allow you to stay in remembrance. No matter how hard you try to remember Baba, the battle continues. The Father sits here and shows you what to do. You are karma yogis. Yes, your children do distress you because this is the very depths of hell. Children here cause sorrow. There, children give happiness because that is the land of happiness. There, there is nothing that would cause sorrow or impurity. Here, there is so much sorrow and the sicknesses are also very dirty. Some sicknesses never used to exist. There was no sickness called cancer. In heaven, there is no sickness etc. When it is the devilish kingdom, all of these dirty sicknesses begin. This drama is predestined. There are beautiful cows in heaven. People say that Krishna had such beautiful cows. So they made him into a cowherd. Krishna was not really a cowherd. You say that Shiv Baba takes these living human cows to graze. He gives them the grass of knowledge. The urn of knowledge is placed on the mothers. Baba says: Listen to what I say! First of all, Manmanabhav! Remember Me and your sins will be incinerated. This is a very easy method. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. According to the shrimat of the Father, do the service of liberating everyone from the chains of Ravan and of giving them the inheritance of liberation-in-life.
  2. Only listen to the one Father. Forget anything else that you have heard. This destination is very high and difficult. Therefore, caution one another and remind each other of the Father and make progress in this way.
Blessing: May you be courageous and constantly experience the flying stage on the basis of your zeal and enthusiasm.
In order to experience the flying stage you need the wings of courage and zeal and enthusiasm. To be successful in any task, zeal and enthusiasm are essential. If there is no zeal or enthusiasm, you will not be successful in your task because when there is no zeal or enthusiasm, there will be tiredness and those who are tired can never be successful. So, be courageous and continue to fly with your zeal and enthusiasm and you will reach your destination.
Slogan: Give blessings and receive blessings: this is elevated effort.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Brahma kumaris murli 28 July 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 July 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 27 July 2017 :- Click Here

28/07/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – 21 जन्मों के लिए रावण की जंजीरों से लिबरेट होना है तो बाप की श्रीमत पर चलो, बाप आते ही हैं तुम्हें सब दु:खों से लिबरेट करने”
प्रश्नः- सबसे भारी मंजिल कौन सी है? जिसका पुरुषार्थ बहुतकाल से चाहिए!
उत्तर:- अन्तकाल में एक बाप की ही याद रहे और कोई याद न आये, यह बहुत भारी मंजिल है। अगर कोई याद आया तो इसी दुनिया में जन्म लेना पड़े, इसलिए बहुतकाल से शिवबाबा की याद में रहने का अभ्यास करो।
प्रश्नः- कई बच्चों की अवस्था चलते-चलते डांवाडोल क्यों हो जाती है?
उत्तर:- क्योंकि पक्का निश्चय नहीं है। जब निश्चय में कमी आती है तब पारे की तरह अवस्था नीचे ऊपर डांवाडोल होती है। कभी बहुत खुशी रहती, कभी खुशी कम हो जाती।
गीत:- भोलेनाथ से निराला….

ओम् शान्ति। बच्चे समझते हैं कि हम भोलानाथ शिवबाबा के सम्मुख बैठे हैं और ब्रह्मा मुख द्वारा यह सहज राजयोग भी सीख रहे हैं। सब वेदों ग्रंथों शास्त्रों उपनिषदों का सार बाप बैठ समझाते हैं। यह बच्चों की ही बुद्धि में बैठा है। चित्रों में भी है ब्रह्मा द्वारा स्थापना। तो ब्रह्मा द्वारा ही सभी वेद शास्त्रों का सार सुनाया है। तुम बच्चों को यह सब कौन समझाते हैं? परमपिता परमात्मा भोलानाथ शिव। वह निराकार है इसलिए हर बात ब्रह्मा द्वारा समझाते हैं। जिसको समझाते हैं वह फिर औरों को समझाते हैं। अगर नहीं समझा सकते तो गोया वह खुद नहीं समझे हैं अर्थात् बेसमझ हैं। बेसमझ को समझाया जाता है। बाप सबको कहते हैं तुम बेसमझ हो। तुम मुझ बाप को जानते हो? तुम भारतवासियों ने वर्सा लिया था। सतयुगी स्वराज्य था फिर रावण राज्य होने से तुमने वर्सा गंवा दिया। रावण राज्य के कारण तुम पतित, बेसमझ, कंगाल बन पड़े हो। सभी आसुरी मत पर ही चलते हैं। तुम समझते हो कल्प पहले हमको बाप ने समझदार बनाया था। हम विश्व के मालिक बने थे, अभी हम माया के गुलाम बन पड़े हैं। सम्पत्ति के गुलाम नहीं, माया रावण के गुलाम। 5 विकारों की जंजीरों में हम बंधे हुए हैं और शोक वाटिका में हैं। बरोबर रावण का राज्य सारे विश्व पर है। भारतवासी खास, सारी दुनिया आम सब रावण की जंजीरों में बंधे हुए हैं इसलिए जो कुछ करते हैं, रांग करते हैं। बाप आकर सब राइट बताते हैं इसलिए परमपिता परमात्मा को राइटियस कहेंगे। रावण को अनराइटियस कहेंगे। आधाकल्प राइटियस राज्य चलता है। आधाकल्प अनराइटियस राज्य चलता है। रावण राज्य को झूठी दुनिया कहा जाता है। तुम बच्चे ही जानते हो। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा शिव हमें समझा रहे हैं ब्रह्मा द्वारा। गाया भी हुआ है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। ऐसे बहुत कहते हैं – सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। परन्तु इस समय सब जीवनबंध में हैं, खास भारत। भारतवासी ही एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति का वर्सा लेते हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भगवान के बने हैं। भगवान खुद कहते हैं तुम हमारे बच्चे हो, जानते हो ईश्वर ही नई दुनिया की स्थापना करते हैं तो जरूर पुरानी दुनिया में आना पड़े। पुरानी दुनिया को पतित भ्रष्टाचारी कहा जाता है। सभी भगवान को बुलाते हैं कि हमारे जीवन को मुक्त करो। दु:ख से लिबरेट करो। मनुष्य जानते नहीं कि दु:ख का राज्य कब और कौन स्थापन करते हैं। भल शास्त्र बहुत पढ़े हुए हैं। विद्वान पण्डित आदि हैं जिन्हें घमण्ड बहुत है। परन्तु कोई ऐसा नहीं जो सेकेण्ड में जीवनमुक्ति किसको दे सके। कोई कह भी नहीं सकते कि हम जीवनमुक्ति दे सकते हैं या सबकी सद्गति कर सकते हैं। मैं ही खास भारत, आम सबकी सद्गति करता हूँ। गाया भी जाता है परमपिता परमात्मा सर्व का सद्गति दाता है। सर्व का लिबरेटर है, दु:ख से लिबरेट करते हैं। सुख से कोई लिबरेट करते हैं क्या? दु:ख से लिबरेट तो बाप करते हैं। अच्छा सुख से लिबरेट कौन करते हैं? भारत सुखी था ना। फिर सुख से लिबरेट कर दु:ख में कौन लाया? सुख से लिबरेट करने वाला है रावण। अब राम की श्रीमत पर चलने से तुम 21 जन्मों के लिए लिबरेट होते हो। उसको कहा जाता है जीवनमुक्ति या सद्गति। बच्चों की बुद्धि में अब बैठा है। बरोबर भारत जीवनमुक्त था तब सुखधाम था। अब भारत दु:खधाम है, जीवनबन्ध में है। बेहद का क्वेश्चन हो जाता है। तो बाप बेहद की ही यह सब बातें सुनायेंगे, जो हद में मनुष्य तो जानते ही नहीं। न स्वर्ग को, न नर्क को जानते हैं। वह तो यह सब कल्पना समझ लेते हैं। जीवनमुक्त तो कोई बन नहीं सकेंगे। यह तो अविनाशी बना बनाया ड्रामा है, इसमें कोई चेंज नहीं हो सकती। मुख्य है शिवबाबा। उसको क्रियेटर, डायरेक्टर भी कहते हैं। ब्रह्मा विष्णु शंकर का भी पार्ट है। जगत अम्बा, जगत पिता का भी पार्ट है। देवी-देवताओं का भी पार्ट है। फिर इस्लामी, बौद्धी आदि-आदि अपना-अपना पार्ट बजाते हैं, वही पार्ट फिर सबको बजाना है। फिर पार्ट में एक धर्म हो जायेगा। फिर दूसरे धर्म वाले अपने समय पर अपना पार्ट रिपीट करेंगे।

अभी तुम जानते हो इस समय ब्राह्मण कुल की रिपीटीशन है। प्रजापिता ब्रह्मा से ब्राह्मण कुल की स्थापना होती है। उनको ब्राह्मण सम्प्रदाय कहा जाता है। क्राइस्ट से क्रिश्चियन सम्प्रदाय की रचना हुई। परमपिता परमात्मा ने ब्रह्मा और ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण सम्प्रदाय रची तो फिर वह इतने सब मुख वंशावली होंगे। कुख वंशावली तो हो न सकें। कहते हैं ना – तुम मात-पिता… तो यह सब एडाप्टेड चिल्ड्रेन हैं। यह है ही एडाप्शन। पहले ब्रह्मा को एडाप्ट किया फिर ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मण ब्राह्मणियां एडाप्ट होते हो। तुम जानते हो हम शिवबाबा के पोत्रे ब्रह्मा के बच्चे हैं। पहले एक ब्राह्मणों का कुल है। बड़ा भारी कुल है। अभी ही एडाप्ट करते हैं। फिर कभी यह एडाप्शन होती ही नहीं। सन्यासियों की होती है। वह अपने जिज्ञासुओं को एडाप्ट करते हैं। कहेंगे तुम हमारे फालोअर्स कहला न सको। घरबार छोड़ कफनी पहनें तब फालोअर्स कहा जाए। यहाँ तुम हो ब्राह्मण, तुमको यही सच्चा सहज राजयोग का रास्ता सबको बताना है। कुछ न कुछ समझाना है। एक सेकेण्ड में बाप से वर्सा मिलता है। परमपिता परमात्मा से जरूर मुक्ति जीवनमुक्ति का ही वर्सा मिलेगा। शिवबाबा को ही याद करना है। सब आत्माओं का बाप है शिव, उनको याद करने से तुम स्वर्ग का मालिक बनेंगे। लौकिक बाप को याद करने से स्वर्ग के मालिक नहीं बनेंगे। भल घर में रहो परन्तु शिवबाबा को याद करो। हम आत्मा शिवबाबा की सन्तान हैं, इसी निश्चय में रहना है।

पूरा निश्चय न होने से ही अवस्था डांवाडोल होती है। जैसे पारा होता है ना। अभी-अभी खुशी का पारा चढ़ता है। अभी-अभी भूल जायेंगे। अभी बाप कहते हैं तुमको घर वापिस जाना है। फिर आकर नई खाल लेंगे। तुम जानते हो हम पुनर्जन्म लेते आये हैं। सर्प के लिए पुनर्जन्म की बात नहीं होती। वह एक पुरानी खाल छोड़ दूसरी नई ले लेते हैं। वैसे तुमको भी बदलना है। मनुष्य जब बूढ़े होते हैं तो कहते हैं, अब जाना है। झट साक्षात्कार होता है। अभी हम बालक बनने वाले हैं। उनको पता है कि अभी हम शरीर छोड़ बालक बनेंगे, फिर सतोप्रधान शरीर मिलेगा। पुराने शरीर को जड़जड़ीभूत कहा जाता है। दुनिया भी पहले नई होती है फिर कला कम होती जाती है इसलिए 4 भाग रखा गया है। कहते हैं कल्प की आयु तो बहुत बड़ी है। कल्प में 84 लाख योनियां लेनी पड़ती हैं। तुमने तो कल्प को छोटा कर दिया है। फिर दु:ख देखो कितना है। लाखों वर्ष आयु लगाने से समझते हैं 84 लाख जन्म होते होंगे। यह बाप बैठ समझाते हैं। यह कभी भूलना नहीं चाहिए, स्टूडेन्ट टीचर को कभी भूलते नहीं हैं। तुम भी जानते हो हम पढ़ने आते हैं ईश्वरीय क्लास में। मुरली सब सेन्टर्स वाले सुनते हैं। पढ़ाने वाला तो एक ज्ञान का सागर ही ठहरा। उनको ही ज्ञान का सागर पतित-पावन, सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। सर्व अर्थात् भारत और सभी खण्ड आ जाते हैं। तुम हो ईश्वरीय सन्तान, तुम ईश्वर द्वारा जितना पढ़ेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। पढ़ाई भी बड़ी सहज है, सिर्फ दो अक्षर याद करने हैं। तुम कोई को भी कह सकते हो परमपिता परमात्मा बेहद के बाप को याद करो तो तुमको स्वर्ग में बेहद का सुख मिलेगा। बस एक बाप को याद करो। अन्तकाल में अगर कोई दूसरा याद आया तो अन्तकाल जो स्त्री सिमरे… ऐसे जन्म में जायेंगे। बाप कहते हैं मंजिल बहुत भारी है। सावधानी से सीढ़ी पर सम्भाल कर चलना है। एक दो को सावधान करते रहना है। शिवबाबा को याद करते रहो। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं बच्चे इन गुरूओं का भी मुझे उद्धार करना है, तुम माताओं द्वारा। तुम माता गुरू बिगर कोई का भी उद्धार नहीं होना है। माता को ही निमित्त रखा जाता है। जगत अम्बा मुख्य है ना। उनका देखो कितना प्रभाव है। ब्रह्मा का इतना नहीं है। सिर्फ पुश्कर में मन्दिर है। वहाँ पर बहुत करके पुरुष ही जाते हैं। अम्बा का बहुत मान है। जहाँ तहाँ देवियों के मन्दिर पर बहुत मेले लगते हैं। गुरुओं की मत पर चलते-चलते बहुत धक्के खाये हैं। फायदा क्या हुआ? कुछ भी नहीं। उतरती कला होने से भारत को पतित तो बनना ही है। वापिस कोई जा नहीं सकते। तुम समझ गये हो जो भी मनुष्य मात्र हैं सब पतित हैं। जड़जड़ीभूत अवस्था में हैं, उसमें सब आ जाते हैं। इस दुनिया में मनुष्यों को कितना दु:ख है। कदम-कदम पर दु:ख बढ़ता ही जाता है।

[wp_ad_camp_3]

 

तुम बच्चे समझते हो बाहर तो बिल्कुल बेसमझ हैं, बाप को ही नहीं जानते। कहते भी हैं तुम मात पिता… जरूर वह स्वर्ग रचने वाला है, जो होकर जाते हैं फिर उनका गायन चलता है। अब तुम जानते हो कि फिर से स्वर्ग की स्थापना हो रही है। जब स्वर्ग था तो दूसरे कोई नहीं थे। अब दूसरे सब हैं तो यह धर्म नहीं हैं, फाउन्डेशन है नहीं। अब वह जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म था उसकी फिर से स्थापना हो रही है। आधाकल्प तक फिर और कोई धर्म निकलते नहीं, एक ही धर्म रहेगा। आधाकल्प सूर्यवंशी चन्द्रवंशी स्वराज्य। यह है तुम्हारा ईश्वरीय जन्म सिद्ध अधिकार, हेविनली गॉड फादरली बर्थ राइट है। हम अपने स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। राज्य करने के लिए लायक बन रहे हैं। वही हमको पढ़ाते हैं, लायक बनाते हैं। रोज़-रोज़ समझाते हैं, पक्का करने लिए। समझाते हैं – माया तुम्हें याद नहीं करने देगी, तुम कितनी भी कोशिश करो, बाबा को याद करने लिए तो युद्ध चलती है ना। बाप बैठ रास्ता बताते हैं कि क्या करो, तुम कर्मयोगी भी हो। हाँ बच्चे आदि तंग करने लगते हैं, रौरव नर्क है ना। दु:ख देने वाली सन्तान हैं। वहाँ होते हैं सुखदायी सन्तान क्योंकि सुखधाम है ना। वहाँ कोई ऐसी चीज़ होती नहीं जिससे दु:ख हो वा मैलापन हो। यहाँ तो कितना दु:ख है। बीमारियाँ भी कैसी-कैसी गन्दी निकलती हैं। आगे थोड़ेही थी, कैंसर की बीमारी का नाम भी नहीं सुना था। स्वर्ग में कोई बीमारी होती ही नहीं। जब आसुरी राज्य शुरू होता है तब ये गन्दी बीमारियाँ शुरू होती हैं। यह भी ड्रामा बना हुआ है। स्वर्ग में कितनी सुन्दर गायें होती हैं, कहते हैं कृष्ण के पास ऐसी-ऐसी अच्छी गायें थी, तो उनको भी ग्वाला बना दिया है। कृष्ण कोई ग्वाला थोड़ेही था। तुम कहेंगे शिवबाबा ने यह चैतन्य ह्युमन गायें चराई हैं। ज्ञान घास खिलाते हैं। ज्ञान का कलष माताओं पर रखा है। बाबा कहते हैं अब मैं जो सुनाता हूँ वह सुनो। पहली बात मनमनाभव। मुझे याद करो तो विकर्म भस्म होंगे। यह है बहुत सहज उपाय। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की श्रीमत पर सबको रावण की जंजीरों से मुक्त कर जीवनमुक्ति का वर्सा दिलाने की सेवा करनी है।

2) एक बाप से ही सुनना है। बाकी जो सुना उसे भूल जाना है। मंजिल भारी है इसलिए एक दो को सावधान करते बाप की याद दिलाते उन्नति को पाना है।

वरदान:- उमंग-उत्साह के आधार पर सदा उड़ती कला का अनुभव करने वाले हिम्मतवान भव 
उड़ती कला का अनुभव करने के लिए हिम्मत और उमंग-उत्साह के पंख चाहिए। किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त करने के लिए उमंग-उत्साह बहुत जरूरी है। अगर उमंग-उत्साह नहीं तो कार्य सफल नहीं हो सकता क्योंकि उमंग-उत्साह नहीं तो थकावट होगी और थका हुआ कभी सफल नहीं होगा, इसलिए हिम्मतवान बन उमंग और उत्साह के आधार पर उड़ते रहो तो मंजिल पर पहुंच जायेंगे।
स्लोगन:- दुआयें दो और दुआयें लो यही श्रेष्ठ पुरूषार्थ है।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 26 July 2017 :- Click Here

To Read Murli 25 July 2017 :- Click Here

Font Resize