Month: April 2017

Today Murli : 1 May 2017 daily murli (English)

01/05/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to change human beings into deities. Therefore, give thanks to Him from your heart. Continue to follow shrimat and have true love for just the One.
Question: What are the signs of children who love the Father?
Answer: Those who truly love the Father remember Him alone and only follow His directions. They never cause sorrow for anyone through their thoughts, words or deeds. They never have animosity towards anyone. They give their true accounts to the Father. They protect themselves from bad company.
Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

 

Om shanti. Brahmins would definitely have patience because it is only Brahmins who have love for the Supreme Father, the Supreme Soul, numberwise, according to the effort they make. Not everyone loves Him to the same extent; just as Baba, Mama and the children share their own experiences. They would say: I, the soul. Baba would say: I, the Supreme Soul. I, the soul, say: I am remembering the Supreme Father, the Supreme Soul, a great deal because for half the cycle, I have seen a lot of sorrow in the kingdom of Ravan. It isn’t that there has been sorrow from the beginning; no. Sorrow increases gradually in the kingdom of Ravan; the degrees continue to decrease. The Supreme Father, the Supreme Soul, tells you, souls: At first, you performed unadulterated worship and you remembered Me alone. You then went into adulterated, rajoguni worship. Now, worship is tamoguni. People continue to worship whatever comes in front of them. That is called worship of the elements because the body is made up of the five elements. When they speak of a particular swami (guru), they only say that because of seeing the body of five elements; they fall at his feet. That is tamopradhan worship. I, the soul, now know that the Supreme Father, the Supreme Soul, has come once again to give us our inheritance. Therefore, remember Him as much as possible. His orders are: Constantly remember Me alone. May you be soul conscious! Baba tells you how he repeatedly thanks the Father. Baba, You removed me from darkness. I love Baba. All others have non-loving intellects at the time of destruction. They cannot claim their full inheritance. Physical children love their father. Their father is pleased with them when they follow his directions; but he is not pleased when his children don’t follow his directions. Those who don’t follow directions are said to be disobedient. Therefore, the unlimited Father also says: Remember Me and then your sins will continue to be burnt away. Now that you belong to Me, don’t commit any sin through your physical senses. Never disobey shrimat. The Father is making you worthy-of-worship from a worshipper. Therefore, you should thank the Father so much! If you don’t follow His directions, your status will be destroyed for birth after birth. Although we say here that those who are impure are degraded, a low status there is said to be degraded. The Father says: Have true love for Me. Just as a wife remembers her husband, remember Me in the same way. Follow My shrimat. Don’t cause anyone sorrow through your thoughts, words or deeds. Don’t let your mind have any animosity for anyone. Every soul is playing his own part. You know that your birth of the present time is even more elevated than that of the future. Here, we have become God’s children. In the golden age we will be children of the deities. The praise of now is greater. You receive the inheritance of 21 births through the World Mother (Jagadamba). What do you receive through Lakshmi? A new person would not be able to understand these things. Many people come here, but those who don’t have faith are unable to stay here. When friends and relatives of Baba, Mama and the children come here, or even officers, they are allowed to come in case the arrow strikes the target and the poor helpless ones are benefited. You can instantly know whether they belong to the Godly clan or the devilish clan and whether they are able to love the Father or not. Many come here and they are all right here but they become vicious again when they go outside into bad company or into the company of Maya. Then they write: I was defeated. However, if they don’t tell Baba about it, that would continue to increase. Your intellects now have love for the Father. Yes, among you too, your intellects have love numberwise, according to the effort you make. Shiv Baba explains to you children: Never perform any sinful acts. Follow shrimat! You belong to Baba and so your activity should also be likewise. Baba should be told everything. Baba grants you liberation and liberation-in-life and the sovereignty of the world and the Father doesn’t even know what the children have! The Father should receive your full account. By giving that to Me, you will not incur a loss. Those people take all your money for themselves, but I am incorporeal; I use everything for you children. Gandhiji used everything for the country and this is why his name is glorified. Gandhiji truly established the Congress Party. Otherwise, there was the rule of kings here. The Father is now once again establishing a new kingdom, the kingdom of Rama. This doesn’t sit in the intellects of all the children. If it sat in their intellects, their mercury of happiness would rise and they would continue to have yoga with Baba. Baba says: Remember the Father who stays in the supreme abode, where you have to go. The drama is now about to end. No one knows the drama or has love for Me. They say that they have been bathing in the Ganges from time immemorial. Did they do that even in the golden age? They don’t even understand the meaning of ‘time immemorial’. Baba says: Your days of happiness are now about to come. Your intellects have patience. Some don’t understand anything. When they understand something here and then go outside, Maya completely swallows them. Just as all the ants completely swallow a dead fly, so here, when you die, all the ants come and totally swallow you. Maya is powerful as well; she is no less. There is a big battle. While staying here, if you don’t attend class, it is understood that you can’t become the masters of heaven and that you can’t go to the land of Krishna. You would have no value. You, who are becoming like diamonds, are valuable. You know that you are becoming worth a pound. If there are a swan and a stork in the same house, there would definitely be conflict. Here, you step away from storks. You cannot eat food prepared by those who are impure. However, some children don’t love the Father that much and this is why they think about how their stomachs would be satisfied. Ah! but how do natives survive? Nowadays, if someone puts on a saffron robe, he continues to receive everything free and everyone bows down to him. Anyone who goes there puts money in front of the idol; it is very easy for them. Such is the world! You children should think about this world ending soon so that you can go to heaven. However, you first have to become worthy. You have to claim a status. There, too, there is a difference in the position. The One who is teaching you is only One. Some become kings and queens, some become maids and servants and others become wealthy subjects. A kingdom is being established. Other founders of a religion do not establish a kingdom. This is why Baba continues to tell you to remain cautious. At the time of destruction, you must totally have loving intellects. The more love you have, the more inheritance you will accordingly claim from the Father. You are also taught how to remember Baba. Baba tells you how you have to remember Baba and the cycle. Spin the discus of self-realisation. We are lighthouses. The Boatman is taking our boats across. Keep the land of peace in one eye and the land of happiness in the other eye. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While seeing the part of every actor, don’t have animosity towards anyone. Don’t cause anyone sorrow through your thoughts, words or deeds.
  2. Give your full account to the Father. Have a totally loving intellect at the time of destruction. Let your activity be elevated according to shrimat. Remain cautious of bad company.
Blessing: May you be a supremely worthy-of-worship soul who inculcates purity into your thoughts, words, deeds, relationships and connections.
Purity is not just celibacy, for there can be no negative thoughts for anyone in your mind; no such words can emerge from your mouth. Your relationships and connections have to be good with everyone. When there isn’t the slightest impurity you can then be said to be a supremely worthy of worship soul. So, check your foundation of purity. Let there always be the awareness: I am a supremely worthy of worship soul who lives in the temple of this body. No waste thoughts can enter this temple.
Slogan: In order to see and know your future clearly, remain stable in the stage of perfection.

*** Om Shanti ***

Points on God of the Gita from Sakar Murlis – Part 1

God said a cycle ago and also says now: I enter this ordinary body at the end of his many births. I take his support. It is also mentioned in that Gita: I enter an ordinary old body at the end of his many births. That body is of this Brahma.

The knowledge of the God of the Gita is received to become the most elevated human beings. The Gita is the scripture for the establishment of religion. No other scripture is for the establishment of religion. The Gita is the jewel of all scriptures. All the other religions come into existence later. They cannot be said to be the jewel on the forehead.

Only the one Father is the Lord of the Tree. He is the Lord (Husband) and also the Father of all. He is called the Husband of all husbands and the Father of all fathers. This praise is sung of the incorporeal One. The praise of Krishna is compared with the praise of the incorporeal Father. Shri Krishna is the prince of the new world and so how can he teach Raj Yoga at the confluence age in the old world?

The unlimited Father is the Ocean of Knowledge, the Purifier and the God of the Gita. He carries out the establishment of the new world through knowledge and the power of yoga. There is a lot of influence of the power of yoga. The ancient yoga of Bharat is very well known.

Only the one Father, the Supreme Soul, has knowledge. You take a new birth through knowledge and this is why the Gita is said to be the mother. Since there is a mother, there must surely be a father too. You are the children of Shiv Baba: He is the Father and then the Gita is the mother. The knowledge of the Gita is to change from an ordinary man into Narayan.

Now, who is the God of the Gita? If it is said to be Krishna, it is very easy to remember Him. He is in the corporeal form. The incorporeal Father says: Constantly remember Me alone. Shri Krishna cannot say: Be Manmanabhav and remember Me alone. So now, say who the God of the Gita is?

All the people of the world have versions spoken by God Shri Krishna in their intellect. However, how could Krishna say: Who I am, what I am, only a handful out of multimillions recognise me as I am? Everyone would know Krishna. Only the incorporeal Father can say this.

It is not that God says this through the body of Krishna; no. Krishna exists in the golden age. How can God go there? God comes at the most auspicious confluence age when the iron age has to change and the golden age has to come.

You should have writings from many people saying who the God of the Gita is. At the top, it should be written: The Highest on High is the Father, the Supreme Soul. Krishna is not the highest on high. He can never say: Forget your body, including all your bodily religions and constantly remember Me alone. These elevated versions are only of the one God.

You are now receiving Godly directions. You belong to the God’s dynasty and clan. God comes and establishes the deity dynasty. The deity religion, where the sun dynasty and moon dynasty kingdoms exist are being established once again. The Brahmin clan, the sun and moon dynasty clans were established from the Gita. If the Gita were spoken in the copper age, then there should have been the existence of the Brahmin clan and the sun and moon dynasty clans after that.

People think that a great annihilation takes place and that Krishna then comes floating on a pipal leaf. How can a human being come floating on a pipal leaf in the ocean? It is a matter of the palace of womb. First of all, it is the soul of Shri Krishna who comes from the palace of womb. His birth takes place with the power of yoga and this is why He is called the Lord of Vaikunth (Paradise).

God speaks: I teach you Raj Yoga and make you into the kings of kings. So, surely, Krishna would first become a prince. There is no such thing as the versions of Shri Krishna. Krishna is the aim and objective of this study. This is a place of study.

* * * * *

To Read Murli 30/4/2017 :- Click Here

 To Read Murli 29/4/2017 :- Click Here

Today Murli : 1 May 2017 daily murli (Hindi)

01/05/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप मनुष्य से देवता बनाने आये हैं तो उनकी दिल से शुक्रिया मानो श्रीमत पर चलते रहो, एक से सच्ची प्रीत रखो”
प्रश्नः- जिन बच्चों की बाप से प्रीत है, उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- बाप से सच्ची प्रीत है तो एक उन्हें ही याद करेंगे, उनकी ही मत पर चलेंगे। मन्सा-वाचा-कर्मणा किसी को भी दु:ख नहीं देंगे। किसी के प्रति घृणा नहीं रखेंगे। अपना सच्चा-सच्चा पोतामेल बाप को देंगे। कुसंग से अपनी सम्भाल करेंगे।
गीत:- धीरज धर मनुआ…

 

ओम् शान्ति। ब्राह्मणों को तो जरूर धीरज़ ही होगा क्योंकि ब्राह्मणों की ही परमपिता परमात्मा के साथ प्रीत है – नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। सबकी एक जैसी प्रीत नहीं है। जैसे बाबा मम्मा और बच्चे अपना-अपना अनुभव सुनाते हैं। अहम् आत्मा अपने लिए कहते हैं। बाबा फिर अहम् परमात्मा कहेंगे। अहम् आत्मा कहती है मैं परमपिता परमात्मा को बहुत याद करती हूँ क्योंकि जानती हूँ – आधाकल्प हमने रावणराज्य में बहुत दु:ख देखा है। ऐसे भी नहीं शुरू से दु:ख होता है। नहीं। रावण राज्य में धीरे-धीरे दु:ख की वृद्धि होती है। कलायें कम होती जाती हैं। अहम् आत्मा को अब परमपिता परमात्मा बतलाते हैं कि पहले तुम अव्यभिचारी भक्ति में थे सिर्फ मुझे याद करते थे। फिर व्यभिचारी रजोगुणी भक्ति में आये। अभी तो तमोगुणी भक्ति हो गई है, जो आया उनको पूजते रहते हैं, इसको कहा जाता है भूत पूजा क्योंकि शरीर 5 तत्वों का बना हुआ है। यह फलाना स्वामी है सिर्फ 5 तत्वों के शरीर को देख कहते हैं। उन्हों के चरणों में गिरते हैं। यह है तमोप्रधान भक्ति। अभी हम आत्मा जानते हैं परमपिता परमात्मा फिर से आये हैं हमको अपना वर्सा देने इसलिए जितना हो सके उनको याद करते हैं। उनका फरमान है निरन्तर मुझे याद करो। देही-अभिमानी भव अथवा आत्म-अभिमानी भव। बाबा सुनाते हैं घड़ी-घड़ी बाप का शुक्रिया करता हूँ। बाबा आपने मुझे अन्धियारे से निकाला है। बाबा के साथ हमारी प्रीत है। और सबकी है विनाश काले विपरीत बुद्धि, वह पूरा वर्सा ले न सके। लौकिक बच्चों की बाप से प्रीत होती है। बाप की मत पर चलते हैं तो बाप भी राज़ी होते हैं। अगर बच्चा मत पर नहीं चलता, तो बाप राज़ी नहीं रहता, जो मत पर न चले वह कपूत ठहरा। तो बेहद का बाप भी कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म भस्म होते जायेंगे। मेरे बने हो तो कोई भी पाप कर्म, कर्मेन्द्रियों से नहीं करना। कभी श्रीमत का उल्लंघन नहीं करना। बाप तुम्हें पुजारी से पूज्य बना रहे हैं तो बाप का कितना शुक्रिया मानना चाहिए। उनकी मत पर नहीं चलेंगे तो जन्म-जन्मान्तर के लिए पद भ्रष्ट कर देंगे। भल हम यहाँ भ्रष्ट मूत पलीती को कहते हैं। परन्तु वहाँ कम पद को भ्रष्ट पद कहते हैं। बाप कहते हैं, अच्छी रीति प्रीत लगाओ। जैसे स्त्री पति को याद करती है वैसे तुम मुझे याद करो। मेरी श्रीमत पर चलो। मन्सा, वाचा, कर्मणा किसको दु:ख न दो। मन में भी किसी के लिए घृणा नहीं रखना। हर आत्मा अपना पार्ट बजा रही है।

तुम जानते हो अभी का यह जन्म भविष्य के जन्म से भी ऊंच हैं। यहाँ हम ईश्वरीय औलाद बने हैं। सतयुग में दैवी औलाद होंगे। यहाँ की महिमा जास्ती है। जगदम्बा से 21 जन्मों का वर्सा मिलता है। लक्ष्मी से क्या मिलता है? इन बातों को नया कोई समझ न सके। आते तो बहुत हैं परन्तु जिनको निश्चय नहीं, वह ठहर न सकें। बाबा मम्मा बच्चों के मित्र सम्बन्धी आते तो बहुत हैं अथवा आफीसर्स आदि आते हैं, तो एलाउ किया जाता है। कहाँ तीर लग जाये, बिचारों का कल्याण हो जाए। झट पता लग जाता है कि ईश्वरीय कुल का है वा आसुरी कुल का है। प्रीत लगती है वा नहीं। आते यहाँ बहुत हैं, ठीक हो जाते हैं फिर बाहर जाकर कुसंग में अथवा माया के संग में विकारी बन जाते हैं। लिखते हैं हमने हार खाई। लेकिन अगर न बतायें तो और वृद्धि होती जायेगी। तुम्हारी अब प्रीत बुद्धि है – बाप के साथ। हाँ तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार प्रीत बुद्धि हैं। शिवबाबा बच्चों को समझाते हैं, कभी भी कोई विकर्म नहीं करना, श्रीमत पर चलना। बाबा के बने हो तो तुम्हारी चलन भी ऐसी होनी चाहिए। बाबा को पूरा मालूम होना चाहिए। बाबा मुक्ति-जीवनमुक्ति, विश्व की बादशाही देते हैं और बच्चों के पास क्या है, वह बाप को पता नहीं है। बाप के पास तो पूरा पोतामेल आना चाहिए। मेरे को देने से तुम्हारा नुकसान नहीं होगा। वह तो सब पैसे आदि अपने काम में ले लेते हैं, मैं तो हूँ निराकार। तुम बच्चों के ही काम में लगाता हूँ। जैसे गाँधी जी देश के काम में लगाते थे, इसलिए उनका नाम बाला है। बरोबर गांधी ने कांग्रेस राज्य स्थापन किया। नहीं तो यहाँ राजाओं का राज्य था। अभी बाप फिर से नई राजधानी, रामराज्य स्थापन कर रहे हैं – यह बात सभी बच्चों की बुद्धि में बैठती नहीं है, अगर बैठे तो खुशी का पारा भी चढ़े। बाबा के साथ योग लगाते रहें। बाबा कहते हैं परमधाम में रहने वाले बाप को वहाँ याद करो, जहाँ जाना है। अब ड्रामा पूरा होना है। ड्रामा को कोई जानते ही नहीं। न कोई की मेरे साथ प्रीत है। कहते हैं हम परम्परा से गंगा स्नान करते आये हैं। क्या सतयुग में भी करते थे? परम्परा का भी अर्थ नहीं समझते हैं। बाबा कहते हैं अब तुम्हारे सुख के दिन आ रहे हैं। तुम्हारी बुद्धि में धीरज है। कोई तो कुछ भी समझते नहीं हैं। यहाँ से समझकर जब बाहर जाते हैं तो माया सारा ही खा जाती है। जैसे मक्खी मरती है तो चींटियाँ सारा उनको हप कर लेती हैं। यहाँ भी मरते हैं तो चीटिंयाँ लेकर सारा हप कर लेती हैं। माया भी बलवान है, कम नहीं है। बड़ी लड़ाई लगती है। यहाँ रहते भी क्लास में नहीं आते हैं तो समझा जाता है यह स्वर्ग के मालिक नहीं बन सकते। कृष्णपुरी में जा न सकें। कुछ भी वैल्यु नहीं। तुम जो हीरे जैसे बनते हो उन्हों की ही वैल्यु है। तुम जानते हो हम वर्थ पाउण्ड बन रहे हैं। एक घर में एक हंस, एक बगुला होगा तो खिटपिट जरूर चलेगी। यहाँ तो बगुले से किनारा होता है। मूत पलीती के हाथ का तुम खा भी नहीं सकते हो। परन्तु बच्चों का बाप से इतना लव तो है नहीं, इसलिए सोचते हैं कि पेट कहाँ से भरेगा। अरे भील लोग कहाँ से खाते हैं। आजकल तो कोई कफनी पहन ले तो मुफ्त में पैसे मिलते रहते हैं। सब पाँव पड़ते रहते हैं, जो आयेगा मूर्ति के आगे पैसा रखता जायेगा, बहुत इज़ी। यह दुनिया ही ऐसी है। बच्चों को ख्याल करना चाहिए। यह दुनिया जल्दी खलास हो तो स्वर्ग में जायें, परन्तु लायक भी बनें ना। पद भी पाना है ना। वहाँ भी पोजीशन का फ़र्क रहता है। पढ़ाने वाला एक ही है। कोई राजा रानी, कोई नौकर चाकर, कोई साहूकार प्रजा। राजधानी स्थापन हो रही है और धर्म स्थापक राजाई नहीं स्थापन करते हैं इसलिए बाबा कहते हैं खबरदार रहो। विनाश काले पूरी प्रीत बुद्धि चाहिए। जितनी प्रीत होगी उतना बाप से वर्सा लेंगे। याद करने का भी सिखाया जाता है। बाबा बतलाते हैं, बाबा को और चक्र को याद करो। स्वर्दशन चक्र फिराओ। हम लाइट हाउस हैं, खिवैया हमारी नईया को पार ले जाता है। एक ऑख में शान्तिधाम, एक ऑख में सुखधाम रखना है। अच्छा –

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हर एक पार्टधारी के पार्ट को देखते हुए, किसी से भी घृणा नहीं करना है। मन्सा-वाचा-कर्मणा किसी को भी दु:ख नहीं देना है।

2) बाप को अपना पूरा पोतामेल देना है। विनाश काले पूरा प्रीत बुद्धि बनना है। श्रीमत पर अपनी चलन श्रेष्ठ बनानी है। कुसंग से सम्भाल करनी है।

वरदान:- मन्सा-वाचा-कर्मणा और सम्बन्ध-सम्पर्क में पवित्रता की धारणा द्वारा परमपूज्य आत्मा भव
पवित्रता सिर्फ ब्रह्मचर्य नहीं लेकिन मन्सा संकल्प में भी किसी के प्रति निगेटिव संकल्प नहीं हो, बोल में भी कोई ऐसे शब्द न निकलें, सम्बन्ध-सम्पर्क भी सबसे अच्छा हो, किसी में जरा भी अपवित्रता खण्डित न हो तब कहेंगे पूज्य आत्मा। तो पवित्रता के फाउण्डेशन को चेक करो। सदा स्मृति में रहे कि मैं परम पवित्र पूज्य आत्मा इस शरीर रूपी मन्दिर में विराजमान हूँ, कोई भी व्यर्थ संकल्प मन्दिर में प्रवेश कर नहीं सकता।
स्लोगन:- अपने भविष्य को स्पष्ट देखने वा जानने के लिए सम्पूर्णता की स्थिति में स्थित रहो।

(साकार मुरलियों से गीता के भगवान को सिद्ध करने की प्वाइंटस)

1) भगवान ने कल्प पहले भी कहा था, अभी भी कहते हैं कि मैं इस साधारण तन में, बहुत जन्मों के अन्त में इनमें प्रवेश करता हूँ, इनका आधार लेता हूँ। यह उस गीता में भी है कि – मैं बहुत जन्मों के अन्त में साधारण वृद्ध तन में प्रवेश करता हूँ। वह तन तो यह ब्रहमा का ही है।

2) गीता के भगवान की नॉलेज पुरूषोत्तम बनने के लिए मिलती है, गीता है ही धर्म स्थापना का शास्त्र, और कोई शास्त्र धर्म स्थापन अर्थ नहीं होते हैं। सर्व शास्त्रमई शिरोमणी है ही गीता। बाकी सब धर्म तो हैं ही पीछे आने वाले, उनको शिरोमणी नहीं कहेंगे।

3) वृक्षपति एक ही बाप है, वह पति भी है तो सबका पिता भी है। उनको पतियों का पति, पिताओं का पिता….. कहा जाता है। यह महिमा एक निराकार की गाई जाती है। कृष्ण की और निराकार बाप के महिमा की भेंट की जाती है। श्रीकृष्ण है नई दुनिया का प्रिन्स, वह फिर पुरानी दुनिया में संगमयुग पर राजयोग कैसे सिखलायेंगे!

4) बेहद का बाप ज्ञान का सागर, पतित-पावन है, वही गीता का भगवान है। वही ज्ञान और योगबल से नई दुनिया की स्थापना का कार्य कराते हैं, इसमें योगबल का बहुत प्रभाव है। भारत का प्राचीन योग मशहूर है।

5) ज्ञान है ही एक बाप (परमात्मा) के पास। ज्ञान से तुम नया जन्म लेते हो इसलिए गीता को माता कहा जाता है, जब माता है तो पिता भी जरूर होगा। तुम शिवबाबा के बच्चे हो वह है पिता, फिर गीता है माता। गीता का ज्ञान है ही नर से नारायण बनने के लिए।

6) अब गीता का भगवान कौन? अगर कृष्ण को कहें तो उन्हें याद करना तो बहुत सहज है। वह तो साकार रूप है। निराकार बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। श्रीकृष्ण तो ऐसे कह भी नहीं सकते कि मन्मनाभव, एक मुझे याद करो। तो अब बताओ गीता का भगवान कौन?

7) सारी दुनिया में मनुष्यों की बुद्धि में कृष्ण भगवानुवाच है। परन्तु कृष्ण थोड़ेही कहेंगे – मैं जो हूँ, जैसा हूँ, मुझे कोटों में कोई, कोई में भी कोई पहचान सकते हैं। कृष्ण को तो सब जान लेंगे। यह तो निराकार बाप ही कह सकते हैं।

8) ऐसे भी नहीं कि कृष्ण के तन से भगवान कहते हैं। नहीं। कृष्ण तो होता ही है सतयुग में। वहाँ भगवान कैसे आयेंगे? भगवान तो आते ही हैं पुरुषोत्तम संगमयुग पर जबकि कलियुग को बदलकर सतयुग बनाना है।

9) तुम्हारे पास बहुतों की लिखत हो कि गीता का भगवान कौन? ऊपर में भी लिखा हुआ हो कि ऊंच ते ऊंच बाप (परमात्मा) ही है, कृष्ण तो ऊंच ते ऊंच है नहीं। वह कभी कह नहीं सकते कि देह सहित देह के सब धर्मो को भूल मामेकम् याद करो। यह महावाक्य तो एक भगवान के ही हैं।

10) अभी तुमको मिलती है ईश्वरीय मत। ईश्वरीय घराने के अथवा कुल के तुम हो। ईश्वर आकर अभी दैवी घराना स्थापन करते हैं। देवी-देवताओं का धर्म फिर से स्थापन हो रहा है। जहाँ सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजाई चलती है। गीता से ब्राह्मण कुल और सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी कुल बनता है। अगर द्वापर में गीता सुनाई होती तो उसके बाद ब्राह्मण कुल वा सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी कुल आना चाहिए।

11) मनुष्य समझते हैं बहुत बड़ी प्रलय होती है। फिर सागर में पीपल के पत्ते पर कृष्ण आते हैं। अरे पीपल के पत्ते पर और सागर में कोई मनुष्य कैसे आ सकता। यह तो गर्भ महल की बात है, गर्भ महल से पहले-पहले श्रीकृष्ण की आत्मा अवतरित होती है। उनका जन्म होता ही है योगबल से, इसलिए उनको वैकुण्ठनाथ भी कहते हैं।

12) भगवानुवाच मैं तुमको राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाता हूँ। तो पहले जरूर प्रिन्स कृष्ण बनेंगे। बाकी कृष्ण भगवानुवाच नहीं है। कृष्ण तो इस पढ़ाई की (राजयोग की) एम ऑब्जेक्ट है, यह पाठशाला है।

 

Read Hindi Murli  30/4/2017 :- Click Here

Read Hindi Murli 29/4/2017 :- Click Here

Today Murli : 30 april 2017 daily murli (Hindi)

30/04/17 मधुबन “अव्यक्त-बापदादा” ओम् शान्ति 24-03-82

“ब्राह्मण जीवन की विशेषता है – पवित्रता”

आज बापदादा अपने पावन बच्चों को देख रहे हैं। हरेक ब्राह्मण आत्मा कहाँ तक पावन बनी है – यह सबका पोतामेल देख रहे हैं। ब्राह्मणों की विशेषता है ही पवित्रता। ब्राह्मण अर्थात् पावन आत्मा। पवित्रता को कहाँ तक अपनाया है, उसको परखने का यत्र क्या है? “पवित्र बनो”, यह मंत्र सभी को याद दिलाते हो लेकिन श्रीमत प्रमाण इस मंत्र को कहाँ तक जीवन मे लाया है? जीवन अर्थात् सदाकाल। जीवन में सदा रहते हो ना! तो जीवन में लाना अर्थात् सदा पवित्रता को अपनाना। इसको परखने का यत्र जानते हो? सभी जानते हो और कहते भी हो कि पवित्रता सुख-शान्ति की जननी है अर्थात् जहाँ पवित्रता होगी वहाँ सुख-शान्ति की अनुभूति अवश्य होगी। इसी आधार पर स्वयं को चेक करो – मंसा संकल्प में पवित्रता है, उसकी निशानी – मन्सा में सदा सुख स्वरूप, शान्त स्वरूप की अनुभूति होगी। अगर कभी भी मन्सा में व्यर्थ संकल्प आता है तो शान्ति के बजाय हलचल होती है। क्यों और क्या इन अनेक क्वेश्चन के कारण सुख स्वरूप की स्टेज अनुभव नहीं होगी और सदैव समझने की आशा बढ़ती रहेगी – यह होना चाहिए, यह नहीं होना चाहिए, यह कैसे, यह ऐसे। इन बातों को सुलझाने में लगे रहेंगे इसलिए जहाँ शान्ति नहीं वहाँ सुख नहीं। तो हर समय यह चेक करो कि किसी भी प्रकार की उलझन सुख और शान्ति की प्राप्ति में विघ्न रूप तो नहीं बनती है! अगर क्यों, क्या का क्वेश्चन भी है तो संकल्प शक्ति में एकाग्रता नहीं होगी। जहाँ एकाग्रता नहीं, वहाँ सुख-शान्ति की अनुभूति हो नहीं सकती। वर्तमान समय के प्रमाण फरिश्ते-पन की सम्पन्न स्टेज के वा बाप समान स्टेज के समीप आ रहे हो, उसी प्रमाण पवित्रता की परिभाषा भी अति सूक्ष्म समझो। सिर्फ ब्रह्मचारी बनना सम्पूर्ण पवित्रता नहीं लेकिन ब्रह्मचारी के साथ ब्रह्मा आचार्य भी चाहिए। शिव आचार्य भी चाहिए अर्थात् ब्रह्मा बाप के आचरण पर चलने वाला। फुट स्टैप अर्थात् ब्रह्मा बाप के हर कर्म रूपी कदम में कदम रखने वाले, इसको कहा जाता है ब्रह्मा आचार्य। तो ऐसी सूक्ष्म रूप से चेकिंग करो कि सदा पवित्रता की प्राप्ति, सुख-शान्ति की अनुभूति हो रही है? सदा सुख की शैय्या पर आराम से अर्थात् शान्ति स्वरूप में विराजमान रहते हो? यह ब्रह्मा आचार्यों का चित्र है।

सदा सुख की शैय्या पर सोई हुई आत्मा के लिए यह विकार भी छत्रछाया बन जाते हैं। दुश्मन बदल सेवाधारी बन जाते हैं। अपना चित्र देखा है ना! तो शेष शैय्या नहीं लेकिन सुख-शैय्या। सदा सुखी और शान्त की निशानी है – सदा हर्षित रहना। सुलझी हुई आत्मा का स्वरूप सदा हर्षित रहेगा। उलझी हुई आत्मा कभी हर्षित नहीं देखेंगे। वह सदा खोया हुआ चेहरा दिखाई देगा और वह सब कुछ पाया हुआ चेहरा दिखाई देगा। जब कोई चीज़ खो जाती है तो उलझन की निशानी क्यों, क्या, कैसे ही होता है। तो रूहानी स्थिति में भी जो भी पवित्रता को खोता है, उसके अन्दर क्यों, क्या और कैसे की उलझन होती है। तो समझा कैसे चेक करना है! सुख-शान्ति के प्राप्ति स्वरूप के आधार पर मन्सा पवित्रता को चेक करो।

दूसरी बात – अगर आपकी मन्सा द्वारा अन्य आत्माओं को सुख और शान्ति की अनुभूति नहीं होती अर्थात् पवित्र संकल्प का प्रभाव अन्य आत्मा तक नहीं पहुँचता तो उसका कारण चेक करो। किसी भी आत्मा की ज़रा भी कमज़ोरी अर्थात् अशुद्धि अपने संकल्प में धारण हुई तो वह अशुद्धि अन्य आत्मा को सुख-शान्ति की अनुभूति करा नहीं सकेगी या तो उस आत्मा के प्रति व्यर्थ वा अशुद्ध भाव है वा अपनी मन्सा पवित्रता की शक्ति में परसेन्टेज की कमी है। जिस कारण औरों तक वह पवित्रता की प्राप्ति का प्रभाव नहीं पड़ सकता। स्वयं तक है, लेकिन दूसरों तक नहीं हो सकता। लाइट है, लेकिन सर्चलाइट नहीं है। तो पवित्रता के सम्पूर्णता की परिभाषा है “सदा स्वयं में भी सुख-शान्ति स्वरूप और दूसरों को भी सुख-शान्ति की प्राप्ति का अनुभव कराने वाले।” ऐसी पवित्र आत्मा अपनी प्राप्ति के आधार पर औरों को भी सदा सुख और शान्ति, शीतलता की किरणें फैलाने वाली होगी। तो समझा सम्पूर्ण पवित्रता क्या है?

पवित्रता की शक्ति इतनी महान है जो अपनी पवित्र मन्सा अर्थात् शुद्ध वृत्ति द्वारा प्रकृति को भी परिवर्तन कर लेते। मन्सा पवित्रता की शक्ति का प्रत्यक्ष प्रमाण है – प्रकृति का भी परिवर्तन। स्व परिवर्तन से प्रकृति का परिवर्तन। प्रकृति के पहले व्यक्ति। तो व्यक्ति परिवर्तन और प्रकृति परिवर्तन – इतना प्रभाव है मन्सा पवित्रता की शक्ति का। आज मन्सा पवित्रता को स्पष्ट सुनाया – फिर वाचा और कर्मणा अर्थात् सम्बन्ध और सम्पर्क में सम्पूर्ण पवित्रता की परिभाषा क्या है, वह आगे सुनायेंगे। अगर पवित्रता की परसेन्टेज में 16 कला से 14 कला हो गये तो क्या बनना पड़ेगा? जब 16 कला की पवित्रता अर्थात् सम्पूर्णता नहीं तो सम्पूर्ण सुख-शान्ति के साधनों की भी प्राप्ति कैसे होगी! युग बदलने से महिमा ही बदल जाती है। उसको सतोप्रधान, उसको सतो कहते हैं। जैसे सूर्यवंशी अर्थात् सम्पूर्ण स्टेज है। 16 कला अर्थात् फुल स्टेज है वैसे हर धारणा में सम्पन्न अर्थात् फुल स्टेज प्राप्त करना सूर्यवंशी की निशानी है। तो इसमें भी फुल बनना पड़े, कभी सुख की शैय्या पर कभी उलझन की शैय्या पर इसको सम्पन्न तो नहीं कहेंगे ना! कभी बिन्दी का तिलक लगाते, कभी क्यों, क्या का तिलक लगाते। तिलक का अर्थ ही है स्मृति। सदा तीन बिन्दियों का तिलक लगाओ। तीन बिन्दियों का तिलक ही सम्पन्न स्वरूप है। यह लगाने नहीं आता! लगाते हो लेकिन अटेन्शन रूपी हाथ हिल जाता है। अपने पर भी हंसी आती है ना! लक्ष्य पावरफुल है तो लक्षण सम्पूर्ण सहज हो जाते हैं। मेहनत से भी छूट जायेंगे। कमज़ोर होने के कारण मेहनत ज्यादा करनी पड़ती है। शक्ति स्वरूप बनो तो मेहनत समाप्त। अच्छा।

सदा सफलता हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है, यह अधिकार प्राप्त की हुई आत्मायें, सदा सम्पूर्ण पवित्रता द्वारा स्वयं और सर्व को सुख-शान्ति की अनुभूति कराने वाली, अनुभूति करने और कराने के यत्र द्वारा सदा पवित्र बनो – इस मंत्र को जीवन में लाने वाले, ऐसे सम्पूर्ण पवित्रता, सुख-शान्ति के अनुभवों में स्थित रहने वाले, बाप समान फरिश्ता स्वरूप आत्माओं को बापदादा का याद प्यार और नमस्ते।

पार्टी के साथ

सदा रूहानियत की खुशबू फैलाने वाले सच्चे-सच्चे रूहानी गुलाब:

सभी बच्चे – सदा रूहानी नशे में रहने वाले सच्चे रूहानी गुलाब हो ना? जैसे रूहे गुलाब का नाम बहुत मशहूर है, वैसे आप सभी आत्मायें रूहानी गुलाब हो। रूहानी गुलाब अर्थात् चारों ओर रूहानियत की खुशबू फैलाने वाले। ऐसे अपने को रूहानी गुलाब समझते हो? सदा रूह को देखते और रूहों के मालिक के साथ रूह-रूहान करते, यही रूहानी गुलाब की विशेषता है। सदा शरीर को देखते रूह अर्थात् आत्मा को देखने का पाठ पक्का है ना! इसी रूह को देखने के अभ्यासी रूहानी गुलाब हो गये। बाप के बगीचे के विशेष पुष्प हो क्योंकि सबसे नम्बरवन रूहानी गुलाब हो। सदा एक की याद में रहने वाले अर्थात् एक नम्बर में आना है, यही सदा लक्ष्य रखो।

(दीदी जी – दिल्ली मेले की ओपनिंग पर जाने की छुट्टी ले रहीं हैं)

सभी को उड़ाने के लिए जा रही हो ना! याद में, स्नेह में, सहयोग में, सबमें उड़ाने के लिए जा रही हो। यह भी ड्रामा में बाइप्लाट्स रखे हुए हैं। तो अच्छा है, आत्मा ही प्लेन बन गई। जैसे प्लेन में आना, जाना मुश्किल नहीं है वैसे आत्मा ही उड़ता पंछी हो गई है इसलिए आने जाने में सहज होता है। यह भी ड्रामा में हीरो पार्ट है – थोड़े समय में भासना अधिक देने का। तो यह हीरो पार्ट बजाने के लिए जा रही हो। अच्छा – सभी को याद देना और सदा सफलता स्वरूप का शुभ संकल्प रखते आगे बढ़ते चलो – यही स्मृति स्वरूप बनाकर आना। आवाज़ फिर भी दिल्ली से ही निकलेगा। सबके माइक दिल्ली में ही पहुँचेगे। जब गवमेंन्ट से आवाज़ निकलेगा तब समाप्ति हो जायेगी। तो भारत के नेतायें भी जागेंगे। उसकी तैयारी के लिए जा रही हो ना।

अव्यक्त मुरली से (प्रश्न-उत्तर)

प्रश्न:- अपने वा दूसरी आत्माओं के संकल्प को जज करने वाले जस्टिस कौन बन सकते हैं?

उत्तर:- जिनकी बुद्धि का काँटा एकाग्र है, कोई भी हलचल नहीं है, निर्विकल्प स्टेज व स्थिति है, जिनके बोल और कर्म में, लव और लॉ का, स्नेह और शक्ति का बैलेन्स है तो ऐसा जस्टिस यथार्थ जजमेन्ट दे सकता है, ऐसी आत्मा सहज ही किसी को परख सकती है।

प्रश्न:- लौकिक जस्टिस और आप रूहानी जस्टिस की जवाबदारी क्या है?

उत्तर:- लौकिक जज अगर जजमेन्ट राँग करते हैं तो किसी आत्मा का एक जन्म या उसका कुछ समय व्यर्थ गँवा सकते हैं! कई प्रकार के नुकसान पहुँचाने के निमित्त बन सकते हैं, लेकिन आप रूहानी जस्टिस अगर किसी को परख न सके तो आत्मा के अनेक जन्मों की तकदीर को नुकसान पहुँचाने के निमित्त बन जायेंगे!

प्रश्न:- किस मुख्य धारणा के आधार से बुद्धि रूपी कांटा एकाग्र रह सकता है?

उत्तर:- स्वयं जो इच्छा मात्रम् अविद्या की स्थिति में स्थित होंगे उनकी बुद्धि का कांटा एकाग्र होगा, वही किसी की भी इच्छाओं की पूर्ति कर सकेंगे। उनके सामने कैसी भी तड़पती हुई प्यासी आत्मा आयेगी तो उसके प्राप्ति की इच्छा को परखकर उसे भरपूर कर देंगे। ऐसे एकाग्र बुद्धि वाले ही यथार्थ वा सम्पूर्ण जजमेंट दे सकते हैं।

प्रश्न:- इच्छा मात्रम् अविद्या की स्टेज कब रह सकती है?

उत्तर:- जब स्वयं युक्ति-युक्त सम्पन्न, नॉलेज़फुल और सदा सक्सेसफुल अर्थात् सफलता-मूर्त होंगे। सम्पन्न होने के बाद ही इच्छा मात्रम् अविद्या की स्टेज आती है, तब कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रह जाती। ऐसी स्टेज को ही कर्मातीत अथवा फरिश्तेपन की स्टेज कहा जाता है। ऐसी स्थिति वाला ही हर आत्मा को यथार्थ परख सकता है और दूसरों को प्राप्ति करा सकता है।

प्रश्न:- मुख्य किन चार सम्बन्धों के आधार पर 4 धारणाओं वा 4 स्लोगन्स को सामने लाओ तो सहज सम्पन्न बन जायेंगे?

उत्तर:- 1- बाप 2- टीचर 3- सतगुरू और 4- साजन। इन चार सम्बन्धों के आधार से मुख्य चार धारणायें हैं। एक तो बाप के सम्बन्ध में-फरमानवरदार, शिक्षक के सम्बन्ध में-ईमानदार और गुरू के सम्बन्ध में-आज्ञाकारी और साजन के सम्बन्ध में-वफादार। इसके साथ-साथ चार स्लोगन्स भी स्मृति में रहें – बाप के सम्बन्ध में स्लोगन है-सन शोज़ फादर अर्थात् सपूत बन सबूत देना है। शिक्षक के रूप में स्लोगन है-जब तक जीना है तब तक पढ़ना है। गुरू के रूप में स्लोगन है-जहाँ बिठाये, जैसे बिठाये, जो सुनाये, जैसे सुनावे, जैसे चलावे, जैसे सुलावे… और साजन के रूप में स्लोगन है-तुम्हीं से बैठूँ, तुम्हीं से खाऊं और तुम्हीं से श्वाँसों श्वांस साथ रहूँ। यह सभी बातें अपने सामने लाकर अपने पुरुषार्थ को चेक करो तो सम्पन्न बन जायेंगे। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:

साधनों को सहारा बनाने के बजाए निमित्त मात्र कार्य में लगाने वाले सदा साक्षी-दृष्टा भव

कई बच्चे चलते-चलते बीज को छोड़ टाल-टालियों में आकर्षित हो जाते हैं, कोई आत्मा को आधार बना लेते और कोई साधनों को, क्योंकि बीज का रूप-रंग शोभनिक नहीं होता और टाल-टालियों का रूप-रंग बड़ा शोभनिक होता है। माया बुद्धि को ऐसा परिवर्तन कर देती है जो झूठा सहारा ही सच्चा अनुभव होता है इसलिए अब साकार स्वरूप में बाप के साथ का और साक्षी-दृष्टा स्थिति का अनुभव बढ़ाओ, साधनों को सहारा नहीं बनाओ, उन्हें निमित्त-मात्र कार्य में लगाओ।

स्लोगन:

रूहानी शान में रहो तो अभिमान की फीलिंग नहीं आयेगी।

 To Read Murli 1/5/2017 :- Click Here

To Read Murli 29/4/2017 :- Click Here

Today Murli : 30 april 2017 daily murli (English)

30/04/17 Om Shanti Avyakt BapDada Madhuban 24/03/1982

“The speciality of Brahmin life is purity.”

Today, BapDada is seeing His pure children. He is seeing from each one’s chart the extent to which each Brahmin soul has become pure. The speciality of Brahmins is purity. To be a Brahmin means to be a pure soul. What is the instrument for measuring the extent to which you have imbibed purity? You remind everyone of the mantra “Become pure!” but to what extent have you put this mantra into your life according to shrimat? “Life” means forever. You constantly live, do you not? So, to put this into your life means to adopt purity. Do you know the instrument with which to measure this? All of you know this, for you say that purity is the mother of peace and happiness, that is, where there is purity, there is definitely the experience of peace and happiness. Check yourself on this basis! The sign of having purity in your thoughts is that your mind will constantly experience being an embodiment of peace and happiness. If your mind ever has waste thoughts, then, instead of peace, there will be upheaval. Because of the many questions such as “Why?” and “What?”, you will not be able to experience the stage of being an embodiment of happiness, and your need to understand will be ever increasing. “This shouldn’t happen! That should happen! This should be like this, and that should be like that!” You will keep trying to solve these issues. Therefore, where there is no peace, there won’t be any happiness. So, constantly check that no type of confusion becomes an obstacle to your attaining peace and happiness. If there are the questions “Why?” and “What?”, then your mind can have no power of concentration. Where there is no concentration, there can be no experience of peace or happiness. According to the present time, you are coming close to the angelic stage and the stage of being equal to the Father. Therefore, according to this, you must understand that the definition of purity is extremely subtle. Complete purity is not just to be celibate but, together with being celibate, you need to be someone who follows Father Brahma as well. You must be one who follows Father Shiva and one who follows Father Brahma too. To place your footsteps in his steps means to place your feet in the footsteps of every action he performed. This is known as being one who follows Father Brahma. Therefore, check very subtly whether you have attained constant purity and whether you do experience peace and happiness. Are you always resting comfortably on the bed of happiness? That is, do you remain an embodiment of peace? This is the picture of one who follows Father Brahma.

For someone who is always resting on the bed of happiness, the vices become a canopy of protection. That enemy changes into one who serves you. You have seen your picture, have you not? So, it is not a bed of snakes but a bed of happiness. The sign of constant happiness and peace is to remain constantly cheerful. The form of a very clear soul is constant cheerfulness. You never see a confused soul looking cheerful. His face would always be that of someone lost, whereas the other will have a face that shows that he has attained something. When you lose something, the sign of that is “Why?”, “What?”, “How?”, etc. Anyone who loses his purity of the spiritual stage also has the confusion of “Why?”, “What?” and “How?” inside him. So, do you understand how you have to check yourself? Check the purity of your mind on the basis of being an embodiment of the attainment of peace and happiness.

Secondly, if other souls don’t experience peace and happiness through your mind, that is, if the impact of your pure thoughts does not reach others, then check the reason for that. If you imbibe the slightest weakness of other souls, that is, if you absorb any impurity in your mind, that impurity will not then allow other souls to experience peace and happiness. There will either be wasteful or impure feelings towards another soul or your own mind will lack some percentage of the power of purity. Due to this, there will be no impact of your attainment of purity on others; it would only reach you and not others. You become a light but not a searchlight. Therefore, the definition of the perfection in purity is “for oneself to be a constant embodiment of peace and happiness and also to enable others to experience the attainment of peace and happiness.” On the basis of this attainment, such pure souls will constantly spread rays of happiness, peace and coolness. So, do you understand what complete purity is?

The power of purity is so great that, with your pure thoughts, that is, with your pure attitude, you are able to transform matter. The practical proof of the power of pure thoughts is the transformation of matter. The transformation of matter is done through self-transformation: people before matter. So, there is the transformation of people and also of matter. The power of purity has such a huge impact on thoughts.

Today you were told very clearly about the power of purity in thoughts. Later you will be told the definition of purity in words and deeds, that is, the definition of complete purity in relationships and connections. What will you have to become if your percentage of purity is 14 celestial degrees instead of 16 celestial degrees? If you don’t have 16 celestial degrees purity, that is, if there isn’t complete purity, how could there then be the attainments of the facilities of complete peace and happiness? As the age changes, so too does the praise. One is called satopradhan and the next is called sato. The sun dynasty is the perfect stage; 16 celestial degrees means the full stage. To be complete in every aspect of dharna, that is, to attain the full stage is the sign of the sun dynasty. Therefore, you have to become full in this aspect too. If you are sometimes on a bed of happiness and sometimes on a bed of confusion, that is not called being complete. It means that there is sometimes the tilak of the bindi (point) and sometimes the tilak of questions. “Tilak” means awareness. Constantly apply the tilak of the three dots. The tilak of the three dots is the complete stage. Do you not know how to apply this? You do know how to apply it, but, sometimes, the hand of attention shakes. You are amused at yourself, are you not? When you have a powerful aim, you easily have all qualifications; you are liberated from making effort. When you are weak you have to make more effort. Become an embodiment of power and all your efforts will be over. Achcha.

To the souls who have constantly attained all rights to success as their birthright, to those who experience and enable others to experience peace and happiness through their constant and perfect purity, to those who use the instrument of experience and who put the experience of the mantra “Be pure” into the lives of others, to those who remain stable in the experience of complete purity, peace and happiness, to those who are as angelic as the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

True spiritual roses are those who constantly spread the fragrance of spirituality.

Are all of you children true spiritual roses who constantly maintain spiritual intoxication? Roses are very popular. Similarly, you souls are spiritual roses. To be a spiritual rose means to be someone who spreads the fragrance of spirituality everywhere. Do you consider yourselves to be spiritual roses like this? The speciality of a spiritual rose is constantly to see the spirit and constantly to converse with the Master of spirits. Whilst constantly seeing the body, you have made the lesson firm of seeing the soul, the spirit, have you not? By having the practice of seeing the spirit, you have become spiritual roses. You are special flowers in the Father’s garden because you are number one spiritual roses. You are those who constantly stay in remembrance of the One, that is, you constantly have the aim of claiming number one.

Didiji taking leave from BapDada before going to the opening of the Delhi mela:

You are going to make everyone fly, are you not? You are going to make everyone fly in remembrance, love and co-operation. These are by-plots in the drama. Therefore, it is good that the soul has become a plane. Just as it is not difficult to come and go by plane, so the soul too has become a flying bird. This is why it is easy to come and go. It is also a hero part in the drama to give others a lot of experience in a short time. So, you are going to play this hero part. Achcha, give remembrance to everyone and constantly continue to move forward by having the pure thought of becoming an embodiment of success. Come back having made everyone into an embodiment of this awareness. The sound is yet still to emerge in Delhi. Everyone’s mike has to reach Delhi. When the sound emerges from the Government, completion will take place. The politicians of Bharat will then wake up. You are going to make preparations for that, are you not? Achcha.

Questions and Answers from Avyakt murlis

Question: Who can become a justice to judge their own thoughts and the thoughts of others?

Answer: Those whose needle of the intellect is stable, who have no upheaval, who have a stage that is free from any negative thoughts and who have a balance of love and law and love and power in their actions. Only such justices are able to make an accurate judgment. Such souls are easily able to discern others.

Question: What is the responsibility of a worldly justice and of you spiritual justices?

Answer: If a worldly judge gives a wrong judgment, one birth or some time of that soul is then wasted. He can become an instrument to cause many types of damage. However, if you spiritual judges are unable to discern someone accurately, you become instrumental in damaging the fortune of many souls for many births.

Question: Which main dharna is the basis on which the needle of your intellect can remain stable?

Answer: The needle of the intellect of those who are stable in the stage of being ignorant of the knowledge of desires will remain stable and they are the ones who are able to fulfil anyone’s desires. They are able to discern the desire of any desperate or thirsty soul who comes in front of them and they will fulfil that desire. Only those who have such stable intellects can give an accurate and perfect judgement.

Question: When can you have the stage of being ignorant of the knowledge of any desires?

Answer: When you are full of wisdom, full, knowledge-full and constantly successful, that is, when you are an image of success. Only after becoming full do you have the stage of being ignorant of the knowledge of any desires. There is then nothing lacking. Only such a stage is called the angelic or karmateet stage. Those with such a stage are able to discern all souls accurately and can enable other souls to attain something.

Question: What are the four main relationships? And with which dharna and slogans connected with these four will you easily become complete?

Answer: 1) Father. 2) Teacher. 3) Satguru. 4) Bridegroom. There are four main aspects of dharna connected with these four relationships. These are the four main slogans to keep in your awareness:

1) Father: Follow instructions. “Son shows Father”, that is, I have to become worthy and give the proof of that.

2) Teacher: Honest and trustworthy. I have to study for as long as I live.

3) Guru: Obedient. Wherever You make me sit, however You make me sit, whatever You tell me and however You tell me, however You make me move, however You make me sleep.

4) Bridegroom: Faithful. In my every breath I sit with You, I eat with You and I stay with You. Remind yourself of all these things and check your efforts and you will become complete.

Blessing:

May you constantly be a detached observer and, instead of making any facilities your support, simply use them for namesake.

While moving along, many children leave the Seed and get attracted by the branches. Some make other souls their support and others make facilities their support. Because the colour and form of the seed is not beautiful and the colour and form of the branches are very beautiful, Maya transforms souls’ intellects in such a way that they experience false supports to be real. This is why you now have to increase the company of the Father in the corporeal form and also the stage of a detached observer. Do not make the facilities your support. Simply use them for namesake.

Slogan:

Maintain your spiritual pride and there will be no feeling of ego.

To Read Murli 29/4/2017 – Click Here 

Bk Murli May 2017 :- Daily Murli Hindi

Bk Murli : Read Today Murli

 

गूगल ड्राइव से आप हिंदी मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

 

01-05-2017 02-05-2017 03-05-2017 04-05-2017 05-05-2017
06-05-2017 07-05-2017 08-05-2017 09-05-2017 10-05-2017
11-05-2017 12-05-2017 13-05-2017 14-05-2017 15-05-2017
16-05-2017 17-05-2017 18-05-2017 19-05-2017 20-05-2017
21-05-2017 22-05-2017 23-05-2017 24-05-2017 25-05-2017
26-05-2017 27-05-2017 28-05-2017 29-05-2017 30-05-2017

31/05/2017

[wp_ad_camp_3]

 

मुरली ऑनलाइन पढ़ें  :- यहां क्लिक करे
Font Resize